बड़ी राहतः सेनेटरी नैपकिन पर खत्म हुआ जीएसटी, जानिए- और क्या-क्या हुअा सस्ता     |       JK: कॉन्स्टेबल की अगवा कर आतंकियों ने की हत्या, 2 माह में तीसरा मामला     |       TMC की रैली पर BJP का पलटवार, ममता को पीएम बनने का सपना देखना बंद कर देना चाहिए     |       बाबा अमरपुरी के कुकर्मों की शिकार महिला आई सामने, सुनाई आपबीती     |       केंद्रीय मंत्री अर्जुन राम मेघवाल बोले- PM मोदी की लोकप्रियता के साथ बढ़ रही है मॉब लिंचिंग     |       'दल दल' अधिक हो गया है, अब तो अधिक कमल खिलेगा : नरेंद्र मोदी     |       मोरनी महादरिंदगी मामला: गेस्ट हाउस परिसर में मिला आपत्तिजनक सामान, फोरेंसिक टीम कर रही जांच     |       1968 के विमान हादसे में मृत सैनिक का शव हिमाचल में मिला, 50 साल से ढूंढे जा रहे 102 शव; अब तक 6 मिले     |       हैदराबाद में जन्मी दक्षिण पूर्व एशिया की सबसे छोटी बच्ची     |       फतवा जारी करने वालों से मुझे जान का खतरा, पीएम मोदी से मांगूंगी मदद : निदा खान     |       अमित शाह की नेताओं की नसीहत, अहंकार छोड़ो और कार्यकर्ताओं की सुध लो     |       सावधान! सरकारी बैंकों का ATM यूज करते हैं तो यह खबर जरूर पढ़ लें     |       राजस्थानः 7 माह की बच्ची से दुष्कर्म के दोषी को फांसी की सजा     |       उत्तराखंड में भारी बारिश की चेतावनी, अलर्ट     |       Sawan 2018: भोलेबाबा का व्रत खोलें इन चीजों के साथ, तुरंत पूरी होगी मनोकामना     |       सहायक लोको पायलट एप्लीकेशन स्टेटस आज रात तक देख सकेंगे अभ्यर्थी, परीक्षा अगस्त या सितंबर में     |       एटीएम में 100 रुपये के नए नोट डालने पर आएगा 100 करोड़ का खर्चा     |       SBI Clerk Result 2018: sbi.co.in पर 22 जुलाई को जारी हो सकता है र‍िजल्‍ट, Update के लि‍ए यहां बनाए रखें नजर     |       रवांडा के राष्‍ट्रपति को 200 गाय तोहफे में देंगे पीएम मोदी, 23 को जाएंगे दौरे पर     |       महाकवि पदमभूषण गोपालदास नीरज का पार्थिव शरीर पहुंचने वाला है अलीगढ़     |      

साहित्य/संस्कृति


ब्रिटिश लेखक काजुओ इशिगुरो को साहित्य का नोबेल पुरस्कार

स्वीडिश अकादमी ने अपनी घोषणा में कहा है कि इशिगुरो ने अपने उपन्यासों में दुनिया के साथ हमारे जुड़ाव की अवास्तविक भावना के नीचे के शून्य को दिखाया है।


british-author-kazuo-ishiguro-wins-nobel-prize-in-literature

स्वीडिश अकादमी के अनुसार ‘द रिमेन्स ऑफ द डे’ उपन्यास के लिए मशहूर ब्रिटिश लेखक काजुओ इशिगुरो को इस वर्ष के साहित्य नोबेल पुरस्कार के लिए चुना गया है। अकादमी ने अपनी घोषणा में कहा कि 62 साल के लेखक ने ‘शानदार भावनात्मक प्रभाव वाले उपन्यासों में दुनिया के साथ हमारे जुड़ाव की अवास्तविक भावना के नीचे के शून्य को दिखाया है।’ इशिगुरो ने आठ किताबें और साथ ही फिल्म एवं टेलीविजन के लिए पटकथाएं भी लिखी हैं। उन्हें 1989 में ‘द रिमेन्स ऑफ दि डे’ के लिए मैन बुकर प्राइज जीता था।

जापान के नागासाकी में जन्मे इशिगुरो पांच साल की उम्र में अपने परिवार के साथ ब्रिटेन चले गए थे और वयस्क होने पर जापान की यात्रा की। उनका पहला उपन्यास ‘अ पेल व्यू ऑफ दि हिल्स’ (1982) और दूसरा उपन्यास ‘ऐन आर्टिस्ट ऑफ दि फ्लोटिंग वर्ल्ड’ (1986) दोनों द्वितीय विश्वयुद्ध के कुछ सालों के बाद के नागासाकी की पृष्ठभूमि पर आधारित है।

अकादमी ने कहा कि इशिगुरो को सबसे ज्यादा जिन विषयों के साथ जोड़ा जाता है, वे यहां पहले से ही मौजूद हैं स्मृति, समय और आत्म विमोह।’ अकादमी के अनुसार, ‘यह उनके सबसे मशहूर उपन्यास ‘द रिमेन्स ऑफ दि डे’ में खासतौर पर दिखता है, जिस पर बनी फिल्म में एंथनी होपकिंस ने काम को लेकर बेहद समर्पित रसोइए स्टीवेंस की भूमिका निभायी थी।’ अकादमी की तरफ से कहा गया, ‘इशिगुरो की रचनाओं में अभिव्यक्ति का एक संयमित माध्यम दिखता है जो घटनाक्रमों से अप्रभावित होता है।’ नोबेल निर्णायक मंडल के अनुसार लेखक की मशहूर रचनाओं में 2005 में आई किताब ‘नेवर लेट मी गो’ शामिल है, जिसमें उन्होंने अपनी रचना में साइंस फिक्शन के ‘धीमे अंतर्प्रभाव’ को पेश किया।

2015 में आए उनके नवीनतम उपन्यास ‘द बरिड जाइंट’ में ‘एक गतिशील तरीके से दिखाया गया है कि स्मृति का विस्मृति, इतिहास का वर्तमान और फंतासी का वास्तविकता से क्या संबंध है।’ दिलचस्प है कि इशिगुरो इस साल के नोबेल की रेस में सबसे आगे चल रहे साहित्यकारों में शामिल नहीं थे, उनकी किताबों का प्रकाशन करने वाली ‘फेबर एंड फेबर’ ने ट्विटर पर लिखा, ‘हम काजुओ इशिगुरो के नोबेल पुरस्कार जीतने को लेकर बेहद खुश हैं।’ नोबल पुरस्कार के साथ 90 लाख क्रोनर (11 लाख डॉलर) की राशि दी जाती है। इशिगुरो को 10 दिसंबर को स्टॉकहोम में एक औपचारिक समारोह में पुरस्कार दिया जाएगा।

advertisement