कश्मीर मुद्दा: भाजपा के इस नेता ने सोज और गुलाम नबी आजद की तुलना हाफिज सईद से की     |       जम्मू-कश्मीर: सुरक्षाबलों ने इस्लामिक स्टेट के सरगना समेत 4 आतंकियों को किया ढेर…     |       ममता चाहती थीं नेताओं से बैठकें, चीन ने नहीं दी मंजूरी तो रद्द किया दौरा     |       ईद पर 100 युवकाें से गले मिलने वाली लड़की काे लेकर एक आैर बड़ा खुलासा     |       वडोदरा के स्कूल में 9वीं के छात्र की हत्या, पुलिस को सीनियर पर शक     |       जेटली का राहुल गांधी पर वार- मानवाधिकार संगठनों के प्रति बढ़ रही है उनकी सहानुभूति     |       दाती महाराज की मुश्किलें बढ़ती जा रही हैं, रात्रि में चरण सेवा के नाम पर लड़कियों को बुलाता था     |       अमरनाथ यात्रा की तैयारियां पूरी, यात्रा शांतिपूर्वक होगी: राज्यपाल     |       कांग्रेस ने नोटबंदी को बताया आजाद भारत का सबसे बड़ा घोटाला, पीएम से मांगा जवाब     |       ED की माल्या को भगोड़ा घोषित करने की पहल, जब्त होगी संपत्ति     |       PNB घोटाले में CBI को मिल सकती है बड़ी कामयाबी, जल्द गिरफ्त में आएगा नीरव मोदी     |       अरुण जेटली का बड़ा हमला: कहा, राहुल गांधी के दिल में बसते हैं विध्‍वंसक तत्‍व     |       कश्‍मीर में ऑपरेशन ऑल आउट: सबसे खूंखार 22 आतंकियों की लिस्‍ट जारी, एक को किया ढेर     |       बड़ा फैसला: नोएडा के सेक्टर-123 से हटाया जाएगा डंपिंग ग्राउंड     |       शिवपाल यादव की अखिलेश को नसीहत, बड़ों की बात मानते तो दोबारा सीएम बनते     |       सोनिया गांधी से मिलने पहुंचीं सपना चौधरी, कहा- कांग्रेस के लिए कर सकती हूं प्रचार     |       2019 चुनाव से पहले कांग्रेस के अंदर बड़ा फेरबदल, खड़गे को महाराष्ट्र की जिम्मेदारी     |       झारखंड HC ने लालू यादव की अंतरिम जमानत तीन जुलाई तक बढ़ाई     |       हापुड़ लिंचिंग: घायल को अमानवीय तरीके से ले जाने पर यूपी पुलिस ने मांगी माफ़ी     |       Kundli Tv- निर्जला एकादशी: यह है शुभ मुहूर्त और कथा     |      

गपशप


बिहार कांग्रेस को नया अध्यक्ष

अखिलेश सिंह 2004 के लालू लहर में लोकसभा का चुनाव जीत गए थे और लालू की कृपा से वे यूपीए-I सरकार में मंत्री भी बन गए थे।


congress -new-president-of-bihar

बिहार कांग्रेस के नए अध्यक्ष को लेकर धकमपेल मची है। बिहार के कांग्रेस प्रभारी सीपी जोशी एक ऐसे नाम की पैरवी कर रहे हैं जिसको लेकर राहुल गांधी खुश नहीं बताए जाते हैं। सीपी जोशी अखिलेश सिंह की पैरवी कर रहे हैं, जो भूमिहार जाति से ताल्लुक रखते हैं, अखिलेश सिंह 2004 के लालू लहर में लोकसभा का चुनाव जीत गए थे और लालू की कृपा से वे यूपीए-I सरकार में मंत्री भी बन गए थे। पर अखिलेश ने 2009 में लालू का साथ छोड़ कांग्रेस का दामन थाम लिया। इसके बाद हुए जितने भी चुनाव में उन्होंने हिस्सा लिया, वे कोई भी चुनाव जीत नहीं पाए, यहां तक कि इस बार का विधानसभा चुनाव भी वे हार गए। अब इनके विरोधी कह रहे हैं कि एक हारा हुआ नेता कैसे पार्टी को राज्य में जीत का स्वाद चखा सकता है। दूसरा नाम श्याम सुंदर सिंह धीरज का चल रहा है, जो 17 साल तक यूथ कांग्रेस के अध्यक्ष रहे और कभी सीताराम केसरी के खासमखास में शुमार होते थे, केसरी के जमाने में ही इन्होंने सोनिया को पार्टी अध्यक्ष बनाने की वकालत कर दी थी, नाराज़ होकर केसरी ने इन्हें ठंडे बस्ते में डाल दिया था। यह पिछड़ी जाति से ताल्लुक रखते हैं, राहुल भी इनके नाम को आगे बढ़ाने के पक्षधर दिखते हैं। एक और नाम प्रेमचंद्र मिश्र का है जो छात्र राजनीति से आगे आए हैं, पर चुनाव जीतने के मामले में इनका रिकार्ड भी सिफर है। एक और नाम मदन मोहन झा का चल रहा है जो इस बार का चुनाव जीते हैं। बिहार में कांग्रेस के लिए संभावनाओं की जमीन काफी ऊर्वरा है, क्योंकि फिलवक्त लालू कमजोर विकेट पर खेल रहे हैं, कांग्रेस को इस बात का फायदा मिल सकता है।

advertisement