सनी का 'ढाई किलो का हाथ' बीजेपी के साथ Actor Sunny Deol joins Bharatiya Janata Party - Lok Sabha Election 2019 - आज तक     |       नाराज भाजपा सांसद उदित राज बोले, 'केजरीवाल फोन पर हंस रहे थे, 4 महीने पहले चेतावनी दी थी कि...' - NDTV India     |       SC में राहुल गांधी के माफी मांगने के बाद मीनाक्षी लेखी ने क्या कहा? - Lok Sabha Election 2019 AajTak - आज तक     |       BJP के सामने 117 सीटों में 62 सीट बचाने की चुनौती Polling on 117 seats, challenge on 62 seats for BJP - Lok Sabha Election 2019 - आज तक     |       पीएम नरेंद्र मोदी ने डाला वोट, लोगों को दिखाई स्याही लगी उंगली, साथ में मौजूद थे अमित शाह - ABP News     |       रोहित शेखर की पत्नी का था बॉयफ्रेंड? तलाक पर फैसले से पहले मौत पर सवाल - Crime images AajTak - आज तक     |       बाबरी पर बयान से बढ़ेगी साध्वी प्रज्ञा की मुश्किल, जवाब से संतुष्ट नहीं चुनाव आयोग - आज तक     |       Earth Day 2019: पृथ्वी की खूबसूरती को दिखा रहा आज का Google Doodle - नवभारत टाइम्स     |       लोकसभा अपडेट्स/ भाजपा में शामिल हुए सनी देओल, गुरदासपुर से मिल सकता है टिकट - Dainik Bhaskar     |       नॉनस्टॉप 100: PM की Pak को दो टूक- हमने भी दिवाली के लिए नहीं रखे परमाणु बम Nonstop 100: PM Modi retorts to Pak's nuclear button threat - non-stop-100 news videos - आज तक     |       यूएस-ईरान की दुश्मनी के बीच बुरा फंसा भारत, बढ़ेगी टेंशन - आज तक     |       श्रीलंका: आस्था पर हमले से दुनिया हैरान, कुछ ऐसा है तीन चर्चों का अतीत - dharma - आज तक     |       ईस्टर के मौके पर सिलसिलेवार बम धमाकों से दहला श्रीलंका NonStop 100: 8 serial blasts rocked Sri Lanka, 158 dead - non-stop-100 news videos - आज तक     |       श्रीलंका आतंकी हमला: मरने वाले 31 विदेशी नागरिकों में सबसे ज्यादा 8 भारत से - Hindustan     |       कच्चे तेल के महंगा होने से फिसला बाजार, जेट का शेयर भी हुआ धड़ाम - अमर उजाला     |       नई होंडा CBR650R भारत में लॉन्च, कीमत 7.70 लाख रुपये - आज तक     |       मारुति सुजुकी की बलेनो हुई स्मार्ट, जानें कीमत और खास फीचर्स - Hindustan     |       घर में रखे सोने से बड़ी कमाई का मौका, देश का सबसे बड़ा बैंक दे रहा है डबल फायदा - Zee Business हिंदी     |       As Deepika is all set to play the story of Laxmi Agarwal in Chhapaak, the victim recalls 14 years of journey - PINKVILLA     |       जानें, Salman Khan की 'भारत' के ट्रेलर से गायब क्यों हैं तब्बू - नवभारत टाइम्स     |       चीन के बॉक्स ऑफिस पर 'अंधाधुन' ने तहलका मचाया, 300 करोड़ से ज्यादा कमाए - ABP News     |       आमिर खान ने इकोनॉमी क्लास में किया हवाई सफर तो Video ने इंटरनेट पर मचाया कोहराम - NDTV India     |       RR vs DC: अजिंक्य रहाणे ने जडा़ आईपीएल में अपना दूसरा शतक, बनाए ये रिकॉर्ड - Hindustan     |       दिल्ली को मैच जिताकर बोले ऋषभ पंत, जेहन में घूम रहा था वर्ल्ड कप में सिलेक्शन का मसला - Navbharat Times     |       आईपीएल/ 12 मई को चेन्नई की जगह हैदराबाद के राजीव गांधी स्टेडियम पर फाइनल होगा - Dainik Bhaskar     |       IPL 2019: ऋषभ पंत के छक्के देख हैरान रह गए सौरव गांगुली, ऐसे उठा लिया गोदी में... देखें VIDEO - NDTV India     |      

साहित्य/संस्कृति


हिंदी दिवस विशेष | पढ़िए हिंदी की सर्वश्रेष्ठ कविताओं में गिनी जाने वाली कविता ‘टूटी हुई बिखरी हुई’

‘टूटी हुई बिखरी हुई’ में प्रेम की करुणा दिखाई देती है, जो अपने विलक्षण बिंबों, अति-यथार्थवादी दृश्यों के कारण चर्चित हुई


hindi-diwas-special-read-poem-one-the-best-poem-of-hindi-writen-by-shamsher-bahadur-singh

आज हिंदी दिवस है। अपनी संस्कृति के प्रति गौरव का बोध कराता यह दिन हम सब को हिंदी के लिए बेहतर करने की प्रेरणा देता है। यह तय है कि आने वाली पीढ़ी का बेहतर विकास तभी हो सकेगा, जब वह अपनी मातृ भाषा में सोचने एवं समझने की क्षमता विकसित कर सकेगी।

यहां हम आपके लिए आधुनिक हिंदी कविता की प्रगतिशील त्रयी के एक स्तंभ माने जाने वाले शमशेर बहादुर सिंह की महान रचना ‘टूटी हुई बिखरी हुई’ लेकर आए हैं इसे हिंदी की सर्वश्रेष्ठ कविताओं में से एक माना जाता है। ‘टूटी हुई बिखरी हुई’ में प्रेम की करुणा दिखाई देती है, जो अपने विलक्षण बिंबों, अति-यथार्थवादी दृश्यों के कारण चर्चित हुई।

 

टूटी हुई बिखरी हुई चाय
            की दली हुई पाँव के नीचे
                    पत्तियाँ
                       मेरी कविता

बाल, झड़े हुए, मैल से रूखे, गिरे हुए, 
                गर्दन से फिर भी चिपके
          ... कुछ ऐसी मेरी खाल,
          मुझसे अलग-सी, मिट्टी में
              मिली-सी

दोपहर बाद की धूप-छाँह में खड़ी इंतजार की ठेलेगाड़ियाँ
जैसे मेरी पसलियाँ...
खाली बोरे सूजों से रफू किये जा रहे हैं...जो
                  मेरी आँखों का सूनापन हैं

ठंड भी एक मुसकराहट लिये हुए है
                 जो कि मेरी दोस्‍त है।

कबूतरों ने एक गजल गुनगुनायी . . .
मैं समझ न सका, रदीफ-काफिये क्‍या थे,
इतना खफीफ, इतना हलका, इतना मीठा
                उनका दर्द था।

आसमान में गंगा की रेत आईने की तरह हिल रही है।
मैं उसी में कीचड़ की तरह सो रहा हूँ
                और चमक रहा हूँ कहीं...
                न जाने कहाँ।

मेरी बाँसुरी है एक नाव की पतवार -
                जिसके स्‍वर गीले हो गये हैं,
छप्-छप्-छप् मेरा हृदय कर रहा है...
              छप् छप् छप्व

वह पैदा हुआ है जो मेरी मृत्‍यु को सँवारने वाला है।
वह दुकान मैंने खोली है जहाँ 'प्‍वाइजन' का लेबुल लिए हुए
                 दवाइयाँ हँसती हैं -
उनके इंजेक्‍शन की चिकोटियों में बड़ा प्रेम है।

वह मुझ पर हँस रही है, जो मेरे होठों पर एक तलुए
                         के बल खड़ी है
मगर उसके बाल मेरी पीठ के नीचे दबे हुए हैं
          और मेरी पीठ को समय के बारीक तारों की तरह
          खुरच रहे हैं
उसके एक चुम्‍बन की स्‍पष्‍ट परछायीं मुहर बनकर उसके
          तलुओं के ठप्‍पे से मेरे मुँह को कुचल चुकी है
उसका सीना मुझको पीसकर बराबर कर चुका है।

मुझको प्‍यास के पहाड़ों पर लिटा दो जहाँ मैं
          एक झरने की तरह तड़प रहा हूँ।
मुझको सूरज की किरनों में जलने दो -
          ताकि उसकी आँच और लपट में तुम
          फौवारे की तरह नाचो।

मुझको जंगली फूलों की तरह ओस से टपकने दो,
          ताकि उसकी दबी हुई खुशबू से अपने पलकों की
          उनींदी जलन को तुम भिगो सको, मुमकिन है तो।
हाँ, तुम मुझसे बोलो, जैसे मेरे दरवाजे की शर्माती चूलें
          सवाल करती हैं बार-बार... मेरे दिल के
          अनगिनती कमरों से।

हाँ, तुम मुझसे प्रेम करो जैसे मछलियाँ लहरों से करती हैं
           ...जिनमें वह फँसने नहीं आतीं,
जैसे हवाएँ मेरे सीने से करती हैं
           जिसको वह गहराई तक दबा नहीं पातीं,
तुम मुझसे प्रेम करो जैसे मैं तुमसे करता हूँ।

आईनो, रोशनाई में घुल जाओ और आसमान में
           मुझे लिखो और मुझे पढ़ो।
आईनो, मुसकराओ और मुझे मार डालो।
आईनो, मैं तुम्‍हारी जिंदगी हूँ।

एक फूल उषा की खिलखिलाहट पहनकर
           रात का गड़ता हुआ काला कम्‍बल उतारता हुआ
           मुझसे लिपट गया।

उसमें काँटें नहीं थे - सिर्फ एक बहुत
           काली, बहुत लम्बी जुल्‍फ थी जो जमीन तक
           साया किये हुए थी... जहाँ मेरे पाँव
           खो गये थे।

वह गुल मोतियों को चबाता हुआ सितारों को
           अपनी कनखियों में घुलाता हुआ, मुझ पर
           एक जिन्‍दा इत्रपाश बनकर बरस पड़ा -

और तब मैंने देखा कि मैं सिर्फ एक साँस हूँ जो उसकी
           बूँदों में बस गयी है।
           जो तुम्‍हारे सीनों में फाँस की तरह खाब में
           अटकती होगी, बुरी तरह खटकती होगी।

मैं उसके पाँवों पर कोई सिजदा न बन सका,
           क्‍योंकि मेरे झुकते न झुकते
           उसके पाँवों की दिशा मेरी आँखों को लेकर
           खो गयी थी।

जब तुम मुझे मिले, एक खुला फटा हुआ लिफाफा
                        तुम्‍हारे हाथ आया।
            बहुत उसे उलटा-पलटा - उसमें कुछ न था -
            तुमने उसे फेंक दिया : तभी जाकर मैं नीचे
            पड़ा हुआ तुम्‍हें 'मैं' लगा। तुम उसे
            उठाने के लिए झुके भी, पर फिर कुछ सोचकर
            मुझे वहीं छोड़ दिया। मैं तुमसे
           यों ही मिल लिया था।

मेरी याददाश्‍त को तुमने गुनाहगार बनाया - और उसका
           सूद बहुत बढ़ाकर मुझसे वसूल किया। और तब
           मैंने कहा - अगले जनम में। मैं इस
           तरह मुसकराया जैसे शाम के पानी में
           डूबते पहाड़ गमगीन मुसकराते हैं।

मेरी कविता की तुमने खूब दाद दी - मैंने समझा
           तुम अपनी ही बातें सुना रहे हो। तुमने मेरी
           कविता की खूब दाद दी।

तुमने मुझे जिस रंग में लपेटा, मैं लिपटता गया :
          और जब लपेट न खुले - तुमने मुझे जला दिया।
          मुझे, जलते हुए को भी तुम देखते रहे : और वह
          मुझे अच्‍छा लगता रहा।

एक खुशबू जो मेरी पलकों में इशारों की तरह
          बस गयी है, जैसे तुम्‍हारे नाम की नन्‍हीं-सी
          स्‍पेलिंग हो, छोटी-सी प्‍यारी-सी, तिरछी स्‍पेलिंग।

आह, तुम्‍हारे दाँतों से जो दूब के तिनके की नोक
          उस पिकनिक में चिपकी रह गयी थी,
          आज तक मेरी नींद में गड़ती है।

अगर मुझे किसी से ईर्ष्‍या होती तो मैं
           दूसरा जन्‍म बार-बार हर घंटे लेता जाता 
पर मैं तो जैसे इसी शरीर से अमर हूँ -
           तुम्‍हारी बरकत!

बहुत-से तीर बहुत-सी नावें, बहुत-से पर इधर
           उड़ते हुए आये, घूमते हुए गुजर गये
           मुझको लिये, सबके सब। तुमने समझा
           कि उनमें तुम थे। नहीं, नहीं, नहीं।
उसमें कोई न था। सिर्फ बीती हुई
           अनहोनी और होनी की उदास
           रंगीनियाँ थीं। फकत।

advertisement