दिल्ली में नामी फैशन डिजाइनर की हत्या से सनसनी, नौकर भी मृत मिला घर में     |       JNU में कंडोम गिनने वाले ज्ञानदेव का 'ज्ञान' नहीं आया काम, BJP ने काटा टिकट     |       वायुसेना ने सुप्रीम कोर्ट में कहा- राफेल चाहिए, हमें इसकी जरूरत है     |       100 km/h की रफ्तार से तूफान गाजा तमिलनाडु में आज देगा दस्तक     |       इकबाल अंसारी बोले, 'डरे हैं मुसलमान, 25 से पहले नहीं बढ़ी सुरक्षा तो छोड़ देंगे अयोध्या'     |       दिल्ली के सिग्नेचर ब्रिज पर सेल्फी के लिए होड़ के बाद निर्वस्त्र होने का वीडियो वायरल     |       ट्रंप के मना करने के बाद शीर्ष अफ्रीकी नेता हो सकते हैं गणतंत्र दिवस कार्यक्रम के मुख्‍य अतिथि     |       सबरीमाला पर सुप्रीम कोर्ट के आदेश की समीक्षा के लिए बुलाई गई सर्वदलीय बैठक     |       देवेंद्र फडणवीस की सबसे बड़ी मुश्किल खत्म, मराठा आरक्षण का रास्ता साफ     |       सिंगापुर : PM मोदी के दौरे का दूसरा दिन, आसियान सम्मेलन में होंगे शामिल     |       केंद्र ने लौटाया पश्चिम बंगाल का नाम बदलने का प्रस्ताव, ममता नाराज     |       चौटाला परिवार की कलह गहराई, छोटे भाई का बड़े भाई पर प्रहार     |       ISRO के बाहुबली ने अंतरिक्ष में पहुंचाया सबसे भारी उपग्रह, कश्मीर में बेहतर होगा इंटरनेट     |       राम के इतिहास के दर्शन कराने निकली रामायण एक्सप्रेस में सवार हुए जिले के 35 यात्री     |       सेल्फी के चक्कर में युवक ने कोबरा को गले में लपेटा, पल भर में गई जान     |       संसद का शीतकालीन सत्र 11 दिसंबर से, क्या राम मंदिर पर कानून लाएगी मोदी सरकार?     |       बयान से पलटे शाहिद आफरीदी, कहा- कश्मीर में भारत कर रहा जुल्म     |       84 के दंगों में दो दोषी करार, सजा पर फैसला आज     |       UP Board Date sheet 2019: सिर्फ 16 दिन में खत्म होंगी बोर्ड परीक्षा- कुंभ मेला की तारीखों का भी रखा गया ध्यान     |       पिस्टल लिए बदमाश देखे, फिर भी नहीं की पुलिस को कॉल     |      

खेल


मैरी कॉम- एआईबीए युवा मुक्केबाजी से निकलेंगी भारतीय प्रतिभाएं

गौरतलब है कि चैंपियनशिप की सारी तैयारी अपने अंतिम पड़ाव पर हैं। ऐसे में यह दोनों खिलाड़ी अपनी आठ अन्य सहयोगियों के साथ हाल ही में बुल्गारिया में आयोजित हुई बाल्कान चैंपियनशिप में बेहतरीन प्रदर्शन कर पहले ही देश को गौरवान्वित करा चुकी हैं।


mary-kom-aiba-boxing-championship-india-talent-young-boxers

गुवाहाटी: असम अगले महीने होने वाले एआईबीए युवा विश्व मुक्केबाजी चैंपियनशिप की मेजबानी करने जा रहा है। हालांकि इस चैंपियनशिप पर युवा मुक्केबाज खासकर स्थानीय खिलाड़ी अनुक्षिता बोरो और जॉय कुमारी पर पूरे देश की नजरें होंगी, जबकि इन दोनों खिलाड़ियों पर घर में खेलने का कोई दबाव नहीं है। इनका मानना है कि यह उसी तरह अपने विपक्षी का सामना करेंगी, जिस तरह लंदन ओलंपिक-2012 में मैरी कॉम ने किया था।

गौरतलब है कि चैंपियनशिप की सारी तैयारी अपने अंतिम पड़ाव पर हैं। ऐसे में यह दोनों खिलाड़ी अपनी आठ अन्य सहयोगियों के साथ हाल ही में बुल्गारिया में आयोजित हुई बाल्कान चैंपियनशिप में बेहतरीन प्रदर्शन कर पहले ही देश को गौरवान्वित करा चुकी हैं। भारतीय टीम तुर्की में आयोजित किए गए एहमद कोमेर्ट मुक्केबाजी चैम्पियनशिप और बाल्कान यूथ चैम्पियनशिप में कुल 17 पदक लेकर लौटी थी, जहां अनुक्षिता ने दोनों टूर्नामेंट्स में 60 किलोग्राम भारवर्ग में रजत पदक जीता था।

वहीं जॉय कुमारी ने कांस्य पर कब्जा जमाया था। दिग्गज महिला मुक्केबाज मैरी कॉम का भी मानना है कि भारतीय मुक्केबाजी का भविष्य सही रास्ते पर है। उनका मानना है कि इस टूर्नामेंट में हिस्सा ले रहीं मौजूदा खिलाड़ियों में से भविष्य की विजेता खिलाड़ी निकल कर आएंगी। उनका कहना है कि घरेलू समर्थन के कारण इन खिलाड़ियों को बाकी खिलाड़ियों की अपेक्षा फायदा मिलेगा।

दिग्गज महिला मुक्केबाज मैरी कॉम ने कहा कि मैंने उनके साथ प्रशिक्षण शिविर के दौरान बात की थी और उनमें मुझे बड़ी क्षमता नजर आई। इन मुक्केबाजों को केवल सही लक्ष्य पर ध्यान देने की जरूरत है। यकीन मानिएए हम इन खिलाड़ियों में से चैम्पियन निकलते हुए देखेंगे। मैरी कॉम ने कहा कि ये गर्व की बात है और हम एक बेहतरीन टूनार्मेंट का आयोजन कर रहे हैं। मुझे लगता है कि इससे मुक्केबाजों को अच्छा प्रदर्शन करने में मदद मिलेगी, क्योंकि न केवल उनके कोच और टीम के साथी बल्कि घरेलू दर्शक भी उनकी हौसलाअफजाई करेंगे।

वहीं स्थानीय मुक्केबाज अनुक्षिता बोरो और जॉय कुमारी पदक की रेस में अपनी पूरी मेहनत से विपक्षी खिलाड़ी पर मुक्के बरसाएंगी। बोरो आश्वस्त हैं कि घरेलू समर्थन सिर्फ उन्हें अच्छा प्रदर्शन करने के लिए प्रेरित करेगा। अनुक्षिता ने कहा कि मैं इस टूर्नामेंट में अच्छे प्रदर्शन को लेकर आश्वस्त हूं। मेरा मानना है कि मेरे गृहनगर के लोग मेरे ऊपर दबाव नहीं होंगे बल्कि मुझे अच्छा प्रदर्शन करने में मदद करेंगे। मुश्किल समय में जब काफी लोग आपकी हौसला अफजाई करते हैं तो इससे आपके विपक्षी पर दबाव पड़ता है और इससे वह अपनी शुरुआत रणनीति से भटक सकते हैं।

उनकी साथी लामा भी अपनी सहयोगी की बात से सहमत दिखीं। उनका मानना है कि घरेलू समर्थन किसी भी भारतीय खिलाड़ी के पक्ष में माहौल बना सकता है। उन्होंने कहा कि समर्थक बेशक मेहमान टीम के खिलाड़ियों पर दबाव बनाते हैं और हमें निश्चित दिन उन्हें मात देने में मदद करते हैं। मेरा मानना है कि मेरी तैयारी अच्छी है। मुझे उम्मीद है कि मैं अपने परिवार और अपने राज्य के लोगों के सामने पदक जीत सकती हूं।

 

advertisement

  • संबंधित खबरें