इसरो / जीसैट-29 का सफल प्रक्षेपण, 2020 तक गगनयान के तहत पहला मानव रहित मिशन शुरू होगा     |       राजस्थान चुनाव 2018: BJP ने जारी की 31 उम्मीदवारों की दूसरी लिस्ट     |       राफेल की कीमत, ऑफसेट पार्टनर सब जानकारी SC के पास, डील पर फैसला सुरक्षित     |       छत्तीसगढ़: राहुल गांधी का बीजेपी पर हमला, पीएम और सीएम को बताया भ्रष्ट     |       कश्मीर पर शाहिद अफरीदी का यू टर्न, कहा- अपने देश के लिए हूं निष्ठावान     |       राहुल की हरी झंडी, राजस्थान में गहलोत और सचिन पायलट दोनों लड़ेंगे चुनाव     |       पीएम मोदी ने US के उपराष्ट्रपति से कहा, दुनिया में हुए आतंकी हमलों का एक ही केंद्र     |       राम मंदिर, राफेल, तीन तलाक के मुद्दे बढ़ाएंगे शीत सत्र की गर्मी, 11 दिसंबर से 8 जनवरी तक चलेगा सत्र     |       टूट गया चौटाला परिवार, जिस इनेलो को खड़ा किया उसी से निकाले गए अजय चौटाला     |       IRCTC आपसे वसूल रहा ज्यादा किराया? आयोग ने दिए जांच के आदेश, 60 दिन में देनी होगी रिपोर्ट     |       1992 जैसी भीड़ उमडऩे की आशंका से इकबाल ने दी अयोध्या से पलायन की चेतावनी     |       शराब नहीं मिली तो विदेशी महिला ने फ्लाइट में किया हंगामा, देखें वीडियो     |       अयोध्या-रामेश्वरम की तीर्थयात्रा के लिए रामायण एक्सप्रेस रवाना     |       हमलावर: एनडीए में अलग-थलग पड़े उपेन्द्र को सांसद अरुण का साथ     |       कमलनाथ ने मुसलमानों से कहा, 'चुनावों तक RSS से सतर्क रहें, बाद में हम देख लेंगे'     |       डोनाल्ड ट्रंप ने व्हाइट हाउस में मनाई दिवाली, ट्वीट में हिंदुओं को ही बधाई देना भूले     |       तृप्ति देसाई का एलान, बोलीं- 17 नवंबर को सबरीमाला मंदिर में करूंगी प्रवेश, सीएम से मांगी सुरक्षा     |       'I Love You रितु' लिखकर पति ने 13 मिनट के वीडियो में उठाया सन्न करने वाला कदम     |       उदीयमान सूर्य को अ‌र्घ्य देकर मांगी अपनों के लिए सुख व समृद्धि     |       जम्मू-कश्मीर के चर्चित IPS बसंत रथ का हुआ ट्रांसफर, सोशल मीडिया पर नेता से हुई थी भिड़ंत     |      

विदेश


ईरानी परमाणु समझौते पर फ्रांस, ब्रिटेन और जर्मनी कायम

ट्रंप का बयान आने के कुछ घंटे बाद ही शुक्रवार को ब्रिटिश पीएम थेरेसा में फ्रांसीसी राष्ट्रपति इमैनुएल मैक्रों और जर्मनी की चांसलर एंजेला मर्केल ने एक संयुक्त बयान में कहा कि हम सभी पक्षों द्वारा जेसीपीओए और इसके पूर्ण कार्यान्वयन के लिए बचनबद्ध हैं।


france-britain-and-germany-on-iran-nuclear-agreement

लंदनः फ्रांस, ब्रिटेन और जर्मनी ने साल 2015 में ईरान के साथ हुए परमाणु समझौते के प्रति अपनी बचनबद्धता दोहराई है। तीनों देशों के नेताओं ने यह बात अमोरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के उस बयान के संदर्भ में कहीं है, जिसमें उन्होंने इस समझौते को छोड़ने की धमकी दी है। संयुक्त व्यापक कार्य योजना (जेसीपीओए) के तहत अमेरिका, रूस, चीन, फ्रांस, ब्रिटेन और जर्मनी ईरान के खिलाफ लागू प्रतिबंधों को ईरान द्वारा परमाणु कार्यक्रम संबंधी नियंत्रण को स्वीकारने पर हटाने के लिए सहमत हुए थे।

ट्रंप का बयान आने के कुछ घंटे बाद ही शुक्रवार को ब्रिटिश पीएम थेरेसा में फ्रांसीसी राष्ट्रपति इमैनुएल मैक्रों और जर्मनी की चांसलर एंजेला मर्केल ने एक संयुक्त बयान में कहा कि हम सभी पक्षों द्वारा जेसीपीओए और इसके पूर्ण कार्यान्वयन के लिए बचनबद्ध हैं। तीनों प्रमुखों ने कहा कि जेसीपीओए को संरक्षित करना हमारी साझा राष्ट्रीय सुरक्षा हित में है। तीनों नेताओं ने कहा कि वे अमेरिकी प्रशासन और कांग्रेस से कोई भी कदम उठाने से पहले सुरक्षा के संबंध में इस मुद्दे पर विचार करने का आग्रह करते हैं।

बेल्जियम में यूरोपीय संघ की विदेश नीति की प्रमुख फेडेरिका मोघरिनी ने ऐसा ही संदेश दिया, लेकिन उन्होंने अपना संदेश बेहद प्रभावी तरीके से दिया। उन्होंने कहा कि यह एक द्विपक्षीय समझौता है और यह किसी एक देश से संबंधित नहीं है और इसे रद्द करना किसी एक देश के हाथ में नहीं है। यह एक बहुपक्षीय समझौता है, जिसे संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद द्वारा सर्वसम्मति से समर्थन मिला हुआ था। 

advertisement