NEWS FLASH : जम्मू-कश्मीर: कुलगाम के गोपालपुरा में आतंकियों और सुरक्षाबलों के बीच फायरिंग - NDTV India     |       एयर स्ट्राइक के अगले दिन क्रैश हुए हेलीकॉप्टर मामले में एओसी का तबादला, कोर्ट ऑफ इनक्वायरी तेज - अमर उजाला     |       जम्मू-कश्मीर में आतंकियों और सुरक्षाबलों के बीच मुठभेड़, दो आतंकी ढेर - News18 हिंदी     |       Rajasthan RBSE 12th Result 2019:: आज आएंगे राजस्थान बोर्ड 12वीं आर्ट्स के नतीजे, इन स्टेप्स से कर सकेंगे चेक - Hindustan     |       सुषमा स्वराज बिश्केक में एससीओ बैठक में लेंगी हिस्सा - Navbharat Times     |       पूर्व केंद्रीय मंत्री उपेंद्र कुशवाहा ने खून बहाने की दी धमकी Upendra Kushwaha warns of bloodshed in Bihar on May 23 - Lok Sabha Election 2019 - आज तक     |       Exit Poll: मोदी-शाह समेत BJP के ये बड़े चेहरे जीत रहे हैं चुनाव? - Lok Sabha Election 2019 - आज तक     |       सभी धर्म के बच्चों के लिए RSS खोलने जा रहा है अनोखा मदरसा, जानिए इसकी खासियत - दैनिक जागरण (Dainik Jagran)     |       NDA के डिनर में पहुंचे 36 सहयोगी दल, पीएम मोदी के नेतृत्व पर सबने जताया भरोसा: राजनाथ - Navbharat Times     |       Tik-Tok पर प्रख्यात युवक की दिल्ली के नजफगढ़ में हत्या - India AajTak - आज तक     |       ईरान की ट्रंप को दो टूक- कितने आए और चले गए, बर्बादी की धमकी हमें मत देना - आज तक     |       यमन के हूती विद्रोहियों ने ड्रोन से सऊदी अरब के हवाई अड्डे पर किया हमला - Navbharat Times     |       नेपाल नहीं चाहता कि नरेंद्र मोदी सरकार फिर आए? - आज तक     |       Huawei के ग्राहकों को राहत: अमेरिका ने चीनी टेक कंपनी पर रोक का फैसला 90 दिन टाला - आज तक     |       Hyundai Venue के इंजन से लेकर माइलेज तक की पूरी जानकारी यहां मिलेगी - अमर उजाला     |       अब इन 4 बड़े सरकारी बैंकों का होगा विलय, नई सरकार लगाएगी मुहर? - Business - आज तक     |       सेंसेक्स में आज फिर तेजी, 200 अंकों की बढ़त के साथ खुला बाजार - Hindustan     |       गोल्ड लोन वाली कंपनी दे रही अब ये नई सुविधा, जरूरत पड़ने पर ले सकते हैं पैसे - News18 हिंदी     |       विवेक ओबेरॉय के विवादित ट्वीट पर ओमंग कुमार का रिऐक्शन, बोले- हो गया, हो गया - नवभारत टाइम्स     |       'भारत' छोड़ने के बाद क्या दोबारा प्रियंका संग काम करेंगे सलमान? बताया - आज तक     |       तो इस वजह से अभी मलाइका अरोड़ा से शादी नहीं कर रहे हैं अर्जुन कपूर? - Entertainment AajTak - आज तक     |       Kasauti Zindagi Kay 2 Written Updates: कोमोलिका का खेल हुआ खात्म, क्या प्रेरणा बनेगी बासू घर की बहू? - Times Now Hindi     |       World Cup के इतिहास में इस टीम के प्लेयर्स ने लगाई हैं सबसे ज्यादा सेंचुरी, दूसरे नंबर पर है भारत - दैनिक जागरण (Dainik Jagran)     |       वर्ल्ड कप 2019: इंग्लैंड जाने से पहले कोहली ने देश के सामने रखा 'विराट' विजन Kohli considers World Cup 2019 as the most challenging one - Sports - आज तक     |       ऑस्ट्रेलिया/ पूर्व ओपनर स्लेटर ने फ्लाइट में महिलाओं के साथ की बदसलूकी, फिर खुद को बाथरूम में बंद कर लिया - Dainik Bhaskar     |       इंग्लैंड ने वर्ल्ड कप टीम में हरफनमौला जोफ्रा आर्चर को दी जगह - आज तक     |      

विदेश


जुकरबर्ग ने ट्रंप को दिया जवाब, कहा- फेसबुक नहीं रहा आपके खिलाफ

बता दें कि ट्रंप ने बुधवार को ट्वीट कर कहा कि फेसबुक हमेशा से ट्रंप विरोधी रहा है। यह नेटवर्क हमेशा से ही ट्रंप विरोधी रहे हैं,


mark-zuckerberg-respond-to-trump-claim-on-facebook

सैन फ्रांसिस्कोः फेसबुक के सीईओ मार्क जुकरबर्ग ने अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के आरोपों को खारिज किया है, जिसमें उन्होंने फेसबुक पर 'न्यूयॉर्क टाइम्स और वाशिंगटन पोस्ट की तरह' उनके खिलाफ प्रचार करने की बात कही है। जुकरबर्ग ने कहा कि राष्ट्रपति ट्रंप के आरोप निराधार हैं।

क्या कहा ट्रंप ने?

बता दें कि ट्रंप ने बुधवार को ट्वीट कर कहा कि फेसबुक हमेशा से ट्रंप विरोधी रहा है। यह नेटवर्क हमेशा से ही ट्रंप विरोधी रहे हैं, इसलिए फर्जी खबरें न्यूयॉर्क टाइम्स व वाशिंगटन पोस्ट ट्रंप विरोधी रहे हैं और यह सब इनकी मिलीभगत है।

क्या कहा जुकरबर्ग ने?
वहीं जुकरबर्ग ने इसका जवाब देते हुए कहा कि ट्रंप का कहना है कि फेसबुक उनके विरोध में है और लिबरल कहते हैं कि हम ट्रंप की सहायता करते हैं। दोनों ही उन विचारों और सामग्री से परेशान हैं, जिन्हें वे नापंसद करते हैं। यही है वह मंच जहां सभी अपना विचार एक साथ रखते हैं। जुकरबर्ग के अनुसार आंकड़े बताते हैं कि फेसबुक ने 2016 के राष्ट्रपति चुनाव में जो बहुत बड़ी भूमिका निभाई थी, वह उसके ठीक उलट है, जो आज कई लोग कह रहे हैं।

उन्होंने कहा कि इस चुनाव में जितनी आवाजें उठीं, उतनी शायद पहले कभी नहीं उठीं थी। यहां अरबों विचारों का आदान-प्रदान हुआ, जो कि ऑफलाइन हो पाना अंसभव था। हर मुद्दे पर बातचीत की गई, न कि सिर्फ उस पर जिसे मीडिया ने उठाया था। फेसबुक पर अमेरिकी राष्ट्रपति चुनाव के दौरान रूस के एक लाख डॉलर के राजनीतिक विज्ञापन चले थे। इसे लेकर फेसबुक फर्जी खबरें चलाने को लेकर तमाम तरह के सवालों में घिरा हुआ है।

इस चुनाव में लाखों समर्थकों ने किया इंटरनेट के जरिए संवाद

इसके साथ ही जुकरबर्ग ने कहा कि यह पहला अमेरिकी चुनाव था, जहां उम्मीदवारों ने इंटरनेट के जरिए लोगों के साथ संवाद किया। हर उम्मीदवार का अपना फेसबुक पृष्ठ था, जिस पर वे अपने लाखों समर्थकों से रोजाना सीधे संवाद कर रहे थे। चुनाव अभियान में अपनी बात पहुंचाने के लिए आनलाइन विज्ञापन पर लाखों-करोड़ों खर्च किए गए। यह उन चुनाव विज्ञापनों से हजारों गुना अधिक थे, जिन्हें हमने संदिग्ध पाया है। एक व्यापक कानूनी और नीति समीक्षा के बाद, सोशल मीडिया दिग्गज ने घोषणा की है कि वह 3,000 रूसी विज्ञापनों को कांग्रेस जांचकर्ताओं के साथ साझा करेगी।

कांग्रेस नेताओं ने सोशल मीडिया को भेजा पत्र

बता दें कि कांग्रेस के नेताओं ने फेसबुक, गूगल और ट्विटर को एक पत्र भेजा है, जिसमें उनसे जानकारी देने के लिए अनुरोध किया गया है कि क्या रूस ने उनके प्लेटफार्म पर कोई विज्ञापन खरीदा था। अमेरिकी सीनेट की खुफिया समिति ने फेसबुक, ट्विटर और गूगल को पूछताछ के लिए बुलाया है। जुगरबर्ग कहते हैं कि अमेरिकी चुनाव के बाद, मैंने यह टिप्पणी की थी कि मेरी यह सोच है कि यह विचार एक पागलपन भरा विचार है कि फेसबुक पर गलत सूचनाओं के जाने से चुनाव के नतीजे प्रभावित होंगे।

उन्होंने कहा कि मैंने इसे पागलपन कहते हुए खारिज कर दिया और मुझे इसका पछतावा है। यह इतना महत्वपूर्ण मुद्दा है कि इसे यूं ही खारिज नहीं किया जा सकता, लेकिन हमारे आंकड़ों ने हमेशा यह दिखाया है कि हमारे व्यापक प्रभाव ने इस चुनाव में एक विशेष मामले में बहुत बड़ी भूमिका निभाई।

 

advertisement