सीएम ममता बनर्जी का निशाना: कहा- बीजेपी हिस्ट्री चेंजर है और देश डेंजर में है     |       रिश्वतखोरी / सीवीसी ने सीबीआई चीफ के खिलाफ कुछ आरोपों पर प्रतिकूल रिपोर्ट सौंपी: सुप्रीम कोर्ट     |       चक्रवात 'गाजा' की दस्तक से तमिलनाडु में भारी तबाही, अब तक 23 लोगों की मौत     |       चुनावी मैदान में उतरे राजस्थान कांग्रेस के दिग्गज     |       छत्तीसगढ़ / मोदी ने कहा- कांग्रेस सोचती है कि उनकी राजगद्दी एक चायवाला कैसे चुरा ले गया?     |       पंजाब में घुसे जैश के सात अातंकी, पुलिस ने जारी किए फोटो, दिल्ली में भी घुसने की फिराक में     |       बिहार: छठ पर सपना चौधरी के शो में हुड़दंग, 1 की मौत, 12 लोग जख्मी     |       रघुराज प्रताप सिंह 'राजा भैया' ने कहा-संसद में SC-ST कानून में संशोधन न्यायसंगत नहीं     |       सबरीमाला के लिए रवाना हुईं तृप्ति देसाई को एयरपोर्ट पर ही रोका गया     |       अभूतपूर्वः नायडू की आंध्र सरकार ने CBI को जांच से रोका, केंद्र से बढ़ सकती है और तल्खी     |       शाह से मिलने को बेताब उपेंद्र कुशवाहा एनडीए से होंगे बाहर, जेडीयू ने दिए संकेत     |       कॉपीराइट / शादी के वीडियो में अपने गानों के इस्तेमाल पर टी-सीरीज को आपत्ति, 100 फोटोग्राफर्स पर केस     |       दिल्ली सरकार ने टीएम कृष्णा को कार्यक्रम के लिए किया आमंत्रित, एएआई ने किया था रद्द     |       MP से राहुल का PM पर सीधा वार- अब भ्रष्टाचार पर बोलते नहीं मोदी     |       मेजर जनरल सुसाइड मामला: Suicide नोट में हुआ नया खुलासा (Video)     |       नोटबंदी नहीं की गई होती, तो भारत की अर्थव्यवस्था ढह जाती : RBI निदेशक एस गुरुमूर्ति     |       सिपाही ने की खुदकुशी, सुसाइड नोट में लिखा-पत्नी का था अफेयर     |       गरीबी से जूझ रही लड़की की बदली किस्मत, रातोंरात बन गई करोड़पति     |       लिफ्ट के अंदर महिला कर रही थी बच्ची के साथ कुछ ऐसा, CCTV में कैद हुआ सबकुछ     |       Indian Railways: साल भर में 14 करोड़ रुपये के कंबल-तौलिए-चादर चुरा ले गए रेल यात्री!     |      

राजनीति


भारतीय मजदूर संघ ने कहा- अर्थव्यवस्था को गलत दिशा में ले जा रही सरकार

नई दिल्लीः आरएसएस से जुड़े क्षम संगठन ने अर्थव्यवस्था को 'गलत दिशा में ले जाने के लिए' सरकार को आड़े हाथों लिया है। इस संगठन ने बुधवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से 'मौजूदा सुधार प्रक्रिया को वापस' लेने व बिना रोजगार वाली ऐसी वृद्धि पर 'अतिरिक्त जोर' दिए जाने को रोकने का आग्रह किया, जिससे बेरोजगारी बढ़ रही है।


indian-labor-union-said-government-taking-economy-in-wrong-direction

भारतीय मजदूर संघ के राष्ट्रीय अध्यक्ष साजी नारायणन ने सरकार से 'अर्थव्यवस्था की गिरावट रोकने के लिए' श्रम से संबंधित क्षेत्रों में रोजगार पैदा करने की गतिविधियों के लिए एक प्रोत्साहन पैकेज दिए जाने की मांग की है। नारायणन ने कहा कि मौजूदा समय में अर्थव्यवस्था में आई सुस्ती रोजगार छीनने वाले सुधार और अर्थव्यवस्था को गलत दिशा में ले जाने का नतीजा है। यह सब कुछ पूर्ववती संप्रग सरकार की नीतियों के जारी रहने के कारण है।

उन्होंने कहा कि 'प्रधानमंत्री मोदी के अच्छे इरादों व प्रयासों को सही विशेषज्ञों की कमी, संचार की कमी, सामाजिक क्षेत्रों से फीडबैक की कमी, गलत सलाहकारों पर निर्भरता और दिशाहीन सुधारों ने विफल कर दिया है। नरायणन ने कहा कि सरकार ने बेरोजगारी को कम करने के जिन उपायों पर अतिरिक्त जोर दिया है, उससे बेरोजगारी कम होने की बजाय बढ़ रही है व रोजगार कम हो रहे हैं। विदेशी प्रत्यक्ष निवेश ने पहले ही हमारे सूक्ष्म व लघु उद्योग और साथ ही खुदरा व्यापार क्षेत्र को बुरी तरह से प्रभावित किया हुआ है। बैंकिंग गतिविधियों सहित सरकार की बहुत सारी वित्तीय गतिविधियां धीमी हो रही हैं।

सरकार से मौजूदा सुधार प्रक्रिया वापस लेने का आग्रह करते हुए नारायणन ने सरकार से रोजगार सृजन करने के लिए भर्ती प्रक्रिया से प्रतिबंध हटाने की मांग की। उन्होंने कहा कि आम आदमी की क्रय शक्ति को मजबूत करना हमारी अर्थव्यवस्था को प्रोत्साहित करने का मुख्य समाधान है। किसी भी प्रोत्साहन पैकेज को निजी व कॉरपोरेट क्षेत्र को नहीं दिया जाना चाहिए। प्रोत्साहन पैकेज सीधे तौर पर तीन सबसे ज्यादा रोजगार पैदा करने वाले क्षेत्रों- कृषि, लघु उद्योग क्षेत्र और निर्माण क्षेत्र को मिलना चाहिए।

नारायणन ने कहा कि कांग्रेस सरकार द्वारा शुरू की गई ग्रामीण रोजगार की योजना मनरेगा आज के समय में कई राज्यों में गंभीर संकट में है क्योंकि छह महीने के बाद भी मजदूरी का भुगतान नहीं किया गया है। सरकार को मनरेगा का कार्य दिवस मौजूदा 100 दिनों से बढ़ाकर 200 दिन प्रति वर्ष करना चाहिए और इसे कृषि कार्यो से जोड़ना चाहिए। इसमें अगले कार्य दिवस में मजदूरों के खातों में भुगतान को सीधे तौर पर दिया जाना चाहिए। यह ग्रामीण अर्थव्यवस्था के संकट को कम करेगा।

उन्होंने कहा कि कृषि क्षेत्र बदहाल है और इसे अधिक सब्सिडी व कर्जमाफी के जरिए उबारा जाना चाहिए। उन्होंने सामाजिक क्षेत्र में सरकार की जोरदार दखलंदाजी की मांग की और कहा कि इस क्षेत्र में निजी नहीं बल्कि सरकारी निवेश ही अर्थव्यवस्था को सहारा दे सकता है।

advertisement

  • संबंधित खबरें