सबरीमाला मंदिर: कपाट खुले पर महिलाएं रोकी गई, बवाल के बाद धारा-144 लागू     |       #MeToo की भेंट चढ़े मोदी के मंत्री एमजे अकबर, विदेश राज्यमंत्री पद से इस्तीफा     |       मारवाड़ में कांग्रेस और मानवेंद्र बिगाड़ सकते हैं भाजपा का खेल     |       गुरुद्वारा / दान देने के लिए राहुल ने 500 रुपए निकाले, ज्योतिरादित्य ने आचार संहिता याद दिलाई तो जेब में रखे     |       मेरठ / जासूसी के आरोप में आर्मी इंटेलीजेंस ने सेना के जवान को किया गिरफ्तार     |       छठ-दिवाली के दौरान Indian Railway का यात्रियों को तोहफा, चलेंगी ये 9 स्पेशल ट्रेनें     |       सूर्य देव कर रहे हैं तुला राशि में प्रवेश, इन राशियों पर होगा असर     |       लालू का ट्वीट-गुजरात में लुंगी पहनने वाले बिहारियों को पीटा, ये है न्यू इंडिया     |       माया के बंगले में घुसते ही शिवपाल बोले- अखिलेश की हैसियत पता चलेगी     |       हाेटल के बाहर गन लहराने वाले पूर्व सांसद के बेटे के खिलाफ गैर जमानती वारंट     |       रिपोर्ट / ब्रह्मोस से ज्यादा ताकतवर चीनी मिसाइल खरीदने की तैयारी में पाकिस्तान     |       पीएनबी घोटाला / मेहुल चौकसी और अन्य आरोपियों की 218 करोड़ रुपए की संपत्ति अटैच     |       FIR March: सपा नेता आजम के खिलाफ एफआइआर दर्ज कराने पहुंचे अमर सिंह     |       चुनाव / कांग्रेस ने मध्यप्रदेश विधानसभा के लिए 80 उम्मीदवार तय किए, लिस्ट जारी नहीं की     |       Paytm, MobiKwik और दूसरे मोबाइल वॉलेट यूजर्स के लिए खुशखबरी, अब कर पाएंगे ये काम     |       इन दो वजहों से पूरी दुनिया में घंटे भर ठप रहा YouTube     |       कभी अकबर ने बदला था नाम, इलाहाबाद को 450 वर्षों बाद मिला अपना पुराना नाम     |       कश्मीर / श्रीनगर में सुरक्षाबलों के साथ मुठभेड़ में 3 आतंकी ढेर, पुलिस का जवान शहीद     |       छत्तीसगढ़: बख्तरबंद गाड़ी ने कार को घसीटा, मुश्किल में पड़ी परिवार की जान     |       ओला ड्राइवर की मदद से इस तरह पकड़ा गया मॉडल मानसी दीक्षित का कातिल     |      

राज्य


तूतीकोरिन | विरोध प्रदर्शन से फैला तनाव, गृह मंत्रालय ने मांगी रिपोर्ट

मंगलवार को हुई घटना के बाद आज भी शहर में तनाव बना हुआ है, लेकिन किसी अप्रिय घटना की कोई सूचना नहीं है। बता दें कि इस घटना में लगभग 100 लोग घायल हुए, जिसमें से दो की हालत काफी गंभीर बनी हुई है।


home-ministry-reports-sought-to-tamilnadu-government-on-thoothukudi-protest

तूतीकोरिन: स्टरलाइट कॉपर स्मेलटिंग प्लांट के विरोध में तमिलनाडु के तूतीकोरिन में किया गया प्रदर्शन आज भी जारी है। इस दौरान प्रदर्शनकारियों को काबू में करने के लिए पुलिस ने फायरिंग  की, जिसमें अब तक 10 लोगों की मौत हो गई है। इसके साथ ही पूरे शहर में धारा 144 लागू कर दी गई है। गृह मंत्रालय  ने भी तमिलनाडु सरकार  से मंगलवार को हुई घटना पर रिपोर्ट तलब की है।

यह प्रदर्शन अब राज्य के दूसरे हिस्सों में भी शुरू हो गया है और चेन्नेई में लोगों ने वेदांता के खिलाफ विरोध मार्च  निकाला। अब इस विवाद में फिल्म स्टार रजनीकांत और अभिनेता से नेता बने कमल हसन  भी कूद पड़े हैं।

अभिनेता रजनीकांत ने भी इस मामले में लोगों से शांति बनाए रखने की अपील की है। इसके साथ ही अभिनेता कमल हसन घायलों का हालचाल लेने अस्पताल  पहुंचे। गौरतलब है कि मंगलवार को प्रदर्शन कर रहे लोगों पर पुलिस द्वारा की गई फायरिंग से 11 लोगों की मौत के बाद इलाके में तनाव  बना हुआ है।

मंगलवार को हुई घटना के बाद आज भी शहर में तनाव बना हुआ है, लेकिन किसी अप्रिय घटना  की कोई सूचना नहीं है। बता दें कि इस घटना में लगभग 100 लोग घायल हुए, जिसमें से दो की हालत काफी गंभीर बनी हुई है।

वहीं मारे गए लोगों के परिजनों ने शवों के पोस्टमार्टम  के खिलाफ तूतीकोरिन सरकारी अस्पताल में जमकर प्रदर्शन किया। एक आधिकारिक रिपोर्ट  और चेन्नई में तमिलनाडु पुलिस  को मिली जानकारी के अनुसार पुलिस फायरिंग में घायल एक व्यक्ति की इलाज  के दौरान मंगलवार रात को मौत हो गई।

इसके बाद मृतकों की संख्या बढ़कर 10 हो गई। आधिकारिक सूत्रों के अनुसार घायलों में अधिकतर नागरिक शामिल हैं। लेकिन, प्रदर्शन के दौरान 36 पुलिसकर्मियों को भी चोट लगी है। शहर में बुधवार को जनजीवन पटरी पर  नहीं लौटा।

दुकान और वाणिज्यिक प्रतिष्ठान बंद हैं। शैक्षणिक संस्थानों को भी बंद रखा गया है। जिला प्रशासन द्वारा पांच या इससे अधिक लोगों के एक साथ इकट्ठे होने पर पाबंदी लगाने के निषेधात्मक आदेश के बाद अधिकतर लोग अपने घरों में ही रहे। यह आदेश यहां 25 मई तक लागू रहेगा।

जिला कलेक्टर एन. वेंकटेश ने कहा कि निषेधात्मक आदेश को तूतीकोरिन जिले के वेंबर, कुलाठुर, अरुमुगामंगलम, वेदांतम, ओट्टापिदारम और इप्पोदुम वेंदरान में लागू किया गया है।

तूतीकोरिन से तमिलनाडु के अन्य भाग के लिए जाने वाले सार्वजनिक परिवहन को भी रद्द कर दिया गया है। बड़ी संख्या में पुलिस और अर्धसैनिक बलों को शहर में हर जगह तैनात किया गया है।

एक वरिष्ठ पुलिस अधिकारी ने कहा कि स्थिति तनावपूर्ण है लेकिन काबू में है। स्टरलाइन प्लांट को बंद करने की मांग करने वाले प्रदर्शकनकारियों का प्रदर्शन जब हिंसक हो गया, तो उसे भीड़ पर काबूृ पाने के लिए फायरिंग करनी पड़ी। पुलिस फायरिंग  में नौ लोगों की तत्काल मौत हो गई।

वहीं प्रदर्शनकारियों ने आरोप लगाया है कि पुलिस ने बिना उकसावे के ही शांतिपूर्ण प्रदर्शन कर रहे लोगों पर बल का प्रयोग किया।

advertisement

  • संबंधित खबरें