State Funeral For Goa Chief Minister Manohar Parrikar, PM Pays Respects - NDTV     |       एक कर्मयोगी को अंतिम विदाई Goa CM Manohar Parrikar last rites BJP leaders paid tributes - आज तक     |       राजतिलक: यूपी की जनता को प्रियंका गांधी का खुला खत Rajtilak: Priyanka Gandhi's open letter to UP residents - Lok Sabha Election 2019 - आज तक     |       गोवा में सियासी उठापटक जारी, भाजपा का दावा- आज ही नए सीएम लेंगे शपथ- Amarujala - अमर उजाला     |       लोकसभा चुनाव 2019 : मुजफ्फरनगर में नामांकन प्रक्रिया आरंभ - Times Now Hindi     |       'मैं भी चौकीदार' पर राहुल गांधी का तंज, बोले-अब पूरे देश को 'चौकीदार' बना रहे प्रधानमंत्री - Times Now Hindi     |       एलओसी पर पाक ने फिर तोड़ा युद्धविराम; 2 घंटे चली फायरिंग, एक जवान शहीद - दैनिक भास्कर     |       अनिल अंबानी ने एरिक्सन को 459 करोड़ रु का भुगतान किया, जेल जाने का संकट टला - Dainik Bhaskar     |       नीदरलैंड/ बंदूकधारी ने ट्राम पर गोलियां बरसाईं, एक की मौत; कई घायल - Dainik Bhaskar     |       बयान/ मसूद अजहर पर चीनी राजदूत ने कहा- भारत की चिंताओं को समझते हैं, मामला जल्द निपटेगा - Dainik Bhaskar     |       इंडोनेशिया : अचानक आई बाढ़ में 42 लोगों की मौत, 20 से ज्यादा घायल- Amarujala - अमर उजाला     |       तेल के खेल में वेनेजुएला के जरिए अमेरिका को मात देगा भारत, बढ़ेंगे रुपये के भी दाम - दैनिक जागरण     |       चुनाव से ठीक पहले शेयर बाजार में तेजी, निवेशकों को 5 दिन में हुआ करोड़ों का फायदा - News18 Hindi     |       L&T इन्फोटेक को रोकने के लिए शेयर बायबैक करेंगे माइंडट्री के प्रमोटर! - Navbharat Times     |       LIC Bank: क्या आईडीबीआई बैंक का नाम बदलकर एलआईसी आईडीबीआई बैंक होगा? - Times Now Hindi     |       जियो से मुकाबले के लिए डिश टीवी से मर्जर की तैयारी में एयरटेल डिजिटल टीवी - Navbharat Times     |       कलंक: 'घर मोरे परदेसिया' गाना रिलीज, माधुरी-आलिया की जुगलबंदी ने किया कमाल - Hindustan     |       Kesari: अक्षय कुमार ने पोस्ट किया विडियो, लग रहे हैं दमदार - नवभारत टाइम्स     |       In Pics: एडल्ट फिल्म स्टार मिया खलीफा ने की बेहद खास अंदाज में सगाई, जानिए कौन है उनके मंगेतर - ABP News     |       कन्फर्म/ पर्रिकर के निधन के कारण पीएम मोदी की बायोपिक का पोस्टर लॉन्च कार्यक्रम स्थगित - Dainik Bhaskar     |       Ireland's Tim Murtagh creates new record in Test against Afghanistan - NDTV India     |       धोनी के CSK का प्रैक्टिस मैच देखने स्टेडियम पहुंचे 12 हजार लोग - Sports AajTak - आज तक     |       Isco Comments On Zinedine Zidane's Return To Real Madrid - Soccer Laduma     |       IPL: ये पांच विदेशी स्टार दिला सकते हैं RCB को पहला खिताब! - Sports AajTak - आज तक     |      

फीचर


स्वतंत्र अभिव्यक्ति की लकीर खींचते रहे कार्टूनिस्ट सुधीर तैलंग

तैलंग ने कार्टूनिस्ट के रूप में अपने करियर की शुरुआत 'इलस्ट्रेटेड वीकली' से की थी। राजनेताओं पर बनाए गए उनके कार्टून देशभर में लोगों को आकर्षित करते रहे। कार्टून के क्षेत्र में उल्लेखनीय योगदान के लिए उन्हें 2००4 में पद्मश्री से अलंकृत किया गया था।


cartoon-cartoonist-sudhir-tailang-freedom-of-speech

आड़ी-तिरछी लकीरों से एक लीक गढ़ गए सुधीर तैलंग कार्टून महज कागज पर खिंची गईं वैसी रेखाएं भर नहीं, जिसे देखकर हम हंसे-मुस्कराएं। कार्टून एक गंभीर विधा है। यह एक रचनात्मक औजार भी जिसका प्रतिरोध के लिए कारगर इस्तेमाल का समृद्ध इतिहास रहा है। कहा जाता है कि हिटलर तक अपने ऊपर बनने वाले व्यंग्यात्मक कार्टूनों से भय खाते थे, उन्हें डर लगता था कि कहीं इसके कारण उनकी सार्वजनिक छवि खराब न हो जाए और जन साधारण उनके खुले विरोध पर आमादा न हो जाए। भारत में शंकर से लेकर आरके लक्ष्मण, काक और सुधीर तैलंग तक कार्टूनिस्टों का एक ऐसा सिलसिला कायम रहा है, जिन्होंने इस विधा की गंभीरता को तो बनाए ही रखा, इसे काफी लोकप्रिय भी बनाया। पर दुखद है कि यह समृद्ध पात अब सूनी पड़ती जा रही है। चर्चित एवं लोकप्रिय कार्टूनिस्ट सुधीर तैलंग के देहांत की खबर इस लिहाज से बहुत बड़ी है कि वे न सिर्फ वरिष्ठ और चर्चित कार्टूनिस्ट थे बल्कि उन्होंने समय-समय पर लोकतंत्र में व्यंग्य और असहमति के लिए जरूरी स्पेस को लेकर आवाज भी उठाई। इसके लिए उन्होंने कलम तो उठाया ही, सड़कों पर भी उतरे। अभिव्यक्ति की आजादी के प्रति उनकी हिमायत और संघर्ष दोनों ही याद किए जाएंगे। दुखद यह भी रहा कि उनकी उम्र अभी ज्यादा नहीं हुई थी। कैंसर के क्रूर हाथों ने मात्र 56 वर्ष की अवस्था में उन्हें हमसे छीन लिया। वे पिछले डेढ़ साल से ब्रेन कैंसर से पीड़ित थे। उनके परिवार में पत्नी और एक बेटी है। तैलंग का जन्म राजस्थान में हुआ था और वहीं से उन्होंने पढाई-लिखाई की थी। उन्होंने बीएससी करने के बाद अंग्रेजी में एम.ए किया था।

तैलंग ने कार्टूनिस्ट के रूप में अपने करियर की शुरुआत 'इलस्ट्रेटेड वीकली' से की थी। राजनेताओं पर बनाए गए उनके कार्टून देशभर में लोगों को आकर्षित करते रहे। कार्टून के क्षेत्र में उल्लेखनीय योगदान के लिए उन्हें 2००4 में पद्मश्री से अलंकृत किया गया था। तैलंग ने हिंदी और अंग्रेजी दोनों अखबारों के लिए काम किया। उनके व्यंग्य की खास बात यह थी कि वह हमेशा सार्वजनिक जीवन में मूल्यों की वकालत करते रहे। इसके अलावा जनसाधारण को होने वाली परेशानियों को लेकर उन्होंने नेताओं से लेकर पूरे सत्ता प्रतिष्ठान पर बार-बार सवाल उठाए। उनके व्यंग्य में चटीलापन और तल्खी तो होती थी पर स्तरहीनता नहीं। इस सावधानी का उन्होंने बहुत धैर्यपूर्वक निर्वाह किया। आजकल कई कार्टूनिस्ट हल्के अंदाज में अपनी बात कहकर तात्कालिक वाहवाही लूटना चाहते हैं। पर यह तरीका कार्टून जैसी गंभीर विधा को ही कहीं न कहीं कमजोर बनाता है। तैलंग इस कमजोरी के प्रति हमेशा काफी सचेत रहे। पिछले साल जब पेरिस में शार्ली हब्दो के दफ्तर पर आतंकी हमला हुआ था तैलंग ने भारत की स्थिति को लेकर भी असंतोष जताया था। उन्होंने पिछली केंद्र सरकार के दौरान शंकर के एक पुराने कार्टून को लेकर हुई राजनीति का हवाला दिया था।

दिलचस्प है कि इसके बाद भी पश्चिम बंगाल से लेकर महाराष्ट्र तक कई ऐसे मामले सामने आए जिसमें कार्टूनिस्टों के खिलाफ सियासी सनक ने सारी सीमाएं तोड़ दी। तैलंग इसे भारतीय लोकतंत्र के लिए एक अशुभ प्रवृत्ति मानते थे। उनका साफ कहना था कि आलोचना से मुंह फेरने का मतलब है कि हम सचाई से घबराते हैं। सुधीर के बाद सुधीर को याद करने का सबक यह है कि सरकार और समाज दोनों ही इस बात को न भूलें तो अच्छा होगा। अभिव्यक्ति की आजादी की हिमायत और उसकी सुनिश्चतता का ही संघर्ष सुधीर ने किया और उनकी रेखाअों ने भी।

advertisement