JAC 12th Arts Result 2019: इंटर आर्ट्स में लड़कियों ने मारी बाजी, जानें 10 खास बातें - Hindustan हिंदी     |       राजतिलक: पहले VVPAT की पर्ची मिलान, फिर EC करे नतीजों का ऐलान! Rajtilak: Opposition requests EC to verify VVPAT slips - Rajtilak - आज तक     |       भाजपा की डिनर डिप्लोमेसी में मजबूत दिखा एनडीए, नीतीश-उद्धव की उपस्थिति से भाजपा को राहत - अमर उजाला     |       वोटों की गिनती से ठीक पहले अमित शाह के डिनर में एकजुट हुआ NDA, PM मोदी ने चुनाव अभियान की तुलना 'तीर्थयात्रा' से की - NDTV India     |       सोनिया-राहुल-प्रियंका ने राजीव गांधी को दी पुण्यतिथि पर श्रद्धांजलि Gandhi family pays tribute on Rajiv Gandhi death anniversary - आज तक     |       NDA के डिनर में पहुंचे 36 सहयोगी दल, पीएम मोदी के नेतृत्व पर सबने जताया भरोसा: राजनाथ - Navbharat Times     |       Exit Poll के आंकड़े आने के बाद शिवसेना ने की राहुल गांधी और प्रियंका गांधी की तारीफ, जानें क्या कहा - NDTV India     |       सिद्धू और अमरिंदर सिंह के बीच बढ़ा विवाद, कांग्रेस शीर्ष नेतृत्व ने राज्य इकाई से मांगी रिपोर्ट - Navbharat Times     |       Lok Sabha Elections 2019 : Exit Polls पर राजनीतिक दलों की अलग-अलग राय - NDTV India     |       पुणे/ बर्गर में कांच का टुकड़ा लपेट कर परोसा, खाते ही खून से भर गया मुंह - दैनिक भास्कर     |       पाकिस्तान ने मोईन उल हक को भारत में अपना नया उच्चायुक्त नियुक्त किया - Navbharat Times     |       नेपाल ने चीन को दिया झटका, ऑनलाइन पेमेंट प्लेटफॉर्म अलीपे और वीचैट पर लगी रोक - दैनिक जागरण (Dainik Jagran)     |       ईरान की ट्रंप को दो टूक- कितने आए और चले गए, बर्बादी की धमकी हमें मत देना - आज तक     |       पाकिस्तानी जनता परेशान, ब्याज दर 12.25%, जाएंगी 10 लाख नौकरियां - Business - आज तक     |       6.50 लाख रुपये से Hyundai Venue लॉन्च, जानें कौन सा वेरिएंट आपके लिए सही है? - आज तक     |       एक्जिट पोल ने भरा जोश, सेंसेक्स के 39300 के पार बंद - मनी कंट्रोल     |       ऐमजॉन, वॉलमार्ट-फ्लिपकार्ट का धंधा चौपट करने को तैयार है रिलायंस रिटेल: रिपोर्ट - Navbharat Times     |       खबरों वाले शेयर, इन पर बनी रहे नजर - मनी कंट्रोल     |       तो इस वजह से अभी मलाइका अरोड़ा से शादी नहीं कर रहे हैं अर्जुन कपूर? - Entertainment AajTak - आज तक     |       This is what PM Narendra Modi director Omung Kumar has to say on Vivek Oberoi Meme controversy - The Lallantop     |       Film Wrap: किस दिन रिलीज होगी सैक्रेड गेम्स 2, मोदी बायोपिक का नया ट्रेलर - आज तक     |       सलमान खान की फिल्म भारत का नया गाना 'Turpeya' कल होगा रिलीज - Hindustan     |       World Cup 2019: 1975 से वर्ल्‍ड कप 2015 तक भारतीय टीम का सफर, रिकॉर्ड के पहाड़ पर जा बैठे सचिन - दैनिक जागरण (Dainik Jagran)     |       कुछ भी हो, आपको माही भाई चाहिए: युजवेंद्र चहल - Navbharat Times     |       ICC World Cup 2019: विराट कोहली की टीम इंडिया को चेतावनी, ये चीज नहीं करूंगा सहन - Times Now Hindi     |       एथलेटिक्स/ दुती ने कहा- बहन ब्लैकमेल कर रही थी इसलिए समलैंगिक रिश्ते की बात सार्वजनिक की - Dainik Bhaskar     |      

राजनीति


जेटलीः रोजगार, सुस्त निवेश, अमेरिकी फेड वृद्धि हैं नीतिगत चुनौतियां

जेटली ने मौजूदा वर्ष और अगले वर्ष वैश्विक आर्थिक परिदृश्य के आश्वासनपूर्ण रहने के आसार को ध्यान में रखने के साथ-साथ मध्यम अवधि में सावधानी बरतने की सलाह को भी ध्यान में रखा।


arun-jaitley-job-slow-investment-us-fed-hike-policy-challenges

वाशिंगटनः भारतीय वित्तमंत्री अरुण जेटली ने अंतर्राष्ट्रीय मुद्रा एवं वित्तीय समिति (आईएमएफसी) के ब्रेकफास्ट सत्र में हिस्सा लिया और इस दौरान उन्होंने नीतिगत चुनौतियों पर बात की। जेटली ने कहा कि रोजगार सृजन, वैश्विक निवेश में सुस्ती और अमेरिकी फेडरल रिजर्व द्वारा मौद्रिक स्थितियों को सामान्य करने के कदम के उभरती अर्थव्यवस्थाओं पर संभावित प्रभाव तीन प्रमुख नीतिगत चुनौतियां हैं।

जेटली ने मौजूदा वर्ष और अगले वर्ष वैश्विक आर्थिक परिदृश्य के आश्वासनपूर्ण रहने के आसार को ध्यान में रखने के साथ-साथ मध्यम अवधि में सावधानी बरतने की सलाह को भी ध्यान में रखा। उन्होंने पूर्व चेतावनी कवायद के तहत साइबर सुरक्षा पर ध्यान केंद्रित किए जाने की सराहना की और इस बात पर विशेष जोर दिया कि समूची वैश्विक वित्तीय प्रणाली को इससे खतरा है, क्योंकि यह आपस में काफी अधिक जुड़ गई है।

जेटली ने इस संबंध में तीन नीतिगत चुनौतियों पर प्रकाश डाला। उन्होंने कहा कि पहली चुनौती यह है कि सामान्य मौद्रिक स्थिति बहाल करने के लिए अमेरिकी फेडरल रिजर्व द्वारा उठाए जा रहे साहसिक कदमों से उभरते बाजारों और विकासशील अर्थव्यवस्थाओं (ईएमडीई) के समक्ष जोखिम उत्पन्न हो गए हैं। दूसरी चुनौती निवेश में वैश्विक सुस्ती और तीसरी चुनौती रोजगार को लेकर है। जेटली ने कहा कि वह अंतर्राष्ट्रीय समुदाय से आग्रह करेंगे कि वह अल्पकालिक पूंजीगत अस्थिरता को प्रबंधित करने हेतु विभिन्न देशों के लिए उपलब्ध एवं उनके द्वारा अमल में लाए जा रहे वृहद-विवेकपूर्ण और पूंजी प्रवाह प्रबंधन उपायों का उचित एवं निष्पक्ष आकलन करे।

उन्होंने यह भी कहा कि भारत वर्तमान में दुनिया की उन कुछ बड़ी अर्थव्यवस्थाओं में से एक है, जहां जनसांख्यिकीय परिवर्तन का अच्छा दौर देखा जा रहा है। वित्तमंत्री ने कहा कि सरकार की सबसे महत्वपूर्ण प्राथमिकता हर साल श्रम बल में शामिल होने वाले 1.2 करोड़ युवाओं को रोजगार देने के तरीके ढूंढ़ना है। जेटली ने आईएमएफसी के पूर्ण सत्र में भी भाग लिया, जिसमें संस्थागत मुद्दों पर ध्यान केंद्रित किया गया। उन्होंने भारत की व्यापक ढांचागत सुधार पहलों पर प्रकाश डाला, जिनमें वस्तु एवं सेवा कर (जीएसटी), विमुद्रीकरण और दिवाला एवं दिवालियापन संहिता शामिल हैं। जेटली ने कोटे की समीक्षा पर आम सहमति सुनिश्चित करने की दिशा में अपेक्षित प्रगति न होने पर मिश्रित भावनाएं व्यक्त की। उन्होंने विश्व बैंक की समग्र विकास समिति की 96वीं बैठक में भी भाग लिया।

बैठक के एजेंडे में विश्व विकास रिपोर्ट 2018 और विकास के लिए वित्त को उच्चतम सीमा तक बढ़ाने सहित कई विषय शामिल थे। वित्तमंत्री ने परामर्श और सहयोग की भावना के साथ 'स्प्रिंग मीटिंग 2018' तक शेयरधारिता समीक्षा को अंतिम रूप देने का आग्रह किया। जेटली ने ब्रिटेन और लंका के वित्त मंत्रियों के साथ द्विपक्षीय बैठकें भी कीं। इस दौरान आपसी रिश्ते प्रगाढ़ करने के लिए द्विपक्षीय सहयोग के व्यापक पहलुओं पर चर्चा की गई।

advertisement