आईपीएल-11 : राशिद का हरफनमौला प्रदर्शन, हैदराबाद फाइनल में (राउंडअप)     |       कर्नाटक विधानसभा में मुख्यमंत्री कुमारस्वामी ने साबित किया बहुमत, BJP का वॉकआउट     |       2019 में अमेठी या रायबरेली हम जीतेंगे, SP-BSP साथ आए तो मिलेगी चुनौती: अमित शाह     |       CBSE 12th Results 2018: सीबीएसई 12वीं के नतीजे आज होंगे जारी, cbseresults.nic.in पर देखें रिजल्ट     |       समिट रद्द करने के दूसरे दिन ट्रम्प ने जताई किम जोंग के साथ जल्द मुलाकात की उम्मीद, उत्तर कोरिया की तारीफ की     |       सावधानः निपाह की आशंका से दिल्ली-एनसीआर में भी अलर्ट, केरल से आने वाले केले धोकर खाएं     |       रोहिंग्या मुद्दे पर बांग्लादेश ने मांगी भारत से मदद     |       मेजर गोगोई की मुश्किलें बढ़ी, सेना ने जारी किया कोर्ट आफ इन्क्वायरी का आदेश     |       अरविंद केजरीवाल ने ट्वीट की रवीश कुमार को जान से मारने की धमकी वाली खबर, एलजी से पूछा- है दम इस पर एक्‍शन लेने का     |       देश में पानी और तेल को लेकर आग     |       सीमा पर गोलीबारी व घुसपैठ बंद करे पाकिस्तान : महबूबा     |       नौतपा : पहले दिन मौसम के तेवर पड़े नरम, हल्की बारिश के बाद बढ़ी उमस     |       लेडी ट्यूशन टीचर ने नाबालिग छात्र से बनाए शारीरिक संबंध, खुलासा होने पर हुआ ये अंजाम     |       दिल्ली पुलिस ने सिसोदिया से 3 घंटे में पूछे 100 सवाल, कई के नहीं मिले जवाब     |       बिहार : 5 साल पहले महाबोधि मंदिर के पास हुए बम विस्फोट मामले में सभी 5 आरोपी दोषी करार     |       अपडेट.. सैन्य शिविर पर ग्रेनेड हमला, दो सैन्यकर्मी घायल     |       एच-4 वीजा वर्क परमिट खत्म करने की तैयारी में ट्रंप प्रशासन, भारतीयों पर होगा ज्यादा असर     |       घर आने की योजना रद्दकर ड्यूटी पर लौट गया था शहीद     |       पाक शांति चाहता है तो आतंकवादी भेजना बंद करे: जनरल रावत     |       वायरल सच: हिंदू लड़की को मुस्लिम लड़के से अलग करने में गुंडागर्दी का सच     |      

राजनीति


क्यों चुनाव नहीं लड़ना चाहते सचिन और भंवर जीतेंद्र?

गुरुदासपुर की जीत का डंका कांग्रेस भले ही जोरों से पीट रही हो और गुजरात और हिमाचल विधानसभा चुनाव में भुनाने की तैयारी कर रही हो। लेकिन कांग्रेस ओर बीजेपी दोनों बेहतर जानती है


congress-rahul-gandhi-sachin-pilot-bhanwar-jitendra-rajasthan

गुरुदासपुर की जीत के बावजूद राजस्थान में होने वाले लोकसभा के उपचुनाव में उतरने से कांग्रेस के दो दिग्गज नेता कतरा रहे हैं। राजस्थान में अजमेर और अलवर लोकसभा सीटों के लिए उपचुनाव होने हैं। राहुल गांधी इन सीटों पर सचिन पायलट और भंवर जीतेंद्र सिंह को चुनाव लड़वाना चाहते हैं। लेकिन मुश्किल यह है कि ये दानों नेता मैदान में उतरने से कतरा रहे हैं।

गुरुदासपुर की जीत का डंका कांग्रेस भले ही जोरों से पीट रही हो और गुजरात और हिमाचल विधानसभा चुनाव में भुनाने की तैयारी कर रही हो। लेकिन कांग्रेस ओर बीजेपी दोनों बेहतर जानती है कि गुरुदासपुर की जीत की वजह तकनीकी है, न कि मोदी के खिलाफ जन उभार। चुनाव नतीजों के विश्लेषण से यह साफ हो चुका है कि गुरुदास पुर के स्थानीय अकाली विधायक और कार्यकर्ताओं ने बीजेपी के पक्ष में काम नहीं किया। बीजेपी के भी बहुत कार्यकर्ता अपने घरों में बैठे रहे। सलारिया की छवि भी हार की बड़ी वजह बनी। सलारिया के खिलाफ एक महिला ने गंभीर इारोप लगाए थे और उसका साथ देने वालों में विनोद खन्ना की पत्नी भी थीं। जाहिर है कांग्रेस की यह बड़ी जीत ज्यादा राजनीतिक मायने नहीं रखती।

राजस्थान की सियासी जमीन पर अब भी कमल खिला है और कांग्रेस के पास ऐसा कुछ नहीं है, जिसके आधार पर वह चुनाव जीतने की उम्मीद लगा सके। इस जमीनी सच्चाई को जनते हुए सचिन पायलट और  भंवर जीतेंद्र सिंह अपनी जान बचाने में लगे हैं। दोनों के सामने मुश्किल यह है कि अगर राहुल गांधी की इच्छा के अनुसार वे मैदान में उतरते हैं और हारते हैं तो उन पर लगातार दो चुनाव हारने का ठप्पा लगेगा। पार्टी में उनकी हवा तो निकलेगी ही राहुल के दरबार में भी वजन कम हो जाएगा। इसीलिए राजस्थान के मुख्यमंत्री बनने की उम्मीद लगाए सचिन किसी भी सूरत में चुनाव से बचना चाहते हैं। प्रदेश प्रभारी अविनाश पांडे की मुश्किल यह है कि वहां कांग्रेस के पास कोई दूसरा नेता नहीं है जिसे चुनाव मैदान में उतारा जाए।

अविनाश पांडे की संगठनिक पकड़ और समझ भी उतनी नहीं है कि इस स्थिति को संभाल सकें। क्योंकि ये अविनाश पांडे वही हैं जिन्होंने शराब के ठेके के लिए नागपुर के जिला कलक्टर को थप्पड़ मारा था और 1986 में उसके विरोध में देशभर के आईएएस अधिकारी हड़ताल पर गए। तब राजीव गांधी ने अविनाश पांडे को किनारे लगा दिया था। तब से कोने में पड़े अविनाश पांडे को झाड़ पोछ कर राहुल गांधी ने राजस्थान का प्रभारी बना दिया।

 राजस्थान के चुनाव मैदान में सचिन और भंवर जीतेंद्र सिंह अपनी जान बचाने में जुटे हैं, तो दूसरी तरफ राहुल उन्हें मैदान में देखना चाहते हैं। इन तीनों के चक्कर में अविनाश पांडे चक्कर खा रहें हैं।

 

 

advertisement