आईपीएल-11 : राशिद का हरफनमौला प्रदर्शन, हैदराबाद फाइनल में (राउंडअप)     |       कर्नाटक विधानसभा में मुख्यमंत्री कुमारस्वामी ने साबित किया बहुमत, BJP का वॉकआउट     |       2019 में अमेठी या रायबरेली हम जीतेंगे, SP-BSP साथ आए तो मिलेगी चुनौती: अमित शाह     |       निपाह का रहस्य गहराया: रिपोर्ट्स में खुलासा- वायरस फैलने की मुख्य वजह चमगादड़ नहीं     |       समिट रद्द करने के दूसरे दिन ट्रम्प ने जताई किम जोंग के साथ जल्द मुलाकात की उम्मीद, उत्तर कोरिया की तारीफ की     |       CBSE 12th Results 2018: सीबीएसई 12वीं के नतीजे आज होंगे जारी, cbseresults.nic.in पर देखें रिजल्ट     |       रोहिंग्या मुद्दे पर बांग्लादेश ने मांगी भारत से मदद     |       मेजर गोगोई की मुश्किलें बढ़ी, सेना ने जारी किया कोर्ट आफ इन्क्वायरी का आदेश     |       अरविंद केजरीवाल ने ट्वीट की रवीश कुमार को जान से मारने की धमकी वाली खबर, एलजी से पूछा- है दम इस पर एक्‍शन लेने का     |       देश में पानी और तेल को लेकर आग     |       सीमा पर गोलीबारी व घुसपैठ बंद करे पाकिस्तान : महबूबा     |       नौतपा : पहले दिन मौसम के तेवर पड़े नरम, हल्की बारिश के बाद बढ़ी उमस     |       लेडी ट्यूशन टीचर ने नाबालिग छात्र से बनाए शारीरिक संबंध, खुलासा होने पर हुआ ये अंजाम     |       दिल्ली पुलिस ने सिसोदिया से 3 घंटे में पूछे 100 सवाल, कई के नहीं मिले जवाब     |       बिहार : 5 साल पहले महाबोधि मंदिर के पास हुए बम विस्फोट मामले में सभी 5 आरोपी दोषी करार     |       अपडेट.. सैन्य शिविर पर ग्रेनेड हमला, दो सैन्यकर्मी घायल     |       घर आने की योजना रद्दकर ड्यूटी पर लौट गया था शहीद     |       पाक शांति चाहता है तो आतंकवादी भेजना बंद करे: जनरल रावत     |       वायरल सच: हिंदू लड़की को मुस्लिम लड़के से अलग करने में गुंडागर्दी का सच     |       बंगले को लेकर बदला मायावती का लहजा, देश में शांति व्यवस्था प्रभावित होने की दी चेतावनी     |      

राजनीति


भारतीय मजदूर संघ ने कहा- अर्थव्यवस्था को गलत दिशा में ले जा रही सरकार

नई दिल्लीः आरएसएस से जुड़े क्षम संगठन ने अर्थव्यवस्था को 'गलत दिशा में ले जाने के लिए' सरकार को आड़े हाथों लिया है। इस संगठन ने बुधवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से 'मौजूदा सुधार प्रक्रिया को वापस' लेने व बिना रोजगार वाली ऐसी वृद्धि पर 'अतिरिक्त जोर' दिए जाने को रोकने का आग्रह किया, जिससे बेरोजगारी बढ़ रही है।


indian-labor-union-said-government-taking-economy-in-wrong-direction

भारतीय मजदूर संघ के राष्ट्रीय अध्यक्ष साजी नारायणन ने सरकार से 'अर्थव्यवस्था की गिरावट रोकने के लिए' श्रम से संबंधित क्षेत्रों में रोजगार पैदा करने की गतिविधियों के लिए एक प्रोत्साहन पैकेज दिए जाने की मांग की है। नारायणन ने कहा कि मौजूदा समय में अर्थव्यवस्था में आई सुस्ती रोजगार छीनने वाले सुधार और अर्थव्यवस्था को गलत दिशा में ले जाने का नतीजा है। यह सब कुछ पूर्ववती संप्रग सरकार की नीतियों के जारी रहने के कारण है।

उन्होंने कहा कि 'प्रधानमंत्री मोदी के अच्छे इरादों व प्रयासों को सही विशेषज्ञों की कमी, संचार की कमी, सामाजिक क्षेत्रों से फीडबैक की कमी, गलत सलाहकारों पर निर्भरता और दिशाहीन सुधारों ने विफल कर दिया है। नरायणन ने कहा कि सरकार ने बेरोजगारी को कम करने के जिन उपायों पर अतिरिक्त जोर दिया है, उससे बेरोजगारी कम होने की बजाय बढ़ रही है व रोजगार कम हो रहे हैं। विदेशी प्रत्यक्ष निवेश ने पहले ही हमारे सूक्ष्म व लघु उद्योग और साथ ही खुदरा व्यापार क्षेत्र को बुरी तरह से प्रभावित किया हुआ है। बैंकिंग गतिविधियों सहित सरकार की बहुत सारी वित्तीय गतिविधियां धीमी हो रही हैं।

सरकार से मौजूदा सुधार प्रक्रिया वापस लेने का आग्रह करते हुए नारायणन ने सरकार से रोजगार सृजन करने के लिए भर्ती प्रक्रिया से प्रतिबंध हटाने की मांग की। उन्होंने कहा कि आम आदमी की क्रय शक्ति को मजबूत करना हमारी अर्थव्यवस्था को प्रोत्साहित करने का मुख्य समाधान है। किसी भी प्रोत्साहन पैकेज को निजी व कॉरपोरेट क्षेत्र को नहीं दिया जाना चाहिए। प्रोत्साहन पैकेज सीधे तौर पर तीन सबसे ज्यादा रोजगार पैदा करने वाले क्षेत्रों- कृषि, लघु उद्योग क्षेत्र और निर्माण क्षेत्र को मिलना चाहिए।

नारायणन ने कहा कि कांग्रेस सरकार द्वारा शुरू की गई ग्रामीण रोजगार की योजना मनरेगा आज के समय में कई राज्यों में गंभीर संकट में है क्योंकि छह महीने के बाद भी मजदूरी का भुगतान नहीं किया गया है। सरकार को मनरेगा का कार्य दिवस मौजूदा 100 दिनों से बढ़ाकर 200 दिन प्रति वर्ष करना चाहिए और इसे कृषि कार्यो से जोड़ना चाहिए। इसमें अगले कार्य दिवस में मजदूरों के खातों में भुगतान को सीधे तौर पर दिया जाना चाहिए। यह ग्रामीण अर्थव्यवस्था के संकट को कम करेगा।

उन्होंने कहा कि कृषि क्षेत्र बदहाल है और इसे अधिक सब्सिडी व कर्जमाफी के जरिए उबारा जाना चाहिए। उन्होंने सामाजिक क्षेत्र में सरकार की जोरदार दखलंदाजी की मांग की और कहा कि इस क्षेत्र में निजी नहीं बल्कि सरकारी निवेश ही अर्थव्यवस्था को सहारा दे सकता है।

advertisement