नंबर गेम में कमजोर विपक्ष शब्दों के तीर से करेगा सरकार को 'घायल'     |       100 रुपये के नए नोट का क्या है गुजरात कनेक्शन?     |       इस ट्रेन में मिलेगा हवाई जहाज जैसा आनंद, बटन दबाने पर खुल जाएंगी खिड़कियां     |       32 किलोमीटर पैदल चलकर पहले दिन ऑफिस समय पर पहुंचा युवक, बॉस ने दिया ये ईनाम (VIDEO)     |       Exclusive: अगस्ता के बिचौलिये की वकील का दावा- सोनिया के खिलाफ गवाही देने का दबाव     |       उलमा कौन होते निदा का हुक्का-पानी बंद करने वालेः तनवीर हैदर उसमानी     |       एयरसेल-मैक्सिस मामलाः CBI ने पी चिदंबरम, उनके बेटे के खिलाफ चार्जशीट दाखिल की     |       ग्रेटर नोएडा हादसा : नौ शव बरामद, पुलिस ने किया पांच लोगों को गिरफ्तार, कई लोग अब भी फंसे     |       गोपाल दास नीरज : कारवां गुजर गया..     |       बड़ी ख़बर: अब यात्री मोबाइल फोन से खरीद सकते हैं जनरल टिकट     |       लखनऊ में सूदखोर कारोबारी से मिला 100 किलो सोना व नकद 9.21 करोड़ रुपये     |       राज ठाकरे का BJP पर हमला, इस वजह से भाजपा को चुनावों में मिली जीत, दोबारा सत्ता में नहीं होगी वापसी     |       साउथ दिल्ली के करीब 16000 पेड़ो के कटने पर लगे स्टे को NGT ने 27 जुलाई तक बढ़ाया     |       टिहरी में बस के खाई में गिरने से 14 की मौत, 17 लोग घायल     |       रायबरेली में भाजपा मंडल उपाध्यक्ष की हत्या, दारोगा व सिपाही लाइन हाजिर     |       सुरक्षा बल के जवान ने प्राइवेट पार्ट पर करंट लगाकर पत्नी को मार डाला     |       अमेरिकी अधिकारी आसमान में विमानों की टक्कर के कारणों की जांच में जुटे     |       देवरिया जेल में छापा, बाहुबली अतीक अहमद की बैरक से मिले सिम-पैन ड्राइव     |       पटना पहुंचते ही विरोधियों पर जमकर बरसे तेजस्वी     |       गुजरात : MBBS में गोल्ड मेडल जीतने वाली डॉक्टर बनी साध्वी, अरबों की संपत्ति ठुकराई     |      

राजनीति


क्यों चुनाव नहीं लड़ना चाहते सचिन और भंवर जीतेंद्र?

गुरुदासपुर की जीत का डंका कांग्रेस भले ही जोरों से पीट रही हो और गुजरात और हिमाचल विधानसभा चुनाव में भुनाने की तैयारी कर रही हो। लेकिन कांग्रेस ओर बीजेपी दोनों बेहतर जानती है


congress-rahul-gandhi-sachin-pilot-bhanwar-jitendra-rajasthan

गुरुदासपुर की जीत के बावजूद राजस्थान में होने वाले लोकसभा के उपचुनाव में उतरने से कांग्रेस के दो दिग्गज नेता कतरा रहे हैं। राजस्थान में अजमेर और अलवर लोकसभा सीटों के लिए उपचुनाव होने हैं। राहुल गांधी इन सीटों पर सचिन पायलट और भंवर जीतेंद्र सिंह को चुनाव लड़वाना चाहते हैं। लेकिन मुश्किल यह है कि ये दानों नेता मैदान में उतरने से कतरा रहे हैं।

गुरुदासपुर की जीत का डंका कांग्रेस भले ही जोरों से पीट रही हो और गुजरात और हिमाचल विधानसभा चुनाव में भुनाने की तैयारी कर रही हो। लेकिन कांग्रेस ओर बीजेपी दोनों बेहतर जानती है कि गुरुदासपुर की जीत की वजह तकनीकी है, न कि मोदी के खिलाफ जन उभार। चुनाव नतीजों के विश्लेषण से यह साफ हो चुका है कि गुरुदास पुर के स्थानीय अकाली विधायक और कार्यकर्ताओं ने बीजेपी के पक्ष में काम नहीं किया। बीजेपी के भी बहुत कार्यकर्ता अपने घरों में बैठे रहे। सलारिया की छवि भी हार की बड़ी वजह बनी। सलारिया के खिलाफ एक महिला ने गंभीर इारोप लगाए थे और उसका साथ देने वालों में विनोद खन्ना की पत्नी भी थीं। जाहिर है कांग्रेस की यह बड़ी जीत ज्यादा राजनीतिक मायने नहीं रखती।

राजस्थान की सियासी जमीन पर अब भी कमल खिला है और कांग्रेस के पास ऐसा कुछ नहीं है, जिसके आधार पर वह चुनाव जीतने की उम्मीद लगा सके। इस जमीनी सच्चाई को जनते हुए सचिन पायलट और  भंवर जीतेंद्र सिंह अपनी जान बचाने में लगे हैं। दोनों के सामने मुश्किल यह है कि अगर राहुल गांधी की इच्छा के अनुसार वे मैदान में उतरते हैं और हारते हैं तो उन पर लगातार दो चुनाव हारने का ठप्पा लगेगा। पार्टी में उनकी हवा तो निकलेगी ही राहुल के दरबार में भी वजन कम हो जाएगा। इसीलिए राजस्थान के मुख्यमंत्री बनने की उम्मीद लगाए सचिन किसी भी सूरत में चुनाव से बचना चाहते हैं। प्रदेश प्रभारी अविनाश पांडे की मुश्किल यह है कि वहां कांग्रेस के पास कोई दूसरा नेता नहीं है जिसे चुनाव मैदान में उतारा जाए।

अविनाश पांडे की संगठनिक पकड़ और समझ भी उतनी नहीं है कि इस स्थिति को संभाल सकें। क्योंकि ये अविनाश पांडे वही हैं जिन्होंने शराब के ठेके के लिए नागपुर के जिला कलक्टर को थप्पड़ मारा था और 1986 में उसके विरोध में देशभर के आईएएस अधिकारी हड़ताल पर गए। तब राजीव गांधी ने अविनाश पांडे को किनारे लगा दिया था। तब से कोने में पड़े अविनाश पांडे को झाड़ पोछ कर राहुल गांधी ने राजस्थान का प्रभारी बना दिया।

 राजस्थान के चुनाव मैदान में सचिन और भंवर जीतेंद्र सिंह अपनी जान बचाने में जुटे हैं, तो दूसरी तरफ राहुल उन्हें मैदान में देखना चाहते हैं। इन तीनों के चक्कर में अविनाश पांडे चक्कर खा रहें हैं।

 

 

advertisement