सावधानः निपाह की आशंका से दिल्ली-एनसीआर में भी अलर्ट, केरल से आने वाले केले धोकर खाएं     |       न्यूज टाइम इंडिया : बुधवार को कुमारास्वामी लेंगे सीएम पद की शपथ     |       शिवसेना को विपक्ष में लाने की कोशिश     |       प्रेस रिव्यू: मानव ढाल बनाने वाले मेजर गोगोई से महिला को लेकर पूछताछ     |       वैष्णो देवी पर्वत पर लगी भीषण आग, यात्रा में जाने के सभी मार्ग बंद     |       अमेरिकी बाजार की स्थिरता का असर भारतीय शेयर बाजार पर, हरे निशान के साथ खुले बाजार     |       तूतीकोरिन में धारा 144 लागू, प्लांट बंद होने से 32500 नौकरियों पर चली कुल्हाड़ी     |       पीएम मोदी ने कबूल किया विराट का फिटनेस चैलेंज, कहा- जल्द जारी करूंगा वीडियो     |       गीता से शादी के लिए देशभर से आए 26 प्रस्ताव, 15 युवकों में से चुनेगी हमसफर, सबसे करेगी मुलाकात     |       मुंबई के एशियन हार्ट इंस्टीट्यूट में भर्ती हुए लालू, इलाज में जुटी सात डॉक्टरों की टीम     |       अश्लील सीडी मामले में छत्तीसगढ़ कांग्रेस अध्यक्ष भूपेश बघेल से पूछताछ     |       यूपी: पेंशन लेने के लिए मां की लाश को चार महीने तक घर में छिपाए रखा     |       बीजेपी के 13 और व‍िधायकों को धमकी, दाउद के गुर्गों का नाम सामने आया     |       अभिनेता जीतेंद्र मामले में स्टेटस रिपोर्ट पेश नहीं कर पाई पुलिस     |       मार्च तक सात महीने में 39 लाख रोजगार के अवसरों का सृजन : ईपीएफओ आंकड़े     |       महज दो लीची के लिए छात्र की पीट-पीटकर हत्‍या, पुलिस ने आरोपियाें को किया गिरफ्तार     |       गंगा दशहरा 2018: जान तो लीजिए क्यों मनाते हैं यह पर्व     |       पैरंट्स का 750 करोड़ है प्राइवेट स्कूलों की जेब में     |       पीएम मोदी और नीदरलैंड के प्रधानमंत्री मार्क रूट के बीच द्विपक्षीय बैठक आज, इन मामलों पर होगी बड़ी डील     |       IPL: KKR की जीत पर शाहरुख ने बाथरूम से किया ये ट्वीट     |      

गुड न्यूज


98 वर्षीय बुजुर्ग ने पास की एमए की परीक्षा, लिम्का बुक ऑफ रिकॉर्ड में दर्ज

पटनाः बिहार के नालंदा विश्वविद्यालय से एक 98 वर्षीय व्यक्ति ने एमए की परीक्षा पास की है। जी हां आपको जानकर आश्चर्य हो रहा होगा, लेकिन यह सच है। पटना जिले के निवासी राज कुमार वैश्य ने नालंदा मुक्त विश्वविद्यालय से एमए (अर्थशास्त्र) की परीक्षा द्वितीय श्रेणी में पास की है। वहीं वैश्य को लिम्का बुक ऑफ रिकॉर्ड ने भी परास्नातक के लिए आवेदन करने वाले सबसे उम्र दराज शख्स के रूप में मान्यता दी है।


98-year-old-man-clear-ma-examination-in-bihar

वैश्य ने 1938 में स्नातक की परीक्षा पास की थी और उन्होंने अपनी इस उपलब्धि पर खुशी जाहिर की है। वैश्य ने कहा कि आखिरकार मैंने अपना सपना पूरा कर लिया है। अब मैं परास्नातक हूं। मैंने इस उम्र में यह साबित करने का निर्णय लिया था। कोई भी अपना सपना पूरा कर सकता है और कुछ भी हासिल कर सकता है। मैं एक उदाहरण बन गया हूं।

वैश्य ने कहा कि वह युवाओं को संदेश देने की कोशिश कर रहे हैं कि उन्हें कभी भी हार नहीं माननी चाहिए। उन्होंने कहा कि मैं युवाओं को बताना चाहता हूं कि कभी उदास और तनाव में न रहें। मौका हर वक्त रहता है, केवल खुद पर विश्वास होना चाहिए। इसके साथ ही उन्होंने माना कि इस उम्र में विद्यार्थी की दिनचर्या का निर्वहन आसान नहीं था। सुबह जल्दी उठ कर परीक्षा की तैयारी करना मेरे लिए काफी मुश्किल भरा था।

एनओयू के अधिकारियों ने बताया कि वैश्य परास्नातक परीक्षा के प्रथम वर्ष 2016 और अंतिम वर्ष 2017 के दौरान अपने पड़पोते-पड़पोतियों की उम्र से भी कम के बच्चों के साथ बैठकर निर्धारित तीन घंटे की परीक्षा देते थे। वह अंग्रेजी में लिखते थे और सभी परीक्षाओं में करीब दो दर्जन से ज्यादा शीट का प्रयोग करते थे।

उत्तर प्रदेश के बरेली जिले में एक अप्रैल को जन्मे वैश्य ने आगरा विश्वविद्यालय से 1938 में स्नातक की परीक्षा पास की थी और 1940 में कानून की डिग्री हासिल की थी। उन्होंने कहा कि पारिवारिक जिम्मदारी के चलते वह परास्नातक पाठ्यक्रम में शामिल नहीं हो सके थे। वह अपनी पत्नी के साथ पहले बरेली में रहते थे, लेकिन बाद में वह पटना रहने चले गए, क्योंकि उनकी देखभाल के लिए वहां कोई नहीं था।

advertisement