UK Board Result 2018: उत्तराखंड बोर्ड के नतीजे घोषित, 12वीं में दिव्यांशी टॉपर, यहां सबसे पहले देखें नतीजे     |       जम्मू-कश्मीर में 5 आतंकी ढेर, आज आएगा 12वीं का रिजल्‍ट, अब तक की 5 बड़ी खबरें     |       मोदी सरकार के 4 साल पूरे होने पर कांग्रेस मना रही 'विश्‍वासघात दिवस'     |       कर्नाटक में कुमारस्वामी ने जीता फ्लोर टेस्ट, येद्दयुरप्पा ने ऐसे बढ़ाई टेंशन     |       मेरठ सिटी स्टेशन पर बज रहा गंदगी का 'हॉर्न', सफाई हुई 'डिरेल'     |       सावधानः निपाह की आशंका से दिल्ली-एनसीआर में भी अलर्ट, केरल से आने वाले केले धोकर खाएं     |       इन सात राज्यों में हिंदुओं को अल्पसंख्यक का दर्जा देने पर होगा विचार     |       मेजर गोगोई मामले में नया ट्विस्ट, लड़की ने कहा- हमने पहले भी कई मौकों पर साथ समय गुजारा है     |       शत्रुघ्न सिन्हा ने ट्रंप-किम के जरिए PM मोदी पर साधा निशाना     |       गोवा: बीच पर कपल के कपड़े उतरवाए, तस्वीरें खीचीं और बॉयफ्रेंड के सामने ही लड़की से किया गैंगरेप     |       योगी आदित्यनाथ के लिए उद्धव ठाकरे के बिगड़े बोल, भाजपा पर कहा- 'बालासाहेब की तरह नहीं सहूंगा उसके पाप'     |       देश में पानी और तेल को लेकर आग     |       IPL-11: अफगानी राष्ट्रपति ने पीएम मोदी को किया टैग, लिखा- हीरो हैं राशिद, किसी और को नहीं देंगे     |       यहां सिर्फ 10 रुपये में खूबसूरत मॉडल्स को बना सकते हैं अपनी गर्लफ्रेंड, जानें     |       पिछले 5 साल में PF पर मिलेगा सबसे कम ब्याज, 8.55% को मंजूरी     |       मुंबई में तैरता रेस्तरां समुद्र में डूबा, 15 लोग बचाए गए     |       कांसटेबल ललिता की ललित बनने के लिए पहले चरण की सर्जरी सफल     |       गुजरात की लेडी डॉन का एक और वीडियो वायरल, सरेआम यूं फैलाई दहशत     |       पाकिस्तान की खुफिया एजेंसी के पूर्व चीफ का दावा, भारत के पीएम के रूप में नरेंद्र मोदी को ही चाहता है ISI     |       गणेशी लाल ओडिशा और के राजशेखरन मिजोरम के राज्यपाल नियुक्त     |      

फीचर


पानी के खिलाफ मनमानी रोकने वाला लोकपर्व

प्रकृति के साथ छेड़छाड़ रोकने और जल-वायु को प्रदूषणमुक्त रखने के लिए किसी भी पहल से पहले यूएन चार्टरों की मुंहदेखी करने वाली सरकारें अगर अपने यहां परंपरा के गोद में खेलते लोकानुष्ठानों के सामर्थ्य को समझ लें तो मानव कल्याण के एक साथ कई अभिक्रम पूरे हो जाएं।


chhath-folk-tradition-arghya-faith-indian-culture-companionship-with-nature

करीब दो दशक पहले कई देशों के संस्कृतिप्रेमी युवाओं ने 'बेस्ट फॉर नेक्स्ट’ नाम से अपने एक अभिनव सांस्कृतिक अभियान के तहत बिहार में गंगा, गंडक, कोसी और पुनपुन नदियों के घाटों पर मनने वाले छठ व्रत पर एक डॉक्यूमेंट्री बनाई। इन लोगों को यह देखकर खासी हैरत हुई कि घाट पर उमड़ी भीड़ कुछ भी ऐसा करने से परहेज कर रही थी, जिससे नदी का जल प्रदूषित हो। लोक विवेक की इससे बड़ी पहचान क्या होगी कि जिन नदियों के नाम तक को हमने इतिहास बना दिया है, उनके नाम आज भी छठ गीतों में सुरक्षित हैं। कविताई के अंदाज में कहें तो छठ पर्व आज परंपरा या सांस्कृतिक पर्व से ज्यादा सामयिक सरोकारों से जुड़े जरूरी सबक याद कराने का अवसर है। एक ऐसा अवसर जिसमें पानी के साथ मनमानी पर रोक, प्रकृति के साथ साहचर्य के साथ जीवन जीने का पथ और शपथ दोनों शामिल हैं।

प्रकृति के साथ छेड़छाड़ रोकने और जल-वायु को प्रदूषणमुक्त रखने के लिए किसी भी पहल से पहले यूएन चार्टरों की मुंहदेखी करने वाली सरकारें अगर अपने यहां परंपरा के गोद में खेलते लोकानुष्ठानों के सामर्थ्य को समझ लें तो मानव कल्याण के एक साथ कई अभिक्रम पूरे हो जाएं। बात करें छठ व्रत की तो दिल्ली, मुंबई, पुणे, चंडीगढ़, अहमदाबाद और सूरत के रेलवे स्टेशनों का नजारा वैसे तो दशहरे के साथ ही बदलने लगता है। पर दिवाली के आसपास तो स्टेशनों पर तिल रखने तक की जगह नहीं होती है। इन दिनों पूरब की तरफ जानेवाली ट्रेनों के लिए उमड़ी भीड़ यह जतलाने के लिए काफी होती हैं कि इस देश में आज भी लोग अपने लोकोत्सवों से किस कदर भावनात्मक तौर पर जुड़े हैं। तभी तो घर लौटने के लिए उमड़ी भीड़ और उत्साह को लेकर देश के दूसरे हिस्से के लोग कहते हैं, अब तो छठ तक ऐसा ही चलेगा, भैया लोगों का पर्व जो शुरू हो गया है।

याद रखें कि छठ पूरी दुनिया में मनाया जाने वाला अकेला ऐसा लोकपर्व है जिसमें उगते के साथ डूबते सूर्य की भी आराधना होती है। यही नहीं चार दिन तक चलने वाले इस अनुष्ठान में न तो कोई पुरोहित कर्म होता है और न ही किसी तरह का पौराणिक कर्मकांड। यही नहीं प्रसाद के लिए मशीन से प्रोसेस किसी भी खाद्य पदार्थ का इस्तेमाल निषिद्ध है। और तो और प्रसाद बनाने के लिए व्रती महिलाएं कोयले या गैस के चूल्हे की बजाय आम की सूखी लकड़ियों को जलावन के रूप में इस्तेमाल करती हैं। कह सकते हैं कि आस्था के नाम पर पोंगापंथ और अंधविश्वास के खिलाफ यह पर्व भारतीय लोकसमाज की तरफ से एक बड़ा हस्तक्षेप भी है, जिसका कारगर होना सबके हित में है।

दिलचस्प है कि छठ के आगमन से पूर्व के छह दिनों में दिवाली, फिर गोवर्धन पूजा और उसके बाद भैया दूज जैसे तीन बड़े पर्व एक के बाद एक आते हैं। इस सिलसिले को अगर नवरात्र या दशहरे से शुरू मानें तो कहा जा सकता है कि अक्टूबर और नवंबर का महीना लोकानुष्ठानों के लिए लिहाज से खास है। एक तरफ साल भर के इंतजार के बाद एक साथ पर्व मनाने के लिए घर-घर में जुटते कुटुंब और उधर मौसम की गरमाहट पर ठंड और कोहरे की चढ़ती हल्की चादर। भारतीय साहित्य और संस्कृति के मर्मज्ञ वासुदेवशरण अग्रवाल ने इसी मेल को 'लोकरस’ और 'लोकानंद’ कहा है। एक छतरी के नीचे खड़े होने की होड़ के बीच इस लोकरंग की एक वैश्विक छटा भी उभर रही है। हॉलैंड, सूरीनाम, मॉरिशस , त्रिनिडाड, नेपाल और दक्षिण अफ्रीका से आगे छठ के अर्घ्य के लिए हाथ अब अमेरिका, कनाडा और ब्रिटेन में भी उठने लगे हैं।

 

 

advertisement