राफेल डील पर सुप्रीम कोर्ट का सवाल, ऑफसेट पार्टनर भाग गया तो जिम्मेदारी किसकी?     |       कांग्रेस में टिकट पर चल रहे घमासान के बीच भाजपा ने फिर बाजी मारी     |       डोनाल्ड ट्रंप ने कहा- मैं प्रधानमंत्री मोदी का बहुत सम्मान करता हूं     |       दीपिका और रणवीर की Wedding Pic को लेकर स्मृति ईरानी ने किया मजाकिया पोस्ट     |       वैश्विक नेताओं से मिले PM मोदी, US उपराष्ट्रपति को दिया भारत आने का न्योता     |       बयान से पलटे शाहिद आफरीदी, कहा- कश्मीर में भारत कर रहा जुल्म     |       इसरो / जीसैट-29 का सफल प्रक्षेपण, 2020 तक गगनयान के तहत पहला मानव रहित मिशन शुरू होगा     |       मैं सीएम की रेस में नहीं, आेपी चौटाला के नाम का सहारा लेने वाले उनका फैसला मानें: अभय     |       राम भक्तों के लिये भारतीय रेल का नया तोहफा, आज से शुरु हुई रामायण एक्सप्रेस     |       स्कूलों में बच्चों ने स्टाॅलें लगाने में दिखाया अपना कौशल     |       संसद का शीतकालीन सत्र 11 दिसबंर से, क्या राम मंदिर पर कानून लाएगी मोदी सरकार?     |       पश्चिम बंगाल का नाम बदलने के प्रस्ताव को केंद्र ने किया खारिज, 'बांग्ला' नाम पर राजनीति न करे केंद्र सरकार : ममता     |       श्रीलंकाः राष्ट्रपति को एक और झटका, संसद में राजपक्षे के खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव पास     |       बाबरी मस्जिद के पक्षकार इकबाल अंसारी ने अयोध्या से पलायन करने की दी चेतावनी     |       दिल्लीः हवा गुणवत्ता में सुधार, लेकिन सुरक्षित अब भी नहीं     |       1984 सिख विरोधी दंगे: संगत की गवाही ने लिखी इंसाफ की इबारत     |       दीक्षांत समारोह में छात्रों को गोल्ड मेडल देंगे राष्ट्रपति     |       डीआरआई और सेना ने पाक सीमा से सटे इलाके में बड़ी मात्रा में हथियार बरामद किए     |       शायराना अंदाज में अखिलेश का BJP पर तंज, बोले- 'बंद पड़े हैं सारे काम, बदल रहे बस नाम'     |       इग्नू : 156 प्रोग्राम, 31 दिसंबर तक चांस     |      

करियर


देश में 92 फीसदी महिलाओं की सैलरी 10 हजार से भी कम, पुरुषों की स्थिति थोड़ी बेहतर

रिपोर्ट के मुताबिक, 2015 में राष्ट्रीय स्तर पर 67 प्रतिशत परिवारों की मासिक आमदनी 10,000 रुपये थी जबकि सातवें वेतन आयोग द्वारा अनुशंसित न्यूनतम वेतन 18,000 रुपये प्रति माह है। इससे साफ होता है कि भारत में एक बड़े तबके को मजदूरी के रूप में उचित भुगतान नहीं मिल रहा है


92-per-cent-women-are-underpaid-in-india-and-getting-less-than-10-thousand-salary

देश में एक तरफ जहां महिला सशक्तीकरण का बड़ा जोरो-शोरो से ढिंढोरा पीटा जाता है, वहीं एक विश्वविद्यालय की हालिया रिपोर्ट के मुताबिक, देश में कामकाजी 92 प्रतिशत महिलाओं को प्रति माह 10,000 रुपये से भी कम की तनख्वाह मिलती है। इस मामले में पुरुष थोड़ा बेहतर स्थिति में हैं।

लेकिन हैरत की बात यह है कि 82 प्रतिशत पुरुषों को भी 10,000 रुपये प्रति माह से कम की तनख्वाह मिलती है।

अजीम प्रेमजी विश्वविद्यालय के सतत रोजगार केंद्र ने श्रम ब्यूरो के पांचवीं वार्षिक रोजगार-बेरोजगारी सर्वेक्षण (2015-2016) पर आधार पर एक रिपोर्ट तैयार की है, जिसमें उन्होंने देश में कामकाजी पुरुषों और महिलाओं पर आंकड़े तैयार किए हैं।

रिपोर्ट के मुताबिक, 2015 में राष्ट्रीय स्तर पर 67 प्रतिशत परिवारों की मासिक आमदनी 10,000 रुपये थी जबकि सातवें वेतन आयोग द्वारा अनुशंसित न्यूनतम वेतन 18,000 रुपये प्रति माह है। इससे साफ होता है कि भारत में एक बड़े तबके को मजदूरी के रूप में उचित भुगतान नहीं मिल रहा है। 

रिपोर्ट के मुख्य लेखक अमित बसोले ने बताया, "ये आंकड़े श्रम ब्यूरो के पांचवीं वार्षिक रोजगार-बेरोजगारी सर्वेक्षण (2015-2016) पर आधारित हैं । ये आंकड़े पूरे भारत के हैं।" उन्होंने कहा, "मेट्रो शहरों में स्थिति अलग होगी क्योंकि गांवों और छोटे शहरों की तुलना में इन शहरों में महिलाओं और पुरुषों की आमदनी अधिक है।"

रिपोर्ट के मुताबिक, चिंता की बात यह है कि विनिर्माण क्षेत्र में भी 90 प्रतिशत उद्योग मजदूरों को न्यूनतम वेतन से नीचे मजदूरी का भुगतान करते हैं। असंगठित क्षेत्र की हालत और भी ज्यादा खराब है। अध्ययन के मुताबिक, तीन दशकों में संगठित क्षेत्र की उत्पादक कंपनियों में श्रमिकों की उत्पादकता छह प्रतिशत तक बढ़ी है, जबकि उनके वेतन में मात्र 1.5 प्रतिशत की वृद्धि हुई है।

बसोले ने कहा, "आज की स्थिति निश्चित रूप से काफी खराब है, खासकर पूर्वोत्तर राज्यों में। हमें उन कॉलेजों से बाहर आने वाले बड़ी संख्या में शिक्षित युवाओं का बेहतर उपयोग करने की आवश्यकता है।"

उन्होंने बताया, "स्थिति को बेहतर बनाने के लिए कुछ उपाय किए जा सकते हैं, जैसे अगर सरकार सीधे गांवों व छोटे शहरों में रोजगार पैदा करे, इसके साथ ही बेहतर बुनियादी ढांचे (बिजली, सड़कों) उपलब्ध कराए और युवाओं को कम ब्याज पर ऋण उपलब्ध को सुनिश्चित करे, तो कुछ हद तक हालात सुधर सकते हैं।"

advertisement