Lok Sabha Election Result 2019 (लोकसभा चुनाव परिणाम २०१९): आज आएंगे इलेक्शन रिजल्ट, सुबह 8 बजे से शुरू होगी काउंटिंग - News18 हिंदी     |       lok sabha election counting 2019 live update: 2019 चुनाव के नतीजे का काउंटडाउन शुरू, 8 बजे से आएगा पहला रुझान - Hindustan     |       लोकसभा चुनाव 2019 : मतगणना आज सुबह आठ बजे होगी शुरू, नतीजे आने में हो सकता है कुछ विलंब - NDTV India     |       Lok Sabha Election Results 2019: मतगणना सुबह 8 बजे से, ट्रेंड मिलेंगे पर नतीजे शाम तक - दैनिक जागरण     |       कुछ घंटों बाद शुरू होगी मतगणना, हिंसा की आशंका, गृह मंत्रालय का सभी राज्यों को अलर्ट - Hindustan     |       EVM विवाद के बीच, दिग्विजय ने लिया स्ट्रॉन्ग रूम की सुरक्षा का जायजा Amid EVM row, Digvijaya Singh visits strong room in Bhopal - Lok Sabha Election 2019 - आज तक     |       Truecaller से यूजर का डेटा चोरी, लाखों में बेचा जा रहा है डेटा! - आज तक     |       कर्नाटक में गरमाई सियासत: केंद्रीय मंत्री ने कहा- 24 मई तक ही सीएम रहेंगे कुमारस्वामी - दैनिक जागरण     |       Loksabha Election 2019: यूपी के उपमुख्यमंत्री बोले- 23 मई को बीजेपी विरोधी दलों का हो जाएगा ‘राजनीतिक अंतिम संस्कार’ - Jansatta     |       RBSE 12th Result 2019 Arts: इन वेबसाइट्स पर देखें अपना परिणाम, जानें पूरा तरीका - नवभारत टाइम्स     |       फ्रांस में राफेल विमान का काम देख रहे भारतीय वायुसेना के दफ्तर में 'घुसपैठ की कोशिश' - NDTV India     |       SCO बैठक में एक दूसरे के अगल-बगल बैठे सुषमा स्वराज और कुरैशी, पुलवामा हमले के बाद बढ़ा था भारत-पाक में तनाव - Hindustan     |       टॉपलेस कुंवारी लड़कियों की परेड, राजा किसी को भी बना लेता है पत्नी - आज तक     |       ब्रिटेन : हाउस ऑफ कॉमन्स की नेता एंड्रिया लेडसम का इस्तीफ़ा - BBC हिंदी     |       2019 Hyundai Venue SUV live launch: Details, prices, specs, variants - Overdrive     |       Hyundai Venue: लेने से पहले जानें नई कॉमपैक्ट SUV की ये 5 बड़ी बातें - आज तक     |       लोकसभा चुनाव 2019 के नतीजों से पहले हरे निशान पर बंद हुआ शेयर बाजार - Hindustan     |       TikTok वाली कंपनी अब लाई नया चैट ऐप, जानें कैसे करेगा काम - आज तक     |       सलमान खान ने प्रियंका चोपड़ा पर किया कमेंट, बोले- पति के लिए छोड़ा 'भारत' को - NDTV India     |       ऐश्वर्या पर बना मीम शेयर कर बुरे फंसे विवेक, यूं उड़ रहा मजाक - Entertainment - आज तक     |       कान्स 2019/ रेड कार्पेट पर सोनम व्हाइट टक्सीडो सूट में आईं नजर, बहन रिया ने फाइनल किया लुक - Dainik Bhaskar     |       अर्जुन कपूर की 'इंडियाज मोस्ट वांटेड' में शाहरुख खान भी हुए शामिल, जानें कैसे - नवभारत टाइम्स     |       मिताली राज के मुताबिक ये हैं वो कारण जो टीम इंडिया को बनाएंगे विश्व चैंपियन - Times Now Hindi     |       World Cup 2019 के लिए लंदन पहुंची टीम इंडिया, PHOTOS में देखें कैसे हुआ स्वागत? - अमर उजाला     |       CWC 2019: प्रैक्टिस मैच में स्मिथ और गेंदबाजों के दम पर ऑस्ट्रेलिया ने विंडीज को दी मात - Hindustan     |       World Cup 2019: भारत-पाकिस्तान का मैच देखने के लिए खर्च करने होंगे एक गाड़ी खरीदने जितने पैसे - India TV हिंदी     |      

राजनीति


क्यों चुनाव नहीं लड़ना चाहते सचिन और भंवर जीतेंद्र?

गुरुदासपुर की जीत का डंका कांग्रेस भले ही जोरों से पीट रही हो और गुजरात और हिमाचल विधानसभा चुनाव में भुनाने की तैयारी कर रही हो। लेकिन कांग्रेस ओर बीजेपी दोनों बेहतर जानती है


congress-rahul-gandhi-sachin-pilot-bhanwar-jitendra-rajasthan

गुरुदासपुर की जीत के बावजूद राजस्थान में होने वाले लोकसभा के उपचुनाव में उतरने से कांग्रेस के दो दिग्गज नेता कतरा रहे हैं। राजस्थान में अजमेर और अलवर लोकसभा सीटों के लिए उपचुनाव होने हैं। राहुल गांधी इन सीटों पर सचिन पायलट और भंवर जीतेंद्र सिंह को चुनाव लड़वाना चाहते हैं। लेकिन मुश्किल यह है कि ये दानों नेता मैदान में उतरने से कतरा रहे हैं।

गुरुदासपुर की जीत का डंका कांग्रेस भले ही जोरों से पीट रही हो और गुजरात और हिमाचल विधानसभा चुनाव में भुनाने की तैयारी कर रही हो। लेकिन कांग्रेस ओर बीजेपी दोनों बेहतर जानती है कि गुरुदासपुर की जीत की वजह तकनीकी है, न कि मोदी के खिलाफ जन उभार। चुनाव नतीजों के विश्लेषण से यह साफ हो चुका है कि गुरुदास पुर के स्थानीय अकाली विधायक और कार्यकर्ताओं ने बीजेपी के पक्ष में काम नहीं किया। बीजेपी के भी बहुत कार्यकर्ता अपने घरों में बैठे रहे। सलारिया की छवि भी हार की बड़ी वजह बनी। सलारिया के खिलाफ एक महिला ने गंभीर इारोप लगाए थे और उसका साथ देने वालों में विनोद खन्ना की पत्नी भी थीं। जाहिर है कांग्रेस की यह बड़ी जीत ज्यादा राजनीतिक मायने नहीं रखती।

राजस्थान की सियासी जमीन पर अब भी कमल खिला है और कांग्रेस के पास ऐसा कुछ नहीं है, जिसके आधार पर वह चुनाव जीतने की उम्मीद लगा सके। इस जमीनी सच्चाई को जनते हुए सचिन पायलट और  भंवर जीतेंद्र सिंह अपनी जान बचाने में लगे हैं। दोनों के सामने मुश्किल यह है कि अगर राहुल गांधी की इच्छा के अनुसार वे मैदान में उतरते हैं और हारते हैं तो उन पर लगातार दो चुनाव हारने का ठप्पा लगेगा। पार्टी में उनकी हवा तो निकलेगी ही राहुल के दरबार में भी वजन कम हो जाएगा। इसीलिए राजस्थान के मुख्यमंत्री बनने की उम्मीद लगाए सचिन किसी भी सूरत में चुनाव से बचना चाहते हैं। प्रदेश प्रभारी अविनाश पांडे की मुश्किल यह है कि वहां कांग्रेस के पास कोई दूसरा नेता नहीं है जिसे चुनाव मैदान में उतारा जाए।

अविनाश पांडे की संगठनिक पकड़ और समझ भी उतनी नहीं है कि इस स्थिति को संभाल सकें। क्योंकि ये अविनाश पांडे वही हैं जिन्होंने शराब के ठेके के लिए नागपुर के जिला कलक्टर को थप्पड़ मारा था और 1986 में उसके विरोध में देशभर के आईएएस अधिकारी हड़ताल पर गए। तब राजीव गांधी ने अविनाश पांडे को किनारे लगा दिया था। तब से कोने में पड़े अविनाश पांडे को झाड़ पोछ कर राहुल गांधी ने राजस्थान का प्रभारी बना दिया।

 राजस्थान के चुनाव मैदान में सचिन और भंवर जीतेंद्र सिंह अपनी जान बचाने में जुटे हैं, तो दूसरी तरफ राहुल उन्हें मैदान में देखना चाहते हैं। इन तीनों के चक्कर में अविनाश पांडे चक्कर खा रहें हैं।

 

 

advertisement