RISAT-2B सैटेलाइट लॉन्च, सीमाओं की निगरानी और घुसपैठ रोकने में करेगा मदद - आज तक     |       Exclusive: पाक का लड़ाकू विमान समझकर IAF की मिसाइल ने उड़ाया खुद का ही विमान, 6 जवान हो गए थे शहीद - NDTV India     |       जम्मू-कश्मीर में आतंकियों और सुरक्षाबलों के बीच मुठभेड़, दो आतंकी ढेर - News18 हिंदी     |       पूर्व केंद्रीय मंत्री उपेंद्र कुशवाहा ने खून बहाने की दी धमकी Upendra Kushwaha warns of bloodshed in Bihar on May 23 - Lok Sabha Election 2019 - आज तक     |       सुषमा स्वराज बिश्केक में एससीओ बैठक में लेंगी हिस्सा - Navbharat Times     |       Lok Sabha Elections 2019- 12 बजे आएगा रुझान, पहले आएगा पटना साहिब का परिणाम - Hindustan हिंदी     |       मोदी ने कहा- ईवीएम पर बेवजह का विवाद खड़ा कर रहा विपक्ष, अगले पांच साल के लिए एजेंडा तय - दैनिक जागरण     |       अंजीर एक फायदे अनेक! दर्द से लेकर अस्‍थमा और दूसरी बीमारियों को दूर करने में है कारगर - दैनिक जागरण (Dainik Jagran)     |       Exit Poll: मोदी-शाह समेत BJP के ये बड़े चेहरे जीत रहे हैं चुनाव? - Lok Sabha Election 2019 - आज तक     |       Rajasthan RBSE 12th Result 2019:: आज आएंगे राजस्थान बोर्ड 12वीं आर्ट्स के नतीजे, इन स्टेप्स से कर सकेंगे चेक - Hindustan हिंदी     |       ईरान की ट्रंप को दो टूक- कितने आए और चले गए, बर्बादी की धमकी हमें मत देना - आज तक     |       यमन के हूती विद्रोहियों ने ड्रोन से सऊदी अरब के हवाई अड्डे पर किया हमला - Navbharat Times     |       पाकिस्तानी जनता परेशान, ब्याज दर 12.25%, जाएंगी 10 लाख नौकरियां - Business - आज तक     |       ब्रेक्ज़िट : 'सांसदों के पास डील के समर्थन का आखिरी मौका' - BBC हिंदी     |       Hyundai Venue के इंजन से लेकर माइलेज तक की पूरी जानकारी यहां मिलेगी - अमर उजाला     |       अब इन 4 बड़े सरकारी बैंकों का होगा विलय, नई सरकार लगाएगी मुहर? - Business - आज तक     |       सेंसेक्स में आज फिर तेजी, 200 अंकों की बढ़त के साथ खुला बाजार - Hindustan     |       गोल्ड लोन वाली कंपनी दे रही अब ये नई सुविधा, जरूरत पड़ने पर ले सकते हैं पैसे - News18 हिंदी     |       विवेक ओबेरॉय के विवादित ट्वीट पर ओमंग कुमार का रिऐक्शन, बोले- हो गया, हो गया - नवभारत टाइम्स     |       'भारत' छोड़ने के बाद क्या दोबारा प्रियंका संग काम करेंगे सलमान? बताया - आज तक     |       तो इस वजह से अभी मलाइका अरोड़ा से शादी नहीं कर रहे हैं अर्जुन कपूर? - Entertainment AajTak - आज तक     |       सुष्मिता सेन को मिस यूनिवर्स बने पूरे हुए 25 साल, बॉयफ्रेंड ने यूं लुटाया प्यार - Jansatta     |       World Cup के इतिहास में इस टीम के प्लेयर्स ने लगाई हैं सबसे ज्यादा सेंचुरी, दूसरे नंबर पर है भारत - दैनिक जागरण (Dainik Jagran)     |       वर्ल्ड कप 2019: इंग्लैंड जाने से पहले कोहली ने देश के सामने रखा 'विराट' विजन Kohli considers World Cup 2019 as the most challenging one - Sports - आज तक     |       ऑस्ट्रेलिया/ पूर्व ओपनर स्लेटर ने फ्लाइट में महिलाओं के साथ की बदसलूकी, फिर खुद को बाथरूम में बंद कर लिया - Dainik Bhaskar     |       इंग्लैंड ने वर्ल्ड कप टीम में हरफनमौला जोफ्रा आर्चर को दी जगह - आज तक     |      

राष्ट्रीय


रेलवे ने कहा- बड़े पैमाने पर किए जाएंगे संरचनात्मक सुधार

वहीं लोहानी ने कहा कि हम इन सभी प्रकिया और अवसंरचनात्मक कमी में बहुत आक्रामक ढंग से सुधार लाएंगे। रेलवे ढांचागत मुद्दों को हल करने का काम कर रहा है, ताकि बढ़ती मांग को पूरा किया जा सके


ashwani-lohani-structural-improvements-large-scale-railway

नई दिल्ली: रेलवे बोर्ड के अध्यक्ष अश्विनी लोहानी ने बताया कि भारतीय रेलवे में जल्द ही बड़े पैमाने पर संरचनात्मक और प्रक्रियागत सुधार शुरू किए जाएंगे। लोहानी ने यह बातें पीएचडी चैंबर ऑफ कॉमर्स एंड इंडस्ट्री के 112वें वार्षिक सत्र में एक पैनल चर्चा के दौरान कहीं। बता दें कि इस सत्र में 'अनिवार्यता और बाधाएं : जीएसटी, लॉजिस्टिक्स, अवसंरचना और परिवहन' पैनल पर चर्चा की गई।

वहीं लोहानी ने कहा कि हम इन सभी प्रकिया और अवसंरचनात्मक कमी में बहुत आक्रामक ढंग से सुधार लाएंगे। रेलवे ढांचागत मुद्दों को हल करने का काम कर रहा है, ताकि बढ़ती मांग को पूरा किया जा सके और इसके साथ ही यात्री ट्रेनों और मालगाड़ी की औसत रफ्तार में भी सुधार लाया जा सके। हालांकि लोहानी ने सुझाव दिया कि रेलवे में दक्षता लाने का सबसे प्रभावी तरीका संगठन के भीतर प्रतिस्पर्धा की भावना पैदा करना है, जो पहले से ही शुरू हो चुका है। 

बता दें  कि रेलवे की तरफ से यह कदम आए दिन हो रहे ट्रेन हादसो को देखते हुए लिया गया है। बीते दिनों उत्तर प्रदेश समेत देश के कई राज्यों में ट्रेन हादसे हुए, जिसमें ज्यादातर रेल पटरियों की खराबी को कारण बताया गया। इन सभी बातों को ध्यान में रखकर भारतीय रेलवे की तरफ से यह कदम उठाया गया है।

 

advertisement