UK Board Result 2018: उत्तराखंड बोर्ड के नतीजे घोषित, 12वीं में दिव्यांशी टॉपर, यहां सबसे पहले देखें नतीजे     |       जम्मू-कश्मीर में 5 आतंकी ढेर, आज आएगा 12वीं का रिजल्‍ट, अब तक की 5 बड़ी खबरें     |       मोदी आज 4 साल का रिपोर्ट कार्ड पेश करेंगे, ओडिशा में रैली करेंगे जहां 21 में से एक लोकसभा सीट भाजपा के पास     |       कर्नाटक में कुमारस्वामी ने जीता फ्लोर टेस्ट, येद्दयुरप्पा ने ऐसे बढ़ाई टेंशन     |       सर्वे रिपोर्ट का खुलासा: गंदगी में दूसरे पायदान पर है पटना जंक्शन     |       सावधानः निपाह की आशंका से दिल्ली-एनसीआर में भी अलर्ट, केरल से आने वाले केले धोकर खाएं     |       इन सात राज्यों में हिंदुओं को अल्पसंख्यक का दर्जा देने पर होगा विचार     |       प्रेस रिव्यू- मेजर गोगोई दोषी हुए तो ऐसी सज़ा देंगे जो उदाहरण होगी: सेना प्रमुख     |       गोवा: बीच पर कपल के कपड़े उतरवाए, तस्वीरें खीचीं और बॉयफ्रेंड के सामने ही लड़की से किया गैंगरेप     |       अमेरिका की सुरक्षा के चलते ट्रंप ने दिए वाहनों, कलपुर्जों के आयात पर जांच के आदेश     |       योगी आदित्यनाथ के लिए उद्धव ठाकरे के बिगड़े बोल, भाजपा पर कहा- 'बालासाहेब की तरह नहीं सहूंगा उसके पाप'     |       मोदी सरकार के 4 साल में क्रूड 31 डॉलर सस्ता, लेकिन पेट्रोल 6 रु महंगा, GST लगा तो 25 रु तक घटेंगे दाम     |       देश में पानी और तेल को लेकर आग     |       यहां सिर्फ 10 रुपये में खूबसूरत मॉडल्स को बना सकते हैं अपनी गर्लफ्रेंड, जानें     |       पिछले 5 साल में PF पर मिलेगा सबसे कम ब्याज, 8.55% को मंजूरी     |       राशिद खान की परफॉर्मेंस से खुश हुए अफगानी राष्ट्रपति, PM मोदी को टैग कर किया ट्वीट     |       मुंबई में तैरता रेस्तरां समुद्र में डूबा, 15 लोग बचाए गए     |       कांसटेबल ललिता की ललित बनने के लिए पहले चरण की सर्जरी सफल     |       गुजरात की लेडी डॉन का एक और वीडियो वायरल, सरेआम यूं फैलाई दहशत     |       पाकिस्तान की खुफिया एजेंसी के पूर्व चीफ का दावा, भारत के पीएम के रूप में नरेंद्र मोदी को ही चाहता है ISI     |      

विदेश


ईरानी परमाणु समझौते पर फ्रांस, ब्रिटेन और जर्मनी कायम

ट्रंप का बयान आने के कुछ घंटे बाद ही शुक्रवार को ब्रिटिश पीएम थेरेसा में फ्रांसीसी राष्ट्रपति इमैनुएल मैक्रों और जर्मनी की चांसलर एंजेला मर्केल ने एक संयुक्त बयान में कहा कि हम सभी पक्षों द्वारा जेसीपीओए और इसके पूर्ण कार्यान्वयन के लिए बचनबद्ध हैं।


france-britain-and-germany-on-iran-nuclear-agreement

लंदनः फ्रांस, ब्रिटेन और जर्मनी ने साल 2015 में ईरान के साथ हुए परमाणु समझौते के प्रति अपनी बचनबद्धता दोहराई है। तीनों देशों के नेताओं ने यह बात अमोरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के उस बयान के संदर्भ में कहीं है, जिसमें उन्होंने इस समझौते को छोड़ने की धमकी दी है। संयुक्त व्यापक कार्य योजना (जेसीपीओए) के तहत अमेरिका, रूस, चीन, फ्रांस, ब्रिटेन और जर्मनी ईरान के खिलाफ लागू प्रतिबंधों को ईरान द्वारा परमाणु कार्यक्रम संबंधी नियंत्रण को स्वीकारने पर हटाने के लिए सहमत हुए थे।

ट्रंप का बयान आने के कुछ घंटे बाद ही शुक्रवार को ब्रिटिश पीएम थेरेसा में फ्रांसीसी राष्ट्रपति इमैनुएल मैक्रों और जर्मनी की चांसलर एंजेला मर्केल ने एक संयुक्त बयान में कहा कि हम सभी पक्षों द्वारा जेसीपीओए और इसके पूर्ण कार्यान्वयन के लिए बचनबद्ध हैं। तीनों प्रमुखों ने कहा कि जेसीपीओए को संरक्षित करना हमारी साझा राष्ट्रीय सुरक्षा हित में है। तीनों नेताओं ने कहा कि वे अमेरिकी प्रशासन और कांग्रेस से कोई भी कदम उठाने से पहले सुरक्षा के संबंध में इस मुद्दे पर विचार करने का आग्रह करते हैं।

बेल्जियम में यूरोपीय संघ की विदेश नीति की प्रमुख फेडेरिका मोघरिनी ने ऐसा ही संदेश दिया, लेकिन उन्होंने अपना संदेश बेहद प्रभावी तरीके से दिया। उन्होंने कहा कि यह एक द्विपक्षीय समझौता है और यह किसी एक देश से संबंधित नहीं है और इसे रद्द करना किसी एक देश के हाथ में नहीं है। यह एक बहुपक्षीय समझौता है, जिसे संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद द्वारा सर्वसम्मति से समर्थन मिला हुआ था। 

advertisement