जम्मू-कश्मीर पर आजाद और सोज के बयानों पर आमने-सामने आईं भाजपा और कांग्रेस     |       जम्मू-कश्मीर: सुरक्षाबलों ने इस्लामिक स्टेट के सरगना समेत 4 आतंकियों को किया ढेर…     |       ममता चाहती थीं नेताओं से बैठकें, चीन ने नहीं दी मंजूरी तो रद्द किया दौरा     |       ईद पर 100 युवकाें से गले मिलने वाली लड़की काे लेकर एक आैर बड़ा खुलासा     |       वडोदरा के स्कूल में 9वीं के छात्र की हत्या, पुलिस को सीनियर पर शक     |       जेटली का राहुल गांधी पर वार- मानवाधिकार संगठनों के प्रति बढ़ रही है उनकी सहानुभूति     |       दाती महाराज की मुश्किलें बढ़ती जा रही हैं, रात्रि में चरण सेवा के नाम पर लड़कियों को बुलाता था     |       कांग्रेस ने नोटबंदी को बताया आजाद भारत का सबसे बड़ा घोटाला, पीएम से मांगा जवाब     |       अमरनाथ यात्रा की तैयारियां पूरी, यात्रा शांतिपूर्वक होगी: राज्यपाल     |       नीरव मोदी के खिलाफ रेड कॉर्नर नोटिस जारी कर सकता है इंटरपोल     |       ED की माल्या को भगोड़ा घोषित करने की पहल, जब्त होगी संपत्ति     |       शौहर ने दी धमकी-तू बैंक गई तो तीन तलाक पक्का, बीवी ने नहीं मानी बात, फिर...     |       सोनिया गांधी से मिलने पहुंचीं सपना चौधरी, कहा- कांग्रेस के लिए कर सकती हूं प्रचार     |       कश्‍मीर में ऑपरेशन ऑल आउट: सबसे खूंखार 22 आतंकियों की लिस्‍ट जारी, एक को किया ढेर     |       बड़ा फैसला: नोएडा के सेक्टर-123 से हटाया जाएगा डंपिंग ग्राउंड     |       अरुण जेटली ने ब्लॉग में राहुल पर किया तीखा हमला, पूछा- कौन है मानवाधिकारों का दुश्मन?     |       शिवपाल यादव की अखिलेश को नसीहत, बड़ों की बात मानते तो दोबारा सीएम बनते     |       2019 चुनाव से पहले कांग्रेस के अंदर बड़ा फेरबदल, खड़गे को महाराष्ट्र की जिम्मेदारी     |       झारखंड HC ने लालू यादव की अंतरिम जमानत तीन जुलाई तक बढ़ाई     |       हापुड़ लिंचिंग: घायल को अमानवीय तरीके से ले जाने पर यूपी पुलिस ने मांगी माफ़ी     |      

राजनीति


मध्य प्रदेश कांग्रेस पर कॉर्पोरेट कल्चर हुआ हावी, बड़े नेताओं से मिलने के लिए करने पड़ रहे लाखो जतन

मध्य प्रदेश में होने वाले विधानसभा चुनाव  से पहले कांग्रेस ने प्रदेश की कमान पूर्व मंत्री और अनुभवी नेता कमलनाथ  को सौंपकर बड़ा दांव खेला है। कमलनाथ के राजनीति के चार दशकों के सफर में से लगभग तीन दशक केंद्र में मंत्री पद पर रहते हुए बीते हैं


corporate-culture-overwhelms-maarp-congress-madhya-pradesh

भोपालः मध्य प्रदेश की सत्ता से डेढ़ दशकों से दूर रहने वाली कांग्रेस पर अब कॉर्पोरेट कल्चर  का रंग चढ़ते हुए दिखने लगा है। क्योंकि प्रदेश स्तर के पदाधिकारियों से जिलों के पदाधिकारियों का मिलना काफी मुश्किल हो गया है। ऐसे आम कार्यकर्ता  उनसे क्या मिल पाएंगे। अब तो हालात ऐसे हो गए हैं कि यदि आपको किसी बड़े नेता  से मिलना हो तो आप पहले नेताओं के करीबी कारिंदों से मिलो। इसके बाद यदि वे अनुमति दें तभी बड़े नेता तक पहुंचने का अवसर मिल पा रहा है।

हालांकि मध्य प्रदेश में होने वाले विधानसभा चुनाव  से पहले कांग्रेस ने प्रदेश की कमान पूर्व मंत्री और अनुभवी नेता कमलनाथ  को सौंपकर बड़ा दांव खेला है। कमलनाथ के राजनीति के चार दशकों के सफर में से लगभग तीन दशक केंद्र में मंत्री पद पर रहते हुए बीते हैं, लिहाजा उनकी राजनीति करने का अंदाज भी अलग है। हालांकि कमलनाथ संगठन से काफी दूर रहे हैं, अचानक चुनाव से पहले एक राज्य की कमान सौंपा जाना और फिर डगमगाते रथ को संभालना  उनके लिए आसान नहीं हो पा रहा है।

वहीं राजनीतिक विश्लेषक  भारत शर्मा का कहना है कि कमलनाथ ने हमेशा केंद्र की राजनीति की है, वे केंद्र में कांग्रेस के प्रभावशाली नेता  रहे हैं। जहां तक राज्य में राजनीति का सवाल है तो वे महाकौशल के अलावा कहीं भी ज्यादा सक्रिय नहीं रहे। यह बात अलग है कि उनके समर्थक प्रदेश के लगभग हर हिस्से में है। संगठन  की बड़ी जिम्मेदारी पहली बार उनके हाथ में आई है, लिहाजा उसे बेहतर तरीके से संचालित  कर पाना आसान नहीं है।

बता दें कि राज्य में कांग्रेस की कमान अरुण यादव से कमलनाथ को दे दी गई। इस बदलाव के एक महीने होने के बावजूद अभी तक पदाधिकारियों में बदलाव का दौर ही पूरा नहीं हो पाया है। इतना ही नहीं अभी तक प्रदेश की कार्यकारिणी का गठन  नहीं हो पाया है। कार्यकर्ता पार्टी दफ्तर पहुंचता है तो उसका अध्यक्ष से मिलना संभव नहीं हो पाता है।

बुंदेलखंड से भोपाल पहुंचे एक नेता ने बताया कि वह प्रदेशाध्यक्ष कमलनाथ से मुलाकात करने उनके बंगले पर पहुंचा तो दो ऐसे अफसर  मिले जो स्वयं कमलनाथ से जुड़ा बताते हैं, सवाल करते हैं कि क्या साहब से समय लिया है और डांटते हुए कहा कि ये कोई घूमने फिरने की जगह नहीं है।

अध्यक्ष बदलने के साथ कार्यकर्ताओं को लगने लगा है कि पार्टी ही बदल गई है। एक पूर्व पदाधिकारी ने नाम न छापने की शर्त पर कहा कि वे दो दशक से कांग्रेस  के लिए काम कर रहे हैं, कई पदों पर रहे हैं, मगर यह पहला मौका है जब कार्यकर्ता और नेता के बीच दूरी नजर आ रही है। कांतिलाल भूरिया, अरुण यादव तक पहुंचने में किसी तरह की बाधा नहीं आती थी, मगर अब तो हाल ही निराला है ।

राजनीति के जानकारों का कहना है कि सवाल है कि, कमलनाथ ने बीते चार दशक में जिस तरह की राजनीति की है, उसमें कैसे बदलाव आ सकता है। उनको घेरे रखने वाले अफसर, अपने को कमलनाथ से बड़ा नेता मानते हैं, वे अब तक यह भूल ही नहीं पाए हैं कि उनके साहब अब केंद्र सरकार  के मंत्री नहीं बल्कि पार्टी के प्रदेशाध्यक्ष हैं।

इसके साथ ही आगामी विधानसभा चुनाव में पार्टी को जिताने की जिम्मेदारी उन पर है। कमलनाथ और कार्यकर्ताओं के बीच दीवार के तौर पर खड़े रहने वालों के नजरिए में बदलाव नहीं आया तो कांग्रेस के लिए जमीनी जंग  जीतना आसान नहीं होगा। 

advertisement

  • संबंधित खबरें