देश के सबसे भारी रॉकेट 'बाहुबली' से जीसैट-29 लॉन्‍च, कश्मीर और नॉर्थ ईस्ट में जीवन करेगा आसान     |       Birthday Special: चीन से हार के बाद जवाहरलाल नेहरू ने क्या कहा था?     |       राफेल की कीमत, ऑफसेट पार्टनर सब जानकारी SC के पास, डील पर फैसला सुरक्षित     |       कश्मीर पर शाहिद अफरीदी का यू टर्न, कहा- अपने देश के लिए हूं निष्ठावान     |       राहुल की हरी झंडी, राजस्थान में गहलोत और सचिन पायलट दोनों लड़ेंगे चुनाव     |       पीएम मोदी ने US के उपराष्ट्रपति से कहा, दुनिया में हुए आतंकी हमलों का एक ही केंद्र     |       टूट गया चौटाला परिवार, जिस इनेलो को खड़ा किया उसी से निकाले गए अजय चौटाला     |       संसद का शीतकालीन सत्र 11 दिसबंर से, क्या राम मंदिर पर कानून लाएगी मोदी सरकार?     |       पैग के लिए प्लेन में पंगा! देखिए विदेशी महिला के हंगामे का VIDEO     |       Air Pollution : दिल्ली में सांस लेना हुआ मुश्किल, ऑनलाइन बिकने लगी पहाड़ों की 'ताजी हवा'     |       रामायण एक्सप्रेस: जानें किन स्टेशनों से गुजरेगी और कितना होगा किराया     |       RLSP लीडर की हत्या, चौथे नेता की हत्या पर नीतीश कुमार पर फूटा उपेंद्र कुशवाहा का गुस्सा     |       SC में सरकार ने नहीं बताई राफेल की कीमत, कहा-विरोधी उठा सकते हैं फायदा, फैसला सुरक्षित     |       व्हाइट हाऊस में तकरारः मेलानिया ट्रंप ने महिला सुरक्षा सलाहकार को निकालने को क्यों कहा?     |       कमलनाथ ने मुसलमानों से कहा, 'चुनावों तक RSS से सतर्क रहें, बाद में हम देख लेंगे'     |       तृप्ति देसाई का एलान, बोलीं- 17 नवंबर को सबरीमाला मंदिर में करूंगी प्रवेश, सीएम से मांगी सुरक्षा     |       'I Love You रितु' लिखकर पति ने 13 मिनट के वीडियो में उठाया सन्न करने वाला कदम     |       Chhath Puja 2018 : उगते सूर्य को अर्घ्य के साथ देशभर में छठ पर्व का हुआ समापन     |       दिल्ली पहुंची अत्याधुनिक ट्रेन-18, जानें क्‍या है खासि‍यत     |       श्रीलंका की संसद ने प्रधानमंत्री राजपक्षे के खिलाफ मतदान किया     |      

राजनीति


क्यों चुनाव नहीं लड़ना चाहते सचिन और भंवर जीतेंद्र?

गुरुदासपुर की जीत का डंका कांग्रेस भले ही जोरों से पीट रही हो और गुजरात और हिमाचल विधानसभा चुनाव में भुनाने की तैयारी कर रही हो। लेकिन कांग्रेस ओर बीजेपी दोनों बेहतर जानती है


congress-rahul-gandhi-sachin-pilot-bhanwar-jitendra-rajasthan

गुरुदासपुर की जीत के बावजूद राजस्थान में होने वाले लोकसभा के उपचुनाव में उतरने से कांग्रेस के दो दिग्गज नेता कतरा रहे हैं। राजस्थान में अजमेर और अलवर लोकसभा सीटों के लिए उपचुनाव होने हैं। राहुल गांधी इन सीटों पर सचिन पायलट और भंवर जीतेंद्र सिंह को चुनाव लड़वाना चाहते हैं। लेकिन मुश्किल यह है कि ये दानों नेता मैदान में उतरने से कतरा रहे हैं।

गुरुदासपुर की जीत का डंका कांग्रेस भले ही जोरों से पीट रही हो और गुजरात और हिमाचल विधानसभा चुनाव में भुनाने की तैयारी कर रही हो। लेकिन कांग्रेस ओर बीजेपी दोनों बेहतर जानती है कि गुरुदासपुर की जीत की वजह तकनीकी है, न कि मोदी के खिलाफ जन उभार। चुनाव नतीजों के विश्लेषण से यह साफ हो चुका है कि गुरुदास पुर के स्थानीय अकाली विधायक और कार्यकर्ताओं ने बीजेपी के पक्ष में काम नहीं किया। बीजेपी के भी बहुत कार्यकर्ता अपने घरों में बैठे रहे। सलारिया की छवि भी हार की बड़ी वजह बनी। सलारिया के खिलाफ एक महिला ने गंभीर इारोप लगाए थे और उसका साथ देने वालों में विनोद खन्ना की पत्नी भी थीं। जाहिर है कांग्रेस की यह बड़ी जीत ज्यादा राजनीतिक मायने नहीं रखती।

राजस्थान की सियासी जमीन पर अब भी कमल खिला है और कांग्रेस के पास ऐसा कुछ नहीं है, जिसके आधार पर वह चुनाव जीतने की उम्मीद लगा सके। इस जमीनी सच्चाई को जनते हुए सचिन पायलट और  भंवर जीतेंद्र सिंह अपनी जान बचाने में लगे हैं। दोनों के सामने मुश्किल यह है कि अगर राहुल गांधी की इच्छा के अनुसार वे मैदान में उतरते हैं और हारते हैं तो उन पर लगातार दो चुनाव हारने का ठप्पा लगेगा। पार्टी में उनकी हवा तो निकलेगी ही राहुल के दरबार में भी वजन कम हो जाएगा। इसीलिए राजस्थान के मुख्यमंत्री बनने की उम्मीद लगाए सचिन किसी भी सूरत में चुनाव से बचना चाहते हैं। प्रदेश प्रभारी अविनाश पांडे की मुश्किल यह है कि वहां कांग्रेस के पास कोई दूसरा नेता नहीं है जिसे चुनाव मैदान में उतारा जाए।

अविनाश पांडे की संगठनिक पकड़ और समझ भी उतनी नहीं है कि इस स्थिति को संभाल सकें। क्योंकि ये अविनाश पांडे वही हैं जिन्होंने शराब के ठेके के लिए नागपुर के जिला कलक्टर को थप्पड़ मारा था और 1986 में उसके विरोध में देशभर के आईएएस अधिकारी हड़ताल पर गए। तब राजीव गांधी ने अविनाश पांडे को किनारे लगा दिया था। तब से कोने में पड़े अविनाश पांडे को झाड़ पोछ कर राहुल गांधी ने राजस्थान का प्रभारी बना दिया।

 राजस्थान के चुनाव मैदान में सचिन और भंवर जीतेंद्र सिंह अपनी जान बचाने में जुटे हैं, तो दूसरी तरफ राहुल उन्हें मैदान में देखना चाहते हैं। इन तीनों के चक्कर में अविनाश पांडे चक्कर खा रहें हैं।

 

 

advertisement

  • संबंधित खबरें