यूपी: बीजेपी की नई लिस्ट में इनका कटा पत्ता, मेनका-वरुण गांधी की सीटें बदलीं - आज तक     |       मनरेगा को लेकर राहुल गांधी का पीएम पर तंज, कहा- स्कूली बच्चे भी इस योजना को समझ गए पर आप नहीं - NDTV India     |       बीजेपी में शामिल हुईं अभिनेत्री जया प्रदा Bollywood actress Jaya Prada join Bharatiya Janata Party - Lok Sabha Election 2019 - आज तक     |       it is not impossible to implement Rahul Gandhis Scheme says VK Jain - राहुल गांधी की योजना असंभव नहीं वीडियो - हिन्दी न्यूज़ वीडियो एनडीटीवी ख़बर - NDTV Khabar     |       शारदा घोटाला/ सुप्रीम कोर्ट ने कहा- सीबीआई ने अतिगंभीर खुलासे किए, आदेश अभी देना संभव नहीं - Dainik Bhaskar     |       राहुल का वादा,'युवाओं को बिजनस शुरू करने के बाद 3 साल नहीं लेनी होगी कोई परमिशन' - नवभारत टाइम्स     |       LokSabha Elections 2019: कन्हैया का गिरिराज पर तंज, मंत्रीजी ने कह दिया 'बेगूसराय को वणक्कम' - Hindustan     |       अगस्ता वेस्टलैंड/ बिचौलिया राजीव सक्सेना सरकारी गवाह बना, ईडी ने कहा- केस में उसकी गवाही अहम होगी - Dainik Bhaskar     |       चीन ने अरुणाचल को भारत का हिस्सा दिखाने वाले हजारों मैप्स नष्ट किए: रिपोर्ट - Hindustan     |       जबरन धर्मान्तरण के बाद दो हिन्दू लड़कियों को कराई गई सुरक्षा मुहैया - नवभारत टाइम्स     |       पाकिस्तान के हाथ लगा ये खजाना तो बदल जाएगी पूरी तस्वीर - आज तक     |       डर रहे हैं पाक PM इमरान, कहा-चुनाव के चलते भारत दिखा सकता है और दुस्साहस - आज तक     |       सेंसेक्स 400 अंक फिसला, इन कारणों से बाजार में हाहाकार - Navbharat Times     |       जेट एयरवेज संकट: आखिरकार नरेश गोयल ने दिया बोर्ड और चेयरमैन पद से इस्तीफा - Navbharat Times     |       I feel I have been wronged: Rajat Gupta - Deccan Herald     |       1 अप्रैल से पड़ेगी महंगाई की मार, आपकी जेब होगी ढीली - Business - आज तक     |       'तारक मेहता का उल्टा चश्मा' को लगा तीसरा शॉक, अब इस एक्टर ने भी शो को किया टाटा-बाय बाय - India TV हिंदी     |       Chhapaak में दीपिका पादुकोण को देख प्रियंका चोपड़ा भूल गयीं अपनी छुट्टियां, हुआ ऐसा हाल! - दैनिक जागरण (Dainik Jagran)     |       PM नरेंद्र मोदी बायोपिक: मुश्किल में फिल्म, हाइकोर्ट में रोक लगाने के लिए याचिका - आज तक     |       बॉक्स ऑफिस कलेक्शन/ 100 करोड़ के करीब पहुंची केसरी, 5 दिन में कमाए 86.32 करोड़ - Dainik Bhaskar     |       IPL 2019: मांकड़िंग विवाद पर BCCI ने अश्विन को लेकर कही ये बात - Hindustan     |       Michael Schumacher's son Mick Schumacher to make Formula One debut for Ferrari in Bahrain test - Times Now     |       रूस/ बैकाल झील जब जम जाती है, तब उस पर यह रेस होती है; इस बार 23 देशों के 127 खिलाड़ी उतरे - Dainik Bhaskar     |       हर्षा भोगले की कलम से/ दिल्ली के अरमानों पर पानी फेर सकती है धीमी पिच - Dainik Bhaskar     |      

किताबें


यहां पूजा करने से होती है सभी मनोकामनांए पूरी, विदेशी भी लगाते हैं दरबार

गयाः शारदीय नवरात्र के मौके पर पश्चिम बंगाल से लेकर पूरे देश में प्रत्येक देवी स्थानों पर भक्तों की भारी भीड़ इकट्ठा हो रही है। ऐसे में बिहार के गया शहर से कुछ ही दूरी पर भस्मकूट पर्वत पर स्थित शक्तिपीठ मां मंगलागौरी मंदिर पर सुबह से ही भक्तों का जमावड़ा ना हो ये कैसे हो सकता है। यहां हर साल मां के दर्शन के लिए हजारों लोग दूर दूर से आते हैं। लोगों की मान्यता है कि यहां मां सती का वक्ष स्थल (स्तन) गिरा था, जिसकी वजह से यह शक्तिपीठ 'पालनहार पीठ' या 'पालनपीठ' के रूप में प्रसिद्ध है।


mangala-gauri-temple-is-famous-as-palanpith-in-gaya

क्या कहते हैं पौराणिक ग्रंथ?
हालांकि पौराणिक ग्रंथों के अनुसार बात करें तो भगवान शिव जब अपनी पत्नी सती का जला हुआ शरीर लेकर तीनों लोकों में घूम रहे थे तो सृष्टि को बचाने के लिए भगवान विष्णु ने मां सती के शरीर को अपने सुदर्शन चक्र से काटा था। इसी क्रम में मां सती के शरीर के टुकड़े देश के विभिन्न स्थानों पर गिरे थे, जिसे बाद में शक्तिपीठ के रूप में जाना गया। इन्हीं स्थानों पर गिरे हुए टुकड़े में स्तन का एक टुकड़ा गया के भस्मकूट पर्वत पर गिरा था। उसी मान्यता के अनुसार यहां हर साल नवरात्रि में हजारों की संख्या में भक्तों का मेला लगता है।

क्या कहते हैं शक्तिपीठ के पुजारी?
मंगलागौरी शक्तिपीठ के पुजारी लखन बाबा उर्फ लाल बाबा का कहना है कि इस पर्वत को भस्मकूट पर्वत कहते हैं। इस शक्तिपीठ को असम के कामरूप स्थित मां कमाख्या देवी शक्तिपीठ के समान माना जाता है। उन्होंने बताया कि कालिका पुराण के अनुसार गया में सती का स्तन मंडल भस्मकूट पर्वत के ऊपर गिरकर दो पत्थर बन गए थे। इसी प्रस्तरमयी स्तन मंडल में मंगलागौरी मां नित्य निवास करती हैं, जो मनुष्य शिला का स्पर्श करते हैं, वे अमरत्व को प्राप्त कर ब्रह्मलोक में निवास करते हैं। इस शक्तिपीठ की विशेषता यह है कि मनुष्य अपने जीवन काल में ही अपना श्राद्ध कर्म यहां संपादित कर सकता है।

विदेशी भी आते हैं यहां

यहां माना जाता है कि इस मंदिर में आकर जो भी सच्चे मन से मां की पूजा और अर्चना करते हैं, मां उस भक्त पर खुश होकर उसकी मनोकामना को पूर्ण करती है। यहां पूजा करने वाला कोई भी भक्त मां मंगला के दर से खाली हाथ वापस नहीं जाता। इस मंदिर में साल भर श्रद्धालुओं की भीड़ लगी रहती है। यहां गर्भगृह में ऐसे तो काफी अंधेरा रहता है, परंतु यहां वर्षो से एक दीप प्रज्वलित हो रहा है। कहा जाता है कि यह दीपक कभी बुझता नहीं है। इस मंदिर में सिर्फ यहां के नहीं, बल्कि विदेशी भी आकर मां मंगला गौरी की पूजा अर्चना करते हैं। मां मंगला गौरी मंदिर में पूजा करने के लिए श्रद्धालुओं को 100 से ज्यादा सीढ़ी चढ़कर ऊपर जाना पड़ता है।

क्या कहते हैं मंदिर के पुजारी संजय गिरी?

मंदिर के पुजारी संजय गिरी बताते हैं कि इस मंदिर का उल्लेख, पद्म पुराण, वायु पुराण, अग्नि पुराण और अन्य लेखों में भी मिलता है। तांत्रिक कार्यो में भी इस मंदिर को प्रमुखता दी जाती है। हिंदू संप्रदाय में इस मंदिर में शक्ति का वास माना जाता है। इस मंदिर में उपा शक्ति पीठ भी है, जिसे भगवान शिव के शरीर का हिस्सा माना जाता है। शक्ति पोषण के प्रतीक को एक स्तन के रूप में पूजा जाता है। मंदिर के गर्भगृह में देवी की प्रतिमा रखी है, यहां भव्य नक्काशी बनी हुई है। मंदिर के सामने वाले भाग में एक मंडप बना हुआ है। मंदिर परिसर में भगवान शिव और महिषासुर की प्रतिमा, मर्दिनी की मूर्ति, देवी दुर्गा की मूर्ति और दक्षिणा काली की मूर्ति भी विराजमान है। यहां कई और भी मंदिर है। यहां नवरात्र में प्रतिदिन भक्तों की भीड़ जुटती है, परंतु महाष्टमी व्रत के दिन यहां बड़ी संख्या में मां के भक्त पहुंचते हैं।

 

advertisement