State Funeral For Goa Chief Minister Manohar Parrikar, PM Pays Respects - NDTV     |       गोवा की राजनीति के अमिताभ थे मनोहर पर्रिकर, ऐसी थी उनकी फैमिली लाइफ - lifestyle - आज तक     |       राजतिलक: यूपी की जनता को प्रियंका गांधी का खुला खत Rajtilak: Priyanka Gandhi's open letter to UP residents - Lok Sabha Election 2019 - आज तक     |       अनिल अंबानी ने एरिक्सन को 459 करोड़ रु का भुगतान किया, जेल जाने का संकट टला - Dainik Bhaskar     |       लोकसभा चुनाव 2019 : मुजफ्फरनगर में नामांकन प्रक्रिया आरंभ - Times Now Hindi     |       कर्नाटक में बोले राहुल गांधीः 500-1000 के नोटों की तरह संविधान को भी बदलना चाहते हैं पीएम मोदी - दैनिक जागरण     |       एलओसी पर पाक ने फिर तोड़ा युद्धविराम; 2 घंटे चली फायरिंग, एक जवान शहीद - दैनिक भास्कर     |       यूपी में सीट बंटवारे को लेकर मायावती का हमला, कहा- कांग्रेस जबर्दस्ती 7 सीटें छोड़ने का भ्रम न फैलाए - ABP News     |       नीदरलैंड/ बंदूकधारी ने ट्राम पर गोलियां बरसाईं, एक की मौत; कई घायल - Dainik Bhaskar     |       बयान/ मसूद अजहर पर चीनी राजदूत ने कहा- भारत की चिंताओं को समझते हैं, मामला जल्द निपटेगा - Dainik Bhaskar     |       इंडोनेशिया : अचानक आई बाढ़ में 42 लोगों की मौत, 20 से ज्यादा घायल- Amarujala - अमर उजाला     |       तेल के खेल में वेनेजुएला के जरिए अमेरिका को मात देगा भारत, बढ़ेंगे रुपये के भी दाम - दैनिक जागरण     |       चुनाव से ठीक पहले शेयर बाजार में तेजी, निवेशकों को 5 दिन में हुआ करोड़ों का फायदा - News18 Hindi     |       L&T इन्फोटेक को रोकने के लिए शेयर बायबैक करेंगे माइंडट्री के प्रमोटर! - Navbharat Times     |       LIC Bank: क्या आईडीबीआई बैंक का नाम बदलकर एलआईसी आईडीबीआई बैंक होगा? - Times Now Hindi     |       जियो से मुकाबले के लिए डिश टीवी से मर्जर की तैयारी में एयरटेल डिजिटल टीवी - Navbharat Times     |       कलंक: 'घर मोरे परदेसिया' गाना रिलीज, माधुरी-आलिया की जुगलबंदी ने किया कमाल - Hindustan     |       Kesari: अक्षय कुमार ने पोस्ट किया विडियो, लग रहे हैं दमदार - नवभारत टाइम्स     |       In Pics: एडल्ट फिल्म स्टार मिया खलीफा ने की बेहद खास अंदाज में सगाई, जानिए कौन है उनके मंगेतर - ABP News     |       कन्फर्म/ पर्रिकर के निधन के कारण पीएम मोदी की बायोपिक का पोस्टर लॉन्च कार्यक्रम स्थगित - Dainik Bhaskar     |       Ireland's Tim Murtagh creates new record in Test against Afghanistan - NDTV India     |       धोनी के CSK का प्रैक्टिस मैच देखने स्टेडियम पहुंचे 12 हजार लोग - Sports AajTak - आज तक     |       Isco Comments On Zinedine Zidane's Return To Real Madrid - Soccer Laduma     |       IPL: ये पांच विदेशी स्टार दिला सकते हैं RCB को पहला खिताब! - Sports AajTak - आज तक     |      

राजनीति


क्यों चुनाव नहीं लड़ना चाहते सचिन और भंवर जीतेंद्र?

गुरुदासपुर की जीत का डंका कांग्रेस भले ही जोरों से पीट रही हो और गुजरात और हिमाचल विधानसभा चुनाव में भुनाने की तैयारी कर रही हो। लेकिन कांग्रेस ओर बीजेपी दोनों बेहतर जानती है


congress-rahul-gandhi-sachin-pilot-bhanwar-jitendra-rajasthan

गुरुदासपुर की जीत के बावजूद राजस्थान में होने वाले लोकसभा के उपचुनाव में उतरने से कांग्रेस के दो दिग्गज नेता कतरा रहे हैं। राजस्थान में अजमेर और अलवर लोकसभा सीटों के लिए उपचुनाव होने हैं। राहुल गांधी इन सीटों पर सचिन पायलट और भंवर जीतेंद्र सिंह को चुनाव लड़वाना चाहते हैं। लेकिन मुश्किल यह है कि ये दानों नेता मैदान में उतरने से कतरा रहे हैं।

गुरुदासपुर की जीत का डंका कांग्रेस भले ही जोरों से पीट रही हो और गुजरात और हिमाचल विधानसभा चुनाव में भुनाने की तैयारी कर रही हो। लेकिन कांग्रेस ओर बीजेपी दोनों बेहतर जानती है कि गुरुदासपुर की जीत की वजह तकनीकी है, न कि मोदी के खिलाफ जन उभार। चुनाव नतीजों के विश्लेषण से यह साफ हो चुका है कि गुरुदास पुर के स्थानीय अकाली विधायक और कार्यकर्ताओं ने बीजेपी के पक्ष में काम नहीं किया। बीजेपी के भी बहुत कार्यकर्ता अपने घरों में बैठे रहे। सलारिया की छवि भी हार की बड़ी वजह बनी। सलारिया के खिलाफ एक महिला ने गंभीर इारोप लगाए थे और उसका साथ देने वालों में विनोद खन्ना की पत्नी भी थीं। जाहिर है कांग्रेस की यह बड़ी जीत ज्यादा राजनीतिक मायने नहीं रखती।

राजस्थान की सियासी जमीन पर अब भी कमल खिला है और कांग्रेस के पास ऐसा कुछ नहीं है, जिसके आधार पर वह चुनाव जीतने की उम्मीद लगा सके। इस जमीनी सच्चाई को जनते हुए सचिन पायलट और  भंवर जीतेंद्र सिंह अपनी जान बचाने में लगे हैं। दोनों के सामने मुश्किल यह है कि अगर राहुल गांधी की इच्छा के अनुसार वे मैदान में उतरते हैं और हारते हैं तो उन पर लगातार दो चुनाव हारने का ठप्पा लगेगा। पार्टी में उनकी हवा तो निकलेगी ही राहुल के दरबार में भी वजन कम हो जाएगा। इसीलिए राजस्थान के मुख्यमंत्री बनने की उम्मीद लगाए सचिन किसी भी सूरत में चुनाव से बचना चाहते हैं। प्रदेश प्रभारी अविनाश पांडे की मुश्किल यह है कि वहां कांग्रेस के पास कोई दूसरा नेता नहीं है जिसे चुनाव मैदान में उतारा जाए।

अविनाश पांडे की संगठनिक पकड़ और समझ भी उतनी नहीं है कि इस स्थिति को संभाल सकें। क्योंकि ये अविनाश पांडे वही हैं जिन्होंने शराब के ठेके के लिए नागपुर के जिला कलक्टर को थप्पड़ मारा था और 1986 में उसके विरोध में देशभर के आईएएस अधिकारी हड़ताल पर गए। तब राजीव गांधी ने अविनाश पांडे को किनारे लगा दिया था। तब से कोने में पड़े अविनाश पांडे को झाड़ पोछ कर राहुल गांधी ने राजस्थान का प्रभारी बना दिया।

 राजस्थान के चुनाव मैदान में सचिन और भंवर जीतेंद्र सिंह अपनी जान बचाने में जुटे हैं, तो दूसरी तरफ राहुल उन्हें मैदान में देखना चाहते हैं। इन तीनों के चक्कर में अविनाश पांडे चक्कर खा रहें हैं।

 

 

advertisement