केपाटन से मंत्री बाबूलाल वर्मा का टिकट कटा, चंद्रकांता मेघवाल को मौका     |       सुप्रीम कोर्ट में एयरफोर्स ने कहा, ३३ साल से नहीं मिला कोई लड़ाकू विमान     |       डोनाल्ड ट्रंप ने कहा- मैं प्रधानमंत्री मोदी का बहुत सम्मान करता हूं     |       सेमी हाईस्पीड ट्रेन टी-18 परीक्षण के लिए दिल्ली पहुंची     |       वैश्विक नेताओं से मिले PM मोदी, US उपराष्ट्रपति को दिया भारत आने का न्योता     |       बयान से पलटे शाहिद आफरीदी, कहा- कश्मीर में भारत कर रहा जुल्म     |       इसरो / जीसैट-29 का सफल प्रक्षेपण, 2020 तक गगनयान के तहत पहला मानव रहित मिशन शुरू होगा     |       चौटाला परिवार की कलह गहराई, छोटे भाई का बड़े भाई पर प्रहार     |       ट्रैवेल / राम से जुड़े तीर्थ स्थलों की यात्रा के लिए आज से चलेगी श्री रामायण स्पेशल ट्रेन, ऐसे करें टिकट की बुकिंग     |       VIDEO: मंडी में याद किए गए चाचा नेहरू, कांग्रेसी कार्यकर्ताओं ने लिया ये संकल्प     |       पश्चिम बंगाल का नाम बदलने के प्रस्ताव को केंद्र ने किया खारिज, 'बांग्ला' नाम पर राजनीति न करे केंद्र सरकार : ममता     |       छठ पर्व हुआ संपन्न, तस्वीरों में देखिए कैसे मना Chhath Puja का जश्न     |       प्रधानमंत्री राजपक्सा के खिलाफ संसद में अविश्वास प्रस्ताव पास     |       संसद का शीतकालीन सत्र 11 दिसबंर से, क्या राम मंदिर पर कानून लाएगी मोदी सरकार?     |       दिल्ली के सिग्नेचर ब्रिज पर सेल्फी के लिए होड़ के बाद निर्वस्त्र होने का वीडियो वायरल     |       दिल्लीः हवा गुणवत्ता में सुधार, लेकिन सुरक्षित अब भी नहीं     |       दीक्षांत समारोह में छात्रों को गोल्ड मेडल देंगे राष्ट्रपति     |       IGNOU B.Ed. Admission 2019: जल्द करें आवेदन, कल अंतिम दिन     |       नौ दिन बाद मलबे में दबे तीनों शव बरामद     |       रालोसपा नेता की गोली मार कर हत्या, उपेंद्र कुशवाहा ने साधा नीतीश सरकार पर निशाना     |      

राज्य


पीएमओ ने मोदी की सुरक्षा के ख़र्च का ब्यौरा देने से किया मना

लखनऊ की आरटीआई एक्टिविस्ट ठाकुर ने प्रधानमंत्री की सुरक्षा में लगे कर्मियों तथा वाहनों के संबंध में सूचना आरटीआई के तहत मांगी थी। साथ ही उन्होंने इन कार्मिकों, वाहनों के ईंधन तथा रखरखाव पर आने वाले खर्च का ब्यौरा भी मांगा था।


PMO-denied-to-give-details-on-PM's-security

आरटीआई एक्टिविस्ट डॉ. नूतन ठाकुर ने एक आरटीआई दायर कर प्रधानमंत्री कार्यालय (पीएमओ) से प्रधानमंत्री की सुरक्षा पर होने वाले खर्च का ब्यौरा माँगा था। लेकिन पीएमओ ने ब्यौरा देने से साफ़ इनकार कर दिया है। लखनऊ की आरटीआई एक्टिविस्ट ठाकुर ने प्रधानमंत्री की सुरक्षा में लगे कर्मियों तथा वाहनों के संबंध में सूचना आरटीआई के तहत मांगी थी। साथ ही उन्होंने इन कार्मिकों, वाहनों के ईंधन तथा रखरखाव पर आने वाले खर्च का ब्यौरा भी मांगा था।

पीएमओ के अवर सचिव (आरटीआई) प्रवीण कुमार ने पूरी सूचना देने से इनकार करते हुए कहा कि प्रधानमंत्री की सुरक्षा तथा सरकारी वाहन के मामले स्पेशल प्रोटेक्शन ग्रुप (एसपीजी) से संबंधित हैं, जो आरटीआई एक्ट की धारा 24 में आरटीआई से बाहर हैं।

नूतन ने इसी प्रकार की सूचना राष्ट्रपति सचिवालय से भी मांगी थी। डीसीपी, राष्ट्रपति भवन, नई दिल्ली ने जीवन तथा शारीरिक सुरक्षा को खतरा होने के आधार पर राष्ट्रपति के साथ लगे सुरक्षाकर्मियों की कुल संख्या तथा उन सुरक्षाकर्मियों के मूवमेंट के लिए लगाई गई गाड़ियों की संख्या देने से मना कर दिया था।

राष्ट्रपति सचिवालय की ओर से बताया गया था कि पिछले चार साल में राष्ट्रपति के साथ लगे सुरक्षाकर्मियोंकी सैलरी पर 155.4 करोड़ रुपये तथा सुरक्षाकर्मियों के मूवमेंट के लिए लगी गाड़ियों के रखरखाव में 64.9 लाख रुपये का व्यय आया है।

साथ ही यह भी बताया गया था कि गाड़ियों के लिए ईंधन सरकारी पेट्रोल पंप से प्राप्त होता है।

advertisement