RISAT-2B सैटेलाइट लॉन्च, सीमाओं की निगरानी और घुसपैठ रोकने में करेगा मदद - आज तक     |       पूर्व केंद्रीय मंत्री उपेंद्र कुशवाहा ने खून बहाने की दी धमकी Upendra Kushwaha warns of bloodshed in Bihar on May 23 - Lok Sabha Election 2019 - आज तक     |       Exclusive: पाक का लड़ाकू विमान समझकर IAF की मिसाइल ने उड़ाया खुद का ही विमान, 6 जवान हो गए थे शहीद - NDTV India     |       JAC 12th आर्ट्स रिजल्ट 2019 जारी, इस डायरेक्ट लिंक से देखें - नवभारत टाइम्स     |       जम्मू-कश्मीर में आतंकियों और सुरक्षाबलों के बीच मुठभेड़, दो आतंकी ढेर - News18 हिंदी     |       सुषमा स्वराज बिश्केक में एससीओ बैठक में लेंगी हिस्सा - Navbharat Times     |       मोदी ने कहा- ईवीएम पर बेवजह का विवाद खड़ा कर रहा विपक्ष, अगले पांच साल के लिए एजेंडा तय - दैनिक जागरण     |       अंजीर एक फायदे अनेक! दर्द से लेकर अस्‍थमा और दूसरी बीमारियों को दूर करने में है कारगर - दैनिक जागरण (Dainik Jagran)     |       Exit Poll: मोदी-शाह समेत BJP के ये बड़े चेहरे जीत रहे हैं चुनाव? - Lok Sabha Election 2019 - आज तक     |       NDA के डिनर में पहुंचे 36 सहयोगी दल, पीएम मोदी के नेतृत्व पर सबने जताया भरोसा: राजनाथ - Navbharat Times     |       ईरान की ट्रंप को दो टूक- कितने आए और चले गए, बर्बादी की धमकी हमें मत देना - आज तक     |       यमन के हूती विद्रोहियों ने ड्रोन से सऊदी अरब के हवाई अड्डे पर किया हमला - Navbharat Times     |       Huawei के ग्राहकों को राहत: अमेरिका ने चीनी टेक कंपनी पर रोक का फैसला 90 दिन टाला - आज तक     |       पाकिस्तानी जनता परेशान, ब्याज दर 12.25%, जाएंगी 10 लाख नौकरियां - Business - आज तक     |       Hyundai Venue के इंजन से लेकर माइलेज तक की पूरी जानकारी यहां मिलेगी - अमर उजाला     |       अब इन 4 बड़े सरकारी बैंकों का होगा विलय, नई सरकार लगाएगी मुहर? - Business - आज तक     |       सेंसेक्स में आज फिर तेजी, 200 अंकों की बढ़त के साथ खुला बाजार - Hindustan     |       गोल्ड लोन वाली कंपनी दे रही अब ये नई सुविधा, जरूरत पड़ने पर ले सकते हैं पैसे - News18 हिंदी     |       विवेक ओबेरॉय के विवादित ट्वीट पर ओमंग कुमार का रिऐक्शन, बोले- हो गया, हो गया - नवभारत टाइम्स     |       'भारत' छोड़ने के बाद क्या दोबारा प्रियंका संग काम करेंगे सलमान? बताया - आज तक     |       तो इस वजह से अभी मलाइका अरोड़ा से शादी नहीं कर रहे हैं अर्जुन कपूर? - Entertainment AajTak - आज तक     |       Narendra Modi Biopic: Official trailer of film PM Narendra Modi is back on youtube after genera elections starring Vivek Oberoi directed by Omung Kumar - The Lallantop     |       World Cup के इतिहास में इस टीम के प्लेयर्स ने लगाई हैं सबसे ज्यादा सेंचुरी, दूसरे नंबर पर है भारत - दैनिक जागरण (Dainik Jagran)     |       ऑस्ट्रेलिया/ पूर्व ओपनर स्लेटर ने फ्लाइट में महिलाओं के साथ की बदसलूकी, फिर खुद को बाथरूम में बंद कर लिया - Dainik Bhaskar     |       वर्ल्ड कप 2019: इंग्लैंड जाने से पहले कोहली ने देश के सामने रखा 'विराट' विजन Kohli considers World Cup 2019 as the most challenging one - Sports - आज तक     |       इंग्लैंड ने वर्ल्ड कप टीम में हरफनमौला जोफ्रा आर्चर को दी जगह - आज तक     |      

राजनीति


ससुर और दामाद के बीच चुनावी जंग

सोलन विधानसभा चुनाव का रण महाभारत की तरह एक ही परिवार में बंट गया है। एक तरफ ससुर, तो दूसरी तरफ दामाद। क्षेत्र के मतदाता और परिवार के लोग धर्मसंकट में हैं कि आखिर दोनों में से किसको जिताया जाए।


election-battle-between-father-in-law-and-son-in-law

हिमाचल प्रदेश के औद्योगिक शहर सोलन में अबकी बार चुनावी फ़िजा कुछ बदली-बदली सी है। दरअसल सोलन विधानसभा का चुनाव कांग्रेस और भाजपा ने अपने प्रत्याशी घोषित कर बहुत ही रोचक बना दिया है। कांग्रेस ने जहाँ अपना प्रत्याशी कर्नल धनीराम को बनाया है तो वहीँ बीजेपी की तरफ से पेशे से डॉक्टर डॉ. राजेश कश्यप मैदान में हैं। महत्वपूर्ण बात यह है कि दोनों का रिश्ता ससुर और दामाद का है। यानी राजेश कश्यप का मुक़ाबला अपने ही ससुर से है।

लोकसभा क्षेत्र शिमला और सोलन जिले के अंर्तगत आने वाली सोलन विधानसभा की कुल आबादी वर्तमान में 1,20,238 के आसपास है, जिसमें से इस बार 80,192 मतादाता अपने मतों का प्रयोग करेंगे। 

सोलन को 'लाल सोने की घाटी' भी कहा जाता है। घने जंगलों और ऊंचे पहाड़ों से घिरे सोलन को सुंदर दृश्यों के लिए भी जाना जाता है। सोलन का प्रदेश की अर्थव्यवस्था में खासा योगदान है। राजनीतिक पृष्ठभूमि के परिप्रेक्ष्य से यह विधानसभा क्षेत्र अनूसूचित जाति के लिए आरक्षित है। 

सोलन विधानसभा क्षेत्र में 1977 के बाद से अब तक हुए नौ विधानसभा चुनाव में चार बार भाजपा, चार बार कांग्रेस और एक बार जनता पार्टी को जीत मिली है। आंकड़े बताते हैं कि यहां की जनता किसी पार्टी विशेष के बजाय क्षेत्रीय व्यक्तित्व पर भरोसा जताती है। यही कारण है कि यहां पर कोई भी नेता दो बार से ज्यादा अपनी सीट नहीं बचा पाया है। चाहे वे भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के राजीव बिंदल हों या फिर कांग्रेस की कृष्णा मोहिनी। 

वर्तमान में सोलन विधानसभा क्षेत्र पर कांग्रेस नेता और मौजूदा विधायक धनी राम शांडिल का कब्जा है। सेना से राजनीति में शामिल हुए धनीराम कर्नल के पद से सेवानिवृत्त हुए हैं। धनीराम को कांग्रेस के कद्दावर दलित नेताओं में से एक माना जाता है। 77 वर्षीय धनीराम सेना के डोगरा रेजिमेंट में अपनी सेवाएं दे चुके हैं। 

उन्होंने हिमाचल विकास कांग्रेस के बैनर तले 13वीं लोकसभा में शिमला लोकसभा से सांसद का चुनाव जीता था। अगले लोकसभा चुनाव में उन्हें कांग्रेस ने अपना उम्मीदवार बनाया और उन्होंने 14वीं लोकसभा में कांग्रेस का प्रतिनिधित्व किया। 2012 में कांग्रेस ने उन्हें सोलन विधानसभा से बतौर उम्मीदवार मैदान में उतारा और उन्होंने चुनाव जीतकर करीब एक दशक तक चले भाजपा के विजय रथ पर लगाम लगाई। 

धनीराम के लगातार सफल प्र्दशन को देखकर कांग्रेस ने उन्हें दोबारा से अपना उम्मीदवार घोषित किया है। धनीराम पर अपने विजयरथ को आगे बढ़ाने और कांग्रेस को इस क्षेत्र में मजबूत करने का दबाव रहेगा। 

कश्यप पिछले चुनावों में अपने ससुर के लिए वोट मांग रहे थे और आज उन्हीं के खिलाफ वोट मांगते नजर आ रहे हैं। यही कारण है कि सोलन विधानसभा में दोनों उम्मीदवार एक-दूसरे की कमियां गिनाने के बजाय अपनी प्राथमिकताएं बताने में लगे हैं। 

इसके साथ ही चुनाव मैदान में मार्क्सवादी कम्युनिस्ट के उम्मीदवार अजय भाटी और निर्दलीय उम्मीदवार शशिकांत चौहान मुख्य पार्टियों के खिलाफ अपनी दावेदारी ठोक रहे हैं। 

सोलन विधानसभा चुनाव का रण महाभारत की तरह एक ही परिवार में बंट गया है। एक तरफ ससुर, तो दूसरी तरफ दामाद। क्षेत्र के मतदाता और परिवार के लोग धर्मसंकट में हैं कि आखिर दोनों में से किसको जिताया जाए। दोनों दल क्षेत्रीय मुद्दे उठाए बिना चुनाव प्रचार कर रहे हैं, जिसके कारण जनता भी 'साइलेंट मोड' में चली गई है। 

हिमाचल प्रदेश में चुनाव 9 नवंबर को होना है। वोटों की गिनती गुजरात चुनाव के बाद 18 दिसंबर को होगी।

advertisement