देश के सबसे भारी रॉकेट 'बाहुबली' से जीसैट-29 लॉन्‍च, कश्मीर और नॉर्थ ईस्ट में जीवन करेगा आसान     |       Birthday Special: चीन से हार के बाद जवाहरलाल नेहरू ने क्या कहा था?     |       राफेल की कीमत, ऑफसेट पार्टनर सब जानकारी SC के पास, डील पर फैसला सुरक्षित     |       कश्मीर पर शाहिद अफरीदी का यू टर्न, कहा- अपने देश के लिए हूं निष्ठावान     |       राहुल की हरी झंडी, राजस्थान में गहलोत और सचिन पायलट दोनों लड़ेंगे चुनाव     |       पीएम मोदी ने US के उपराष्ट्रपति से कहा, दुनिया में हुए आतंकी हमलों का एक ही केंद्र     |       टूट गया चौटाला परिवार, जिस इनेलो को खड़ा किया उसी से निकाले गए अजय चौटाला     |       संसद का शीतकालीन सत्र 11 दिसबंर से, क्या राम मंदिर पर कानून लाएगी मोदी सरकार?     |       पैग के लिए प्लेन में पंगा! देखिए विदेशी महिला के हंगामे का VIDEO     |       Air Pollution : दिल्ली में सांस लेना हुआ मुश्किल, ऑनलाइन बिकने लगी पहाड़ों की 'ताजी हवा'     |       रामायण एक्सप्रेस: जानें किन स्टेशनों से गुजरेगी और कितना होगा किराया     |       RLSP लीडर की हत्या, चौथे नेता की हत्या पर नीतीश कुमार पर फूटा उपेंद्र कुशवाहा का गुस्सा     |       SC में सरकार ने नहीं बताई राफेल की कीमत, कहा-विरोधी उठा सकते हैं फायदा, फैसला सुरक्षित     |       व्हाइट हाऊस में तकरारः मेलानिया ट्रंप ने महिला सुरक्षा सलाहकार को निकालने को क्यों कहा?     |       कमलनाथ ने मुसलमानों से कहा, 'चुनावों तक RSS से सतर्क रहें, बाद में हम देख लेंगे'     |       तृप्ति देसाई का एलान, बोलीं- 17 नवंबर को सबरीमाला मंदिर में करूंगी प्रवेश, सीएम से मांगी सुरक्षा     |       'I Love You रितु' लिखकर पति ने 13 मिनट के वीडियो में उठाया सन्न करने वाला कदम     |       Chhath Puja 2018 : उगते सूर्य को अर्घ्य के साथ देशभर में छठ पर्व का हुआ समापन     |       दिल्ली पहुंची अत्याधुनिक ट्रेन-18, जानें क्‍या है खासि‍यत     |       श्रीलंका की संसद ने प्रधानमंत्री राजपक्षे के खिलाफ मतदान किया     |      

साहित्य/संस्कृति


ब्रिटिश लेखक काजुओ इशिगुरो को साहित्य का नोबेल पुरस्कार

स्वीडिश अकादमी ने अपनी घोषणा में कहा है कि इशिगुरो ने अपने उपन्यासों में दुनिया के साथ हमारे जुड़ाव की अवास्तविक भावना के नीचे के शून्य को दिखाया है।


british-author-kazuo-ishiguro-wins-nobel-prize-in-literature

स्वीडिश अकादमी के अनुसार ‘द रिमेन्स ऑफ द डे’ उपन्यास के लिए मशहूर ब्रिटिश लेखक काजुओ इशिगुरो को इस वर्ष के साहित्य नोबेल पुरस्कार के लिए चुना गया है। अकादमी ने अपनी घोषणा में कहा कि 62 साल के लेखक ने ‘शानदार भावनात्मक प्रभाव वाले उपन्यासों में दुनिया के साथ हमारे जुड़ाव की अवास्तविक भावना के नीचे के शून्य को दिखाया है।’ इशिगुरो ने आठ किताबें और साथ ही फिल्म एवं टेलीविजन के लिए पटकथाएं भी लिखी हैं। उन्हें 1989 में ‘द रिमेन्स ऑफ दि डे’ के लिए मैन बुकर प्राइज जीता था।

जापान के नागासाकी में जन्मे इशिगुरो पांच साल की उम्र में अपने परिवार के साथ ब्रिटेन चले गए थे और वयस्क होने पर जापान की यात्रा की। उनका पहला उपन्यास ‘अ पेल व्यू ऑफ दि हिल्स’ (1982) और दूसरा उपन्यास ‘ऐन आर्टिस्ट ऑफ दि फ्लोटिंग वर्ल्ड’ (1986) दोनों द्वितीय विश्वयुद्ध के कुछ सालों के बाद के नागासाकी की पृष्ठभूमि पर आधारित है।

अकादमी ने कहा कि इशिगुरो को सबसे ज्यादा जिन विषयों के साथ जोड़ा जाता है, वे यहां पहले से ही मौजूद हैं स्मृति, समय और आत्म विमोह।’ अकादमी के अनुसार, ‘यह उनके सबसे मशहूर उपन्यास ‘द रिमेन्स ऑफ दि डे’ में खासतौर पर दिखता है, जिस पर बनी फिल्म में एंथनी होपकिंस ने काम को लेकर बेहद समर्पित रसोइए स्टीवेंस की भूमिका निभायी थी।’ अकादमी की तरफ से कहा गया, ‘इशिगुरो की रचनाओं में अभिव्यक्ति का एक संयमित माध्यम दिखता है जो घटनाक्रमों से अप्रभावित होता है।’ नोबेल निर्णायक मंडल के अनुसार लेखक की मशहूर रचनाओं में 2005 में आई किताब ‘नेवर लेट मी गो’ शामिल है, जिसमें उन्होंने अपनी रचना में साइंस फिक्शन के ‘धीमे अंतर्प्रभाव’ को पेश किया।

2015 में आए उनके नवीनतम उपन्यास ‘द बरिड जाइंट’ में ‘एक गतिशील तरीके से दिखाया गया है कि स्मृति का विस्मृति, इतिहास का वर्तमान और फंतासी का वास्तविकता से क्या संबंध है।’ दिलचस्प है कि इशिगुरो इस साल के नोबेल की रेस में सबसे आगे चल रहे साहित्यकारों में शामिल नहीं थे, उनकी किताबों का प्रकाशन करने वाली ‘फेबर एंड फेबर’ ने ट्विटर पर लिखा, ‘हम काजुओ इशिगुरो के नोबेल पुरस्कार जीतने को लेकर बेहद खुश हैं।’ नोबल पुरस्कार के साथ 90 लाख क्रोनर (11 लाख डॉलर) की राशि दी जाती है। इशिगुरो को 10 दिसंबर को स्टॉकहोम में एक औपचारिक समारोह में पुरस्कार दिया जाएगा।

advertisement

  • संबंधित खबरें