मायावती पर विवादित बयान, बीजेपी विधायक साधना सिंह ने जताया खेद - Navbharat Times     |       BJP leader from Madhya Pradesh Manoj Thackeray found dead after morning walk, probe underway - Times Now     |       UK को पछाड़ देगा भारत, चुनाव से पहले मोदी सरकार की बल्ले-बल्ले! - Business AajTak - आज तक     |       ओडिशा कांग्रेस में संग्राम जारी, पूर्व केंद्रीय मंत्री श्रीकांत जेना को पार्टी ने बाहर निकाला- Amarujala - अमर उजाला     |       JEE Main: जेईई मेन परीक्षा से जुड़ी 5 जरूरी बातें - NDTV India     |       कुल्हड़ वाली चाय पी लो... 15 साल बाद फिर रेलवे स्टेशनों में गूंजेगी ये आवाज - आज तक     |       विपक्ष की महारैली में उमड़ा जनसैलाब, नेताओं ने भरी मोदी सरकार को उखाड़ फेंकने की हुंकार- Amarujala - अमर उजाला     |       पौष पूर्णिमा 2019: जानिए पूजा विधि, शुभ मुहूर्त और स्‍नान व दान का महत्‍व - NDTV India     |       गए थे तेल चोरी करने, पाइपलाइन में हुआ विस्फोट, लगी आग, 73 लोगों की गई जान, देखें दर्दनाक वीडियो - Times Now Hindi     |       Mauritian Prime Minister Pravind Jugnauth to arrive in India on 8-day visit - Times Now     |       नहीं रहा दुनिया का सबसे वृद्ध शख्स, जानिये कितनी थी उम्र... - NDTV India     |       नशे में महिला सैनिक ने पुरुष साथी का किया यौन शोषण, नहीं मिली सजा - trending clicks - आज तक     |       पेट्रोल-डीजल के दाम में रविवार को हुई भारी बढ़ोतरी, फटाफट जानें नए रेट्स - News18 Hindi     |       Amazon Sale: यहां देखें सस्ते स्मार्टफोन और हेडफोन की लिस्ट - आज तक     |       अनिल अंबानी की डूबती नइया बचाने उतरे छोटे बेटे अंशुल अंबानी, ऐसे करेंगे पिता की मदद - Patrika News     |       Amazon Great Indian Sale: अमेज़न प्राइम मेंबर्स के लिए शुरू हुई सेल, मिल रही हैं ये शानदार डील्स - NDTV India     |       Film Wrap: मणिकर्णिका के निर्माता को आया स्ट्रोक, उरी ने कमाए इतने - आज तक     |       युवराज सिंह की पत्नी एक्ट्रेस हेजल कीच ने सोशल मीडिया पर सुनाई अपनी दुखभरी कहानी - Hindustan     |       जाह्नवी कपूर अपनी बहन खुशी संग कुछ यूं दिए पोज, Video में दिखा फैशनेबल अंदाज- देखें - NDTV India     |       व्हाय चीट इंडिया का बॉक्स ऑफिस पर पहला दिन, इमरान हाशमी को झटका - Webdunia Hindi     |       क्रिकेट/ अमला ने तोड़ा कोहली का रिकॉर्ड, सबसे कम पारियों में लगाए 27 शतक - Dainik Bhaskar     |       ऑस्ट्रेलियन ओपन/ फेडरर उलटफेर का शिकार, 15वीं रैंकिंग वाले सितसिपास से हारे; नडाल की जीत - Dainik Bhaskar     |       ऑस्ट्रेलिया से वनडे सीरीज़ जीतने के बाद, ये मैच देखने पहुंचे विराट कोहली, फोटो हुई वायरल - दैनिक जागरण (Dainik Jagran)     |       फेडरर के साथ फोटो पर बुरी फंसीं अनुष्का, इस वजह से हो गईं ट्रोल - Sports - आज तक     |      

राज्य


सीएम बिरेन सिंह ने कहा- गरीबों तक नहीं पहुंच रहीं कल्याणकारी योजनाएं

वहीं बिरेन सिंह ने बताया कि वंचित समाज के लोगों से बातचीत के बाद, यह स्पष्ट है कि समाज के कुछ धनी एवं ताकतवर लोग जरूरतमंदों के हक पर कब्जा जमाए बैठे हैं। हालांकि पिछले महीने 'पीपुल्स डे' जनसभा के दौरान सीएम ने कुछ दिव्यांग लोगों से मुलाकात की थी


manipur-cm-biren-singh-welfare-schemes-not-reached-poor

इंफालः मणिपुर के सीएम एन. बिरेन सिंह ने कहा है कि सरकार द्वारा चलाई जाने वाली कई जनकल्याणकारी योजनाएं गरीबों तक नहीं पहुंच पाती हैं। उन्होंने 16 जिलों के जिलाधिकारियों के साथ बुधवार कोअपने कार्यालय पर  बैठक की। इस दौरान उन्होंने सभी जिलाधिकारियों से लाभार्थियों को लाभ पहुंचाने की प्रक्रिया पर कार्रवाई की रिपोर्ट मांगी और साथ ही विकास के अन्य मुद्दों पर भी समीक्षा की।

वहीं बिरेन सिंह ने बताया कि वंचित समाज के लोगों से बातचीत के बाद, यह स्पष्ट है कि समाज के कुछ धनी एवं ताकतवर लोग जरूरतमंदों के हक पर कब्जा जमाए बैठे हैं। हालांकि पिछले महीने 'पीपुल्स डे' जनसभा के दौरान सीएम ने कुछ दिव्यांग लोगों से मुलाकात की थी और यह देखा था कि उनमें से कुछ मोबाइल हैंडसेट की मरम्मत के काम में पारंगत हैं। यदि सरकार और बैंक उनकीसहायता करती है तो वे अपने परिवार के भरण-पोषण के लिए पर्याप्त धन कमा सकते हैं।

बता दें कि सीएम बिरेन सिंह महीने में दो बार समाज के सभी वर्गो के लोगों से मुलाकात कर उनकी समस्याएं सुनते हैं। उन्होंने कहा कि इनमें से अधिकतर मुद्दों को जिलाधिकारी सुलझा सकते हैं। लोग मेरे पास अपने घर के निर्माण के लिए, बच्चों को स्कूल भेजने के लिए धन मांगते हैं। यह स्पष्ट है कि कल्याणकारी योजनाओं के लिए जारी फंड बर्बाद हो रहा है और इसकी समुचित समीक्षा करने की आवश्यकता है।

सीएम ने कहा कि जिलाधिकारियों को निर्देश देने के बावजूद हर जगह लाल फीताशाही की वजह से जरूरतमंदों को सहायता नहीं मिल पा रही है। उनके पास अधिकतर लोग निजी समस्याओं को लेकर आते हैं और इनमें से कुछ ने सार्वजनिक मुद्दे जैसे खराब सड़क और राज्य के दूरदराज के क्षेत्रों में अधिकारियों की अनुपस्थिति का भी मामला उठाया है।

advertisement

  • संबंधित खबरें