कर्नाटक का वो 'पेंडुलम' विधायक, जिसने दो दिनों में तीन बार पाला बदला - News18 Hindi     |       23 साल तक अरुणाचल सीएम रहे गेगांग अपांग ने बीजेपी छोड़ी, इस्‍तीफे में गिनाईं वजह - Jansatta     |       AAP से अब तक कोई गठबंधन नहीं: शीला दीक्षित बोलीं- बीजेपी और 'आप' दोनों ही हमारे लिए चुनौती - NDTV India     |       हम सपा-बसपा गठबंधन के लिए पहले से तैयार थे, इस बार जीत के सारे रिकॉर्ड तोड़ देंगे: जे पी नड्डा- Amarujala - अमर उजाला     |       विहिप के पूर्व अध्यक्ष और उद्योगपति विष्णुहरि डालमिया का निधन, बाबरी विवाद में आ चुका है नाम- Amarujala - अमर उजाला     |       Want to congratulate PM on winning 'world famous' award: Rahul Gandhi's fresh jibe at Narendra Modi - Times Now     |       कुंभ में परिवार संग पहुंची थीं स्मृति ईरानी, खाई आलू-कचौड़ी - Kumbh 2019 - आज तक     |       Kumbh Mela 2019 Shahi Snan: Union Minister Smriti Irani takes a dip in Ganges - Times Now     |       भारतीय मूल की इन्दिरा नूई हो सकती हैं विश्व बैंक के प्रमुख पद की दावेदार - NDTV India     |       नैरोबी के पांच सितारा होटल में आतंकी हमला, 11 लोगों की मौत - Dainik Bhaskar     |       चीन का कमाल, चांद पर बोए गए कपास के बीज, अंकुर आए- Amarujala - अमर उजाला     |       डी-कंपनी: राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजित डोभाल के बेटे का विदेशों में काले धन का कारख़ाना - The Wire Hindi     |       बाजार शानदार तेजी लेकर बंद, निफ्टी 10880 के पार टिका - मनी कॉंट्रोल     |       छह दिन बाद सस्ता हुआ पेट्रोल, जानिए क्या हो गए भाव - Zee Business हिंदी     |       Jio Vs BSNL: बीएसएनएल के इस प्लान में हर दिन मिलेगा 3.21 जीबी डेटा - Times Now Hindi     |       IBPS: कैलेंडर घोषित, देखें- 2019-20 में कब-कब होगी परीक्षा - आज तक     |       Manikarnika Bharat song launch: कंगना-अंकिता की बॉन्डिंग - आज तक     |       दीपिका ने कहा- सरनेम क्यों बदलूं, मैंने इंडस्ट्री में पहचान बनाने के लिए कड़ी मेहनत की है - Dainik Bhaskar     |       सेक्शुअल हैरसमेंट केस में फंसे राजू हिरानी के लिए बोले सर्किट Arshad Warsi - नवभारत टाइम्स     |       सिद्धार्थ मल्होत्रा की बर्थडे पार्टी में इसलिए नहीं पहुंचे आलिया-रणबीर - दैनिक जागरण (Dainik Jagran)     |       Australia v India Adelaide oval ODI live scores: Report, highlights, stream - Daily Telegraph     |       दूसरे वनडे में धोनी ने रचा इतिहास, ऐसा करने वाले विश्व के पहले खिलाड़ी बने - Sanjeevni Today     |       Spurs star Harry Kane out until March with ankle injury: Club - Times Now     |       'It's a Serena-tard': Serena Williams unveils her latest fashion statement at Australian Open - Times Now     |      

किताबें


यहां पूजा करने से होती है सभी मनोकामनांए पूरी, विदेशी भी लगाते हैं दरबार

गयाः शारदीय नवरात्र के मौके पर पश्चिम बंगाल से लेकर पूरे देश में प्रत्येक देवी स्थानों पर भक्तों की भारी भीड़ इकट्ठा हो रही है। ऐसे में बिहार के गया शहर से कुछ ही दूरी पर भस्मकूट पर्वत पर स्थित शक्तिपीठ मां मंगलागौरी मंदिर पर सुबह से ही भक्तों का जमावड़ा ना हो ये कैसे हो सकता है। यहां हर साल मां के दर्शन के लिए हजारों लोग दूर दूर से आते हैं। लोगों की मान्यता है कि यहां मां सती का वक्ष स्थल (स्तन) गिरा था, जिसकी वजह से यह शक्तिपीठ 'पालनहार पीठ' या 'पालनपीठ' के रूप में प्रसिद्ध है।


mangala-gauri-temple-is-famous-as-palanpith-in-gaya

क्या कहते हैं पौराणिक ग्रंथ?
हालांकि पौराणिक ग्रंथों के अनुसार बात करें तो भगवान शिव जब अपनी पत्नी सती का जला हुआ शरीर लेकर तीनों लोकों में घूम रहे थे तो सृष्टि को बचाने के लिए भगवान विष्णु ने मां सती के शरीर को अपने सुदर्शन चक्र से काटा था। इसी क्रम में मां सती के शरीर के टुकड़े देश के विभिन्न स्थानों पर गिरे थे, जिसे बाद में शक्तिपीठ के रूप में जाना गया। इन्हीं स्थानों पर गिरे हुए टुकड़े में स्तन का एक टुकड़ा गया के भस्मकूट पर्वत पर गिरा था। उसी मान्यता के अनुसार यहां हर साल नवरात्रि में हजारों की संख्या में भक्तों का मेला लगता है।

क्या कहते हैं शक्तिपीठ के पुजारी?
मंगलागौरी शक्तिपीठ के पुजारी लखन बाबा उर्फ लाल बाबा का कहना है कि इस पर्वत को भस्मकूट पर्वत कहते हैं। इस शक्तिपीठ को असम के कामरूप स्थित मां कमाख्या देवी शक्तिपीठ के समान माना जाता है। उन्होंने बताया कि कालिका पुराण के अनुसार गया में सती का स्तन मंडल भस्मकूट पर्वत के ऊपर गिरकर दो पत्थर बन गए थे। इसी प्रस्तरमयी स्तन मंडल में मंगलागौरी मां नित्य निवास करती हैं, जो मनुष्य शिला का स्पर्श करते हैं, वे अमरत्व को प्राप्त कर ब्रह्मलोक में निवास करते हैं। इस शक्तिपीठ की विशेषता यह है कि मनुष्य अपने जीवन काल में ही अपना श्राद्ध कर्म यहां संपादित कर सकता है।

विदेशी भी आते हैं यहां

यहां माना जाता है कि इस मंदिर में आकर जो भी सच्चे मन से मां की पूजा और अर्चना करते हैं, मां उस भक्त पर खुश होकर उसकी मनोकामना को पूर्ण करती है। यहां पूजा करने वाला कोई भी भक्त मां मंगला के दर से खाली हाथ वापस नहीं जाता। इस मंदिर में साल भर श्रद्धालुओं की भीड़ लगी रहती है। यहां गर्भगृह में ऐसे तो काफी अंधेरा रहता है, परंतु यहां वर्षो से एक दीप प्रज्वलित हो रहा है। कहा जाता है कि यह दीपक कभी बुझता नहीं है। इस मंदिर में सिर्फ यहां के नहीं, बल्कि विदेशी भी आकर मां मंगला गौरी की पूजा अर्चना करते हैं। मां मंगला गौरी मंदिर में पूजा करने के लिए श्रद्धालुओं को 100 से ज्यादा सीढ़ी चढ़कर ऊपर जाना पड़ता है।

क्या कहते हैं मंदिर के पुजारी संजय गिरी?

मंदिर के पुजारी संजय गिरी बताते हैं कि इस मंदिर का उल्लेख, पद्म पुराण, वायु पुराण, अग्नि पुराण और अन्य लेखों में भी मिलता है। तांत्रिक कार्यो में भी इस मंदिर को प्रमुखता दी जाती है। हिंदू संप्रदाय में इस मंदिर में शक्ति का वास माना जाता है। इस मंदिर में उपा शक्ति पीठ भी है, जिसे भगवान शिव के शरीर का हिस्सा माना जाता है। शक्ति पोषण के प्रतीक को एक स्तन के रूप में पूजा जाता है। मंदिर के गर्भगृह में देवी की प्रतिमा रखी है, यहां भव्य नक्काशी बनी हुई है। मंदिर के सामने वाले भाग में एक मंडप बना हुआ है। मंदिर परिसर में भगवान शिव और महिषासुर की प्रतिमा, मर्दिनी की मूर्ति, देवी दुर्गा की मूर्ति और दक्षिणा काली की मूर्ति भी विराजमान है। यहां कई और भी मंदिर है। यहां नवरात्र में प्रतिदिन भक्तों की भीड़ जुटती है, परंतु महाष्टमी व्रत के दिन यहां बड़ी संख्या में मां के भक्त पहुंचते हैं।

 

advertisement