ममता की बंगाल सरकार और चंद्र बाबू की आंध्र सरकार ने CBI को जांच से रोका     |       लखनऊ में रेलमंत्री पीयूष गोयल की टिप्पणी से नाराज कर्मचारियों का हंगामा     |       NDTV से बोलीं मायावती, न BJP के साथ जाएंगे, न कांग्रेस के साथ, एक सांपनाथ, एक नागनाथ     |       उपेंद्र कुशवाहा का नया दांव, ट्वीट कर कहा-अमित शाह से मिलने दिल्ली जा रहा हूं     |       दिल्ली / 13 दिन बंद रहेगा आईजीआई एयरपोर्ट का एक रनवे, 86% तक बढ़ा फ्लाइट्स का किराया     |       पंजाब में दिखा 12 लाख का इनामी आतंकी, जम्मू-कश्मीर सहित दोनों राज्यों में हाई अलर्ट     |       सीबाआई में घमासान: सीवीसी ने कहा, कुछ आरोपों पर जांच की जरूरत     |       Sabrimala: मंदिर के पट खुले, महिलाओं के प्रवेश पर गतिरोध और तनाव कायम     |       तमिलनाडु में गाजा तूफान से 13 लोगों की मौत, PM ने ली जानकारी     |       सिंगर टीएम कृष्‍णा को अब आप सरकार देगी कॉन्‍सर्ट के लिए मंच, दिल्ली में स्थगित हुआ था कार्यक्रम     |       आरबीआई के अहम फैसलों में बड़ी भागीदारी चाहती है सरकार     |       सियासत / मोदी का ज्योतिरादित्य पर तंज- कांग्रेस के सर्वेसर्वा से पूछो कि आपकी दादी को जेल में क्यों रखा?     |       यूपी के डिप्टी सीएम केशव प्रसाद मौर्य को मिली जमानत, दुर्गा पूजा के नाम पर फर्जी पैड छपवाकर वसूली का मामला     |       MP Chunav 2018: राहुल बोले- मोदी अब भाषणों में भ्रष्टाचार, चौकीदार की बात नहीं करते     |       मेक इन इंडिया की सौगात, देश की पहली T-18 ट्रेन ट्रायल के लिए पहुंची मुरादबाद     |       MP चुनावः वरिष्ठ BJP नेता ने कहा- चुनाव नहीं होते, तो पार्टी MLA के तोड़ देता दांत     |       फेसबुक ने हटाए 1.5 अरब अकाउंट्स, जानिए क्यों?     |       मालदीव में आज पीएम मोदी की यात्रा से भारत को मिला पैर जमाने का मौका     |       वाराणसी / डॉक्टर ने जहर का इंजेक्शन लगाकर की खुदकुशी, सुसाइड नोट में लिखा- बेटा हत्या करना चाहता है     |       पूर्व मंत्री मंजू वर्मा के खिलाफ कोर्ट ने दिया कार्रवाई का आदेश     |      

साहित्य/संस्कृति


देश तोड़ने वाले को बना रहे नायक : अशोक वाजपेयी

रजा फाउंडेशन के प्रबंध न्यासी वाजपेयी ने कहा कि हाली ऐसे कवि थे जिन्होंने उर्दू शायरी का दायरा बड़ा किया, और महिलाओं की शिक्षा और उनके अधिकारों पर ध्यान दिया। उर्दू आलोचना के संबंध में उन्होंने कहा कि हाली ने मुकदमा और शेर-ओ-शायरी तनसनीफ करके उर्दू में आलोचना की नींव रखी और उर्दू शायरी को निर्देशित किया।


famous-literary-ashok-bajpai-make-heroes-country-breakers-raza-foundation

भारत में उन लोगों के नाम-ओ-निशान मिटाने की कोशिश की जा रही है जिन्होंने देश निर्माण और विकास में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है और जो देश के वास्तुकार थे। यह बात हिंदी के प्रसिद्ध साहित्यकार और आलोचक अशोक वाजपेयी ने 'अल्ताफ हुसैन हाली: एक कवि और एक सुधारक' के विषय पर आयोजित सेमिनार का उद्घाटन करते हुए कही। रजा फाउंडेशन और हाली पानीपती ट्रस्ट के सहयोग से आयोजित इस संगोष्ठी में उन्होंने कहा कि ख्वाजा अल्ताफ हुसैन हाली जैसे महान कवि, समाज सुधारक और देश के वास्तुकार को हम भूलते जा रहे हैं। देश में जानबूझ कर उन के नामोनिशान मिटाने के प्रयास किए जा रहे हैं और जो लोग देश को तोड़ने का प्रयास कर रहे हैं उन्हें नायक के तौर पर प्रस्तुत करने की कोशिश की जा रही हैं। उन्होंने कहा कि हमारा प्रयास इसी भूलते जाने के खिलाफ है और यह प्रयास जारी रहेगा।

रजा फाउंडेशन के प्रबंध न्यासी वाजपेयी ने कहा कि हाली ऐसे कवि थे जिन्होंने उर्दू शायरी का दायरा बड़ा किया, और महिलाओं की शिक्षा और उनके अधिकारों पर ध्यान दिया। उर्दू आलोचना के संबंध में उन्होंने कहा कि हाली ने मुकदमा और शेर-ओ-शायरी तनसनीफ करके उर्दू में आलोचना की नींव रखी और उर्दू शायरी को निर्देशित किया। उन्होंने हाली के हवाले से कहा कि बात तो साझी विरासत और गंगा जमुनी तहजीब के संबंध में की जाती है लेकिन कोई भी ऐसा नहीं करता है।

उर्दू के मशहूर लेखक और आलोचक प्रोफेसर शमीम हनफी ने महत्वपूर्ण व्यक्तियों को भुलाए जाने की चर्चा करते हुए कहा कि हमारे शब्दकोश में एक शब्द इतिहास है जिसे बदलने की बात की जा रही है और रूपांतरण भी किया जा रहा है लेकिन यह बात रखनी चाहिए कि इतिहास केवल इतिहास होता है जिसे परिवर्तित नहीं किया जा सकता और वो सैकड़ों स्थानों पर सुरक्षित रहता है।

हाली का समय कठिन था, जहां एक तरफ वो गालिब के शिष्य थे दूसरी तरफ उन्होंने गालिब का अंदाज नहीं अपनाया और अपनी शायरी में उनकी नकल नहीं की। उन्होंने कहा कि मौलाना हाली जहां एक तरफ बड़े कवि थे वहीं एक समाज सुधारक भी थे जिस कारण एक तबका उन्हें पसंद नहीं करता था। विशेष रूप से, इस संदर्भ में उन्होंने लखनऊ का उल्लेख करते हुए अवध पंज के बारे में बताया। कनाडा से आए प्रसिद्ध उर्दू कवि तकी आब्दी ने कहा कि हाली एक ऐसे महान कवि हैं जिन्होंने सभी तीन भाषाओं, उर्दू, फारसी और अरबी में कवितायें लिखी हैं और फिर उस समय मुस्लिमों की हालत, और स्थिति की पहचान की।

प्रसिद्ध साहित्यकार विष्णु खरे ने इस अवसर पर कहा कि मुसलमानों ने अल्ताफ हुसैन से नहीं सीखा। केवल वो लोग उन्हें अपना लेते थे जो अपनी परिस्थितियों में सुधार कर सकते थे। उन्होंने कहा कि हाली ने एक नया भारतीय काव्य शास्त्र प्रस्तावित और परिभाषित किया जोकि उनके समकालीनों में शायद ही किसी भी भारतीय भाषा में ऐसी पहल रखने वाला कोई दूसरा था।
 

advertisement

  • संबंधित खबरें