क्या वायनाड और रायबरेली में हिंदुस्तान हार गया था: पीएम मोदी - आज तक     |       विधायक आकाश विजयवर्गीय गिरफ्तार, सरकारी अधिकारी को पीटा था | INDORE NEWS - bhopal Samachar     |       जयशंकर ने एस-400 समझौते पर पोम्पिओ से कहा, भारत वही करेगा जो उसके राष्ट्रीय हित में है - Hindustan     |       राज्यसभा/ मोदी ने कहा- झारखंड में मॉब लिंचिंग का दुख; चमकी बुखार सरकारों की सबसे बड़ी विफलताओं में से एक - Dainik Bhaskar     |       मिमी चक्रवर्ती के शपथ पर प्रशंसकों ने ऐसे मनाया जश्न, देखें वीडियो - आज तक     |       राम रहीम का खेती के नाम पर पैरोल की फसल काटने का दांव फेल! - आज तक     |       इंग्लैंड का बिगड़ा गणित, वर्ल्ड कप सेमीफाइनल में भिड़ सकते हैं भारत और पाकिस्तान - cricket world cup 2019 AajTak - आज तक     |       सरफराज का छलका दर्द, आलोचना करो लेकिन दुर्व्यवहार मत करो - Navbharat Times     |       ICC World Cup 2019 Point Table: इंग्लैंड पर लटकी बाहर होने की तलवार, ऐसे बदले समीकरण - Hindustan     |       वेस्टइंडीज के खिलाफ चला रोहित का बल्ला तो तोड़ देंगे यह विराट रिकॉर्ड - cricket world cup 2019 AajTak - आज तक     |       NRC List in Assam: असम में एनआरसी पर नई लिस्‍ट, एक लाख से ज्‍यादा लोग बाहर - दैनिक जागरण (Dainik Jagran)     |       एसयूवी ने फुटपाथ पर सो रहे चार बच्चों को रौंदा - दैनिक भास्कर     |       सिटी सेंटर: यूपी में करोड़पति निकला कचौड़ीवाला, उत्तराखंड में मुसीबत बना 200 टन कूड़ा - NDTV India     |       संसद/ जब लोग जनादेश का अपमान करते हैं, तो दुख होता है; क्या वायनाड में हिंदुस्तान हार गया: मोदी - दैनिक भास्कर     |       एयर स्ट्राइक की प्लानिंग करने वाले IPS अफसर बने नए रॉ चीफ - News18 हिंदी     |       UN सुरक्षा परिषद में भारत को मिलेगी अस्थाई सदस्यता? चीन-पाकिस्तान भी समर्थन में - आज तक     |       ब्रिटेन/ महिलाओं ने कहा- बच्चे पैदा नहीं करेंगे, क्योंकि जलवायु परिवर्तन के कारण दुनिया रहने लायक नहीं रहेगी - Dainik Bhaskar     |       पाकिस्तान की संसद में बैन हुए 'सिलेक्टेड प्राइम मिनिस्टर इमरान' - आज तक     |       शेयर बाजार/ सेंसेक्स 312 अंक की बढ़त के साथ 39435 पर, निफ्टी 97 प्वाइंट ऊपर 11796 पर बंद - Dainik Bhaskar     |       Gold Rate Today: सोने की कीमतों में आई भारी गिरावट, चांदी भी हुई काफी सस्‍ती - दैनिक जागरण (Dainik Jagran)     |       MG Hector SUV कल होगी लॉन्च, जानें डीटेल - Navbharat Times     |       TVS Ntorq 125 नए रंग और डिजाइन के साथ हुई लांच, कीमत है महज इतनी - Jansatta     |       Kabir Singh: Doctor files police complaint to stop the screening of this Shahid Kapoor Kiara Advani film - The Lallantop     |       अर्जुन-मलाइका ही नहीं ये 10 सेलिब्रिटीज भी कर रहे डेट, एक तो शादी की अफवाहों पर ही भड़क गया - अमर उजाला     |       अपनी ग्लैमरस तस्वीरों को लेकर सुर्खियों में रहने वालीं नीना गुप्ता ने कहा- मेरी हॉट फोटो पर आते हैं कमेंट्स - Hindustan     |       Sapna Choudhary Video: सपना चौधरी ने शेयर किया अपना वीडियो, लोगों ने तारीफ करने के बजाय कही ये बात - NDTV India     |       इस वर्ल्ड कप में पाकिस्तान हू-ब-हू दोहरा रहा है 1992 वर्ल्ड कप की चाल - Navbharat Times     |       भारत - वेस्टइंडीज मैच से पहले इस दिग्गज ने किया संन्यास का ऐलान, बताया कब लेंगे रिटायरमेंट ! - Cricketnmore हिंदी     |       World Cup: वेस्टइंडीज से मैच कल, 23 साल से नहीं हारा है भारत - News18 हिंदी     |       Bhuvneshwar Kumar। खिलाड़ियों की चोटों से परेशान टीम इंडिया के लिए आई एक अच्छी खबर (video) - Webdunia Hindi     |      

राष्ट्रीय


दिल्ली में रहना मतलब रोज 50 सिगरेट पीना

वायु प्रदूषण हर साल दिल्ली में 3,000 मौतों के लिए जिम्मेदार है, यानी हर दिन आठ मौतें। दिल्ली के हर तीन बच्चों में से एक को फेफड़ों में रक्तस्राव की समस्या हो सकती है। अगले कुछ दिनों तक घर के अंदर रहने और व्यायाम या टहलने के लिए बाहर न निकलने की सलाह दी गई है।


living-in-delhi-like-smoking-50-cigarette-daily

यदि आप दिल्ली या उसके आस-पास में रहते हैं तो आप बिना कोई नशा किये ही 50 सिगरेट के बराबर जहरीला धुआं शरीर के अन्दर ले रहे हैं। इंडियन मेडिकल एसोसिएशन (आईएमए) ने इस बात की जानकारी दी है।

दिल्ली में हवा की गुणवत्ता का सूचकांक 451 तक जा पहुंचा है, जबकि इसका अधिकतम स्तर 500 है। इस हवा में सांस लेने का मतलब है करीब 50 सिगरेट रोज पीने जितना धुआं आपके शरीर में चला जाता है। बीमार लोगों के अलावा स्वस्थ व्यक्तियों के लिए भी यह हवा हानिकारक है। इंडियन मेडिकल एसोसिएशन (आईएमए) के अनुसार, यह स्वास्थ्य की आपात स्थिति है, क्योंकि शहर व्यावहारिक रूप से गैस चैंबर में बदल गया है।

आईएमए के अध्यक्ष डॉ. के.के. अग्रवाल ने कहा, "धुंध एक जटिल मिश्रण है और इसमें विभिन्न प्रदूषक तत्व जैसे नाइट्रोजन ऑक्साइड और धूल कण मिले होते हैं। यह मिश्रण जब सूर्य के प्रकाश से मिलता है तो एक तरह से ओजोन जैसी परत बन जाती है। यह बच्चों और बड़ों के लिए एक खतरनाक स्थिति है। फेफड़े के विकारों और श्वास संबंधी समस्याओं वाले लोग इस स्थिति में सबसे अधिक प्रभावित होते हैं।"

डॉ. अग्रवाल ने कहा, "वायु प्रदूषण हर साल दिल्ली में 3,000 मौतों के लिए जिम्मेदार है, यानी हर दिन आठ मौतें। दिल्ली के हर तीन बच्चों में से एक को फेफड़ों में रक्तस्राव की समस्या हो सकती है। अगले कुछ दिनों तक घर के अंदर रहने और व्यायाम या टहलने के लिए बाहर न निकलने की सलाह दी गई है।" 

आईएमए ने दिल्ली-एनसीआर के सभी स्कूलों के लिए सलाह या एडवाइजरी जारी करने के लिए दिल्ली के मुख्यमंत्री से पहले ही अपील की है, ताकि रेडियो, प्रिंट और सोशल मीडिया जैसे विभिन्न मीडिया माध्यमों से इसे प्रसारित किया जा सके। 19 नवंबर को एयरटेल दिल्ली हाफ मैराथन को रद्द करने के लिए भी अनुरोध किया है।

डॉ. अग्रवाल ने बताया, "जब भी आद्र्रता का स्तर उच्च होता है, वायु का प्रवाह कम होता है और तापमान कम होता है, जब कोहरा बन जाता है। इससे बाहर देखने में दिक्कत आती है और सड़कों पर दुर्घटनाएं होने लगती हैं। रेलवे और एयरलाइन की सेवाओं में भी देरी होने लगती है। जब वातावरण में प्रदूषण का स्तर उच्च होता है तो प्रदूषक कण कोहरे में मिल जाते हैं, जिससे बाहर अंधेरा छा जाता है। इसे ही स्मॉग कहा जाता है।"

उन्होंने कहा, "धुंध फेफड़े और हृदय दोनों के लिए बहुत खतरनाक होती है। सल्फर डाइऑक्साइड की अधिकता से क्रोनिक ब्रॉन्काइटिस हो जाती है। उच्च नाइट्रोजन डाइऑक्साइड स्तर से अस्थमा की समस्या बढ़ जाती है। पीएम10 वायु प्रदूषकों में मौजूद 2.5 से 10 माइक्रोन साइज के कणों से फेफड़े को नुकसान पहुंचता है। 2.5 माइक्रोन आकार से कम वाले वायु प्रदूषक फेफड़ों में प्रवेश करके अंदर की परत को नुकसान पहुंचा सकते हैं। रक्त में पहुंचने पर ये हृदय धमनियों में सूजन कर सकते हैं।"

प्रदूषण स्तर बढ़ने पर सावधानियां :

* अस्थमा और क्रोनिक ब्रॉन्काइटिस वाले मरीजों को अपनी दवा की खुराक बढ़ानी चाहिए।

* स्मॉग की परिस्थितियों में अधिक परिश्रम वाले कामों से बचें। 

* धुंध के दौरान धीमे ड्राइव करें।

* धुंध के समय हृदय रोगियों को सुबह में टहलना टाल देना चाहिए।

* फ्लू और निमोनिया के टीके पहले ही लगवा लें। 

* सुबह के समय दरवाजे और खिड़कियां बंद रखें।

* बाहर निकलना जरूरी हो तो मास्क पहन लें।

advertisement