SC में राहुल गांधी के माफी मांगने के बाद मीनाक्षी लेखी ने क्या कहा? - Lok Sabha Election 2019 AajTak - आज तक     |       सनी का 'ढाई किलो का हाथ' बीजेपी के साथ Actor Sunny Deol joins Bharatiya Janata Party - Lok Sabha Election 2019 - आज तक     |       टिकट कटते ही BJP सांसद उदित राज ने छोड़ी ‘चौकीदारी’, फिर से बन गए डॉक्टर - आज तक     |       BJP के सामने 117 सीटों में 62 सीट बचाने की चुनौती Polling on 117 seats, challenge on 62 seats for BJP - Lok Sabha Election 2019 - आज तक     |       पीएम मोदी ने मां से लिया आशीर्वाद, अमित शाह की पोती को किया दुलार, देखें तस्वीरें - दैनिक जागरण     |       रोहित शेखर की पत्नी का था बॉयफ्रेंड? तलाक पर फैसले से पहले मौत पर सवाल - Crime images AajTak - आज तक     |       सुप्रीम कोर्ट ने गुजरात सरकार को दिया आदेश बिलकिस बानो दें 50 लाख घर सरकारी नौकरी - Zee News Hindi     |       11 पंडितों के साथ साध्वी प्रज्ञा ने किया नामांकन, मांगी भिक्षा - Lok Sabha Election 2019 - आज तक     |       तीसरा चरण/ 2 बजे तक औसत 38% मतदान, मोदी ने कहा- आईईडी आतंकियों का हथियार, वोटर आईडी लोकतंत्र का शस्त्र - Dainik Bhaskar     |       UP Board Class 10th, 12th Result 2019 LIVE Updates: ऐसे देखें सबसे तेज रिजल्‍ट - Jansatta     |       यूएस-ईरान की दुश्मनी के बीच बुरा फंसा भारत, बढ़ेगी टेंशन - आज तक     |       श्रीलंका आतंकी हमले: 8 भारतीयों के मारे जाने की पुष्टि, भारतीय उच्चायोग ने दी जानकारी - Times Now Hindi     |       प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने डाला वोट, Video PM Narendra Modi casts his vote in Ahmedabad - Lok Sabha Election 2019 - आज तक     |       कोलंबो के चर्च में विस्फोट के बाद अब बस स्टेशन से 87 बम डेटोनेटर मिले: पुलिस - NDTV India     |       शेयर बाजार/ सेंसेक्स में 150 अंक की तेजी, जेट एयरवेज के शेयर में 13% उछाल - दैनिक भास्कर     |       नई होंडा CBR650R भारत में लॉन्च, कीमत 7.70 लाख रुपये - आज तक     |       मारुति सुजुकी की बलेनो हुई स्मार्ट, जानें कीमत और खास फीचर्स - Hindustan     |       घर में रखे सोने से बड़ी कमाई का मौका, देश का सबसे बड़ा बैंक दे रहा है डबल फायदा - Zee Business हिंदी     |       As Deepika is all set to play the story of Laxmi Agarwal in Chhapaak, the victim recalls 14 years of journey - PINKVILLA     |       जानें, Salman Khan की 'भारत' के ट्रेलर से गायब क्यों हैं तब्बू - नवभारत टाइम्स     |       चीन के बॉक्स ऑफिस पर 'अंधाधुन' ने तहलका मचाया, 300 करोड़ से ज्यादा कमाए - ABP News     |       आमिर खान ने इकोनॉमी क्लास में किया हवाई सफर तो Video ने इंटरनेट पर मचाया कोहराम - NDTV India     |       RR vs DC: अजिंक्य रहाणे ने जडा़ आईपीएल में अपना दूसरा शतक, बनाए ये रिकॉर्ड - Hindustan     |       मैच विनर बन बोले ऋषभ पंत- दिमाग में घूम रहा वर्ल्ड कप टीम से बाहर क्यों? - आज तक     |       आईपीएल/ 12 मई को चेन्नई की जगह हैदराबाद के राजीव गांधी स्टेडियम पर फाइनल होगा - Dainik Bhaskar     |       वीरेंद्र सहवाग ने बताया, क्यों ऋषभ पंत को विश्व कप टीम में जगह नहीं देना सही फैसला - SportzWiki Hindi     |      

गुड न्यूज


पुरुषों के वर्चस्व वाले व्यवसाय में बिहार के सीतामढ़ी की अनुपम ने पेश की मिसाल, बन गई 'मशरूम गर्ल'

स्नातक की शिक्षा ग्रहण करने वाली अनुपम प्रारंभ से ही कुछ अलग करना चाहती थीं। इसी कारण उन्होंने कृषि क्षेत्र में अपनी पहचान बनाने को अपना मुकाम बनाया


bihars-sitamarhi-girl-anupam-is-new-ideal-girl-for-agriculture-business-mushroom-girl

आमतौर पर धारणा है कि किसानी का काम पुरुषों के जिम्मे है, लेकिन अगर आप जगत जननी सीता मां की जन्मस्थली सीतामढ़ी से गुजर रहे हों और कोई लड़की महिलाओं को इकट्ठा कर किसानी का गुर बताती नजर आए तो चौंकिएगा नहीं। सीतामढ़ी जिले के चोरौत प्रखंड के र्बी बेहटा गांव की रहने वाली अनुपम कुमारी ऐसी लड़की है, जो आज कृषि क्षेत्र में पुरुषों से कंधा से कंधा मिलाकर काम कर रही है। 

अनुपम के इस जुनून ने न केवल उनके वजूद को नाम दिया है, बल्कि कई महिलाओं ने भी उनकी प्रेरणा से चूड़ियों से भरे हाथों में कुदाल थाम लिया है। यही कारण है कि आज इस क्षेत्र में अनुपम की पहचान 'मशरूम गर्ल' के रूप में की जाती है। 

केंद्रीय कृषि मंत्री राधामोहन सिंह से कृषि के क्षेत्र में उल्लेखनीय योगदान देने के लिए सम्मानित अनुपम ने बताया कि जब सभी क्षेत्रों में महिलाएं और लड़कियां सफल हो रही हैं, तो कृषि क्षेत्र में लड़कियां क्यों नहीं सफल हो सकतीं। 

स्नातक की शिक्षा ग्रहण करने वाली अनुपम प्रारंभ से ही कुछ अलग करना चाहती थीं। इसी कारण उन्होंने कृषि क्षेत्र में अपनी पहचान बनाने को अपना मुकाम बनाया। 

किसान पिता उदय कुमार चौधरी की पुत्री होने के कारण जन्म से ही अनुपम ने खेती-बारी को नजदीक से देखा था। कुछ अलग करने की चाहत ने उसे कृषि विज्ञान केंद्र पहुंचा दिया और वहां उसने मशरूम उत्पादन एवं केंचुआ खाद उत्पादन विषयक प्रशिक्षण प्राप्त की और उसके बाद तो मानो यह पूरे गांव की महिलाओं की प्रशिक्षक बन गईं। अनुपम ने गांव में ही नहीं, जिले के विभिन्न प्रखंडों के गांवों में महिलाओं को इकट्ठा कर उन्हें मशरूम उत्पादन के गुर सिखाने लगीं। 

वह कहती हैं, "आज विभिन्न गांव की करीब 200 महिलाएं मिलकर मशरूम उत्पादन कर रही हैं।" 

अनुपम को हालांकि इस बात का मलाल है कि वे लोग तापमान के कारण सिर्फ सितंबर, अक्टूबर और नवंबर तीन महीने ही मशरूम उत्पादन कर पा रही हैं। वह कहती हैं कि फिलहाल ओएस्टर मशरूम का ही उत्पादन हो रहा है। 

उन्होंने कहा कि इसके अलावा वह गांव-गांव में केंचुआ खाद उत्पादन (वर्मी कंपोस्ट) की भी जानकारी कृषकों को दे रही हैं। अनुपम बताती हैं कि प्रारंभ में अन्य कार्यो की तरह उन्हें भी कई समस्याओं का सामना करना पड़ा, बाद में महिलाओं का जुड़ाव उनसे होता गया और अब तो यह कारवां बन गया है। 

अनुपम कहती हैं कि प्रारंभ से बलहा मधुसूदन कृषि विज्ञान केंद्र के वैज्ञानिकों डॉ़ रामेश्वर प्रसाद और डॉ़ किंकर कुमार का सहयोग मिलता रहा है। 

वैज्ञानिकों का भी मानना है, "कृषि के जिन क्षेत्रों में पुरुषों का कब्जा था, वहां आज अनुपम के कारण अन्य महिलाओं को भी स्वावलंबी बनते देखा जा रहा है। आज अनुपम की पहचान 'मशरूम गर्ल' के रूप में की जा रही है।" 

बकौल अनुपम, "महिलाओं को आत्मनिर्भर बनते देखकर सुकून मिलता है। आज महिलाएं अपनी जरूरतें की चीजें खुद पूरी कर रही हैं और उनमें आत्मबल का संचार हुआ है।" 

अनुपम को कृषि के क्षेत्र में बेहतर कार्य करने के लिए केंद्रीय कृषि मंत्री राधा मोहन सिंह ने 22 फरवरी को पटना में भारतीय कृषि अनुसंधान परिषद पूर्वी क्षेत्र की ओर से आयोजित 18वें स्थापना दिवस समारोह में प्रशस्ति पत्र देकर हौसला अफजाई की थी। 

इससे पूर्व, गणतंत्र दिवस के अवसर पर डॉ़ राजेंद्र प्रसाद केंद्रीय कृषि विश्वविद्यालय पूसा, समस्तीपुर में आयोजित कार्यक्रम में वहां के कुलपित डॉ. आऱ सी़ श्रीवास्तव द्वारा 'अभिनव किसान' से अनुपम को सम्मानित किया गया था।

केंद्रीय कृषि विश्वविद्यालय द्वारा प्रत्येक साल जिले के कृषि विज्ञान केंद्र से जुड़कर कृषि एवं संबद्ध कार्यो में बेहतर कार्य करने वाले चयनित एक किसान को अभिनव किसान पुरस्कार से सम्मानित किया जाता है। इसके अलावे अनुपम को सीतामढ़ी के पुलिस अधीक्षक और सीतामढ़ी जिला प्रभारी मंत्री सुरेश शर्मा भी कृषि में योगदान के लिए सम्मानित कर चुके हैं।

र्बी बेहटा गांव की महिलाएं भी आज अपनी बेटी अनुपम को 'मशरूम गर्ल' के रूप में पहचान बनाए जाने से गर्व महसूस करती हैं। गांव की महिला यशोदा देवी कहती हैं कि सीतामढ़ी की पहचान मां सीता की जन्मस्थली के रूप में है, आज इसी सीता की धरती पर अनुपम भी महिलाओं के कल्याण में जुटी हैं।

advertisement