आरक्षण के बाद मोदी सरकार का बड़ा तोहफा..., बढ़ेगी सैलरी - Webdunia Hindi     |       ब्रेक्जिट डील पर हार के बाद कहीं थेरेसा को पीएम की कुर्सी से भी धोना पड़ सकता है हाथ! - दैनिक जागरण (Dainik Jagran)     |       अरुणाचल प्रदेश के पूर्व मुख्‍यमंत्री गेगांग अपांग ने बीजेपी से दिया इस्‍तीफा - News18 Hindi     |       AAP से अब तक कोई गठबंधन नहीं: शीला दीक्षित बोलीं- बीजेपी और 'आप' दोनों ही हमारे लिए चुनौती - NDTV India     |       विहिप के पूर्व अध्यक्ष और उद्योगपति विष्णुहरि डालमिया का निधन, बाबरी विवाद में आ चुका है नाम- Amarujala - अमर उजाला     |       कर्नाटक LIVE: खड़गे बोले- अपने विधायक छिपाकर हमारी सरकार गिराने का दावा कर रही बीजेपी - News18 Hindi     |       कुंभ में परिवार संग पहुंची थीं स्मृति ईरानी, खाई आलू-कचौड़ी - Kumbh 2019 - आज तक     |       Kumbh Mela 2019 Shahi Snan: Union Minister Smriti Irani takes a dip in Ganges - Times Now     |       भारतीय मूल की इन्दिरा नूई हो सकती हैं विश्व बैंक के प्रमुख पद की दावेदार - NDTV India     |       नैरोबी के पांच सितारा होटल में आतंकी हमला, 11 लोगों की मौत - Dainik Bhaskar     |       चीन का कमाल, चांद पर बोए गए कपास के बीज, अंकुर आए- Amarujala - अमर उजाला     |       घर में घुस मां-बाप को मारा, फिर बेटी को 88 दिन तक कैद में रखा - trending clicks - आज तक     |       पेट्रोल हुआ सस्ता, लेकिन आज प्रमुख शहरों में बढ़ गए डीजल के दाम - दैनिक जागरण (Dainik Jagran)     |       ₹399 के रिचार्ज प्लान में रोज मिलेगा 3.21GB डेटा, 74 दिन होगी वैलिडिटी - Navbharat Times     |       IBPS: कैलेंडर घोषित, देखें- 2019-20 में कब-कब होगी परीक्षा - आज तक     |       बाजार शानदार तेजी लेकर बंद, निफ्टी 10880 के पार टिका - मनी कॉंट्रोल     |       Manikarnika Bharat song launch: कंगना-अंकिता की बॉन्डिंग - आज तक     |       दीपिका ने कहा- सरनेम क्यों बदलूं, मैंने इंडस्ट्री में पहचान बनाने के लिए कड़ी मेहनत की है - Dainik Bhaskar     |       Box Office पर उरी...की बमबारी, 5वें दिन की कमाई जानकर चौंक जाएंगे - दैनिक जागरण (Dainik Jagran)     |       #MeToo: राजकुमार हिरानी पर यौन शोषण का आरोप, इन 2 बड़े एक्‍टर्स ने दिया बड़ा बयान - प्रभात खबर     |       India vs Australia 2nd ODI: Virat Kohli, MS Dhoni shine as visitors level three-match series 1-1 - Times Now     |       ए़डिलेड वनडे/ धोनी की गलती नहीं पकड़ पाए अंपायर्स, भारतीय बल्लेबाज ने पूरा नहीं किया था रन - Dainik Bhaskar     |       Spurs star Harry Kane out until March with ankle injury: Club - Times Now     |       'I'm going in the right direction': Serena dismisses Maria in Melbourne - WTA Tennis     |      

राजनीति


ससुर और दामाद के बीच चुनावी जंग

सोलन विधानसभा चुनाव का रण महाभारत की तरह एक ही परिवार में बंट गया है। एक तरफ ससुर, तो दूसरी तरफ दामाद। क्षेत्र के मतदाता और परिवार के लोग धर्मसंकट में हैं कि आखिर दोनों में से किसको जिताया जाए।


election-battle-between-father-in-law-and-son-in-law

हिमाचल प्रदेश के औद्योगिक शहर सोलन में अबकी बार चुनावी फ़िजा कुछ बदली-बदली सी है। दरअसल सोलन विधानसभा का चुनाव कांग्रेस और भाजपा ने अपने प्रत्याशी घोषित कर बहुत ही रोचक बना दिया है। कांग्रेस ने जहाँ अपना प्रत्याशी कर्नल धनीराम को बनाया है तो वहीँ बीजेपी की तरफ से पेशे से डॉक्टर डॉ. राजेश कश्यप मैदान में हैं। महत्वपूर्ण बात यह है कि दोनों का रिश्ता ससुर और दामाद का है। यानी राजेश कश्यप का मुक़ाबला अपने ही ससुर से है।

लोकसभा क्षेत्र शिमला और सोलन जिले के अंर्तगत आने वाली सोलन विधानसभा की कुल आबादी वर्तमान में 1,20,238 के आसपास है, जिसमें से इस बार 80,192 मतादाता अपने मतों का प्रयोग करेंगे। 

सोलन को 'लाल सोने की घाटी' भी कहा जाता है। घने जंगलों और ऊंचे पहाड़ों से घिरे सोलन को सुंदर दृश्यों के लिए भी जाना जाता है। सोलन का प्रदेश की अर्थव्यवस्था में खासा योगदान है। राजनीतिक पृष्ठभूमि के परिप्रेक्ष्य से यह विधानसभा क्षेत्र अनूसूचित जाति के लिए आरक्षित है। 

सोलन विधानसभा क्षेत्र में 1977 के बाद से अब तक हुए नौ विधानसभा चुनाव में चार बार भाजपा, चार बार कांग्रेस और एक बार जनता पार्टी को जीत मिली है। आंकड़े बताते हैं कि यहां की जनता किसी पार्टी विशेष के बजाय क्षेत्रीय व्यक्तित्व पर भरोसा जताती है। यही कारण है कि यहां पर कोई भी नेता दो बार से ज्यादा अपनी सीट नहीं बचा पाया है। चाहे वे भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के राजीव बिंदल हों या फिर कांग्रेस की कृष्णा मोहिनी। 

वर्तमान में सोलन विधानसभा क्षेत्र पर कांग्रेस नेता और मौजूदा विधायक धनी राम शांडिल का कब्जा है। सेना से राजनीति में शामिल हुए धनीराम कर्नल के पद से सेवानिवृत्त हुए हैं। धनीराम को कांग्रेस के कद्दावर दलित नेताओं में से एक माना जाता है। 77 वर्षीय धनीराम सेना के डोगरा रेजिमेंट में अपनी सेवाएं दे चुके हैं। 

उन्होंने हिमाचल विकास कांग्रेस के बैनर तले 13वीं लोकसभा में शिमला लोकसभा से सांसद का चुनाव जीता था। अगले लोकसभा चुनाव में उन्हें कांग्रेस ने अपना उम्मीदवार बनाया और उन्होंने 14वीं लोकसभा में कांग्रेस का प्रतिनिधित्व किया। 2012 में कांग्रेस ने उन्हें सोलन विधानसभा से बतौर उम्मीदवार मैदान में उतारा और उन्होंने चुनाव जीतकर करीब एक दशक तक चले भाजपा के विजय रथ पर लगाम लगाई। 

धनीराम के लगातार सफल प्र्दशन को देखकर कांग्रेस ने उन्हें दोबारा से अपना उम्मीदवार घोषित किया है। धनीराम पर अपने विजयरथ को आगे बढ़ाने और कांग्रेस को इस क्षेत्र में मजबूत करने का दबाव रहेगा। 

कश्यप पिछले चुनावों में अपने ससुर के लिए वोट मांग रहे थे और आज उन्हीं के खिलाफ वोट मांगते नजर आ रहे हैं। यही कारण है कि सोलन विधानसभा में दोनों उम्मीदवार एक-दूसरे की कमियां गिनाने के बजाय अपनी प्राथमिकताएं बताने में लगे हैं। 

इसके साथ ही चुनाव मैदान में मार्क्सवादी कम्युनिस्ट के उम्मीदवार अजय भाटी और निर्दलीय उम्मीदवार शशिकांत चौहान मुख्य पार्टियों के खिलाफ अपनी दावेदारी ठोक रहे हैं। 

सोलन विधानसभा चुनाव का रण महाभारत की तरह एक ही परिवार में बंट गया है। एक तरफ ससुर, तो दूसरी तरफ दामाद। क्षेत्र के मतदाता और परिवार के लोग धर्मसंकट में हैं कि आखिर दोनों में से किसको जिताया जाए। दोनों दल क्षेत्रीय मुद्दे उठाए बिना चुनाव प्रचार कर रहे हैं, जिसके कारण जनता भी 'साइलेंट मोड' में चली गई है। 

हिमाचल प्रदेश में चुनाव 9 नवंबर को होना है। वोटों की गिनती गुजरात चुनाव के बाद 18 दिसंबर को होगी।

advertisement

  • संबंधित खबरें