JAC 12th Arts Result 2019: इंटर आर्ट्स में लड़कियों ने मारी बाजी, जानें 10 खास बातें - Hindustan हिंदी     |       राजतिलक: पहले VVPAT की पर्ची मिलान, फिर EC करे नतीजों का ऐलान! Rajtilak: Opposition requests EC to verify VVPAT slips - Rajtilak - आज तक     |       NDA के भोज में PM सम्मानित, कहा- पहली बार सकारात्मक मतदान के साथ सरकार की वापसी - दैनिक जागरण     |       वोटों की गिनती से ठीक पहले अमित शाह के डिनर में एकजुट हुआ NDA, PM मोदी ने चुनाव अभियान की तुलना 'तीर्थयात्रा' से की - NDTV India     |       NDA के डिनर में पहुंचे 36 सहयोगी दल, पीएम मोदी के नेतृत्व पर सबने जताया भरोसा: राजनाथ - Navbharat Times     |       सोनिया-राहुल-प्रियंका ने राजीव गांधी को दी पुण्यतिथि पर श्रद्धांजलि Gandhi family pays tribute on Rajiv Gandhi death anniversary - आज तक     |       Exit Poll के आंकड़े आने के बाद शिवसेना ने की राहुल गांधी और प्रियंका गांधी की तारीफ, जानें क्या कहा - NDTV India     |       सिद्धू दंपती पर कसा शिकंजा, राहुल गांधी को भेजा गया विवादित भाषण का वीडियाे - दैनिक जागरण     |       Lok Sabha Elections 2019 : Exit Polls पर राजनीतिक दलों की अलग-अलग राय - NDTV India     |       पुणे/ बर्गर में कांच का टुकड़ा लपेट कर परोसा, खाते ही खून से भर गया मुंह - दैनिक भास्कर     |       ईरान की ट्रंप को दो टूक- कितने आए और चले गए, बर्बादी की धमकी हमें मत देना - आज तक     |       चीन: हजारों लड़कियों की तस्करी, किशोरियों को बनाते हैं सेक्स गुलाम - आज तक     |       पाकिस्तानी जनता परेशान, ब्याज दर 12.25%, जाएंगी 10 लाख नौकरियां - Business - आज तक     |       हूथी विद्रोहियों की मक्‍का की तरफ दागी मिसाइल को सऊदी अरब ने हवा में ही किया खत्‍म - दैनिक जागरण (Dainik Jagran)     |       6.50 लाख रुपये से Hyundai Venue लॉन्च, जानें कौन सा वेरिएंट आपके लिए सही है? - आज तक     |       सेंसेक्स में आज फिर तेजी, 200 अंकों की बढ़त के साथ खुला बाजार - Hindustan     |       खबरों वाले शेयर, इन पर बनी रहे नजर - मनी कंट्रोल     |       ऐमजॉन, वॉलमार्ट-फ्लिपकार्ट का धंधा चौपट करने को तैयार है रिलायंस रिटेल: रिपोर्ट - Navbharat Times     |       विवेक ओबेरॉय के विवादित ट्वीट पर ओमंग कुमार का रिऐक्शन, बोले- हो गया, हो गया - नवभारत टाइम्स     |       'भारत' छोड़ने के बाद क्या दोबारा प्रियंका संग काम करेंगे सलमान? बताया - आज तक     |       तो इस वजह से अभी मलाइका अरोड़ा से शादी नहीं कर रहे हैं अर्जुन कपूर? - Entertainment AajTak - आज तक     |       ऐश्वर्या राय ने Cannes Film Festival में बिखेरा अपना जादू, सोशल मीडिया पर Photos वायरल - NDTV India     |       World Cup 2019: 1975 से वर्ल्‍ड कप 2015 तक भारतीय टीम का सफर, रिकॉर्ड के पहाड़ पर जा बैठे सचिन - दैनिक जागरण (Dainik Jagran)     |       कुछ भी हो, आपको माही भाई चाहिए: युजवेंद्र चहल - Navbharat Times     |       वर्ल्ड कप 2019: इंग्लैंड जाने से पहले कोहली ने देश के सामने रखा 'विराट' विजन Kohli considers World Cup 2019 as the most challenging one - Sports - आज तक     |       एथलेटिक्स/ दुती ने कहा- बहन ब्लैकमेल कर रही थी इसलिए समलैंगिक रिश्ते की बात सार्वजनिक की - Dainik Bhaskar     |      

फीचर


पानी के खिलाफ मनमानी रोकने वाला लोकपर्व

प्रकृति के साथ छेड़छाड़ रोकने और जल-वायु को प्रदूषणमुक्त रखने के लिए किसी भी पहल से पहले यूएन चार्टरों की मुंहदेखी करने वाली सरकारें अगर अपने यहां परंपरा के गोद में खेलते लोकानुष्ठानों के सामर्थ्य को समझ लें तो मानव कल्याण के एक साथ कई अभिक्रम पूरे हो जाएं।


chhath-folk-tradition-arghya-faith-indian-culture-companionship-with-nature

करीब दो दशक पहले कई देशों के संस्कृतिप्रेमी युवाओं ने 'बेस्ट फॉर नेक्स्ट’ नाम से अपने एक अभिनव सांस्कृतिक अभियान के तहत बिहार में गंगा, गंडक, कोसी और पुनपुन नदियों के घाटों पर मनने वाले छठ व्रत पर एक डॉक्यूमेंट्री बनाई। इन लोगों को यह देखकर खासी हैरत हुई कि घाट पर उमड़ी भीड़ कुछ भी ऐसा करने से परहेज कर रही थी, जिससे नदी का जल प्रदूषित हो। लोक विवेक की इससे बड़ी पहचान क्या होगी कि जिन नदियों के नाम तक को हमने इतिहास बना दिया है, उनके नाम आज भी छठ गीतों में सुरक्षित हैं। कविताई के अंदाज में कहें तो छठ पर्व आज परंपरा या सांस्कृतिक पर्व से ज्यादा सामयिक सरोकारों से जुड़े जरूरी सबक याद कराने का अवसर है। एक ऐसा अवसर जिसमें पानी के साथ मनमानी पर रोक, प्रकृति के साथ साहचर्य के साथ जीवन जीने का पथ और शपथ दोनों शामिल हैं।

प्रकृति के साथ छेड़छाड़ रोकने और जल-वायु को प्रदूषणमुक्त रखने के लिए किसी भी पहल से पहले यूएन चार्टरों की मुंहदेखी करने वाली सरकारें अगर अपने यहां परंपरा के गोद में खेलते लोकानुष्ठानों के सामर्थ्य को समझ लें तो मानव कल्याण के एक साथ कई अभिक्रम पूरे हो जाएं। बात करें छठ व्रत की तो दिल्ली, मुंबई, पुणे, चंडीगढ़, अहमदाबाद और सूरत के रेलवे स्टेशनों का नजारा वैसे तो दशहरे के साथ ही बदलने लगता है। पर दिवाली के आसपास तो स्टेशनों पर तिल रखने तक की जगह नहीं होती है। इन दिनों पूरब की तरफ जानेवाली ट्रेनों के लिए उमड़ी भीड़ यह जतलाने के लिए काफी होती हैं कि इस देश में आज भी लोग अपने लोकोत्सवों से किस कदर भावनात्मक तौर पर जुड़े हैं। तभी तो घर लौटने के लिए उमड़ी भीड़ और उत्साह को लेकर देश के दूसरे हिस्से के लोग कहते हैं, अब तो छठ तक ऐसा ही चलेगा, भैया लोगों का पर्व जो शुरू हो गया है।

याद रखें कि छठ पूरी दुनिया में मनाया जाने वाला अकेला ऐसा लोकपर्व है जिसमें उगते के साथ डूबते सूर्य की भी आराधना होती है। यही नहीं चार दिन तक चलने वाले इस अनुष्ठान में न तो कोई पुरोहित कर्म होता है और न ही किसी तरह का पौराणिक कर्मकांड। यही नहीं प्रसाद के लिए मशीन से प्रोसेस किसी भी खाद्य पदार्थ का इस्तेमाल निषिद्ध है। और तो और प्रसाद बनाने के लिए व्रती महिलाएं कोयले या गैस के चूल्हे की बजाय आम की सूखी लकड़ियों को जलावन के रूप में इस्तेमाल करती हैं। कह सकते हैं कि आस्था के नाम पर पोंगापंथ और अंधविश्वास के खिलाफ यह पर्व भारतीय लोकसमाज की तरफ से एक बड़ा हस्तक्षेप भी है, जिसका कारगर होना सबके हित में है।

दिलचस्प है कि छठ के आगमन से पूर्व के छह दिनों में दिवाली, फिर गोवर्धन पूजा और उसके बाद भैया दूज जैसे तीन बड़े पर्व एक के बाद एक आते हैं। इस सिलसिले को अगर नवरात्र या दशहरे से शुरू मानें तो कहा जा सकता है कि अक्टूबर और नवंबर का महीना लोकानुष्ठानों के लिए लिहाज से खास है। एक तरफ साल भर के इंतजार के बाद एक साथ पर्व मनाने के लिए घर-घर में जुटते कुटुंब और उधर मौसम की गरमाहट पर ठंड और कोहरे की चढ़ती हल्की चादर। भारतीय साहित्य और संस्कृति के मर्मज्ञ वासुदेवशरण अग्रवाल ने इसी मेल को 'लोकरस’ और 'लोकानंद’ कहा है। एक छतरी के नीचे खड़े होने की होड़ के बीच इस लोकरंग की एक वैश्विक छटा भी उभर रही है। हॉलैंड, सूरीनाम, मॉरिशस , त्रिनिडाड, नेपाल और दक्षिण अफ्रीका से आगे छठ के अर्घ्य के लिए हाथ अब अमेरिका, कनाडा और ब्रिटेन में भी उठने लगे हैं।

 

 

advertisement