झारखंड: 'बाइक चोर' होने का आरोप लगाकर भीड़ ने मुस्लिम युवक से जय श्री राम बुलवाया, पीटने से मौत - Hindustan     |       संसद में कांग्रेस नेता ने अभ‍िनंदन की मूंछों को लेकर कर डाली ये मांग, ट्विटर पर आए ऐसे रिएक्‍शन - NDTV India     |       बिखर चुका है बसपा का कास्ट फॉर्मूला, कैसे उबार पाएंगे आनंद-आकाश? - आज तक     |       चमकी बुखार से 170 बच्चों की मौत, SC ने बिहार सरकार से सात दिनों के भीतर मांगा जवाब - दैनिक जागरण     |       पंचायत में एक व्यक्ति की पीट-पीटकर तो दूसरे की गोली मारकर की हत्या, मूंगफली को लेकर हुई थी बहस - NDTV India     |       कंकाल पर कोहराम: मुजफ्फरपुर अस्पताल में नीतीश के दौरे के पहले आनन-फानन में जलाईं लाशें - Hindustan     |       CWC 2019: ऑस्ट्रेलियाई कोच का दावा- दुनिया को मिल गया है नया धोनी, जानिए कौन है वो - आज तक     |       एक बार फिर India Vs Pakistan! ICC World Cup 2019 के सेमीफाइनल में भिड़ सकती हैं दोनों टीमें - दैनिक जागरण (Dainik Jagran)     |       CWC 2019: गुलबदीन ने बांग्लादेश से कहा- हम तो डूबे हैं सनम, तुमको भी ले डूबेंगे - Hindustan     |       वर्ल्ड कप/ कोहली पर मैच फीस का 25% जुर्माना, अफगानिस्तान के खिलाफ अनावश्यक अपील की थी - Dainik Bhaskar     |       जम्मू-कश्मीर आरक्षण पर आज अपना पहला बिल संसद में पेश करेंगे अमित शाह - Hindustan     |       न्यायालय के एक फैसले के बाद देश में लग गई थी इमरजेंसी, जानिए क्या था मामला - दैनिक जागरण (Dainik Jagran)     |       कांग्रेस ने राज्यसभा में उठाया बढ़ती आबादी का मुद्दा, कहा- नियंत्रण नहीं हुआ तो विकास बेमानी - Hindustan     |       बाड़मेर हादसा : डेढ़ मिनट में तहस-नहस हो गया पंडाल, 15 श्रद्धालुओं की मौत - अमर उजाला     |       ईरान बोला, अमेरिका ने खूब कोशिश की, नहीं कर पाया कोई साइबर अटैक - Navbharat Times     |       सऊदी में शादी के लिए पुरुषों से ये शर्तें मनवा रही हैं महिलाएं - आज तक     |       अकेली छूटी महिला, आधी रात को फ्लाइट में नींद खुली तो उड़े होश - आज तक     |       अर्दोआन के लिए इस्तांबुल की हार इसलिए है बड़ा झटका - BBC हिंदी     |       एक पिता ने बेटी की शादी में गाया गाना, वीडियो देख अमिताभ बच्चन की आंखों में आ गए आंसू - अमर उजाला     |       जियो धमाका : 200 रुपए से कम के इस प्लान में मिलेगा महीने भर सबकुछ फ्री, जानें - Himachal Abhi Abhi     |       Gold Rate Today: बाजार में आज गिर गए सोने के भाव वहीं चांदी में आया उछाल - दैनिक जागरण (Dainik Jagran)     |       डील/ बिन्नी बंसल ने फ्लिपकार्ट के 5.4 लाख शेयर 531 करोड़ रु. में वॉलमार्ट को बेचे - Dainik Bhaskar     |       Kabir Singh box office collection Day 3: शाहिद कपूर की फिल्म का फर्स्ट वीकेंड शानदार - नवभारत टाइम्स     |       फ्रेंच वेडिंग से पहले सोफी-जो जोनस संग लंच डेट पर प्रियंका-निक, PHOTOS - Entertainment AajTak - आज तक     |       Shahrukh Khan ने खुद खोला राज़, Zero फ्लॉप होने के बाद क्यों साइन नहीं की कोई फिल्म - दैनिक जागरण (Dainik Jagran)     |       टाइगर श्रॉफ और Disha Patani का हो गया ब्रेकअप! क्या ये शख्स बना वजह... - NDTV India     |       ICC World Cup 2019 AFG vs BAN: शाकिब अल हसन नंबर वन बल्‍लेबाज बने, बना दिए कई रिकॉर्ड - दैनिक जागरण (Dainik Jagran)     |       पाकिस्तानी क्रिकेट टीम 1992 दोहरा सकती है: वसीम अकरम - BBC हिंदी     |       शमी ने बताया हैटट्रिक से पहले धौनी ने उनसे क्या कहा, बुमराह ने लिया मैदान पर इंटरव्यू - प्रभात खबर     |       शोएब अख्तर ने कहा था ब्रेनलेस, पाकिस्तानी कप्तान सरफराज ने दिया करारा जवाब - आज तक     |      

संपादकीय


आलोचनाअों से मोदी सरकार भी घबराती है!

अपने अब तक के कार्यकाल में पहली बार यह सरकार आर्थिक मोर्चे पर दबाव में दिख रही है और इससे निकलने के लिए उसकी तरफ से एक के बाद कदम उठाए जा रहे हैं।


modi-government-criticism-gst-economic reform-anti-national

नरेंद्र मोदी सरकार को आलोचना पसंद नहीं। अगर आप सरकार, उसके मुखिया या उसकी नीतियों के खिलाफ जाएंगे तो देशद्रोही ठहरा दिए जाएंगे। घर के बाहर ‘भक्त’ लोग कभी भी ढंग से आपकी आरती उतार लेंगे। एेसी बहुत सी बातें इस सरकार को लेकर सोशल मीडिया में इन दिनों खूब चल रही है। पर अर्थव्यवस्था को पंप करने के लिए सरकार के उठाए गए कदमों को देखें तो शायद ये बातें सही नहीं है।

दरअसल, अपने अब तक के कार्यकाल में पहली बार यह सरकार आर्थिक मोर्चे पर दबाव में दिख रही है और इससे निकलने के लिए एक के बाद एक कदम उठाए जा रहे हैं। आलम यह है कि सरकार के खिलाफ जिस मुद्दे पर हर स्तर पर मुखरता देखी जा रही है, उसमें आर्थिक मुद्दा सबसे ऊपर है। यह हिमाचल और गुजरात के चुनाव में भी दिख रहा है। इस आलोचना की जमीन अभी नई-नई पकी है। आलोचना का पहला तीर चलाया था भाजपा के वरिष्ठ नेता और पूर्व वित्त मंत्री यशवंत सिन्हा ने। ‘इंडियन एक्सप्रेस’ में 27 सितंबर को प्रकाशित अपने लेख में उन्होंने सरकार पर जरूरी आर्थिक कदम नहीं उठाने का आरोप लगाते हुए कहा था कि पेट्रोलियम कीमतों, जीएसटी क्रियान्वयन में आ रही दुश्वारियों और बैंकिंग क्षेत्र को पेश आ रही वित्तीय समस्याओं को दूर करने के लिए पर्याप्त कदम नहीं उठाए गए हैं।

इसके बाद राहुल गांधी भी इस मुद्दे पर अपनी तरफ से मुकरे हुए और वे अमेरिका से लेकर गुजरात तक इस मुद्दे पर लगातार बोल रहे हैं। पिछले चार हफ्तों में केंद्र सरकार आर्थिक नीतियों के मोर्चे पर अपनी सक्रियता बढ़ाती नजर आ रही है, बहुत संभव है इसके पीछे असली वजह इन आलोचनाअों का दबाव हो। वित्त मंत्रालय ने इस अवधि में तीन तरह के कदम उठाए हैं। पहली श्रेणी में तेल कीमतों को काबू में रखने के लिए उठाए गए कदम हैं, दूसरी श्रेणी में वस्तु एवं सेवा कर (जीएसटी) की खामियों को दूर करने वाले उपाय हैं जबकि तीसरी श्रेणी के उपाय सरकारी नियंत्रण वाले बैंकों की तनावग्रस्त परिसंपत्ति की समस्या को दूर करने और ढांचागत निवेश को प्रोत्साहन देने से जुड़े हुए हैं। इस बीच जीएसटी के नियमों को लेकर भी सरकार की नरमी देखने को मिली।

जीएसटी परिषद की बैठक में जीएसटी से संबंधित कारोबार जगत की कठिनाइयों को दूर करने के लिए कई उपायों की घोषणा की गई। निर्यातकों को बड़ी राहत देते हुए कहा गया कि कारोबारी निर्यातकों को निर्यात के मकसद से खरीदे गए सभी उत्पादों पर 0.1 फीसदी कम कर देना होगा। निर्यातकों से वसूले गए कर को समयबद्ध तरीके से रिफंड करने का भी फैसला उस बैठक में लिया गया। परिषद ने 27 उत्पादों पर लगने वाली जीएसटी दर को कम करने और वाहनों को लीज पर देने या टैक्सी किराये पर लेने जैसी सेवाओं पर लागू दर में भी रियायत देने का फैसला किया। सरकार ने 24 अक्टूबर को सार्वजनिक बैंकों में 2.11 लाख करोड़ रुपये की पूंजी डालने का एक बड़ा ऐलान भी किया। इसमें 1.35 लाख करोड़ रुपये के पुनर्पूंजीकरण बॉन्ड जारी करने, बाजार से बैंकों को 58,000 करोड़ रुपये की इक्विटी जुटाने और 18,000 करोड़ रुपये सीधे केंद्र सरकार द्वारा डालने की बात कही गई है।

सरकार के इन कदमों से और कुछ हो न हो सेंसेक्स अपनी रिकॉर्ड चढ़ाई पर है और वह कभी भी 35000 के आंकड़े को पार सकता है। पर इकोनोमिक फ्रंट पर सरकार की तमाम फौरी कवायदों से एक बात तो साफ जाहिर है कि सरकार लगातार आलोचनाअों से घिरती जा रही थी। लिहाजा, उसे इकोनोमी से ज्यादा अपनी छवि की चिंता थी। आगे देखना होगा कि सरकार की छवि बचती है या आलोचनाअों से उठे सवाल राजनीति के केंद्र में बने रहते हैं। 

 

advertisement

  • संबंधित खबरें