केंद्र ने कहा- कारगिल में राफेल होता तो कम सैनिक हताहत होते     |       केपाटन से मंत्री बाबूलाल वर्मा का टिकट कटा, चंद्रकांता मेघवाल को मौका     |       डोनाल्ड ट्रंप ने कहा- मैं प्रधानमंत्री मोदी का बहुत सम्मान करता हूं     |       कोंकणी रिवाजों से एकदूजे के हुए 'दीपवीर', सबसे पहले यहां देखें तस्वीरें और वीडियो     |       मोदी ने वैश्विक नेताओं से की मुलाकात, अमेरिकी उपराष्ट्रपति को दिया भारत आने का न्योता     |       बयान से पलटे शाहिद आफरीदी, कहा- कश्मीर में भारत कर रहा जुल्म     |       इसरो / जीसैट-29 का सफल प्रक्षेपण, 2020 तक गगनयान के तहत पहला मानव रहित मिशन शुरू होगा     |       अजय चौटाला को इनेलो से निष्कासित किए जाने सहित दिन के 10 बड़े समाचार     |       रामायण सर्किट: 16 दिन में अयोध्या से रामेश्वर तक का सफर     |       बाल दिवस पर रही सांस्कृतिक कार्यक्रमों की धूम     |       संसद का शीतकालीन सत्र 11 दिसबंर से, क्या राम मंदिर पर कानून लाएगी मोदी सरकार?     |       केंद्र ने लौटाया पश्चिम बंगाल का नाम बदलने का प्रस्ताव, ममता नाराज     |       Srilanka : संसद में प्रधानमंत्री राजपक्षे के खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव पास     |       अयोध्या में RSS की रैली, इकबाल अंसारी बोले- छोड़ देंगे अयोध्या     |       दिल्लीः हवा गुणवत्ता में सुधार, लेकिन सुरक्षित अब भी नहीं     |       1984 सिख विरोधी दंगे: संगत की गवाही ने लिखी इंसाफ की इबारत     |       दीक्षांत समारोह में छात्रों को गोल्ड मेडल देंगे राष्ट्रपति     |       डीआरआई और सेना ने पाक सीमा से सटे इलाके में बड़ी मात्रा में हथियार बरामद किए     |       अखिलेश का BJP पर तंज- तरक्की के रुके रास्ते, बदल रहे बस नाम     |       सबरीमला: तृप्ति देसाई 17 नवंबर को जाएंगी मंदिर, पीएम मोदी से मांगी सुरक्षा     |      

ब्लॉग


क्या आरएसएस जैसे दक्षिणपंथी-प्रतिक्रियावादी संगठन का मुकाबला कांग्रेस और तमाम क्षेत्रीय दल कर सकते हैं?

यदि कांग्रेस और तमाम क्षेत्रीय दल आरएसएस के विस्तार को रोकना चाहते हैं, तो उन्हें इस दक्षिणपंथी-प्रतिक्रियावादी संगठन की विचारधारा के बरक्स अपना वैचारिक बल खड़ा करना होगा और उसे लेकर जमीन पर उतरना होगा


can-the-congress-and-all-the-regional-parties-compete-with-the-right-wing-reactionary-organization-such-as-rss

राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ से हमारे तमाम मतभेद हो सकते हैं, लेकिन वर्तमान में एक वही ऐसा राजनीतिक, सामाजिक या सांस्कृतिक संगठन दिखलायी पड़ता है, जिसकी अपनी एक सुस्पष्ट विचारधारा है और हर महत्वपूर्ण मसले पर जिसकी एक स्पष्ट राय है।

यह दीगर बात है कि उसका राजनीतिक उपकरण भाजपा फ़िलहाल सुविधा की राजनीति करने पर उतारू है।

इस मामले में केवल इस देश की कम्युनिस्ट पार्टियाँ ही आरएसएस के आसपास दिखती हैं, लेकिन उनमें वैचारिक स्तर पर संघ जैसी स्पष्टता और दृढ़ता का अभाव है।

बाक़ी जितने भी राजनीतिक दल वर्तमान में संघ से लोहा लेने की बात कर रहे हैं, उनकी कोई स्पष्ट विचारधारा ही दिखलायी नहीं पड़ती है।

कांग्रेस तो इस वक़्त अपने मूल मंत्र समाजवाद और पंथनिरपेक्षता के सिद्धांतों से पूरी तरह भटकी हुई लग रही है और वह फ़िलवक्त आरएसएस द्वारा सेट किए गए प्लेटफॉर्म पर मैच खेलने को मजबूर है।

इस तरह ये लोग कभी भी संघ और उसकी विचारधारा से मुकाबला नहीं कर पाएंगे। इन सभी विपक्षी दलों को याद रखना चाहिए कि भाजपा को चुनाव में हराना संघ की विचारधारा को हराना नहीं है।

यदि ऐसा होता, तो आज़ादी के बाद लगभग छह दशकों तक जनसंघ या बीजेपी के सत्ता से बाहर रहने के बावजूद आज संघ का इतना विस्तार नहीं हो जाता। संघ बौद्धिक और जमीनी, दोनों स्तरों पर ख़ामोशी से सतत विस्तार करता है।

यदि 2019 में येन-केन-प्रकारेण विपक्ष बीजेपी को सत्ता से बाहर कर देता है, तब भी वह संघ को कमज़ोर नहीं कर पाएगा। इसका परिणाम कुछ समय बाद पुनः सेकुलर दलों का पतन और भाजपा की वापसी होगी।

यदि कांग्रेस और तमाम क्षेत्रीय दल आरएसएस के विस्तार को रोकना चाहते हैं, तो उन्हें इस दक्षिणपंथी-प्रतिक्रियावादी संगठन की विचारधारा के बरक्स अपना वैचारिक बल खड़ा करना होगा और उसे लेकर जमीन पर उतरना होगा।

इस लिहाज़ से संघ ने हाल ही में दिल्ली के विज्ञान भवन में जैसा अपना वैचारिक कार्यक्रम आयोजित किया था, वैसा हर विपक्षी दल को करना चाहिए। कांग्रेस को तो ऐसे कार्यक्रम की विशेष आवश्यकता है।

advertisement

  • संबंधित खबरें