केंद्र ने कहा- कारगिल में राफेल होता तो कम सैनिक हताहत होते     |       केपाटन से मंत्री बाबूलाल वर्मा का टिकट कटा, चंद्रकांता मेघवाल को मौका     |       डोनाल्ड ट्रंप ने कहा- मैं प्रधानमंत्री मोदी का बहुत सम्मान करता हूं     |       कोंकणी रिवाजों से एकदूजे के हुए 'दीपवीर', सबसे पहले यहां देखें तस्वीरें और वीडियो     |       मोदी ने वैश्विक नेताओं से की मुलाकात, अमेरिकी उपराष्ट्रपति को दिया भारत आने का न्योता     |       बयान से पलटे शाहिद आफरीदी, कहा- कश्मीर में भारत कर रहा जुल्म     |       इसरो / जीसैट-29 का सफल प्रक्षेपण, 2020 तक गगनयान के तहत पहला मानव रहित मिशन शुरू होगा     |       अजय चौटाला को इनेलो से निष्कासित किए जाने सहित दिन के 10 बड़े समाचार     |       रामायण सर्किट: 16 दिन में अयोध्या से रामेश्वर तक का सफर     |       बाल दिवस पर रही सांस्कृतिक कार्यक्रमों की धूम     |       संसद का शीतकालीन सत्र 11 दिसबंर से, क्या राम मंदिर पर कानून लाएगी मोदी सरकार?     |       केंद्र ने लौटाया पश्चिम बंगाल का नाम बदलने का प्रस्ताव, ममता नाराज     |       Srilanka : संसद में प्रधानमंत्री राजपक्षे के खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव पास     |       अयोध्या में RSS की रैली, इकबाल अंसारी बोले- छोड़ देंगे अयोध्या     |       1984 सिख विरोधी दंगे: संगत की गवाही ने लिखी इंसाफ की इबारत     |       दिल्लीः हवा गुणवत्ता में सुधार, लेकिन सुरक्षित अब भी नहीं     |       दीक्षांत समारोह में छात्रों को गोल्ड मेडल देंगे राष्ट्रपति     |       डीआरआई और सेना ने पाक सीमा से सटे इलाके में बड़ी मात्रा में हथियार बरामद किए     |       भारतीय जनता पार्टी जानती है कब किसके साथ क्या करना है     |       सबरीमला: तृप्ति देसाई 17 नवंबर को जाएंगी मंदिर, पीएम मोदी से मांगी सुरक्षा     |      

राष्ट्रीय


रक्षा मंत्री के अरुणाचल दौरे पर चीन नाराज

सीतारमण ने अरुणाचल प्रदेश के अंजॉ जिले की सुदूर सैन्य चौकियों का दौरा किया और रक्षा तैयारियों का जायजा लिया। चीन भारत के इस पूर्वोत्तर राज्य को अपना बताता है और इसे दक्षिण तिब्बत कहता है।


china-objects-to-defence ministers's-visit-to-Arunachal-Pradesh

चीन ने एक बार फिर से भारत के साथ नाराजगी ज़ाहिर की है। अबकी बार उसका गुस्सा भारत की रक्षा मंत्री निर्मला सीतारमण के नार्थ-ईस्ट के महत्वपूर्ण राज्य अरुणाचल प्रदेश के दौरे को लेकर है।

चीन ने सीतारमण के अरुणाचल प्रदेश के दौरे को लेकर नाराजगी जाहिर की है और कहा है कि विवादित क्षेत्र का दौरा सीमा पर शांति बनाने में सहायक नहीं होगा।सीतारमण ने इस दौरे पर भारतीय सैन्य अधिकारियों से वास्तविक नियंत्रण रेखा (एलएसी) पर रक्षा तैयारियों का जायजा लिया।

सीतारमण ने अरुणाचल प्रदेश के अंजॉ जिले की सुदूर सैन्य चौकियों का भी दौरा किया। चीन भारत के इस पूर्वोत्तर राज्य को अपना बताता है और इसे दक्षिण तिब्बत कहता है।

वहीँ चीन के विदेश मंत्रालय की प्रवक्ता हुआ चुनयिंग ने कहा, "भारतीय रक्षामंत्री के अरुणाचल प्रदेश दौरे पर हमारा रुख बहुत साफ है कि चीन-भारत सीमा का पूर्वी भाग विवादित है।"

उन्होंने कहा, "भारतीय पक्ष से विवादित क्षेत्र का दौरा प्रासंगिक क्षेत्र में शांति बनाने में सहायक नहीं है। हम आशा करते हैं कि भारतीय पक्ष चीन के साथ वार्ता व सार्थक माहौल बनाते हुए सीमा मुद्दे के उचित समाधान के लिए मिलकर काम करेगा।"

हुआ ने कहा, "हम आशा करते हैं कि भारत चीन के साथ समाधान निकालने के साझा लक्ष्य पर काम करेगा, जो कि दोनों पक्षों को स्वीकार्य हो।"

चीन हमेशा भारतीय मंत्री या विदेशी गणमान्य व्यक्तियों के अरुणाचल दौरे पर नाराजगी जाहिर करता है। तिब्बती धर्मगुरु दलाई लामा के अप्रैल में अरुणाचल प्रदेश के दौरे से भारत व चीन के बीच संबंधों में खटास पैदा हो गई थी।

advertisement

  • संबंधित खबरें