अभिनेता सनी देओल बीजेपी में हुए शामिल, बोले- मैं 5 साल और मोदी जी को प्रधानमंत्री के रूप में चाहता हूं - NDTV India     |       टिकट कटते ही BJP सांसद उदित राज ने छोड़ी ‘चौकीदारी’, फिर से बन गए डॉक्टर - आज तक     |       SC में राहुल गांधी के माफी मांगने के बाद मीनाक्षी लेखी ने क्या कहा? - Lok Sabha Election 2019 AajTak - आज तक     |       BJP के सामने 117 सीटों में 62 सीट बचाने की चुनौती Polling on 117 seats, challenge on 62 seats for BJP - Lok Sabha Election 2019 - आज तक     |       PM Narendra Modi Met his Mother In Gandhinagar: अहमदाबाद में वोट डालने से पहले मां से मिलने पहुंचे पीएम नरेंद्र मोदी, पैर छूकर लिया आशीर्वाद - inKhabar     |       पीएम मोदी ने मां से लिया आशीर्वाद, अमित शाह की पोती को किया दुलार, देखें तस्वीरें - दैनिक जागरण     |       वोट डालने के बाद बोले पीएम मोदी, आतंक के शस्त्र IED से ताकतवर है लोकतंत्र का हथियार वोटर ID - Navbharat Times     |       बाबरी पर बयान से बढ़ेगी साध्वी प्रज्ञा की मुश्किल, जवाब से संतुष्ट नहीं चुनाव आयोग - आज तक     |       Earth Day 2019: पृथ्वी की खूबसूरती को दिखा रहा आज का Google Doodle - नवभारत टाइम्स     |       लोकसभा अपडेट्स/ भाजपा में शामिल हुए सनी देओल, गुरदासपुर से मिल सकता है टिकट - Dainik Bhaskar     |       यूएस-ईरान की दुश्मनी के बीच बुरा फंसा भारत, बढ़ेगी टेंशन - आज तक     |       श्रीलंकाई विस्फोटों को सात आत्मघाती हमलावरों ने दिया था अंजाम: सरकारी विश्लेषक विभाग - नवभारत टाइम्स     |       ईस्टर के मौके पर सिलसिलेवार बम धमाकों से दहला श्रीलंका NonStop 100: 8 serial blasts rocked Sri Lanka, 158 dead - non-stop-100 news videos - आज तक     |       श्रीलंका में हुए आतंकी हमले में डेनमार्क के सबसे अमीर व्यक्ति के तीन बच्चों की मौत - दैनिक जागरण (Dainik Jagran)     |       कच्चे तेल के महंगा होने से फिसला बाजार, जेट का शेयर भी हुआ धड़ाम - अमर उजाला     |       नई होंडा CBR650R भारत में लॉन्च, कीमत 7.70 लाख रुपये - आज तक     |       क्रिकेट लवर्स के लिए आया Jio का ये खास प्लान, मिलेगा रोज इतना डेटा - आज तक     |       मारुति ने नए इंजन के साथ लॉन्च की बलेनो... अब 23km से ज्यादा मिलेगा माइलेज, फ्यूल सेविंग का काम भी करेगा इंजन - Dainik Bhaskar     |       As Deepika is all set to play the story of Laxmi Agarwal in Chhapaak, the victim recalls 14 years of journey - PINKVILLA     |       जानें, Salman Khan की 'भारत' के ट्रेलर से गायब क्यों हैं तब्बू - नवभारत टाइम्स     |       चीन के बॉक्स ऑफिस पर 'अंधाधुन' ने तहलका मचाया, 300 करोड़ से ज्यादा कमाए - ABP News     |       आमिर खान ने इकोनॉमी क्लास में किया हवाई सफर तो Video ने इंटरनेट पर मचाया कोहराम - NDTV India     |       RR vs DC: अजिंक्य रहाणे ने जडा़ आईपीएल में अपना दूसरा शतक, बनाए ये रिकॉर्ड - Hindustan     |       दिल्ली को मैच जिताकर बोले ऋषभ पंत, जेहन में घूम रहा था वर्ल्ड कप में सिलेक्शन का मसला - Navbharat Times     |       आईपीएल/ 12 मई को चेन्नई की जगह हैदराबाद के राजीव गांधी स्टेडियम पर फाइनल होगा - Dainik Bhaskar     |       IPL 2019: ऋषभ पंत के छक्के देख हैरान रह गए सौरव गांगुली, ऐसे उठा लिया गोदी में... देखें VIDEO - NDTV India     |      

ब्लॉग


कैसे एबीवीपी ने हैदराबाद विश्वविद्यालय छात्रसंघ चुनावों में सभी सीटों पर जमाया कब्जा, क्यों फेल हुए वाम दल?

इस तरह हैदराबाद विश्वविद्यालय छात्र संघ चुनाव में एबीवीपी ने 8 साल बाद क्लीन स्वीप किया है। लेकिन हकीकत यह भी है कि पिछले साल का एसएफआई, एएसए गठबंधन का छात्रसंघ पूरी तरह नकारा साबित हुआ था। उसपर नीम चढ़ा करेला यह कि इस बार यह दोनों ही संगठन अलग-अलग चुनाव लड़ रहे थे


how-abvp-won-all-seats-in-Hyderabad-university-students-elections-why-the-left-failed

अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद (एबीवीपी) ने दिल्ली विश्वविद्यालय में जीत दर्ज करने के बाद अब हैदराबाद विश्वविद्यालय में भी बड़ी जीत हासिल की है। छात्रसंघ चुनाव में एबीवीपी ने सभी सीटों पर कब्जा कर लिया है। इन नतीजों में एबीवीपी की आरती नागपाल को अध्यक्ष चुना गया है।

इस तरह हैदराबाद विश्वविद्यालय छात्र संघ चुनाव में एबीवीपी ने 8 साल बाद क्लीन स्वीप किया है। लेकिन हकीकत यह भी है कि पिछले साल का एसएफआई, एएसए गठबंधन का छात्रसंघ पूरी तरह नकारा साबित हुआ था। उसपर नीम चढ़ा करेला यह कि इस बार यह दोनों ही संगठन अलग-अलग चुनाव लड़ रहे थे।

पिछली बार भाषा विवाद पर एसएफआई के घोर अहंकारी और अलोकतांत्रिक रवैये की वजह से और किसी अन्य विकल्प में विश्वास नहीं रखने के कारण मैंने घोषित रूप से चुनाव में वोटिंग नहीं की थी।

इस बार एसएफआई पैनल को वोट जरूर किया, लेकिन इसका मतलब यह नहीं कि एसएफआई के साथ पिछले साल का मेरा सैद्धांतिक मतभेद खत्म हो गया हो। 

हालांकि सुनने में यह आया कि विभिन्न पदों के उम्मीदवारों की बहस में पिछले साल 'नो हिंदी नो हिंदी' और 'स्टॉप हिंदी इम्पोजीसन' का नारा बुलंद करने वालो का समर्थन करने वाले संगठन एसएफआई के ही एक उम्मीदवार ने इस बार बहस के लिए अपनी सहज भाषा हिन्दी को चुना और सकारात्मक यह रहा कि इसबार 'नो हिंदी' के नारे नहीं लगे।

उम्मीद करनी चाहिए कि इस कैंपस में अब मातृभाषा में अपनी बात रखने वालों पर कभी 'अपनी भाषा औरों पर थोपने' का बचकाना आरोप नहीं लगाया जाएगा।

मेरे खयाल से एसएफआई को चाहिए कि वो अपनी सभी पुरानी गलतियों की समीक्षा करे और उन्हें सुधारकर छात्रों के बीच अपनी विश्वसनीयता को बढ़ाने के लिए काम करे। जरुरी मुद्दों को उठाने के लिए छात्रसंघ में होना जरुरी नहीं है, इसके लिए किसी संगठन की ईमानदारी और इच्छाशक्ति ही काफी होती है।

नवनिर्वाचित एबीवीपी का छात्रसंघ जरुरी मुद्दों को संबोधित करने की मंशा रखता होगा इसमें मुझे शक है, लेकिन यदि ऐसा हो तो इसे सकारात्मक ही माना जाएगा।

(ऊपर लिखे गए ब्लॉग में व्यक्त विचार लेखक के अपने विचार हैं, इसके लिए खबरिया डॉट कॉम उत्तरदाई नहीं है।)

advertisement