झारखंड: 'बाइक चोर' होने का आरोप लगाकर भीड़ ने मुस्लिम युवक से जय श्री राम बुलवाया, पीटने से मौत - Hindustan     |       संसद में कांग्रेस नेता ने अभ‍िनंदन की मूंछों को लेकर कर डाली ये मांग, ट्विटर पर आए ऐसे रिएक्‍शन - NDTV India     |       बिखर चुका है बसपा का कास्ट फॉर्मूला, कैसे उबार पाएंगे आनंद-आकाश? - आज तक     |       चमकी बुखार से 170 बच्चों की मौत, SC ने बिहार सरकार से सात दिनों के भीतर मांगा जवाब - दैनिक जागरण     |       पंचायत में एक व्यक्ति की पीट-पीटकर तो दूसरे की गोली मारकर की हत्या, मूंगफली को लेकर हुई थी बहस - NDTV India     |       कंकाल पर कोहराम: मुजफ्फरपुर अस्पताल में नीतीश के दौरे के पहले आनन-फानन में जलाईं लाशें - Hindustan     |       CWC 2019: ऑस्ट्रेलियाई कोच का दावा- दुनिया को मिल गया है नया धोनी, जानिए कौन है वो - आज तक     |       एक बार फिर India Vs Pakistan! ICC World Cup 2019 के सेमीफाइनल में भिड़ सकती हैं दोनों टीमें - दैनिक जागरण (Dainik Jagran)     |       CWC 2019: गुलबदीन ने बांग्लादेश से कहा- हम तो डूबे हैं सनम, तुमको भी ले डूबेंगे - Hindustan     |       वर्ल्ड कप/ कोहली पर मैच फीस का 25% जुर्माना, अफगानिस्तान के खिलाफ अनावश्यक अपील की थी - Dainik Bhaskar     |       जम्मू-कश्मीर आरक्षण पर आज अपना पहला बिल संसद में पेश करेंगे अमित शाह - Hindustan     |       न्यायालय के एक फैसले के बाद देश में लग गई थी इमरजेंसी, जानिए क्या था मामला - दैनिक जागरण (Dainik Jagran)     |       कांग्रेस ने राज्यसभा में उठाया बढ़ती आबादी का मुद्दा, कहा- नियंत्रण नहीं हुआ तो विकास बेमानी - Hindustan     |       बाड़मेर हादसा : डेढ़ मिनट में तहस-नहस हो गया पंडाल, 15 श्रद्धालुओं की मौत - अमर उजाला     |       ईरान बोला, अमेरिका ने खूब कोशिश की, नहीं कर पाया कोई साइबर अटैक - Navbharat Times     |       सऊदी में शादी के लिए पुरुषों से ये शर्तें मनवा रही हैं महिलाएं - आज तक     |       अकेली छूटी महिला, आधी रात को फ्लाइट में नींद खुली तो उड़े होश - आज तक     |       अर्दोआन के लिए इस्तांबुल की हार इसलिए है बड़ा झटका - BBC हिंदी     |       एक पिता ने बेटी की शादी में गाया गाना, वीडियो देख अमिताभ बच्चन की आंखों में आ गए आंसू - अमर उजाला     |       जियो धमाका : 200 रुपए से कम के इस प्लान में मिलेगा महीने भर सबकुछ फ्री, जानें - Himachal Abhi Abhi     |       डील/ बिन्नी बंसल ने फ्लिपकार्ट के 5.4 लाख शेयर 531 करोड़ रु. में वॉलमार्ट को बेचे - Dainik Bhaskar     |       Gold Rate Today: बाजार में आज गिर गए सोने के भाव वहीं चांदी में आया उछाल - दैनिक जागरण (Dainik Jagran)     |       Kabir Singh box office collection Day 3: शाहिद कपूर की फिल्म का फर्स्ट वीकेंड शानदार - नवभारत टाइम्स     |       फ्रेंच वेडिंग से पहले सोफी-जो जोनस संग लंच डेट पर प्रियंका-निक, PHOTOS - Entertainment AajTak - आज तक     |       Shahrukh Khan ने खुद खोला राज़, Zero फ्लॉप होने के बाद क्यों साइन नहीं की कोई फिल्म - दैनिक जागरण (Dainik Jagran)     |       टाइगर श्रॉफ और Disha Patani का हो गया ब्रेकअप! क्या ये शख्स बना वजह... - NDTV India     |       ICC World Cup 2019 AFG vs BAN: शाकिब अल हसन नंबर वन बल्‍लेबाज बने, बना दिए कई रिकॉर्ड - दैनिक जागरण (Dainik Jagran)     |       पाकिस्तानी क्रिकेट टीम 1992 दोहरा सकती है: वसीम अकरम - BBC हिंदी     |       शमी ने बताया हैटट्रिक से पहले धौनी ने उनसे क्या कहा, बुमराह ने लिया मैदान पर इंटरव्यू - प्रभात खबर     |       शोएब अख्तर ने कहा था ब्रेनलेस, पाकिस्तानी कप्तान सरफराज ने दिया करारा जवाब - आज तक     |      

राजनीति


हिमाचल चुनाव में तिब्बती विभाजित, बोले- मतदान बनाएगा हमें कमजोर

बता दें कि अंकड़ो के मुताबिक धर्मशाला में लगभग 1000 तिब्बती मतादाता हैं। नौ नवंबर को होने वाले विधानसभा चुनाव में उम्मीदवार इस छोटे से हिस्से को नजरअंदाज नहीं कर सकते और कुछ दिग्गज नेताओं ने अपनी उपस्थिति दर्ज करा इस चुनाव को और कड़ा कर दिया है।


dharamsala-tibetans-divided-over-voting-in-himachal-elections

धर्मशाला: हिमाचल प्रदेश के धर्मशाला में तिब्बती लोग कई बरसों से रह रहे हैं लेकिन वह लोग आज भी भारत में मतदान नहीं करते हैं। इन तिब्बतियों का मानना है कि भारत में मतदान करना आजादी के लिए किए गए  उनके संघर्ष के महत्व को कमजोर कर देगा।वहीं दूसरे लोगों का कहना है कि तिब्बत आंदोलन उनके दिलों में है और मतदान उन्हें अपने संघर्ष को सहेजने से नहीं रोक सकता।

बता दें कि अंकड़ो के मुताबिक धर्मशाला में लगभग 1000 तिब्बती मतादाता हैं। नौ नवंबर को होने वाले विधानसभा चुनाव में उम्मीदवार इस छोटे से हिस्से को नजरअंदाज नहीं कर सकते और कुछ दिग्गज नेताओं ने अपनी उपस्थिति दर्ज करा इस चुनाव को और कड़ा कर दिया है। इस सीट पर मुख्य उम्मीदवार कांग्रेसी नेता और शहरी विकास मंत्री सुधीर शर्मा और बीजेपी नेता और पूर्व मंत्री किशन कपूर हैं। वहीं  गोरखा समुदाय से ताल्लुक रखने वाले निर्दलीय उम्मीदवार रविंद्र राणा, ब्रिटेन से भारत आए पत्रकार विकास चौधरी और एनएसयूआई की पृष्ठभूमि से जुड़े पंकज कुमार चुनाव मैदान में ताल ठोक रहे हैं।

गौरतलब है कि गोरखा समुदाय कांग्रेस का एक पारंपरिक वोट बैंक रहा है, जो इस विधानसभा क्षेत्र में पर्याप्त रूप से उपस्थित है। राणा भी गोरखा समुदाय से आते हैं और ऐसी संभावना है कि कांग्रेस नेता शर्मा का गणित बिगाड़ सकते हैं। कुमार भी उनकी संभावनाओं को नुकसान पहुंचा रहे हैं।  कपूर की गद्दी समुदाय पर अच्छी पकड़ है। गद्दी मतदाताओं की संख्या विधानसभा में लगभग 15000 के आसपास है। धर्मशाला विधानसभा में लगभग 69,000 मतदाता है। वहीं निर्दलीय उम्मीदवार चौधरी कांग्रेस और बीजेपी के बजाए खुद को सबसे अच्छा विकल्प पेश कर निर्वाचन क्षेत्र में मतदाताओं को लुभाने के लिए कोई कोर कसर नहीं छोड़ रहे हैं।

हालांकि चौधरी ने बर्मिंघम विश्वविद्यालय से मानविकी का अध्ययन किया है और उन्होंने दावा किया है कि 2014 के लोकसभा चुनावों के दौरान उन्होंने दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल की मुख्य टीम के साथ काम किया था। वह एक ट्रैक्टर पर प्रचार कर मतदाताओं को आकर्षित कर रहे हैं। ट्रैक्टर उनका चुनाव चिन्ह भी है। इन पांच प्रमुख उम्मीदवारों के अलावा सात अन्य निर्दलीय उम्मीदवारों की उपस्थिति ने चुनावी जंग को दिलचस्प बना दिया है। 2012 के विधानसभा चुनाव में शर्मा ने कपूर को 5000 वोटों से हराया था। वहीं सीएम वीरभद्र सिंह के करीबियों में शुमार शर्मा अपने विकास कार्यो के दम पर जनता के बीच वोट मांग रहे हैं। उन्होंने दावा किया कि उनके प्रयासों के कारण ही हिमाचल प्रदेश में केंद्रीय विश्वविद्यालय और एक आईटी पार्क को मंजूरी मिली है, लेकिन कपूर ने एक पोस्टर के जरिए उनसे कहा है कि ये वास्तविकता में कब तब्दील होंगे?

तो दूसरी तरफ चुनाव आयोग के अनुसार विधानसभा चुनाव से पहले 1,000 तिब्बतियों ने मतदाता के रूप में खुद को पंजीकृत कराया है। इस करीबी चुनावी जंग में यह 1000 तिब्बती मतदाता पहली बार अपना वोट डालेंगे। इनका मत विधायक का चुनाव करने में निर्णायक साबित हो सकता है। केंद्रीय तिब्बती प्रशासन (सीटीए) ने तिब्बती समुदाय को अपनी पसंद पर वोट डालने का निर्णय छोड़ा है, जिस कारण समुदाय विभाजित नजर आ रहा है। सीटीए के लिए चुनाव आयोग की एक अधिकारी फुर्बु तोलमा ने अपनी आशंका व्यक्त करते हुए कहा कि मतदान स्वतंत्र तिब्बत के लिए चल रहे उनके संघर्ष को प्रभावित करेगा। उन्होंने कहा कि हम वापस जाना चाहते हैं। मतदान का अधिकार हमारे संघर्ष को प्रभावित करेगा, लेकिन सीटीए के एक अधिकारी थिन्ले जाम्पा और एक सामाजिक कार्यकर्ता रिंचेन ग्याल का एक अलग दृष्टिकोण हैं।

तिब्बत युनाइटेड सोसाइटी चलाने वाले जाम्पा ने बताया कि मतदान के जरिए हम भारतीयों के साथ घुल मिल जाएंगे और उन्हें हमारे संघर्ष के बारे में बताएंगे। यह हमें भटका नहीं सकता है। तिब्बत की स्वतंत्रता की दौड़ जारी रहेगी। नियम के तहत 1950 से 1987 के दौरान भारत में जन्मे सभी तिब्बतियों को मतदान का अधिकार प्राप्त करने की अनुमति हैं। इन चुनावों में उनकी महत्वता को इस बात से समझा जा सकता है कि आरएसएस नेता इंद्रेश कुमार ने 4 नवंबर को धर्मशाला में तिब्बत के आध्यात्मिक नेता दलाई लामा के साथ एक घंटे की लंबी बैठक की थी। जिसका मकसद सामुदायिक वोटों को लुभाने का था।

advertisement