ममता की बंगाल सरकार और चंद्र बाबू की आंध्र सरकार ने CBI को जांच से रोका     |       लखनऊ से उलटे पांव लौटे पीयूष गोयल, भाषण से नाराज लोगों ने की नारेबाजी     |       NDTV से बोलीं मायावती, न BJP के साथ जाएंगे, न कांग्रेस के साथ, एक सांपनाथ, एक नागनाथ     |       रालोसपा की बैठक शनिवार को पटना में, बड़ी घोषणा की अटकलें     |       दिल्ली / 13 दिन बंद रहेगा आईजीआई एयरपोर्ट का एक रनवे, 86% तक बढ़ा फ्लाइट्स का किराया     |       पंजाब में दिखा 12 लाख का इनामी आतंकी, जम्मू-कश्मीर सहित दोनों राज्यों में हाई अलर्ट     |       सीबाआई में घमासान: सीवीसी ने कहा, कुछ आरोपों पर जांच की जरूरत     |       Sabrimala: मंदिर के पट खुले, महिलाओं के प्रवेश पर गतिरोध और तनाव कायम     |       तमिलनाडु में गाजा तूफान से 13 लोगों की मौत, PM ने ली जानकारी     |       सिंगर टीएम कृष्‍णा को अब आप सरकार देगी कॉन्‍सर्ट के लिए मंच, दिल्ली में स्थगित हुआ था कार्यक्रम     |       आरबीआई के अहम फैसलों में बड़ी भागीदारी चाहती है सरकार     |       सियासत / मोदी का ज्योतिरादित्य पर तंज- कांग्रेस के सर्वेसर्वा से पूछो कि आपकी दादी को जेल में क्यों रखा?     |       यूपी के डिप्टी सीएम केशव प्रसाद मौर्य को मिली जमानत, दुर्गा पूजा के नाम पर फर्जी पैड छपवाकर वसूली का मामला     |       मेक इन इंडिया की सौगात, देश की पहली T-18 ट्रेन ट्रायल के लिए पहुंची मुरादबाद     |       MP चुनावः वरिष्ठ BJP नेता ने कहा- चुनाव नहीं होते, तो पार्टी MLA के तोड़ देता दांत     |       मार्क जुकरबर्ग बोले- पिछली दो तिमाहियों में फेसबुक ने हटाए 1.5 अरब फर्जी अकाउंट     |       मालदीव में आज पीएम मोदी की यात्रा से भारत को मिला पैर जमाने का मौका     |       वाराणसी / डॉक्टर ने जहर का इंजेक्शन लगाकर की खुदकुशी, सुसाइड नोट में लिखा- बेटा हत्या करना चाहता है     |       पूर्व मंत्री मंजू वर्मा के खिलाफ कोर्ट ने दिया कार्रवाई का आदेश     |       यूपी के बाहुबली विधायक राजा भैया ने की पार्टी बनाने की घोषणा, आयोग को भेजे तीन नाम     |      

राजनीति


हिमाचल चुनाव में तिब्बती विभाजित, बोले- मतदान बनाएगा हमें कमजोर

बता दें कि अंकड़ो के मुताबिक धर्मशाला में लगभग 1000 तिब्बती मतादाता हैं। नौ नवंबर को होने वाले विधानसभा चुनाव में उम्मीदवार इस छोटे से हिस्से को नजरअंदाज नहीं कर सकते और कुछ दिग्गज नेताओं ने अपनी उपस्थिति दर्ज करा इस चुनाव को और कड़ा कर दिया है।


dharamsala-tibetans-divided-over-voting-in-himachal-elections

धर्मशाला: हिमाचल प्रदेश के धर्मशाला में तिब्बती लोग कई बरसों से रह रहे हैं लेकिन वह लोग आज भी भारत में मतदान नहीं करते हैं। इन तिब्बतियों का मानना है कि भारत में मतदान करना आजादी के लिए किए गए  उनके संघर्ष के महत्व को कमजोर कर देगा।वहीं दूसरे लोगों का कहना है कि तिब्बत आंदोलन उनके दिलों में है और मतदान उन्हें अपने संघर्ष को सहेजने से नहीं रोक सकता।

बता दें कि अंकड़ो के मुताबिक धर्मशाला में लगभग 1000 तिब्बती मतादाता हैं। नौ नवंबर को होने वाले विधानसभा चुनाव में उम्मीदवार इस छोटे से हिस्से को नजरअंदाज नहीं कर सकते और कुछ दिग्गज नेताओं ने अपनी उपस्थिति दर्ज करा इस चुनाव को और कड़ा कर दिया है। इस सीट पर मुख्य उम्मीदवार कांग्रेसी नेता और शहरी विकास मंत्री सुधीर शर्मा और बीजेपी नेता और पूर्व मंत्री किशन कपूर हैं। वहीं  गोरखा समुदाय से ताल्लुक रखने वाले निर्दलीय उम्मीदवार रविंद्र राणा, ब्रिटेन से भारत आए पत्रकार विकास चौधरी और एनएसयूआई की पृष्ठभूमि से जुड़े पंकज कुमार चुनाव मैदान में ताल ठोक रहे हैं।

गौरतलब है कि गोरखा समुदाय कांग्रेस का एक पारंपरिक वोट बैंक रहा है, जो इस विधानसभा क्षेत्र में पर्याप्त रूप से उपस्थित है। राणा भी गोरखा समुदाय से आते हैं और ऐसी संभावना है कि कांग्रेस नेता शर्मा का गणित बिगाड़ सकते हैं। कुमार भी उनकी संभावनाओं को नुकसान पहुंचा रहे हैं।  कपूर की गद्दी समुदाय पर अच्छी पकड़ है। गद्दी मतदाताओं की संख्या विधानसभा में लगभग 15000 के आसपास है। धर्मशाला विधानसभा में लगभग 69,000 मतदाता है। वहीं निर्दलीय उम्मीदवार चौधरी कांग्रेस और बीजेपी के बजाए खुद को सबसे अच्छा विकल्प पेश कर निर्वाचन क्षेत्र में मतदाताओं को लुभाने के लिए कोई कोर कसर नहीं छोड़ रहे हैं।

हालांकि चौधरी ने बर्मिंघम विश्वविद्यालय से मानविकी का अध्ययन किया है और उन्होंने दावा किया है कि 2014 के लोकसभा चुनावों के दौरान उन्होंने दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल की मुख्य टीम के साथ काम किया था। वह एक ट्रैक्टर पर प्रचार कर मतदाताओं को आकर्षित कर रहे हैं। ट्रैक्टर उनका चुनाव चिन्ह भी है। इन पांच प्रमुख उम्मीदवारों के अलावा सात अन्य निर्दलीय उम्मीदवारों की उपस्थिति ने चुनावी जंग को दिलचस्प बना दिया है। 2012 के विधानसभा चुनाव में शर्मा ने कपूर को 5000 वोटों से हराया था। वहीं सीएम वीरभद्र सिंह के करीबियों में शुमार शर्मा अपने विकास कार्यो के दम पर जनता के बीच वोट मांग रहे हैं। उन्होंने दावा किया कि उनके प्रयासों के कारण ही हिमाचल प्रदेश में केंद्रीय विश्वविद्यालय और एक आईटी पार्क को मंजूरी मिली है, लेकिन कपूर ने एक पोस्टर के जरिए उनसे कहा है कि ये वास्तविकता में कब तब्दील होंगे?

तो दूसरी तरफ चुनाव आयोग के अनुसार विधानसभा चुनाव से पहले 1,000 तिब्बतियों ने मतदाता के रूप में खुद को पंजीकृत कराया है। इस करीबी चुनावी जंग में यह 1000 तिब्बती मतदाता पहली बार अपना वोट डालेंगे। इनका मत विधायक का चुनाव करने में निर्णायक साबित हो सकता है। केंद्रीय तिब्बती प्रशासन (सीटीए) ने तिब्बती समुदाय को अपनी पसंद पर वोट डालने का निर्णय छोड़ा है, जिस कारण समुदाय विभाजित नजर आ रहा है। सीटीए के लिए चुनाव आयोग की एक अधिकारी फुर्बु तोलमा ने अपनी आशंका व्यक्त करते हुए कहा कि मतदान स्वतंत्र तिब्बत के लिए चल रहे उनके संघर्ष को प्रभावित करेगा। उन्होंने कहा कि हम वापस जाना चाहते हैं। मतदान का अधिकार हमारे संघर्ष को प्रभावित करेगा, लेकिन सीटीए के एक अधिकारी थिन्ले जाम्पा और एक सामाजिक कार्यकर्ता रिंचेन ग्याल का एक अलग दृष्टिकोण हैं।

तिब्बत युनाइटेड सोसाइटी चलाने वाले जाम्पा ने बताया कि मतदान के जरिए हम भारतीयों के साथ घुल मिल जाएंगे और उन्हें हमारे संघर्ष के बारे में बताएंगे। यह हमें भटका नहीं सकता है। तिब्बत की स्वतंत्रता की दौड़ जारी रहेगी। नियम के तहत 1950 से 1987 के दौरान भारत में जन्मे सभी तिब्बतियों को मतदान का अधिकार प्राप्त करने की अनुमति हैं। इन चुनावों में उनकी महत्वता को इस बात से समझा जा सकता है कि आरएसएस नेता इंद्रेश कुमार ने 4 नवंबर को धर्मशाला में तिब्बत के आध्यात्मिक नेता दलाई लामा के साथ एक घंटे की लंबी बैठक की थी। जिसका मकसद सामुदायिक वोटों को लुभाने का था।

advertisement

  • संबंधित खबरें