इमरान की चिट्ठी पर भारत का जवाब- मुलाकात को तैयार, पर ये बातचीत की शुरुआत नहीं     |       मायावती का कांग्रेस को बड़ा झटका: MP में 22 उम्मीदवार घोषित, छग में अजीत जोगी से किया गठबंधन     |       मेट्रो में PM को देख मची सेल्फी की होड़, IICC सेंटर का शिलान्यास करने जा रहे थे     |       जेट एयरवेज फ्लाइट की इमरजेंसी लैडिंग, यात्रियों के नाक-मुंह से निकला खून     |       राफेल पर रक्षा मंत्री ने देश को गुमराह करने की कोशिश की, इस्तीफा दें : कांग्रेस     |       चुनाव / राहुल बोले, गली-गली में शोर है चौकीदार चोर है     |       सरकार ने पीपीएफ और अन्य बचत योजनाओं पर बढ़ाई ब्याज दरें     |       पाक BAT एक्शन का भारत लेगा बदला! राजनाथ ने BSF डीजी को दिए निर्देश     |       भागवत बोले, हिंदू राष्ट्र का यह अर्थ नहीं कि मुस्लिमों के लिए जगह नहीं, जानें संघ-बीजेपी में अंतर     |       बसपा सुप्रीमो मायावती बोलीं- तीन तलाक पर अध्यादेश लाना राजनीति से प्रेरित     |       5वीं की छात्रा से 9 महीने तक रेप करते रहे प्रिंसिपल और क्लर्क, गर्भवती होने पर हुआ खुलासा     |       उत्तर प्रदेशः पुलिस ने एनकाउंटर में मार गिराए 25 हजार के दो ईनामी गैंगस्टर, पत्रकारों ने कैमरे में कैद की मुठभेड़     |       मध्य प्रदेश: सरकारी घरों से हटाई जाएं पीएम मोदी, सीएम शिवराज की तस्‍वीरें, हाईकोर्ट का आदेश     |       कैबिनेट का फैसला / तीन तलाक देने पर 3 साल जेल, मोदी सरकार के अध्यादेश को राष्ट्रपति की मंजूरी     |       पिल्‍लों पर हमला किया तो कोबरा से भिड़ गया कुत्‍ता, देखें वीडियो     |       Asia Cup 2018: IND ने PAK को चटाई धूल लेकिन खुश हुआ अमेरिका, टीम इंडिया को दी मुबारकबाद     |       IMD Alert: ओडिशा-आंध्र में साइक्लोन की चेतावनी, 6 शहरों में भारी बारिश की आशंका     |       बड़ा कदम: बेटियों के गुनाहगारों की अब खैर नहीं, यौन अपराधियों की कुंडली तैयार     |       पेट्रोल-डीजल पर क्यों बेबस है केंद्र सरकार, पर समझिए आखिर कैसे कम हो सकती हैं कीमतें     |       बिहार : आरा में भाजपा नेता के महिंद्रा ट्रैक्टर शोरूम पर दिनदहाड़े फायरिंग, एक की मौत     |      

विदेश


ईरानी परमाणु समझौते पर फ्रांस, ब्रिटेन और जर्मनी कायम

ट्रंप का बयान आने के कुछ घंटे बाद ही शुक्रवार को ब्रिटिश पीएम थेरेसा में फ्रांसीसी राष्ट्रपति इमैनुएल मैक्रों और जर्मनी की चांसलर एंजेला मर्केल ने एक संयुक्त बयान में कहा कि हम सभी पक्षों द्वारा जेसीपीओए और इसके पूर्ण कार्यान्वयन के लिए बचनबद्ध हैं।


france-britain-and-germany-on-iran-nuclear-agreement

लंदनः फ्रांस, ब्रिटेन और जर्मनी ने साल 2015 में ईरान के साथ हुए परमाणु समझौते के प्रति अपनी बचनबद्धता दोहराई है। तीनों देशों के नेताओं ने यह बात अमोरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के उस बयान के संदर्भ में कहीं है, जिसमें उन्होंने इस समझौते को छोड़ने की धमकी दी है। संयुक्त व्यापक कार्य योजना (जेसीपीओए) के तहत अमेरिका, रूस, चीन, फ्रांस, ब्रिटेन और जर्मनी ईरान के खिलाफ लागू प्रतिबंधों को ईरान द्वारा परमाणु कार्यक्रम संबंधी नियंत्रण को स्वीकारने पर हटाने के लिए सहमत हुए थे।

ट्रंप का बयान आने के कुछ घंटे बाद ही शुक्रवार को ब्रिटिश पीएम थेरेसा में फ्रांसीसी राष्ट्रपति इमैनुएल मैक्रों और जर्मनी की चांसलर एंजेला मर्केल ने एक संयुक्त बयान में कहा कि हम सभी पक्षों द्वारा जेसीपीओए और इसके पूर्ण कार्यान्वयन के लिए बचनबद्ध हैं। तीनों प्रमुखों ने कहा कि जेसीपीओए को संरक्षित करना हमारी साझा राष्ट्रीय सुरक्षा हित में है। तीनों नेताओं ने कहा कि वे अमेरिकी प्रशासन और कांग्रेस से कोई भी कदम उठाने से पहले सुरक्षा के संबंध में इस मुद्दे पर विचार करने का आग्रह करते हैं।

बेल्जियम में यूरोपीय संघ की विदेश नीति की प्रमुख फेडेरिका मोघरिनी ने ऐसा ही संदेश दिया, लेकिन उन्होंने अपना संदेश बेहद प्रभावी तरीके से दिया। उन्होंने कहा कि यह एक द्विपक्षीय समझौता है और यह किसी एक देश से संबंधित नहीं है और इसे रद्द करना किसी एक देश के हाथ में नहीं है। यह एक बहुपक्षीय समझौता है, जिसे संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद द्वारा सर्वसम्मति से समर्थन मिला हुआ था। 

advertisement