50 करोड़ गरीबों को पीएम मोदी का तोहफा, एेसे उठाएं योजना का लाभ     |       28000 अरब रुपये के कर्ज में डूबा है पाकिस्‍तान और सेना बोली, 'हम भारत से युद्ध को तैयार'     |       फ्रांस्वा ओलांद अपने बयान पर कायम, कहा- मोदी सरकार में नए फॉर्मूले के तहत रिलायंस का नाम तय हुआ     |       पेट्रोल 17 और डीजल 10 पैसे महंगा हुआ, दिल्ली में डीजल 74 रुपये के करीब     |       फिर बदला मौसम का मिजाज़, राजधानी में पारा लुढ़का     |       भाजपा नेता जसवंत सिंह के विधायक पुत्र मानवेंद्र ने पार्टी छोड़ी, बोले- कमल का फूल, हमारी भूल     |       एशिया कप / भारत-पाक वनडे आज, फाइनल में जगह बनाने पर टीम इंडिया की नजर     |       अकेले दम 30000 मील की समुद्री परिक्रमा पर निकला था पहला भारतीय कमांडर, 14 मी ऊंची लहरों के बीच फंसा     |       कांग्रेस ने इमरान को बताया सेना का मुखौटा, बोली- पीएम मोदी के बारे में अपशब्द अस्वीकार्य     |       कांग्रेस नेता कमलनाथ ने शिवराज सिंह पर साधा निशाना, कही यह बात...     |       BJP सांसद ने काटा संसद की आकृति वाला केक, मचा बवाल     |       राहुल गांधी ने सहयोगियों को दिखाए तेवर, कहा- 'हम ज्यादा नहीं झुकेंगे'     |       बिहार में राजग में सीट बंटवारे पर भ्रम के लिए रालोसपा ने जदयू को जिम्मेदार ठहराया     |       तालचर उर्वरक संयंत्र की आधारशिला के साथ ही मिशन पुनरुद्धार का पहला पड़ाव पार     |       डॉ. कफील खान अब बहराइच से गिरफ्तार, जिला अस्‍पताल में हंगामा करने का आरोप     |       Ganesh Visarjan 2018: बप्पा को विदा करते समय यह चीजें भी रखें साथ     |       खंडवा में बारह घंटे तेरह इंच से ज्यादा बारिश, नदी-नाले उफ़ान पर     |       ब्राजील चुनाव : 'डोनल्ड ट्रंप' बनाम 'इमरान ख़ान'     |       SPO की हत्या के लिए ISI ने भेजे निर्देश, सबूत मिलने के बाद भारत ने कैंसिल की मीटिंग     |       ब्लाक समितियों पर भी कांग्रेस का कब्जा     |      

व्यापार


जीएसटी: 28 फ़ीसदी टैक्स स्लैब पर फिर से विचार, कई वस्तुएं हो सकती हैं बाहर

सरकार सामान्य इस्तेमाल में आने वाली कई वस्तुओं पर जीएसटी दर घटा सकती है। साथ ही गुवाहाटी में होने वाली जीएसटी कौंसिल की अगली बैठक में 28 फ़ीसदी वाले टैक्स स्लैब पर फिर से विचार किया जा सकता है।


GST: Prices of many items could reduce

जीएसटी कौंसिल की अगली बैठक में सामान्यतौर पर इस्तेमाल होने वाली रोजमर्रा की चीजों पर जीएसटी रेट कम किया जा सकता है। इसके साथ ही जीएसटी के सबसे ऊँचे टैक्स स्लैब 28 फ़ीसदी में आने वाली वस्तुओं पर फिर से विचार किया जा सकता है। जीएसटी कौंसिल की अगली बैठक 9 और 10 नवम्बर को असम के गुवाहाटी में प्रस्तावित है।

वाणिज्य मंत्रालय के अंतर्गत कार्यरत औद्योगिक नीति और संवर्धन विभाग (डीआइपीपी) ने ऐसे बदलावों की वकालत की है। डीआइपीपी के अनुसार जीएसटी रेट कम होने से छोटे एवं लघु उद्योगों को सीधे तौर पर फ़ायदा होगा और इससे रोजगार के मौके भी बढ़ेंगे।

गौरतलब है कि बहुत सी सामान्य इस्तेमाल में आने वाली वस्तुओं पर अधिक जीएसटी दर होने की वजह सरकार को नाराजगी झेलनी पड़ रही है। सरकार के अन्दर से भी लोगों ने कई बार इस पर आवाज उठायी है।

सूत्रों के मुताबिक जीएसटी के सबसे अधिक 28 फीसदी वाले स्लैब में आने वाली बहुत सी वस्तुओं को छोटे और लघु उद्योग ही बनाते हैं, लेकिन अधिक कर दर की वजह से उन्हें नुकसान हो रहा है। इस स्लैब में प्लास्टिक फर्नीचर, न्यूट्रिशनल ड्रिंक्स, ऑटो पार्ट्स, प्लाईवुड और तंबाकू उत्पाद आदि रखे गए हैं।

कुछ दिनों पहले एक समारोह में वित्त मंत्री अरुण जेटली ने भी कहा था कि आने वाले दिनों में 28 फ़ीसदी वाले टैक्स स्लैब में सिर्फ लक्ज़री आइटम्स रखे जायेंगे। साथ ही कई उद्योग संगठनों ने भी 28 फ़ीसदी वाले टैक्स स्लैब को लेकर सरकार से नाराजगी जताई है।

advertisement