ममता की बंगाल सरकार और चंद्र बाबू की आंध्र सरकार ने CBI को जांच से रोका     |       लखनऊ में रेलमंत्री पीयूष गोयल की टिप्पणी से नाराज कर्मचारियों का हंगामा     |       रालोसपा की बैठक शनिवार को पटना में, बड़ी घोषणा की अटकलें     |       NDTV से बोलीं मायावती, न BJP के साथ जाएंगे, न कांग्रेस के साथ, एक सांपनाथ, एक नागनाथ     |       पंजाब में दिखा 12 लाख का इनामी आतंकी, जम्मू-कश्मीर सहित दोनों राज्यों में हाई अलर्ट     |       दिल्ली / 13 दिन बंद रहेगा आईजीआई एयरपोर्ट का एक रनवे, 86% तक बढ़ा फ्लाइट्स का किराया     |       सीबाआई में घमासान: सीवीसी ने कहा, कुछ आरोपों पर जांच की जरूरत     |       सबरीमाला / मंदिर के पट खोले गए, सुप्रीम कोर्ट का फैसला लागू करने के लिए वक्त मांगेगा प्रबंधन     |       तमिलनाडु में गाजा तूफान से 13 लोगों की मौत, PM ने ली जानकारी     |       छत्तीसगढ़ / मोदी ने कहा- कांग्रेस सोचती है कि उनकी राजगद्दी एक चायवाला कैसे चुरा ले गया?     |       मालदीव में आज पीएम मोदी की यात्रा से भारत को मिला पैर जमाने का मौका     |       आरबीआई के अहम फैसलों में बड़ी भागीदारी चाहती है सरकार     |       मेक इन इंडिया की सौगात, देश की पहली T-18 ट्रेन ट्रायल के लिए पहुंची मुरादबाद     |       प्रधानमंत्री आजकल अपने भाषण में भ्रष्टाचार की बात नहीं करते, चुनावी रैली में राहुल के भाषण की 10 बड़ी बातें     |       यूपी के डिप्टी सीएम केशव प्रसाद मौर्य को मिली जमानत, दुर्गा पूजा के नाम पर फर्जी पैड छपवाकर वसूली का मामला     |       आपत्तिजनक कंटैंट को यूजर्स के रिपोर्ट करने से पहले ही हटा देगा फेसबुक     |       मध्य प्रदेश चुनाव: अपनी पार्टी के नेता को बीजेपी उम्मीदवार ने कहा 'हिस्ट्रीशीटर', जवाब में मिली घूसा मारने की धमकी     |       सरेंडर नहीं करने पर बिहार पुलिस जब्त कर सकती है मंजू वर्मा की संपत्ति : DGP     |       वाराणसी के बाजार में महिला डॉक्टर ने जहर का इंजेक्शन लगाकर की आत्महत्या     |       यूपी के बाहुबली विधायक राजा भैया ने की पार्टी बनाने की घोषणा, आयोग को भेजे तीन नाम     |      

जीवनशैली


सिर्फ़ भारत में ही 6 करोड़ लोग अवसाद से ग्रस्त

इलियाना डी क्रूज भी एक समय अवसाद से ग्रसित थीं। उनके अनुसार, "मैंने आत्महत्या करने का विचार बनाया और चीजों को समाप्त करना चाहा। हालांकि बाद में सब बदला और मैंने खुद को स्वीकार किया।"


60-million-people-are-suffering-from-depression-in-india

पहले से ही बेहतर स्वास्थ्य सुविधाओं की कमी से जूझ रहे भारत के लिए एक और बुरी ख़बर है। एक रिपोर्ट के मुताबिक भारत में क़रीब 6 करोड़ लोग मनोरोग एवं अवसाद से ग्रस्त हैं।

विश्व मानसिक स्वास्थ्य सम्मेलन में बोलते हुए सीआईएमबीएस इंडिया के निदेशक और इंडियन एसोसिएशन ऑफ प्राइवेट साइकेट्री के सह संस्थापक और पूर्व अध्यक्ष डॉ. सुनील मित्तल ने कहा है कि भारत में क़रीब 6 करोड़ लोग अवसाद से ग्रसित हैं इसीलिए यह जानना बहुत ज़रूरी है कि क्या आप निराश है। क्योंकि अवसाद की शुरुआत निराशा से ही होती है।

उन्होंने कहा, “भारत में चिंता और अवसाद आम बात हैं। लगभग 6 करोड़ लोग भारत में अवसाद से ग्रस्त हैं। इसीलिए पहली चुनौती यह जानना है कि आप निराश हैं। लोग चुप रहकर झेलते रहते हैं, पछतावे के सहारे और उन्हें यह एहसास नहीं कि वे अवसाद से पीड़ित हैं।"

विश्व मानसिक स्वास्थ्य सम्मेलन के 21वें संस्करण के चौथे और अंतिम दिन डॉ. सुनील मित्तल और प्रसिद्ध बॉलीवुड अभिनेत्री इलियाना डीक्रूज ने मानसिक स्वास्थ्य संबंधी संघर्ष की अपनी कहानी बयां की। मानसिक स्वास्थ्य के बारे में जागरूकता बढ़ाने के लिए बॉलीवुड अभिनेत्री इलियाना डीक्रूज महिला सब्स्टेंस पुरस्कार से सम्मानित किया गया।

अपने अनुभव को साझा करते हुए अभिनेत्री इलियाना डी क्रूज ने कहा, "मैं हमेशा से एक बहुत ही आत्मचेतन व्यक्ति रही हूं। मैं हर समय खुद को कमजोर और दुखी महसूस करती थी। मुझे इसका पता तब तक नहीं चला जब तक मुझे मदद नहीं मिली यह जानने में कि मैं अवसाद और शारीरिक डिसमॉर्फिक बीमारी से पीड़ित हूं। मैं जो करना चाहती थी,वह सभी को स्वीकार करना था। एक समय पर मैंने आत्महत्या करने का विचार बनाया और चीजों को समाप्त करना चाहा। हालांकि बाद में सब बदला और मैंने खुद को स्वीकार किया, तब सब कुछ बदल गया। मुझे लगता है कि यह अवसाद से लड़ने की ओर पहला कदम है।"

इलियाना ने कहा, "अवसाद बहुत ही वास्तविक है। यह आपके मस्तिष्क में एक रासायनिक असंतुलन है और इससे पार पाने के लिए इलाज की जरुरत है। यह सोचकर वापस बैठ जाना कि यह ठीक हो जाएगा इससे बेहतर ही की सहायता लें।"

सम्मेलन के अंतिम दिन नोबल विजेता कैलाश सत्यार्थी और दिल्ली के स्वास्थ्य मंत्री सत्येंद्र जैन मौजूद रहे। 

विश्व सम्मेलन का आयोजन मानसिक स्वास्थ्य पेशेवरों के सबसे बड़े वैश्विक गठबंधन वल्र्ड फेरडरेशन फॉर मेन्टल हेल्थ (डब्ल्यूएफएमएच), राष्ट्रीय स्वास्थ्य संघों, गैर-सरकारी संगठनों, नीति विशेषज्ञों और अन्य संस्थानों द्वारा किया गया। यह कार्यक्रम पहली बार सार्क क्षेत्र में हो रहा है। 

advertisement