कांग्रेस के 38 उम्मीदवारों की लिस्ट; भोपाल से दिग्विजय, तो गुलबर्गा से खड़गे चुनावी मैदान में - Hindustan     |       कोई अपने पिता के साथ ऐसा करता है क्या: शत्रुघ्न सिन्हा | NATIONAL NEWS - bhopal Samachar     |       Lok Sabha Election 2019: Sapna Choudhary कांग्रेस में हुईं शामिल, इस सीट से लड़ सकती हैं चुनाव - NDTV India     |       ऐसे बीता था भगत सिंह का आखिरी दिन, सजा के 1 दिन पहले दी थी फांसी - आज तक     |       Loksabha Election 2019 :अखिलेश यादव ने कहा- पीएम मोदी तय नहीं कर पर रहे डगर - दैनिक जागरण     |       Lok Sabha Election 2019: झारखंड BJP के 10 उम्‍मीदवारों की घोषणा, अर्जुन मुंडा को टिकट - दैनिक जागरण     |       बिहार में NDA उम्मीदवारों का ऐलान, बेगूसराय से गिरिराज को टिकट Lok Sabha polls: NDA releases Bihar candidates list - Lok Sabha Election 2019 - आज तक     |       माल्या की संपत्तियां 10 जुलाई तक अटैच की जाएं, बेंगलुरु पुलिस को कोर्ट का आदेश - Dainik Bhaskar     |       पाकिस्तान के नेशनल डे पर क्या पीएम मोदी ने इमरान खान को भेजी हैं शुभकामनाएं - Webdunia Hindi     |       ट्रम्प का यू-टर्न: नॉर्थ कोरिया पर लगे प्रतिबंध को हटाने का दिया आदेश - आज तक     |       अमेरिकाः स्कूल फायरिंग में जान बचाने वाली युवती ने की खुदकुशी - आज तक     |       इमरान का नया पाकिस्‍तान: दो हिंदू किशोरियों का अपहरण, जबरन इस्लाम कबूल कराया - दैनिक जागरण (Dainik Jagran)     |       Karnataka Bank reports Rs 13 crore fraud to RBI - Times Now     |       Airtel और Vodafone ने रिवाइज किया 169 रु का प्लान, जानें क्या Jio के 149 रु से है बेहतर - दैनिक जागरण     |       Hyundai QXi का टीजर आया सामने, विटारा ब्रेजा को देगी टक्कर - नवभारत टाइम्स     |       SBI के एटीएम से बिना ATM कार्ड पैसे कैसे निकालें, जानें पूरी प्रक्रिया- Amarujala - अमर उजाला     |       पीएम मोदी की बायोपिक के पोस्टर पर जावेद अख्तर हुए थे हैरान, अब फिल्म के प्रोड्यूसर ने दिया यह जवाब - NDTV India     |       वो पांच ब्लॉकबस्टर फिल्में जिन्हें ठुकरा चुकी हैं कंगना रनौत - आज तक     |       Box Office Collection: दर्शकों पर चढ़ा 'केसरी' का रंग, 2 दिन में कमाए इतने करोड़ - Hindustan     |       VIDEO: पीएम नरेंद्र मोदी का पहला गाना रिलीज इमोशनल कर देगा सौगंध मुझे इस मिट्टी की - Zee News Hindi     |       IPL 2019: Ahead of RCB opener vs CSK, Virat Kohli gives fitting reply to Gautam Gambhir's 'captaincy' jibe - Times Now     |       CSK vs RCB Highlights: IPL 12 में चेन्नै का विजयी आगाज, बैंगलोर को 7 विकेट से हराया - Navbharat Times     |       IPL 2019: चेन्नई के खिलाफ मैदान पर उतरते ही विराट ने रचा इतिहास, कमाल का रिकॉर्ड अपने नाम किया - दैनिक जागरण (Dainik Jagran)     |       Live Cricket Score, CSK vs RCB 1st T20, लाइव क्रिकेट स्कोर: चेन्‍नई को लगा पहला झटका, शेन वॉटसन आउट - News18 Hindi     |      

फीचर


पानी के खिलाफ मनमानी रोकने वाला लोकपर्व

प्रकृति के साथ छेड़छाड़ रोकने और जल-वायु को प्रदूषणमुक्त रखने के लिए किसी भी पहल से पहले यूएन चार्टरों की मुंहदेखी करने वाली सरकारें अगर अपने यहां परंपरा के गोद में खेलते लोकानुष्ठानों के सामर्थ्य को समझ लें तो मानव कल्याण के एक साथ कई अभिक्रम पूरे हो जाएं।


chhath-folk-tradition-arghya-faith-indian-culture-companionship-with-nature

करीब दो दशक पहले कई देशों के संस्कृतिप्रेमी युवाओं ने 'बेस्ट फॉर नेक्स्ट’ नाम से अपने एक अभिनव सांस्कृतिक अभियान के तहत बिहार में गंगा, गंडक, कोसी और पुनपुन नदियों के घाटों पर मनने वाले छठ व्रत पर एक डॉक्यूमेंट्री बनाई। इन लोगों को यह देखकर खासी हैरत हुई कि घाट पर उमड़ी भीड़ कुछ भी ऐसा करने से परहेज कर रही थी, जिससे नदी का जल प्रदूषित हो। लोक विवेक की इससे बड़ी पहचान क्या होगी कि जिन नदियों के नाम तक को हमने इतिहास बना दिया है, उनके नाम आज भी छठ गीतों में सुरक्षित हैं। कविताई के अंदाज में कहें तो छठ पर्व आज परंपरा या सांस्कृतिक पर्व से ज्यादा सामयिक सरोकारों से जुड़े जरूरी सबक याद कराने का अवसर है। एक ऐसा अवसर जिसमें पानी के साथ मनमानी पर रोक, प्रकृति के साथ साहचर्य के साथ जीवन जीने का पथ और शपथ दोनों शामिल हैं।

प्रकृति के साथ छेड़छाड़ रोकने और जल-वायु को प्रदूषणमुक्त रखने के लिए किसी भी पहल से पहले यूएन चार्टरों की मुंहदेखी करने वाली सरकारें अगर अपने यहां परंपरा के गोद में खेलते लोकानुष्ठानों के सामर्थ्य को समझ लें तो मानव कल्याण के एक साथ कई अभिक्रम पूरे हो जाएं। बात करें छठ व्रत की तो दिल्ली, मुंबई, पुणे, चंडीगढ़, अहमदाबाद और सूरत के रेलवे स्टेशनों का नजारा वैसे तो दशहरे के साथ ही बदलने लगता है। पर दिवाली के आसपास तो स्टेशनों पर तिल रखने तक की जगह नहीं होती है। इन दिनों पूरब की तरफ जानेवाली ट्रेनों के लिए उमड़ी भीड़ यह जतलाने के लिए काफी होती हैं कि इस देश में आज भी लोग अपने लोकोत्सवों से किस कदर भावनात्मक तौर पर जुड़े हैं। तभी तो घर लौटने के लिए उमड़ी भीड़ और उत्साह को लेकर देश के दूसरे हिस्से के लोग कहते हैं, अब तो छठ तक ऐसा ही चलेगा, भैया लोगों का पर्व जो शुरू हो गया है।

याद रखें कि छठ पूरी दुनिया में मनाया जाने वाला अकेला ऐसा लोकपर्व है जिसमें उगते के साथ डूबते सूर्य की भी आराधना होती है। यही नहीं चार दिन तक चलने वाले इस अनुष्ठान में न तो कोई पुरोहित कर्म होता है और न ही किसी तरह का पौराणिक कर्मकांड। यही नहीं प्रसाद के लिए मशीन से प्रोसेस किसी भी खाद्य पदार्थ का इस्तेमाल निषिद्ध है। और तो और प्रसाद बनाने के लिए व्रती महिलाएं कोयले या गैस के चूल्हे की बजाय आम की सूखी लकड़ियों को जलावन के रूप में इस्तेमाल करती हैं। कह सकते हैं कि आस्था के नाम पर पोंगापंथ और अंधविश्वास के खिलाफ यह पर्व भारतीय लोकसमाज की तरफ से एक बड़ा हस्तक्षेप भी है, जिसका कारगर होना सबके हित में है।

दिलचस्प है कि छठ के आगमन से पूर्व के छह दिनों में दिवाली, फिर गोवर्धन पूजा और उसके बाद भैया दूज जैसे तीन बड़े पर्व एक के बाद एक आते हैं। इस सिलसिले को अगर नवरात्र या दशहरे से शुरू मानें तो कहा जा सकता है कि अक्टूबर और नवंबर का महीना लोकानुष्ठानों के लिए लिहाज से खास है। एक तरफ साल भर के इंतजार के बाद एक साथ पर्व मनाने के लिए घर-घर में जुटते कुटुंब और उधर मौसम की गरमाहट पर ठंड और कोहरे की चढ़ती हल्की चादर। भारतीय साहित्य और संस्कृति के मर्मज्ञ वासुदेवशरण अग्रवाल ने इसी मेल को 'लोकरस’ और 'लोकानंद’ कहा है। एक छतरी के नीचे खड़े होने की होड़ के बीच इस लोकरंग की एक वैश्विक छटा भी उभर रही है। हॉलैंड, सूरीनाम, मॉरिशस , त्रिनिडाड, नेपाल और दक्षिण अफ्रीका से आगे छठ के अर्घ्य के लिए हाथ अब अमेरिका, कनाडा और ब्रिटेन में भी उठने लगे हैं।

 

 

advertisement