खतराः केरल को क्रॉस कर कर्नाटक पहुंचा 'निपाह' वायरस, मेंगलुरु में मिले 2 संदिग्ध, कोझिकोड न जाने की सलाह     |       कैराना उपचुनाव: विपक्ष ने चला एकता का दांव, बीजेपी की फौज पर विपक्ष की गुगली     |       आतंकी हाफिज सईद को दूसरे देश भेजने की सलाह देने की खबर गलत: चीन     |       धुर-विरोधी केरल के मुख्यमंत्री को ममता ने दी बधाई, परेश रावल ने ली चुटकी     |       न्यूज टाइम इंडिया : बुधवार को कुमारास्वामी लेंगे सीएम पद की शपथ     |       राहुल का PM मोदी को 'विराट' चैलेंज- पेट्रोल-डीजल के दाम घटाकर दिखाइए वर्ना...     |       यूपी ATS के हत्थे चढ़ा ISI एजेंट, रसोईया बन भारतीय राजनयिक के घर में करता था काम     |       पानी की समस्या दूर करने के लिए 70 साल की उम्र में बुजुर्ग ने उठाया फावड़ा, अकेले खोद रहा है कुआं     |       पुलिस फायरिंग में 13 मौतों पर प्रदर्शन जारी, तूतीकोरिन जा सकते हैं राहुल गांधी     |       नेक इंजरी के कारण कोहली नहीं खेलेंगे काउंटी मैच, 15 जून को फिर मेडिकल टेस्ट     |       जम्मू-कश्मीर : पत्थरबाज को जीप से बांधकर हीरो बने मेजर गोगोई को पुलिस ने कश्मीरी नाबालिग के साथ पकड़ा     |       8 राज्यों में भीषण गर्मी: 4 दिन के लिए रेड अलर्ट, विशेषज्ञों ने कहा- तपिश बढ़ने की वजह सोलर रेडिएशन     |       प्रियंका चोपड़ा के रोहिंग्‍या से मिलने पर भड़के बीजेपी सांसद, बोले- ऐसे लोगों को देश से निकालो     |       माता वैष्णो देवी के आसपास त्रिकुटा के जंगलों में लगी आग बुझाने के लिए वायुसेना के 2 हेलिकॉप्टर रवाना     |       EC ने 'एक राष्ट्र-एक चुनाव' का दिया विकल्‍प, कहा- एक साल में हो एक चुनाव     |       अब BJP के इस विधायक को मिली जान से मारने की धमकी, बढ़ाई गई सुरक्षा     |       ZEE जानकारीः प्रदूषण के खिलाफ लड़ाई करने वालों को गोली मार दी गई?     |       बांग्लादेशी पीएम शेख हसीना के आगम पर केएनयू में युद्ध स्तर पर तैयारी     |       दिल्ली सरकार का आदेश, ब्याज के साथ बढ़ाई हुई फीस लौटाएं स्कूल     |       गंगा दशहरा: जानिए महत्‍व, पूजा विधि, शुभ मुहूर्त, मंत्र और व्रत कथा     |      

फीचर


विकास दर की सुस्ती कहीं महंगी न पड़ जाए सरकार को

वित्त वर्ष की पहली तिमाही में जीडीपी में सीधे 2.2 प्रतिशत की गिरावट दर्ज की गई। पिछले साल में इस तिमाही के 7.9 के मुकाबले जीडीपी घटकर 5.7 फीसदी रह गई।


article-by-prem-prakash-on-low-growth-rate-expensive-government

विभिन्न आर्थिक संकटों के बीच जिस एक बात को लेकर आगे मोदी सरकार के लिए अपनी छवि और प्रदर्शन को बचाने में मुश्किल हो सकती है, वह है विकास दर की मंद पड़ती जा रही रफ्तार। इस रफ्तार की सुस्ती के साथ बेरोजगारी का सवाल देश के प्राइम एजेंडा में तेजी से ऊपर चढ़ता जा रहा है। दरअसल, सेंसेक्स भले अपनी तीस हजारी चढ़ाई से उतरने का नाम नहीं ले रहा, पर आर्थिक विकास की नैया ने इस बीच खूब हिचकोले खाए हैं।

वित्त वर्ष की पहली तिमाही में जीडीपी में सीधे 2.2 प्रतिशत की गिरावट दर्ज की गई। पिछले साल में इस तिमाही के 7.9 के मुकाबले जीडीपी घटकर 5.7 फीसदी रह गई। सरकार के सामने यह बड़ा सवाल है कि कैसे सकारात्मक आर्थिक आंकड़ों के साथ आगे बढ़े क्योंकि 2019 में आम चुनाव होने हैं और डेढ़ वर्ष से भी कम का समय सरकार के पास है। जीडीपी की वृद्धि दर लगातार छठी तिमाही में घटी है। आर्थिक समीक्षा-दो में यह अनुमान जताया गया है कि अपस्फीति दबाव के कारण चालू वित्त वर्ष में 7.5 प्रतिशत की आर्थिक वृद्धि दर हासिल करना संभव नहीं होगा। इसके साथ ही औद्योगिक वृद्धि दर भी 5 साल में सबसे नीचे आ गया है। देश के सबसे बड़े कर सुधार कानून जीएसटी को और व्यावहारिक बनाने में भले सरकार लगी हुई है, पर इसमें भी अभी काफी सुधार की दरकार है।

इसी तरह, देश में युवाओं को रोजगार के नए अवसरों से लाभ पहुंचाने को लेकर 2014 के लोकसभा चुनाव में भाजपा की तरफ से काफी उम्मीदें जगाई गई थी। दुनिया के सबसे युवा देश के युवा वोटरों ने इस उम्मीद पर भरोसा भी दिखाया। पर यह भरोसा अब कहीं न कहीं लड़खड़ाता नजर आ रहा है और इसका गुस्सा युवा एवीएम मशीन का बटन दबाते हुए अगर दिखाते हैं, तो इसे अनेपिक्षित नहीं कहा जाएगा। श्रम ब्यूरो की रिपोर्ट के अनुसार, देश की बेरोजगारी दर 2015-16 में पांच प्रतिशत पर पहुंच गई, जो पांच साल का उच्च स्तर है। अखिल भारतीय स्तर पर पांचवें सालाना रोजगार-बेरोजगारी सर्वे के अनुसार करीब 77 प्रतिशत परिवारों के पास कोई नियमित आय या वेतनभोगी व्यक्ति नहीं है। 

श्रम ब्यूरो के अनुसार, 2013-14 में बेरोजगारी दर 4.9 प्रतिशत, 2012-13 में 4.7 प्रतिशत, 2011-12 में 3.8 प्रतिशत तथा 2009-10 में 9.3 प्रतिशत रही। 2014-15 के लिए इस प्रकार की रिपोर्ट जारी नहीं की गई थी। इस बीच रोजगार सृजन के क्षेत्र में बाधा आने के संकेत के बारे में भी आईएलओ पहले ही आगाह कर चुका है। इस साल के शुरू में आईएलओ की जारी रिपोर्ट में कहा गया है, 'आशंका है कि पिछले साल के 1.77 करोड़ बेरोजगारों की तुलना में 2017 में भारत में बेरोजगारों की संख्या 1.78 करोड़ और उसके अगले साल 1.8 करोड़ हो सकती है। प्रतिशत के संदर्भ में 2017-18 में बेरोजगारी दर 3.4 प्रतिशत बनी रहेगी।'

advertisement