थराली में बादल फटा, 10 दुकान और कई वाहन बहे; भारी बारिश की चेतावनी     |       हत्या या खुदकुशी‌: तीसरी मंजिल से गिरकर एयर होस्टेस की मौत; पिता बोले- टॉर्चर करता था पति     |       मुस्लिमों की पार्टी बताने पर भड़की कांग्रेस, कहा- PM मोदी की 'बीमार मानसिकता' राष्ट्रीय चिंता का विषय     |       बिहार: JDU को पहले इन पार्टियों से करनी होगी बात, तभी बनेगी बीजेपी से बात     |       मिशन 2019: ममता के गढ़ में आज मोदी की किसान रैली, 22 सीटों पर नजर     |       कासगंज: 350 से ज्यादा पुलिसकर्मी और बग्घी में सवार होकर आया दलित दूल्हा     |       सेंट्रल जेल आते ही सुनील राठी की अधिकारियों से झड़प     |       हजारीबाग में एक परिवार के पांच लोगों ने खुदकुशी की     |       कैंसर की वजह से पत्नी से बना ली थी दूरी, इसलिए की थी हत्या     |       गरीब रथ का सफर होगा महंगा, टिकट में बेडरोल का किराया भी जुड़ेगा     |       स्विस बैंकों में भारतीय खातों में पड़े 300 करोड़ रुपए का तीन साल बाद भी नहीं मिल रहा दावेदार     |       वकील ने चेंबर में जूनियर को बुलाकर की गंदी बात, गिरफ्तार     |       कर्नाटक: रोते हुए बोले सीएम कुमारस्वामी- पी रहा हूं गठबंधन सरकार का विष     |       फीफा वर्ल्ड कप 2018 फाइनल: कहानी हर गोल की     |       अगले महीने भारत अौर पाक की सेना एक साथ युद्धाभ्यास करेंगी     |       कर्नाटक: चॉकलेट बांट रहे युवकों को भीड़ ने बच्चा चोरी के शक में पीटा; इंजीनियर की मौत, 3 जख्मी     |       आज से विधानसभा का मानसून सत्र कल, पेश होगा पहला अनुपूरक बजट     |       पाकिस्तान चुनाव में भारत बना चुनावी मुद्दा, इमरान बोले- नवाज के फायदे के लिए सीमा पर बढ़ता है तनाव     |       ट्रम्प-पुतिन मुलाकात आज: शक्ति संतुलन बनाना चाहता है अमेरिका, भारत-रूस-चीन गठजोड़ को कमजोर करने की कोशिश     |       जम्मू-कश्मीर में चट्टान गिरने से सात की मौत, 33 जख्मी     |      

गपशप


सियासत के शाह की वाह

अखबार के तमाम बड़े पत्रकारों व विभिन्न संपादकों ने शाह को अपना परिचय पेश किया,


bjp-national-president-amit-shah

बदलते वक्त के साथ अकबर इलाहाबादी का यह तर्क बेमतलब होता जा रहा है कि ’जब तोप मुकाबिल हो तो अखबार निकालो’ आज नए दौर के अखबार और उनके मालिक गण इन सच्चाईयों पर भगवा पेंट करने में सिद्दहस्त हो गए हैं। यूपी के एक प्रमुख दैनिक अखबार के सवाल-जवाब की गोष्ठी में जब भाजपा अध्यक्ष अमित शाह पहुंचे तो उनके समक्ष टेबुल पर एक टेप रिकार्डर ऑन करके रख दिया गया। अखबार के तमाम बड़े पत्रकारों व विभिन्न संपादकों ने शाह को अपना परिचय पेश किया, इसके बाद शुरू हुआ सवाल-जवाब का सिलसिला। जैसे ही कुछ अप्रिय सवाल आने शुरू हुए, सूत्र बताते हैं कि शाह ने टेप रिकार्डर बंद कर उसे अपने पास रख लिया। अखबार के कई उत्साही पत्रकारों ने जब अपने तीखे सवालों के बाऊंसर शाह की ओर उछाले तो शाह ने उसे ’डक’ करते हुए बेतकत्लुफी से कहा-’आपके वरिष्ठ संपादकों को मालूम है कि क्या छापना है और क्या नहीं।’ एक सवाल एक वरिष्ठ संपादक की ओर से दन्न से आया जो कि गो-वध को लेकर था। शाह ने सपाट लहजे में कहा-’देखिए यह प्रधानमंत्री पहले ही कह चुके हैं कि गाय के नाम पर किसी को सताया नहीं जा सकता और मैं भी यही राय रखता हूं।’ फिर अखबार प्रबंधन ने इस पूरे सेशन की रिपोर्टिंग पेज बनाकर बकायदा अनुमोदन के लिए सियासत के शाह के पास भेजा। जरूरी अनुमोदन के बाद अगले रोज अखबार छप कर पाठकों के बीच आ गया।

advertisement