राफेल डील पर फ्रांस के पूर्व राष्ट्रपति का बड़ा खुलासा, भारत सरकार ने ही दिया था रिलायंस का नाम, 10 बातें     |       कश्मीर में आतंकियों ने तीन पुलिसकर्मियों को अगवा कर की हत्या     |       पीएम नरेंद्र मोदी आज ओडिशा और छत्तीसगढ़ में कई परियोजनाएं शुरू करेंगे     |       Asia Cup: दुबई में चमके रोहित-जडेजा, भारत ने बांग्लादेश को 7 विकेट से हराया     |       कांग्रेस ने अलीगढ़ में पुलिस मुठभेड़ पर उठाये सवाल, कहा- सबकुछ स्क्रिप्टेड था     |       न्यूयॉर्क में मिलेंगे भारत और पाकिस्तान के विदेश मंत्री     |       SC-ST एक्ट के खिलाफ पटना में सड़कों पर उतरे सवर्ण, पुलिस ने भांजी लाठियां, कई घायल     |       'नन' के साथ रेप करने के आरोपी 'बिशप' को पुलिस ने किया गिरफ्तार     |       बिहार कांग्रेस अध्यक्ष नहीं बने तो छलका कादरी का दर्द, बोले- झाड़ू भी लगा लूंगा     |       इटली / ईशा अंबानी-आनंद पीरामल की सगाई पार्टी, 23 सितंबर तक चलेंगे कार्यक्रम     |       सर्जिकल स्ट्राइक दिवस पर बोली कांग्रेस सांसद- 'कृपया ऐसा मजाक न करें'     |       मक्का मस्जिद विस्फोट के जज BJP में शामिल होने के इच्छुक, बताया- एकमात्र देशभक्त पार्टी     |       कांग्रेस का बड़ा आरोप, अस्पताल से धमका रहे CM मनोहर पर्रिकर     |       रूस से रक्षा सौदा / अमेरिका ने चीन पर प्रतिबंध लगाया, कहा- मिसाइल सौदा हुआ तो भारत पर भी कार्रवाई संभव     |       बिहार : ताजिया जुलूस की तैयारी के बीच दो युवकों की हत्या, वैशाली में तनाव     |       राजपाट: अबूझ पहेली     |       राजस्थान : जसवंत सिंह के बेटे की रैली शनिवार को, बगावती तेवर से बीजेपी में बेचैनी     |       वारदात / बदमाशों ने बैंक के 2 गार्डों की सरिया और रॉड से पीट-पीटकर की हत्या, नहीं कर पाए लूट     |       'हम नरभक्षी' नहीं, राज्यों को हमसे डरने की जरूरत नहीं- सुप्रीम कोर्ट     |       चक्रवाती तूफान DAYE ने पार किया ओडिशा का तट, कई इलाकों में भारी बारिश     |      

गपशप


ऐसे उड़ी जेटली के इस्तीफे की ख़बर

शाह के बेहद भरोसेमंद भूपेंद्र यादव पिछले काफी समय से छोटे व्यापारियों से मिलकर जीएसटी पर उनकी परेशानियां जान रहे थे। भूपेंद्र यादव की मदद से शाह ने जीएसटी को लेकर छोटे व्यापारियों की चिंताए और उनकी अपेक्षाओं को लेकर एक डॉसियर तैयार किया था


finance-minister-arun-jaitley-resignation-news

मीडिया में इस बात की पड़ताल शुरू हो गई है कि आखिरकार मोदी सरकार के सर्वशक्तिमान अरुण जेटली की इस्तीफे की अफवाह उड़ी कैसे? कांग्रेस परस्त एक अखबार ने तो बकायदा इसकी ख़बर छाप भी दी थी। विश्वस्त सूत्र बताते हैं कि जीएसटी काऊंसिल की बैठक से पूर्व 2 अक्टूबर की शाम को इस पर ब्रीफिंग के लिए प्रधानमंत्री ने अमित शाह और अरुण जेटली को अपने पास तलब किया था। जिसमें सरकार का पक्ष जेटली रख रहे थे तो पार्टी व जनता का पक्ष सामने रखने की जिम्मेदारी शाह को सौंपी गई थी। शाह के बेहद भरोसेमंद भूपेंद्र यादव पिछले काफी समय से छोटे व्यापारियों से मिलकर जीएसटी पर उनकी परेशानियां जान रहे थे। भूपेंद्र यादव की मदद से शाह ने जीएसटी को लेकर छोटे व्यापारियों की चिंताए और उनकी अपेक्षाओं को लेकर एक डॉसियर तैयार किया था, जिसे लेकर वे पीएम के पास गए थे। ऐसे में किसी ने अफवाह उड़ा दी कि पीएम जेटली से इस्तीफा ले रहे हैं। यह ख़बर तेजी से फैली, उस रोज राजनाथ सिंह लखनऊ में थे, जहां उनके कई कार्यक्रम लगे थे। सूत्र बताते हैं कि राजनाथ ने भी अपने तमाम पूर्व निर्धारित कार्यक्रम रद्द कर दिए और किसी अनहोनी की आशंका से भागे-भागे दिल्ली आ पहुंचे। सोशल मीडिया पर इस्तीफे की ख़बर छाई हुई थी और पीएम से मीटिंग के बाद निर्विकार भाव से जेटली व शाह उनके घर से बाहर निकल रहे थे।

advertisement

  • संबंधित खबरें