केपाटन से मंत्री बाबूलाल वर्मा का टिकट कटा, चंद्रकांता मेघवाल को मौका     |       सुप्रीम कोर्ट में एयरफोर्स ने कहा, ३३ साल से नहीं मिला कोई लड़ाकू विमान     |       डोनाल्ड ट्रंप ने कहा- मैं प्रधानमंत्री मोदी का बहुत सम्मान करता हूं     |       सेमी हाईस्पीड ट्रेन टी-18 परीक्षण के लिए दिल्ली पहुंची     |       सिंगापुर: अमेरिका के उपराष्ट्रपति पेंस से मिले PM मोदी     |       बयान से पलटे शाहिद आफरीदी, कहा- कश्मीर में भारत कर रहा जुल्म     |       इसरो / जीसैट-29 का सफल प्रक्षेपण, 2020 तक गगनयान के तहत पहला मानव रहित मिशन शुरू होगा     |       चौटाला परिवार की कलह गहराई, छोटे भाई का बड़े भाई पर प्रहार     |       पश्चिम बंगाल का नाम बदलने के प्रस्ताव को केंद्र ने किया खारिज, 'बांग्ला' नाम पर राजनीति न करे केंद्र सरकार : ममता     |       ट्रैवेल / राम से जुड़े तीर्थ स्थलों की यात्रा के लिए आज से चलेगी श्री रामायण स्पेशल ट्रेन, ऐसे करें टिकट की बुकिंग     |       VIDEO: मंडी में याद किए गए चाचा नेहरू, कांग्रेसी कार्यकर्ताओं ने लिया ये संकल्प     |       लोक आस्था के पर्व पर डीजीपी और सीनियर एसपी मनु महाराज ने भी दिया अर्घ्य     |       प्रधानमंत्री राजपक्सा के खिलाफ संसद में अविश्वास प्रस्ताव पास     |       संसद का शीतकालीन सत्र 11 दिसम्बर से आठ जनवरी तक     |       वायरल वीडियो में कमलनाथ ने मुसलमानों से कहा सतर्क रहें, भाजपा ने साधा निशाना     |       दिल्ली के सिग्नेचर ब्रिज पर सेल्फी के लिए होड़ के बाद निर्वस्त्र होने का वीडियो वायरल     |       दिल्लीः हवा गुणवत्ता में सुधार, लेकिन सुरक्षित अब भी नहीं     |       दीक्षांत समारोह में छात्रों को गोल्ड मेडल देंगे राष्ट्रपति     |       IGNOU B.Ed. Admission 2019: जल्द करें आवेदन, कल अंतिम दिन     |       नौ दिन बाद मलबे में दबे तीनों शव बरामद     |      

राजनीति


मीडिया की भी उतनी जवाबदेही जितनी हमारी: मोदी

पीएम के अनुसार आज सभी नागरिक विभिन्न श्रोतों से मिली खबरों का विश्लेषण और पुष्टि करने की कोशिश करते हैं। इसलिए, मीडिया को अवश्य ही अपनी विश्वसनीयता बनाए रखने के लिए अतिरिक्त प्रयास करने चाहिए।


modi-says-media-should-maintain-credibility

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा है कि भारत के लोकतंत्र के चौथे स्तम्भ मीडिया के ऊपर भी सरकार और न्यायपालिका जितनी जिम्मेदारी और जवाबदेही है। मीडिया अपनी ताक़त का गलत इस्तेमाल न करे। मोदी तमिल दैनिक अखबार 'दिना थांती' के 75 वर्ष पूरे होने के अवसर पर आयोजित एक कार्यक्रम को संबोधित कर रहे थे।

मोदी ने कहा, "संपादकीय स्वतंत्रता का उपयोग सार्वजनिक हित के लिए करना चाहिए और लिखने की स्वतंत्रता का मतलब 'तथ्यात्मक रूप से गलत लिखने की स्वतंत्रता' नहीं है।" उन्होंने आगे कहा कि मीडिया के पास समाज को बदलने की ताकत है और साथ ही मीडिया के ऊपर, निर्वाचित सरकार या न्यायपालिका जितनी समाजिक जवाबदेही भी है।

महात्मा गांधी को उद्धरित करते हुए उन्होंने कहा कि प्रेस 'वास्तव में एक ताकत है, लेकिन इसका दुरुपयोग करना अपराध है।' मोदी ने कहा, "आज, अखबार केवल समाचार नहीं देते हैं। वे हमारी सोच को आकार दे सकते हैं और विश्व के लिए खिड़की खोल सकते हैं। व्यापक संदर्भ में अगर कहें तो मीडिया समाज को बदलने का एक साधन है। इसलिए मीडिया को लोकतंत्र का चौथा स्तंभ कहा जाता है।"

उन्होंने कहा, "भले ही मीडिया प्रतिष्ठान निजी लोगों के स्वामित्व वाले हो सकते हैं, लेकिन वे जनहित के लिए काम कर रहे हैं। जैसा कि विद्वानों ने कहा है, यह(मीडिया) ताकत के बदले शांति से बदलाव स्थापित करने का एक जरिया है। इसी कारण इसपर चुनी हुई सरकार और न्यायपालिका जितनी जवाबदेही है।"

मोदी ने याद दिलाया कि किस तरह राजा राममोहन राय के 'संवाद कौमुदी', बाल गंगाधर तिलक के 'केसरी' और महात्मा गांधी के 'नवजीवन' ने औपनिवेशिक काल में जनमत खड़ा करने और स्वतंत्रता संघर्ष के लिए प्रोत्साहित करने का काम किया था।

प्रधानमंत्री ने कहा, "आज, सभी नागरिक विभिन्न श्रोतों से मिली खबरों का विश्लेषण और पुष्टि करने की कोशिश करते हैं। इसलिए, मीडिया को अवश्य ही अपनी विश्वसनीयता बनाए रखने के लिए अतिरिक्त प्रयास करने चाहिए। विश्ववसनीय मीडिया संस्थानों में स्वस्थ प्रतिस्पर्धा हमारे स्वस्थ लोकतंत्र के लिए भी अच्छा है।"

उन्होंने कहा कि इन दिनों अधिकतर मीडिया संवाद राजनीति के आस-पास घूमता नजर आता है, लेकिन भारत सिर्फ राजनीतिज्ञों से नहीं बना है। मोदी ने कहा, "यह 125 करोड़ भारतीयों का भारत देश है। मुझे यह देखकर काफी खुशी होगी अगर मीडिया उनपर और उनकी उपलब्धियों पर अधिक रपटें प्रकाशित करे।"

advertisement

  • संबंधित खबरें