BJP नेता कैलाश विजयवर्गीय का MLA बेटा पहुंचा जेल, अधिकारी से की थी मारपीट - आज तक     |       क्या वायनाड और रायबरेली में हिंदुस्तान हार गया था: पीएम मोदी - आज तक     |       पीएम मोदी बोले- मॉब लिंचिंग से दुखी हूं, लेकिन झारखंड का अपमान न करें - Hindustan     |       मिमी चक्रवर्ती के शपथ पर प्रशंसकों ने ऐसे मनाया जश्न, देखें वीडियो - आज तक     |       राम रहीम का खेती के नाम पर पैरोल की फसल काटने का दांव फेल! - आज तक     |       बालाकोट एयर स्ट्राइक की योजना बनाने वाले सामंत बने रॉ चीफ, अरविंद आईबी के निदेशक - अमर उजाला     |       इंग्लैंड का बिगड़ा गणित, वर्ल्ड कप सेमीफाइनल में भिड़ सकते हैं भारत और पाकिस्तान - cricket world cup 2019 AajTak - आज तक     |       टीम इंडिया की भगवा जर्सी पर सियासत, सपा-कांग्रेस नेताओं ने किया विरोध - आज तक     |       सरफराज का छलका दर्द, आलोचना करो लेकिन दुर्व्यवहार मत करो - Navbharat Times     |       ICC World Cup 2019 Point Table: इंग्लैंड पर लटकी बाहर होने की तलवार, ऐसे बदले समीकरण - Hindustan     |       NRC List in Assam: असम में एनआरसी पर नई लिस्‍ट, एक लाख से ज्‍यादा लोग बाहर - दैनिक जागरण (Dainik Jagran)     |       एसयूवी ने फुटपाथ पर सो रहे चार बच्चों को रौंदा - दैनिक भास्कर     |       बजट से पहले पीएम मोदी ने बताया किन क्षेत्रों पर हो सरकार का फोकस - NDTV India     |       संसद/ जब लोग जनादेश का अपमान करते हैं, तो दुख होता है; क्या वायनाड में हिंदुस्तान हार गया: मोदी - दैनिक भास्कर     |       अमेरिकी विदेश मंत्री पोम्पिओ के साथ बैठक में एस-400 पर बोले एस जयशंकर- 'वही करेंगे जो देशहित में होगा' - NDTV India     |       ब्रिटेन/ महिलाओं ने कहा- बच्चे पैदा नहीं करेंगे, क्योंकि जलवायु परिवर्तन के कारण दुनिया रहने लायक नहीं रहेगी - Dainik Bhaskar     |       कूटनीतिक जीत: एशिया-प्रशांत समूह ने UNSC में अस्थायी सदस्यता के लिए भारत की उम्मीदवारी का समर्थन किया - Navbharat Times     |       पाकिस्तान की संसद में बैन हुए 'सिलेक्टेड प्राइम मिनिस्टर इमरान' - आज तक     |       शेयर बाजार/ सेंसेक्स 312 अंक की बढ़त के साथ 39435 पर, निफ्टी 97 प्वाइंट ऊपर 11796 पर बंद - Dainik Bhaskar     |       MG Hector SUV कल होगी लॉन्च, जानें डीटेल - Navbharat Times     |       Gold Rate Today: सोने की कीमतों में आई भारी गिरावट, चांदी भी हुई काफी सस्‍ती - दैनिक जागरण (Dainik Jagran)     |       4 धांसू बाइक के साथ आ रही चीन की कंपनी - नवभारत टाइम्स     |       Kabir Singh: Doctor files police complaint to stop the screening of this Shahid Kapoor Kiara Advani film - The Lallantop     |       अर्जुन-मलाइका ही नहीं ये 10 सेलिब्रिटीज भी कर रहे डेट, एक तो शादी की अफवाहों पर ही भड़क गया - अमर उजाला     |       अपनी ग्लैमरस तस्वीरों को लेकर सुर्खियों में रहने वालीं नीना गुप्ता ने कहा- मेरी हॉट फोटो पर आते हैं कमेंट्स - Hindustan     |       Sapna Choudhary Video: सपना चौधरी ने शेयर किया अपना वीडियो, लोगों ने तारीफ करने के बजाय कही ये बात - NDTV India     |       इस वर्ल्ड कप में पाकिस्तान हू-ब-हू दोहरा रहा है 1992 वर्ल्ड कप की चाल - Navbharat Times     |       भारत - वेस्टइंडीज मैच से पहले इस दिग्गज ने किया संन्यास का ऐलान, बताया कब लेंगे रिटायरमेंट ! - Cricketnmore हिंदी     |       World Cup: वेस्टइंडीज से मैच कल, 23 साल से नहीं हारा है भारत - News18 हिंदी     |       शमी की जगह भुवनेश्वर को टीम में देखना चाहते हैं सचिन तेंदुलकर - Wah Cricket     |      

साहित्य/संस्कृति


हाशिए के नहीं, परिधि के कवि थे देवताले

चंद्रकांत देवताले की काव्य संवेदना पर वीरेन डंगवाल की चर्चित टिप्पणी है, कि वे 'हाशिए' के नहीं बल्कि 'परिधि' के कवि हैं


chandrakant-devtale-viren-dangwal-sahitya-akademi-throwing-stones

चंद्रकांत देवताले का हाल में ही निधन हुआ है। देवताले की मौत मुख्यधारा की मीडिया चर्चा में तो बस एक छोटी खबर के तौर पर आई, हां हिंदी सोशल मीडिया में जरूर देवताले के बहाने सामयिक काव्य संसार को लेकर बहस हुई। पचास के दशक के आखिर में हिंदी कविता जगत में एक हस्तक्षेप के रूप में उभरते हैं और उनका यह हस्तक्षेप आगे चलकर भी न तो कभी स्थगित हुआ और न ही कमजोर पड़ा।

वीरेन डंगवाल की चर्चित टिप्पणी
देवताले की काव्य संवेदना पर वीरेन डंगवाल की चर्चित टिप्पणी है, कि वे 'हाशिए' के नहीं बल्कि 'परिधि' के कवि हैं। उनकी कविताओं में स्वातंत्रोत्तर भारत में जीवनमूल्यों के विघटन और विरोधाभासों को लेकर चिंता तो है ही, एक गंभीर आक्रोश और प्रतिकार भी है। अपनी रचनाधर्मिता के प्रति उनकी संलग्नता इस कारण कभी कम नहीं हुई कि अपने कई समकालीनों के मुकाबले आलोचकों ने उनको लेकर एक तंग नजरिया बनाकर रखा।

साहित्य अकादमी पुरस्कार
जाहिर है कि इस कारण अर्धशती से भी ज्यादा व्यापक उनके काव्य संसार को लेकर एक मुकम्मल राय तो क्या बनती, उलटे उनकी रचनात्मक प्रतिबद्धता और सरोकारों को लेकर सवाल उठाए गए। किसी ने उन्हें 'अकवि' ठहराया तो किसी ने उनकी वैचारिक समझ पर अंगुली उठाई। देवताले के मू्ल्यांकन को लेकर रही हर कसर उन्हें 2012 के साहित्य अकादमी पुरस्कार के लिए चुने जाने के बाद पूरी हो गई, ऐसा तो नहीं कह सकते। हां, यह जरूर है कि इस कारण उनको लेकर नई पीढ़ी को एक आग्रहमुक्त राय बनाने में मदद मिली। देवताले को यह सम्मान उनके 2010 में प्रकाशित काव्य संग्रह 'पत्थर फेंक रहा हूं' के लिए दिया गया था। यह उनकी एक महत्वपूर्ण काव्य पुस्तक है, लेकिन सर्वश्रेष्ठ नहीं। 'भूखंड तप रहा है' और 'लकड़बग्घा हंस रहा है', 'पत्थर की बेंच' और 'आग हर चीज में बताई गई थी' जैसे उनके काव्य संकलन उनकी रचनात्मक शिनाख्त को कहीं ज्यादा गढ़ते हैं। बहरहाल, यह विवाद का विषय नहीं है। वैसे भी अकादमी सम्मान के बारे में कहा जाता है कि यह भले किसी एक कृति के लिए दिया जाता हो, पर यह कहीं न कहीं पुरस्कृत साहित्याकार के संपूर्ण कृतित्व का अनुमोदन है।

टिकाऊ रचानकर्म का अभाव
देवताले के बारे में विचार करते हुए यह भी समझना जरूरी है कि मानव मूल्यों के विखंडन को नए विकासवादी सरोकारों के लिए जरूरी मान लिया गया है। यह एक खतरनाक स्थिति है पर इस खतरे को रेखांकित करने का जोखिम कोई लेना नहीं चाहता है। देवताले हिंदी की अक्षर संवेदना को बनाए और बचाए रखने वाले महत्वपूर्ण कवियों में हैं। हिंदी का मौजूदा रचना जगत  सार्वकालिकता के बजाय तात्कालिक मूल्य बोधों को पकड़ने के प्रति ज्यादा मोहग्रस्त मालूम पड़ता है। यही कारण है कि टिकाऊ रचानकर्म का अभाव आज हिंदी साहित्य की एक बड़ी चिंता बनकर उभर रही है। देवताले इस चिंता का समाधान तो देते ही हैं, वे हमें उस चेतना से भी लैस करते हैं, जिसकी दरकार एक जीवंत आैर तत्पर नागरिक बोध के लिए है- 'मेरी किस्मत में यही अच्छा रहा/ कि आग और गुस्से ने मेरा साथ कभी नहीं छोड़ा/ आैर मैंने उन लोगों पर यकीन कभी नहीं किया/ जो घृणित युद्ध में शामिल हैं।'

 

advertisement