BJP List: भाजपा ने जारी की उम्मीदवारों की एक और लिस्ट, मेनका-वरुण की सीटें आपस में बदलीं, कानपुर से कटा जोशी का टिकट - Hindustan     |       बीजेपी में शामिल हुईं अभिनेत्री जया प्रदा Bollywood actress Jaya Prada join Bharatiya Janata Party - Lok Sabha Election 2019 - आज तक     |       100 शहर 100 खबर: बीजेपी की स्टार प्रचारक की लिस्ट जारी Advani, Joshi's names missing from BJP star campaigners list - 100 Shahar 100 Khabar - आज तक     |       न्यूनतम आय गारंटी/ राहुल ने कहा- 6 महीने तक योजना पर काम किया, रघुराम राजन जैसे अर्थशास्त्रियों से राय ली थी - Dainik Bhaskar     |       शारदा घोटाला/ सुप्रीम कोर्ट ने कहा- सीबीआई ने अतिगंभीर खुलासे किए, आदेश अभी देना संभव नहीं - Dainik Bhaskar     |       बिहार : गिरिराज सिंह बेगूसराय से चुनाव लड़ने के पहले इतना नाटक क्यों कर रहे? - NDTV India     |       राहुल की 'न्याय योजना' को आगे बढ़ाने के लिए दिल्ली में शीला करेंगी 'आय पर चर्चा' - Navbharat Times     |       सीट बंटवारे को लेकर भिड़े रविशंकर प्रसाद और RK सिन्हा के समर्थक, जमकर मारपीट - Hindustan     |       चीन ने अरुणाचल को भारत का हिस्सा दिखाने वाले हजारों मैप्स नष्ट किए: रिपोर्ट - Hindustan     |       PAK में हिन्दुओं का जबरन धर्मांतरण: लड़कियों का चौंकानेवाला खुलासा - trending clicks AajTak - आज तक     |       पाकिस्तान के हाथ लगा ये खजाना तो बदल जाएगी पूरी तस्वीर - आज तक     |       इमरान खान को भारत से खौफ, रद्द की मीटिंग, कहा- हो सकती है एक और एयर स्ट्राइक - Zee News Hindi     |       सेंसेक्स 400 अंक फिसला, इन कारणों से बाजार में हाहाकार - Navbharat Times     |       जेट एयरवेज संकट: आखिरकार नरेश गोयल ने दिया बोर्ड और चेयरमैन पद से इस्तीफा - Navbharat Times     |       Royal Enfield की नई स्क्रैम्बलर मोटरसाइकिल्स की लॉन्चिंग कल, जानिए फीचर्स और कीमत - मनी भास्कर     |       1 अप्रैल से पड़ेगी महंगाई की मार, आपकी जेब होगी ढीली - Business - आज तक     |       तारक मेहता का उल्टा चश्मा: अब इस एक्टर के शो छोड़ने की आई खबर, जानें पूरी सच्चाई - Hindustan     |       Chhapaak में दीपिका पादुकोण को देख प्रियंका चोपड़ा भूल गयीं अपनी छुट्टियां, हुआ ऐसा हाल! - दैनिक जागरण (Dainik Jagran)     |       सलमान खान का फूटा गुस्सा, 'पीएम नरेंद्र मोदी' की बायोपिक से हुए नाराज - MyNation Hindi     |       3 बच्चों के प‍िता से जया ने रचाई थी शादी, नहीं मिल सका पत्नी का दर्जा - आज तक     |       Michael Schumacher's son Mick Schumacher to make Formula One debut for Ferrari in Bahrain test - Times Now     |       अजलान शाह कप/ भारत का तीसरा मुकाबला आज, मलेशिया के खिलाफ इस टूर्नामेंट में सक्सेस रेट 88% - Dainik Bhaskar     |       खेल भावना पर अश्विन को लेक्चर देने का कोई फायदा नहींः अधिकारी - Navbharat Times     |       हर्षा भोगले की कलम से/ दिल्ली के अरमानों पर पानी फेर सकती है धीमी पिच - Dainik Bhaskar     |      

फीचर


हर्निया सर्जरी की सस्ती तकनीक

दिल्ली स्थित सर गंगाराम अस्पताल में कार्यरत चिकित्सक मनीष कुमार गुप्ता ने हर्निया की सर्जरी के लिए नई तकनीक ढूंढ़ निकाली है। यह तकनीक न केवल सस्ती है, बल्कि केवल 5 एमएम के 3 की-होल बनाकर यह सर्जरी की जा सकती है। अब तक इस तकनीक की मदद से 100 से ज्यादा सर्जरियां की जा चुकी हैं।


hernia's-surgery's-less-expensive-technique

हर्निया एक ऐसी समस्या है जो भारत में बहुत आम है। लेकिन इसका इलाज समय से होने के बाद भी इसमें होने वाली समस्याएं हर्निया को बहुत ही जटिल बना देती हैं। कई बार मरीज को लम्बे समय तक आराम करने के लिए कहा जाता है। हर्निया में शरीर का कोई अंदरूनी अंग या टिश्यू अपनी जगह से बाहर निकलने लगता है। ऐसा तब होता है जब मांसपेशियों में कोई खुली या कमजोर जगह रह जाती और दबाव पडऩे पर उस अंग के टिश्यूज उस जगह से दूसरे अंगों की ओर बढऩे लगते हैं।

हर्निया के अधिकांश मामलों में इसके उपचार के लिए ऑपरेशन करना अनिवार्य होता है। दिल्ली स्थित सर गंगाराम अस्पताल में कार्यरत चिकित्सक मनीष कुमार गुप्ता ने हर्निया की सर्जरी के लिए नई तकनीक ढूंढ़ निकाली है। यह तकनीक न केवल सस्ती है, बल्कि केवल 5 एमएम के 3 की-होल बनाकर यह सर्जरी की जा सकती है। अब तक इस तकनीक की मदद से 100 से ज्यादा सर्जरियां की जा चुकी हैं। डॉ. मनीष ने सर्जरी की इस नई तकनीक को '555 मनीष टेक्निक' नाम दिया है।

उन्होंने बताया कि ग्रोइन हर्निया की सर्जरी के लिए पहले ओपन सर्जरी की जाती थी। बाद में लेप्रोस्कोपी, यानी दूरबीन की मदद से सर्जरी की जाने लगी। अब तक की जाने वाली सर्जरी में चौड़े हसन ट्रोकार का इस्तेमाल करते हुए हर्निया तक पहुंचा जाता था। हसन ट्रोकार के लिए नाभि के नीचे 1.5 से 2 सेंटीमीटर का कट लगाया जाता था।

डॉ. मनीष ने कहा कि बड़े चीरे की वजह से उत्तकों को ज्यादा नुकसान होता है। साथ ही चीरा बड़ा होने के कारण संक्रमण की आशंका अधिक होती है। बड़े चीरे के कारण मरीज को दर्द अधिक होता है और नाभि के नीचे बड़ा निशान आ जाता है। 

उन्होंने कहा कि चिकित्सक मनीष ने 2 एमएम की सीरींज से र्रिटेक्टर बनाया है, जिसकी मदद से 5 एमएम के चीरे से 5 एमएम के ट्रोकार को पेट की सतह में डालना संभव हुआ है। सर्जन केवल दो मिनट में सर्जरी पॉइंट तक पहुंच जाता है। 

उन्होंने बताया कि इस नई तकनीक से 3 पांच एमएम के छिद्रों से ग्रोइन हर्निया का सफल ऑपरेशन किया जाता है। मनीष ने साथ ही 5 एमएम के ट्रोकार से मेश (जाली) डालने की तकनीक भी इजात की है, जिससे हर्निया दोबारा होने की संभावना 1 फीसदी से भी कम हो जाती है। 

इस प्रक्रिया में पेट की दीवार में टांके नहीं लगाने पड़ते, जबकि पुरानी प्रक्रिया में हसन ट्रोकार के चैड़े कोन डालने के कारण पेट की भीतरी दीवार में टांके लगाने पड़ते हैं। इस नई तकनीक में छोटे चीरे लगाने से दर्द कम होता है। संक्रमण की आशंका कम होती है और निशान भी बहुत छोटा आता है, जोकि महिलाओं के लिए उपयुक्त है। 

इस तकनीक को दुनिया भर के चिकित्सकों ने स्वीकार किया है और वे भी इस तकनीक को अपनाएंगे। चिकित्सक ने कहा कि हर्निया कई प्रकार के होते हैं। इसमें से 50 पर्सेट ग्रोइन हर्निया होता है, जो पॉकेट एरिया में बनता है। इसके लिए नाभि के नीचे छेदकर सर्जरी की जाती है। इस तकनीक से सर्जरी काफी सरल और आसान हो गई है। 

पुरानी तकनीक में 12 एमएम का एक छेद किया जाता था और फिर दो 5 एमएम के छेद किए जाते थे। अब तक इस्तेमाल होने वाले हसन ट्रोकार में सर्जरी पॉइंट तक पहुंचने में 8 से 10 मिनट लगते हैं और ट्रोकार का ट्रैक देखना भी संभव नहीं है। 

नई तकनीक में केवल 5 एमएम के तीन छेद किए जाते हैं। इसे 555 मनीष तकनीक का नाम दिया गया है। इसमें सर्जन अंदर ट्रैक देख सकता है। इस तकनीक से सर्जन केवल दो मिनट में सर्जरी पॉइन्ट तक पहुंच जाता है।

advertisement