NewsWrap: दिल्ली में डबल मर्डर, फैशन डिजाइनर की हत्या, पढ़ें, सुबह की 5 बड़ी खबरें     |       JNU में कंडोम गिनने वाले ज्ञानदेव का 'ज्ञान' नहीं आया काम, BJP ने काटा टिकट     |       चेतावनी / अमेरिका सैन्य संकट से जूझ रहा, जंग हो तो चीन-रूस से हार सकता है: संसदीय पैनल     |       1984 सिख दंगे : दो लोगों की हत्या के दो दोषियों की सजा का ऐलान आज     |       बीहड़ों में गरजने वाली बंदूकें हुईं खामोश, 30 साल में पहली बार चुनावी राजनीति से हो रहे दूर...     |       सुप्रीम कोर्ट में सरकार ने माना फ्रांस ने राफेल सौदे का समर्थन करने की कोई 'स्वायत्त गारंटी' नहीं दी     |       ट्रेन-18 को ट्रायल के दौरान बड़ा झटका, इलेक्ट्रिक इंजन लगाकर हुई रवाना     |       अयोध्या के मुसलमान बोले, हम खौफ में जी रहे हैं, सुरक्षा नहीं मिली तो करेंगे पलायन     |       दिल्ली से चलकर अयोध्या और फिर श्रीलंका तक दर्शन कराएगा IRCTC, दौड़ी 'श्री रामायण एक्सप्रेस', 5 बड़ी बातें     |       Tamil Nadu Cyclone Gaja 2018 Live Updates: तमिलनाडु तट के करीब पहुंचा तूफान, चेन्नई में बारिश शुरू     |       दिल्ली के सिग्नेचर ब्रिज पर सेल्फी के लिए होड़ के बाद निर्वस्त्र होने का वीडियो वायरल     |       ट्रंप के मना करने के बाद शीर्ष अफ्रीकी नेता हो सकते हैं गणतंत्र दिवस कार्यक्रम के मुख्‍य अतिथि     |       महाराष्ट्र : पिछड़ा वर्ग आयोग आज सौंपेगा मराठा आरक्षण पर अपनी रिपोर्ट     |       मोदी ने फिनटेक फेस्टिवल में भारत को बताया निवेश के लिए पसंदीदा स्थान     |       अजय चौटाला ने कहा- मुझे पार्टी से क्यों निकाला, इनेलो में कौरव व पांडवों वाली स्थिति     |       कौन हैं टीएम कृष्‍णा, जिनका कंसर्ट सोशल मीडिया पर ट्रोलिंग के कारण करना पड़ा रद्द     |       ISRO के बाहुबली ने अंतरिक्ष में पहुंचाया सबसे भारी उपग्रह, कश्मीर में बेहतर होगा इंटरनेट     |       सबरीमाला मंदिर: आज रात एंट्री करेंगी तृप्ती देसाई, राहुल ईश्वर बोले- देख लेंगे     |       संसद का शीतकालीन सत्र 11 दिसंबर से, क्या राम मंदिर पर कानून लाएगी मोदी सरकार?     |       जस्टिस चेलामेश्वर के बेटे को 'गिरफ्तार' करने की धमकी! सुप्रीम कोर्ट के पूर्व जज ने दर्ज कराई शिकायत     |      

फीचर


पानी के खिलाफ मनमानी रोकने वाला लोकपर्व

प्रकृति के साथ छेड़छाड़ रोकने और जल-वायु को प्रदूषणमुक्त रखने के लिए किसी भी पहल से पहले यूएन चार्टरों की मुंहदेखी करने वाली सरकारें अगर अपने यहां परंपरा के गोद में खेलते लोकानुष्ठानों के सामर्थ्य को समझ लें तो मानव कल्याण के एक साथ कई अभिक्रम पूरे हो जाएं।


chhath-folk-tradition-arghya-faith-indian-culture-companionship-with-nature

करीब दो दशक पहले कई देशों के संस्कृतिप्रेमी युवाओं ने 'बेस्ट फॉर नेक्स्ट’ नाम से अपने एक अभिनव सांस्कृतिक अभियान के तहत बिहार में गंगा, गंडक, कोसी और पुनपुन नदियों के घाटों पर मनने वाले छठ व्रत पर एक डॉक्यूमेंट्री बनाई। इन लोगों को यह देखकर खासी हैरत हुई कि घाट पर उमड़ी भीड़ कुछ भी ऐसा करने से परहेज कर रही थी, जिससे नदी का जल प्रदूषित हो। लोक विवेक की इससे बड़ी पहचान क्या होगी कि जिन नदियों के नाम तक को हमने इतिहास बना दिया है, उनके नाम आज भी छठ गीतों में सुरक्षित हैं। कविताई के अंदाज में कहें तो छठ पर्व आज परंपरा या सांस्कृतिक पर्व से ज्यादा सामयिक सरोकारों से जुड़े जरूरी सबक याद कराने का अवसर है। एक ऐसा अवसर जिसमें पानी के साथ मनमानी पर रोक, प्रकृति के साथ साहचर्य के साथ जीवन जीने का पथ और शपथ दोनों शामिल हैं।

प्रकृति के साथ छेड़छाड़ रोकने और जल-वायु को प्रदूषणमुक्त रखने के लिए किसी भी पहल से पहले यूएन चार्टरों की मुंहदेखी करने वाली सरकारें अगर अपने यहां परंपरा के गोद में खेलते लोकानुष्ठानों के सामर्थ्य को समझ लें तो मानव कल्याण के एक साथ कई अभिक्रम पूरे हो जाएं। बात करें छठ व्रत की तो दिल्ली, मुंबई, पुणे, चंडीगढ़, अहमदाबाद और सूरत के रेलवे स्टेशनों का नजारा वैसे तो दशहरे के साथ ही बदलने लगता है। पर दिवाली के आसपास तो स्टेशनों पर तिल रखने तक की जगह नहीं होती है। इन दिनों पूरब की तरफ जानेवाली ट्रेनों के लिए उमड़ी भीड़ यह जतलाने के लिए काफी होती हैं कि इस देश में आज भी लोग अपने लोकोत्सवों से किस कदर भावनात्मक तौर पर जुड़े हैं। तभी तो घर लौटने के लिए उमड़ी भीड़ और उत्साह को लेकर देश के दूसरे हिस्से के लोग कहते हैं, अब तो छठ तक ऐसा ही चलेगा, भैया लोगों का पर्व जो शुरू हो गया है।

याद रखें कि छठ पूरी दुनिया में मनाया जाने वाला अकेला ऐसा लोकपर्व है जिसमें उगते के साथ डूबते सूर्य की भी आराधना होती है। यही नहीं चार दिन तक चलने वाले इस अनुष्ठान में न तो कोई पुरोहित कर्म होता है और न ही किसी तरह का पौराणिक कर्मकांड। यही नहीं प्रसाद के लिए मशीन से प्रोसेस किसी भी खाद्य पदार्थ का इस्तेमाल निषिद्ध है। और तो और प्रसाद बनाने के लिए व्रती महिलाएं कोयले या गैस के चूल्हे की बजाय आम की सूखी लकड़ियों को जलावन के रूप में इस्तेमाल करती हैं। कह सकते हैं कि आस्था के नाम पर पोंगापंथ और अंधविश्वास के खिलाफ यह पर्व भारतीय लोकसमाज की तरफ से एक बड़ा हस्तक्षेप भी है, जिसका कारगर होना सबके हित में है।

दिलचस्प है कि छठ के आगमन से पूर्व के छह दिनों में दिवाली, फिर गोवर्धन पूजा और उसके बाद भैया दूज जैसे तीन बड़े पर्व एक के बाद एक आते हैं। इस सिलसिले को अगर नवरात्र या दशहरे से शुरू मानें तो कहा जा सकता है कि अक्टूबर और नवंबर का महीना लोकानुष्ठानों के लिए लिहाज से खास है। एक तरफ साल भर के इंतजार के बाद एक साथ पर्व मनाने के लिए घर-घर में जुटते कुटुंब और उधर मौसम की गरमाहट पर ठंड और कोहरे की चढ़ती हल्की चादर। भारतीय साहित्य और संस्कृति के मर्मज्ञ वासुदेवशरण अग्रवाल ने इसी मेल को 'लोकरस’ और 'लोकानंद’ कहा है। एक छतरी के नीचे खड़े होने की होड़ के बीच इस लोकरंग की एक वैश्विक छटा भी उभर रही है। हॉलैंड, सूरीनाम, मॉरिशस , त्रिनिडाड, नेपाल और दक्षिण अफ्रीका से आगे छठ के अर्घ्य के लिए हाथ अब अमेरिका, कनाडा और ब्रिटेन में भी उठने लगे हैं।

 

 

advertisement