कश्मीर पर शाहिद अफरीदी का यू टर्न, कहा- अपने देश के लिए हूं निष्ठावान     |       देश के सबसे भारी रॉकेट 'बाहुबली' से जीसैट-29 लॉन्‍च, कश्मीर और नॉर्थ ईस्ट में जीवन करेगा आसान     |       राफेल केस की जांच हो या नहीं, सुप्रीम कोर्ट ने फैसला रखा सुरक्षित, सरकार ने कीमत को लेकर दी ये दलील     |       Birthday Special: चीन से हार के बाद जवाहरलाल नेहरू ने क्या कहा था?     |       VIRAL: कांग्रेस के 109 उम्मीदवारों की वायरल लिस्ट यहां देखें     |       राहुल की हरी झंडी, राजस्थान में गहलोत और सचिन पायलट दोनों लड़ेंगे चुनाव     |       सुप्रीम कोर्ट में सरकार ने कहा- राफेल डील की समीक्षा करना कोर्ट का नहीं, विशेषज्ञों का काम     |       टूट गया चौटाला परिवार, जिस इनेलो को खड़ा किया उसी से निकाले गए अजय चौटाला     |       हमलावर: एनडीए में अलग-थलग पड़े उपेन्द्र को सांसद अरुण का साथ     |       पीएम मोदी बोले, 'विश्वभर में हुए आतंकवादी हमले एक ही देश की ओर करते हैं इशारा'     |       संसद का शीतकालीन सत्र 11 दिसबंर से, क्या राम मंदिर पर कानून लाएगी मोदी सरकार?     |       1992 जैसी भीड़ उमडऩे की आशंका से इकबाल ने दी अयोध्या से पलायन की चेतावनी     |       पैग के लिए प्लेन में पंगा! देखिए विदेशी महिला के हंगामे का VIDEO     |       'पहाड़ों की साफ हवा' की होने लगी होम डिलीवरी, जानिए क्या है रेट     |       VIDEO: करोड़ों श्रद्धालुओं के लिए खुशखबरी, आज से शुरू हो रही है 'श्री रामायण एक्सप्रेस'     |       कमलनाथ ने मुसलमानों से कहा, 'चुनावों तक RSS से सतर्क रहें, बाद में हम देख लेंगे'     |       डोनाल्ड ट्रंप ने व्हाइट हाउस में मनाई दिवाली, ट्वीट में हिंदुओं को ही बधाई देना भूले     |       तृप्ति देसाई का एलान, बोलीं- 17 नवंबर को सबरीमाला मंदिर में करूंगी प्रवेश, सीएम से मांगी सुरक्षा     |       'तुम घर छोड़ गई, मैं दुनिया छोड़कर जा रहा हूं' 17 पेज का सुसाइड नोट लिखकर लगा ली फांसी     |       छठ पूजा पर कुरुक्षेत्र के सरोवर में उमड़े श्रद्धालु     |      

गपशप


जानना मना है!

आते-जाते वे कई अन्य परिचित अधिकारियों से भी बतिया लिया करते थे, उनके साथ चाय-वाय भी पी लिया करते थे।


government-journalist-media-officers-south-block-delhi-notice

दिल्ली का जब से निज़ाम बदला है, शासन के दस्तूर भी बदले हैं और इसके कायदे कानून भी, चुनांचे पत्रकारों की खबरों की भूख पर भी शिकंजा कसा है, ज्यादा जानकारी लेने या निकालने को भी शक की नज़रों से देखा जा रहा है। जो सीनियर पत्रकारगण बेरोक टोक साऊथ ब्लॉक चले जाते थे और जिस अधिकारी से उनका मिलना तय होता था, आते-जाते वे कई अन्य परिचित अधिकारियों से भी बतिया लिया करते थे, उनके साथ चाय-वाय भी पी लिया करते थे। पर अब नहीं, अब साऊथ ब्लॉक के बाहर मुलाकातियों के लिए सख्त लहजे में नोटिस लगा दिया गया है कि आप सिर्फ और सिर्फ उसी व्यक्ति से मिल सकते हैं, जिनके साथ आपकी मुलाकात तय है। और उस तय मुलाकात के अलावा आप किसी और से नहीं मिल सकते, यह भी बताया गया है कि आप सीसीटीवी की जद में हैं, और आपकी कोई भूल चूक आपको कानूनी पचड़ों में डाल सकती है। यानी कि नए निज़ाम की दीवार पर लिखी ये इबारत साफ है कि ज्यादा जानने की भूख आपको मुसीबत में डाल सकती है।

advertisement

  • संबंधित खबरें