भाजपा विधायक साधना सिंह ने की मायावती पर अभद्र टिप्पणी, नोटिस भेजेगा महिला आयोग - Hindustan     |       ब्रिटेन को पछाड़कर 2019 में दुनिया की 5वीं सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था बन सकता है भारत: पीडब्ल्यूसी - Dainik Bhaskar     |       राहुल गांधी का नवीन पटनायक के साथ गुप्त गठबंधन: श्रीकांत जेना - Navbharat Times     |       आज दिखाई देगा 'सुपर ब्लड वुल्फ मून', जानें समय और खासियत- Amarujala - अमर उजाला     |       जेईई (मेंस) के परीक्षा परिणाम घोषित, 15 छात्रों ने 100 प्रतिशत अंक हासिल किए - Webdunia Hindi     |       रेलवे स्टेशन पर कुल्हड़ की वापसी, रेल मंत्री का है ये निर्देश! - News18 Hindi     |       विपक्ष की महारैली में उमड़ा जनसैलाब, नेताओं ने भरी मोदी सरकार को उखाड़ फेंकने की हुंकार- Amarujala - अमर उजाला     |       BJP leader from Madhya Pradesh Manoj Thackeray found dead after morning walk, probe underway - Times Now     |       मेक्सिको: तेल पाइपलाइन में हुए धमाके से अब तक 73 लोगों की मौत, 74 घायल - आज तक     |       Mauritian Prime Minister Pravind Jugnauth to arrive in India on 8-day visit - Times Now     |       नशे में महिला सैनिक ने पुरुष साथी का किया यौन शोषण, नहीं मिली सजा - trending clicks - आज तक     |       दिल्ली पुलिस की बड़ी कामयाबी, नेपाली लड़कियों को खाड़ी देशों में बेचने वाला तस्कर गिरफ्तार - आज तक     |       पेट्रोल-डीजल के दाम में रविवार को हुई भारी बढ़ोतरी, फटाफट जानें नए रेट्स - News18 Hindi     |       Amazon Sale: यहां देखें सस्ते स्मार्टफोन और हेडफोन की लिस्ट - आज तक     |       अनिल अंबानी की डूबती नइया बचाने उतरे छोटे बेटे अंशुल अंबानी, ऐसे करेंगे पिता की मदद - Patrika News     |       Amazon Great Indian Sale: अमेज़न प्राइम मेंबर्स के लिए शुरू हुई सेल, मिल रही हैं ये शानदार डील्स - NDTV India     |       salman khan father salim khan becomes horse for his grandson ahil as video goes viral - दैनिक जागरण (Dainik Jagran)     |       सारा अली खान की वजह से परेशान हुए बोनी कपूर, हो रही है बेटी जाह्नवी की चिंता - Hindustan     |       Film Wrap: मणिकर्णिका के निर्माता को आया स्ट्रोक, उरी ने कमाए इतने - आज तक     |       क्रिकेटर युवराज सिंह की पत्नी हेजल कीच का खुलासा, डिप्रेशन के बाद यूं बदली जिंदगी - Times Now Hindi     |       क्रिकेट/ अमला ने तोड़ा कोहली का रिकॉर्ड, सबसे कम पारियों में लगाए 27 शतक - Dainik Bhaskar     |       ऑस्ट्रेलियन ओपन/ फेडरर उलटफेर का शिकार, 15वीं रैंकिंग वाले सितसिपास से हारे; नडाल की जीत - Dainik Bhaskar     |       ऑस्ट्रेलिया से वनडे सीरीज़ जीतने के बाद, ये मैच देखने पहुंचे विराट कोहली, फोटो हुई वायरल - दैनिक जागरण (Dainik Jagran)     |       'मिशन न्यूजीलैंड' के लिए ऑकलैंड पहुंची टीम इंडिया, हुआ जोरदार स्वागत, BCCI ने पोस्ट किया VIDEO- Amarujala - अमर उजाला     |      

व्यापार


नोटबंदी के बाद 17 हज़ार करोड़ जमा कराया, फिर निकाल लिया

कॉर्पोरेट कार्य मंत्रालय ने पिछले तीन वित्तीय वर्षों से वित्तीय विवरण न भरने वाले 3.09 लाख कंपनी बोर्ड निदेशकों को अयोग्य घोषित कर दिया है।


more-than-2-lakh-shell-companies-struck-off

भारत सरकार ने भ्रष्टाचार के ख़िलाफ़ बड़ा अभियान चलाते हुए 2 साल या उससे अधिक समय से निष्क्रिय रहने वाली 2.24 लाख कंपनियों को बंद कर दिया है। साथ ही इनके इनके बैंक खातों पर भी प्रतिबन्ध लगा दिया गया है। कॉरपोरेट मामलों के मंत्रालय ने इस बात की जानकारी दी है।

सरकार ने 56 बैंकों से प्राप्त हुई सूचना के आधार पर 35000 कंपनियों के 58000 खातों को खंगाला तो पता चला कि नोटबंदी  के बाद 17000 करोड़ रूपये से अधिक की राशि इन खातों में जमा कराई गई थी और बाद में वापस निकाल लिया गया था।

इसी में से एक कंपनी का मामला तो और भी रोचक है। दरअसल उसके खाते में 8 नवंबर, 2016 को शुरुआती बैलेंस ऋणात्म।क यानी निगेटिव था। और नोटबंदी के बाद उस खाते में 2,484 करोड़ रुपये जमा कराये गए, फि‍र वापस निकाल लिए गए। वहीँ एक अन्य कंपनी के क़रीब 2,134 खाते होने के बारे में जानकारी मिली है।

बैंक खातों के संचालन पर प्रतिबंध लगाने के अलावा बंद कर दी गई इन समस्त, कंपनियों की चल एवं अचल संपत्तियों की बिक्री और हस्तांतरण पर तब तक के लिए पाबंदी लगाने की कार्रवाई भी की जा चुकी है जब तक कि उनके कामकाज की बहाली नहीं हो जाती है। राज्य सरकारों को सलाह दी गई है कि वे इस तरह के लेन-देन के पंजीकरण को नामंजूर करके इस संबंध में आवश्यक कार्रवाई करें।

इस तरह की कंपनियों के बारे में मिली जानकारियों को केंद्रीय प्रत्यक्ष कर बोर्ड (सीबीडीटी), वित्तीय खुफिया इकाई (एफआईयू), वित्तीय सेवा विभाग (डीएफएस) और भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) इत्यादि सहित प्रवर्तन अधिकारियों के साथ साझा किया गया है, ताकि आगे और आवश्यक कार्रवाई की जा सके।

सरकार के अनुसार कंपनी अधिनियम, 2013 के तहत छानबीन के लिए भी अनेक कंपनियों की पहचान की गई है और इस दिशा में आवश्यक कार्रवाई की जा रही है।

प्रधानमंत्री कार्यालय ने विभिन्न प्रवर्तन एजेंसियों की सहायता से ऐसी गलत (डिफॉल्टिंग) कंपनियों के खिलाफ चलाए गए अभियान की निगरानी के लिए राजस्व सचिव और कॉरपोरेट मामलों के सचिव की संयुक्त अध्यक्षता में एक विशेष कार्य बल का गठन किया है।

इसके अलावा, 2013-14 से लेकर 2015-16 तक के तीन वित्त वर्षों की निरंतर अवधि के दौरान वित्तीय विवरण या वार्षिक रिटर्न दाखिल करने में विफल रही कंपनियों के बोर्ड में शामिल 3.09 लाख निदेशकों को अयोग्य करार दे दिया गया है। प्रारंभिक जांच से पता चला है कि 3,000 से अधिक अयोग्य निदेशकों में से प्रत्येक 20 से अधिक कंपनियों में निदेशक हैं, जो कानून के तहत निर्धारित सीमा से अधिक है।

इसी तरह नियामक तंत्र को मजबूत करने के उद्देश्ये से ‘पूर्व चेतावनी प्रणाली (ईडब्ल्यूएस)’ स्थापित करने हेतु एक अत्याधुनिक सॉफ्टवेयर एप्लीकेशन विकसित करने के लिए अलग से पहल की जा रही है। यह प्रणाली एसएफआईओ में स्थािपित की जाएगी।

advertisement