मायावती ने छत्तीसगढ़ में कांग्रेस को दिया झटका, अजीत जोगी संग गठबंधन     |       इमरान की चिट्ठी पर भारत का जवाब- मुलाकात को तैयार, पर ये बातचीत की शुरुआत नहीं     |       मेट्रो में PM को देख मची सेल्फी की होड़, IICC सेंटर का शिलान्यास करने जा रहे थे     |       राजस्थान से राहुल गांधी का वादा, छोटे और मझोले उद्योगों के लिए खुलेंगे बैंकों के दरवाजे, देंगे जीएसटी से राहत     |       राफेल पर रक्षा मंत्री ने देश को गुमराह करने की कोशिश की, इस्तीफा दें : कांग्रेस     |       जेट की उड़ान में यात्रियों की नाक से निकाला खून, जाँच के आदेश     |       पाक BAT एक्शन का भारत लेगा बदला! राजनाथ ने BSF डीजी को दिए निर्देश     |       सरकार ने पीपीएफ और अन्य बचत योजनाओं पर बढ़ाई ब्याज दरें     |       बसपा सुप्रीमो मायावती बोलीं- तीन तलाक पर अध्यादेश लाना राजनीति से प्रेरित     |       भागवत बोले, हिंदू राष्ट्र का यह अर्थ नहीं कि मुस्लिमों के लिए जगह नहीं, जानें संघ-बीजेपी में अंतर     |       फुलवारीशरीफ रेप केस में बोले एसएसपी- मामले का होगा स्पीडी ट्रायल     |       उत्तर प्रदेशः पुलिस ने एनकाउंटर में मार गिराए 25 हजार के दो ईनामी गैंगस्टर, पत्रकारों ने कैमरे में कैद की मुठभेड़     |       राजद, कांग्रेस में सीटों के बंटवारे को लेकर कोई समस्या नहीं : रघुवंश प्रसाद सिंह     |       IMD Alert: ओडिशा-आंध्र में साइक्लोन की चेतावनी, 6 शहरों में भारी बारिश की आशंका     |       21 सितंबर को इटली में होगी ईशा-आनंद की सगाई, 3 दिन तक चलेगा जश्न, जानिए पूरा कार्यक्रम     |       मध्य प्रदेश: सरकारी घरों से हटाई जाएं पीएम मोदी, सीएम शिवराज की तस्‍वीरें, हाईकोर्ट का आदेश     |       कैबिनेट का फैसला / तीन तलाक देने पर 3 साल जेल, मोदी सरकार के अध्यादेश को राष्ट्रपति की मंजूरी     |       बड़ा कदम: बेटियों के गुनाहगारों की अब खैर नहीं, यौन अपराधियों की कुंडली तैयार     |       पिल्‍लों पर हमला किया तो कोबरा से भिड़ गया कुत्‍ता, देखें वीडियो     |       पेट्रोल-डीजल पर क्यों बेबस है केंद्र सरकार, पर समझिए आखिर कैसे कम हो सकती हैं कीमतें     |      

फीचर


भूख  से मौत रोक पाने में सरकारी योजनाएं नाकाम 

भारत में भूख एक गंभीर समस्या शुरू से रही है और हाल के दशकों में हमने इस समस्या का सबसे अमानवीय रूप देखा है।


death-of-hunger-hunger-index-aadhar-card-jharkhand-poverty-government-scheme

पिछले तीन दशक में ग्लोबल विकास की जिस छतरी के नीचे बैठकर भारत सहित पूरी दुनिया अपनी प्रगति और समृद्धि के सुलेख लिख रही है, उसका विरोधाभासी तथ्य अब हर तरफ जाहिर हो रहा है। विकास के हर दावे के साथ अब यह सफाई जोड़ने की जरूरत पड़ती है कि विकास का चरित्र समावेशी नहीं होने से ग्लोबलाइजेशन के दौर में दुनिया में अमीर-गरीब का फासला खतरनाक तौर पर बढ़ा है। बीते दिनों जब यह खबर आई कि झारखंड के सिमडेगा ज़िले में रहने वाली संतोषी की मौत भूख से हो गई तो उसमें मौत से ज्यादा चिंता पैदा करने वाली बात थी उसकी वजह। संतोषी की मां कोयली देवी का कहना है कि उनकी बेटी की मौत भूख से और सरकारी राशन नहीं मिलने से हुई है। इस खबर को लेकर चल रही चर्चा और राजनीति अभी ठंडी भी नहीं हुई कि झारखंड से ही एक और मौत की खबर आ गई। वजह फिर से एक बार भूख-गरीबी और इसे दूर करने वाली सरकारी योजनाअों की नाकामी बताई गई।

वैसे झारखंड से मौत की यह खबर कोई आपवादिक नहीं है। भारत में भूख एक गंभीर समस्या शुरू से रही है और हाल के दशकों में हमने इस समस्या का सबसे अमानवीय रूप देखा है। मई 2016 में उत्तर प्रदेश के बांदा जिले में नत्थू नामक एक 48 वर्षीय व्यक्ति की मौत हो गई। नत्थू कई दिनों से प्रदेश सरकार द्वारा वितरित किए जा रहे खाद्य पैकेट को प्राप्त करने का प्रयास कर रहा था। वह पांच दिन से भूखा था। 7 नवंबर 2015 को इलाहाबाद की बारा तहसील के गीज पहाड़ी गांव में मुसहर जाति के 35 वर्षीय समरजीत उर्फ तोताराम और उसकी सात वर्षीय बेटी राधा की भूख से मौत हो गई। पीयूसीएल की एक फैक्ट फाइंडिंग टीम ने पाया कि इलाके के मुसहरों की किसी प्रकार की जीविका आधार तकरीबन खत्म हो गया है। इन तमाम मामलों में प्रशासन और सरकार की पहली प्रतिक्रिया यही रही कि ये मौतें भूख के बजाय अन्य वजहों से हुईं, जबकि स्वतंत्र जांच में यह दावा गलत पाया गया। 

साफ है कि देश में भूख की स्याह सच्चाई अब ज्यादा खतरनाक शक्ल ले चुकी है। पिछले कुछ वर्षों में समावेशी विकास के सरकारी प्रयासों का नतीजा इतना भर है कि इस साल भारत 119 देशों के ग्लोबल हंगर इंडेक्स में तीन पायदान नीचे खिसककर 100 स्थान पर पहुंच गया है। गत वर्ष भारत इस इंडेक्स में 97वें पायदान पर था। भूख के मामले में भारत उत्तर कोरिया, बांग्लादेश, नेपाल और म्यांमार जैसे देशों से भी पीछे है। समूचे एशिया में सिर्फ अफगानिस्तान और पाकिस्तान भारत से पीछे हैं। इस इंडेक्स में चीन 29, नेपाल 72, म्यांमार 77, श्रीलंका 84 और बांग्लादेश 88वें स्थान पर हैं, जबकि पाकिस्तान और अफगानिस्तान क्रमश: 106वें और 107वें पायदान पर हैं। अगले दो दशक के भीतर विश्व शक्ति बनने की कामना करने वाला देश मनरेगा और खाद्य सुरक्षा के लिए चलाई जा रही तमाम सरकारी योजनाओं के बावजूद अगर भूख से मौत की नींद सोते अपने नागरिकों को नहीं बचा पा रहा है, तो यह शर्मनाक तो है ही, साथ ही यह एक जरूरी सबक भी है, जिसे देश को अब समय रहते सीख लेना चाहिए। 

बात सिमडेगा में हुई मौत की करें तो मीडिया में जो खबरें हैं, उसके मुताबिक मार्च 2017 में मुख्य सचिव ने राज्य के सभी उपायुक्तों संग वीडियो कांफ्रेंसिंग कर ऐसे राशन कार्डों को रद्द कर देने को कहा था, जो आधार कार्ड से जुड़े न हों। यह सुप्रीम कोर्ट के निर्देशों का सरासर उल्लंघन था। मुख्य सचिव के इस निर्देश पर खाद्य, सार्वजनिक वितरण एवं उपभोक्ता मामलों के विभाग ने आपत्ति भी जताई थी, पर यह एतराज अनसुना रह गया। 

दरअसल, देश में यह प्रवृति बहुत तेजी से पनपी है कि सरकारें और सियासी जमाते यह मानने लगी हैं कि विकास अब हर चुनाव का कोर एजेंडा है। नतीजतन अपने प्रदर्शन को बेहतर दिखाने के लिए सरकारें किसी भी नीति को इस तरह डिजाइन करती हैं, जिससे वह ज्यादा से ज्यादा लोगों तक पहुंच सके। आंकड़ों की बाजीगरी में विकास का श्रेय लेने वाली सरकारें चालाकी यह करती हैं कि वह लाभ की अर्हता रखने वालों की संख्या को तमाम तकनीकी बंदिशों में उलझाकर इतना कम कर देती हैं कि उनके लिए योजना की सफलता का दावा आसान हो जाता है। 

बात आधार कार्ड की करें तो इसकी अनिवार्यता को लेकर अब भी देश में बहस की स्थिति है। भारत सरकार अपनी तरफ से इसे विकास के डिजिटल दौर की दरकार भले बता रही हो पर हकीकत यह है कि आधार योजना ने अपने शुरुआती दौर से ही एक संरचनागत बहिष्करण को जन्म दिया है। इससे जन कल्याणकारी नीतियों का लाभ लेने से भारत की गरीब जनसंख्या एक बड़ा हिस्सा बहिष्कृत हो गया है।  बहिष्करण की यह सच्चाई राशन बंटवारे के मामले से लेकर मनरेगा और पुनर्वास के अनगिनत मामलों में भी देखी जा सकती है।  

 

advertisement