RISAT-2B सैटेलाइट लॉन्च, सीमाओं की निगरानी और घुसपैठ रोकने में करेगा मदद - आज तक     |       NEWS FLASH : जम्मू-कश्मीर: कुलगाम के गोपालपुरा में आतंकियों और सुरक्षाबलों के बीच फायरिंग - NDTV India     |       एयर स्ट्राइक के अगले दिन क्रैश हुए हेलीकॉप्टर मामले में एओसी का तबादला, कोर्ट ऑफ इनक्वायरी तेज - अमर उजाला     |       Rajasthan RBSE 12th Result 2019:: आज आएंगे राजस्थान बोर्ड 12वीं आर्ट्स के नतीजे, इन स्टेप्स से कर सकेंगे चेक - Hindustan     |       वोटों की गिनती से ठीक पहले अमित शाह के डिनर में एकजुट हुआ NDA, PM मोदी ने चुनाव अभियान की तुलना 'तीर्थयात्रा' से की - NDTV India     |       सुषमा स्वराज बिश्केक में एससीओ बैठक में लेंगी हिस्सा - Navbharat Times     |       Exit Poll Result 2019: कांग्रेस के वरिष्ठ नेता की अपील- जरूरत पड़ने पर BJP से हाथ मिला लें मुस्लिम - Jansatta     |       देश की हर सीट का Exit Poll, देखें: आपके क्षेत्र से किसकी जीत का अनुमान - आज तक     |       सभी धर्म के बच्चों के लिए RSS खोलने जा रहा है अनोखा मदरसा, जानिए इसकी खासियत - दैनिक जागरण (Dainik Jagran)     |       NDA के डिनर में पहुंचे 36 सहयोगी दल, पीएम मोदी के नेतृत्व पर सबने जताया भरोसा: राजनाथ - Navbharat Times     |       डोनाल्ड ट्रंप बोले - ईरान ‘आतंकवाद को भड़काने वाला नंबर एक’ देश, अगर उकसाया तो... - NDTV India     |       पाकिस्तान में लोग नहीं चाहते, नरेंद्र मोदी बनें दोबारा प्रधानमंत्री - Navbharat Times     |       हूथी विद्रोहियों की मक्‍का की तरफ दागी मिसाइल को सऊदी अरब ने हवा में ही किया खत्‍म - दैनिक जागरण (Dainik Jagran)     |       Huawei के ग्राहकों को राहत: अमेरिका ने चीनी टेक कंपनी पर रोक का फैसला 90 दिन टाला - आज तक     |       Hyundai Venue के इंजन से लेकर माइलेज तक की पूरी जानकारी यहां मिलेगी - अमर उजाला     |       अब इन 4 बड़े सरकारी बैंकों का होगा विलय, नई सरकार लगाएगी मुहर? - Business - आज तक     |       सेंसेक्स में आज फिर तेजी, 200 अंकों की बढ़त के साथ खुला बाजार - Hindustan     |       गोल्ड लोन वाली कंपनी दे रही अब ये नई सुविधा, जरूरत पड़ने पर ले सकते हैं पैसे - News18 हिंदी     |       Cannes 2019: सोनम कपूर का नया लुक आया सामने, तस्वीरें देख नहीं हटा पाएंगे नजरें - Hindustan     |       विवेक ओबेरॉय के विवादित ट्वीट पर ओमंग कुमार का रिऐक्शन, बोले- हो गया, हो गया - नवभारत टाइम्स     |       'भारत' छोड़ने के बाद क्या दोबारा प्रियंका संग काम करेंगे सलमान? बताया - आज तक     |       Election Result के बाद Arjun Kapoor कपूर देंगे ‘PM Narendra Modi’ को चुनौती, इस दिन होगा घमासान - दैनिक जागरण (Dainik Jagran)     |       World Cup के इतिहास में इस टीम के प्लेयर्स ने लगाई हैं सबसे ज्यादा सेंचुरी, दूसरे नंबर पर है भारत - दैनिक जागरण (Dainik Jagran)     |       वर्ल्ड कप 2019: इंग्लैंड जाने से पहले कोहली ने देश के सामने रखा 'विराट' विजन Kohli considers World Cup 2019 as the most challenging one - Sports - आज तक     |       ऑस्ट्रेलिया/ पूर्व ओपनर स्लेटर ने फ्लाइट में महिलाओं के साथ की बदसलूकी, फिर खुद को बाथरूम में बंद कर लिया - Dainik Bhaskar     |       इंग्लैंड ने वर्ल्ड कप टीम में हरफनमौला जोफ्रा आर्चर को दी जगह - आज तक     |      

किताबें


यहां पूजा करने से होती है सभी मनोकामनांए पूरी, विदेशी भी लगाते हैं दरबार

गयाः शारदीय नवरात्र के मौके पर पश्चिम बंगाल से लेकर पूरे देश में प्रत्येक देवी स्थानों पर भक्तों की भारी भीड़ इकट्ठा हो रही है। ऐसे में बिहार के गया शहर से कुछ ही दूरी पर भस्मकूट पर्वत पर स्थित शक्तिपीठ मां मंगलागौरी मंदिर पर सुबह से ही भक्तों का जमावड़ा ना हो ये कैसे हो सकता है। यहां हर साल मां के दर्शन के लिए हजारों लोग दूर दूर से आते हैं। लोगों की मान्यता है कि यहां मां सती का वक्ष स्थल (स्तन) गिरा था, जिसकी वजह से यह शक्तिपीठ 'पालनहार पीठ' या 'पालनपीठ' के रूप में प्रसिद्ध है।


mangala-gauri-temple-is-famous-as-palanpith-in-gaya

क्या कहते हैं पौराणिक ग्रंथ?
हालांकि पौराणिक ग्रंथों के अनुसार बात करें तो भगवान शिव जब अपनी पत्नी सती का जला हुआ शरीर लेकर तीनों लोकों में घूम रहे थे तो सृष्टि को बचाने के लिए भगवान विष्णु ने मां सती के शरीर को अपने सुदर्शन चक्र से काटा था। इसी क्रम में मां सती के शरीर के टुकड़े देश के विभिन्न स्थानों पर गिरे थे, जिसे बाद में शक्तिपीठ के रूप में जाना गया। इन्हीं स्थानों पर गिरे हुए टुकड़े में स्तन का एक टुकड़ा गया के भस्मकूट पर्वत पर गिरा था। उसी मान्यता के अनुसार यहां हर साल नवरात्रि में हजारों की संख्या में भक्तों का मेला लगता है।

क्या कहते हैं शक्तिपीठ के पुजारी?
मंगलागौरी शक्तिपीठ के पुजारी लखन बाबा उर्फ लाल बाबा का कहना है कि इस पर्वत को भस्मकूट पर्वत कहते हैं। इस शक्तिपीठ को असम के कामरूप स्थित मां कमाख्या देवी शक्तिपीठ के समान माना जाता है। उन्होंने बताया कि कालिका पुराण के अनुसार गया में सती का स्तन मंडल भस्मकूट पर्वत के ऊपर गिरकर दो पत्थर बन गए थे। इसी प्रस्तरमयी स्तन मंडल में मंगलागौरी मां नित्य निवास करती हैं, जो मनुष्य शिला का स्पर्श करते हैं, वे अमरत्व को प्राप्त कर ब्रह्मलोक में निवास करते हैं। इस शक्तिपीठ की विशेषता यह है कि मनुष्य अपने जीवन काल में ही अपना श्राद्ध कर्म यहां संपादित कर सकता है।

विदेशी भी आते हैं यहां

यहां माना जाता है कि इस मंदिर में आकर जो भी सच्चे मन से मां की पूजा और अर्चना करते हैं, मां उस भक्त पर खुश होकर उसकी मनोकामना को पूर्ण करती है। यहां पूजा करने वाला कोई भी भक्त मां मंगला के दर से खाली हाथ वापस नहीं जाता। इस मंदिर में साल भर श्रद्धालुओं की भीड़ लगी रहती है। यहां गर्भगृह में ऐसे तो काफी अंधेरा रहता है, परंतु यहां वर्षो से एक दीप प्रज्वलित हो रहा है। कहा जाता है कि यह दीपक कभी बुझता नहीं है। इस मंदिर में सिर्फ यहां के नहीं, बल्कि विदेशी भी आकर मां मंगला गौरी की पूजा अर्चना करते हैं। मां मंगला गौरी मंदिर में पूजा करने के लिए श्रद्धालुओं को 100 से ज्यादा सीढ़ी चढ़कर ऊपर जाना पड़ता है।

क्या कहते हैं मंदिर के पुजारी संजय गिरी?

मंदिर के पुजारी संजय गिरी बताते हैं कि इस मंदिर का उल्लेख, पद्म पुराण, वायु पुराण, अग्नि पुराण और अन्य लेखों में भी मिलता है। तांत्रिक कार्यो में भी इस मंदिर को प्रमुखता दी जाती है। हिंदू संप्रदाय में इस मंदिर में शक्ति का वास माना जाता है। इस मंदिर में उपा शक्ति पीठ भी है, जिसे भगवान शिव के शरीर का हिस्सा माना जाता है। शक्ति पोषण के प्रतीक को एक स्तन के रूप में पूजा जाता है। मंदिर के गर्भगृह में देवी की प्रतिमा रखी है, यहां भव्य नक्काशी बनी हुई है। मंदिर के सामने वाले भाग में एक मंडप बना हुआ है। मंदिर परिसर में भगवान शिव और महिषासुर की प्रतिमा, मर्दिनी की मूर्ति, देवी दुर्गा की मूर्ति और दक्षिणा काली की मूर्ति भी विराजमान है। यहां कई और भी मंदिर है। यहां नवरात्र में प्रतिदिन भक्तों की भीड़ जुटती है, परंतु महाष्टमी व्रत के दिन यहां बड़ी संख्या में मां के भक्त पहुंचते हैं।

 

advertisement