आईपीएल-11 : राशिद का हरफनमौला प्रदर्शन, हैदराबाद फाइनल में (राउंडअप)     |       कर्नाटक विधानसभा में मुख्यमंत्री कुमारस्वामी ने साबित किया बहुमत, BJP का वॉकआउट     |       2019 में अमेठी या रायबरेली हम जीतेंगे, SP-BSP साथ आए तो मिलेगी चुनौती: अमित शाह     |       निपाह का रहस्य गहराया: रिपोर्ट्स में खुलासा- वायरस फैलने की मुख्य वजह चमगादड़ नहीं     |       समिट रद्द करने के दूसरे दिन ट्रम्प ने जताई किम जोंग के साथ जल्द मुलाकात की उम्मीद, उत्तर कोरिया की तारीफ की     |       CBSE 12th Results 2018: सीबीएसई 12वीं के नतीजे आज होंगे जारी, cbseresults.nic.in पर देखें रिजल्ट     |       मेजर गोगोई के खिलाफ कोर्ट ऑफ इन्कवायरी का आदेश     |       रोहिंग्या मुद्दे पर बांग्लादेश ने मांगी भारत से मदद     |       अरविंद केजरीवाल ने ट्वीट की रवीश कुमार को जान से मारने की धमकी वाली खबर, एलजी से पूछा- है दम इस पर एक्‍शन लेने का     |       देश में पानी और तेल को लेकर आग     |       सीमा पर गोलीबारी व घुसपैठ बंद करे पाकिस्तान : महबूबा     |       गर्मी का कोहराम! दिल्‍ली और इन इलाकों के लिए लू का रेड अलर्ट     |       दिल्ली पुलिस ने सिसोदिया से 3 घंटे में पूछे 100 सवाल, कई के नहीं मिले जवाब     |       बिहार : 5 साल पहले महाबोधि मंदिर के पास हुए बम विस्फोट मामले में सभी 5 आरोपी दोषी करार     |       14 साल के छात्र से महिला टीचर पर संबंध बनाने का आरोप, अरेस्ट     |       अपडेट.. सैन्य शिविर पर ग्रेनेड हमला, दो सैन्यकर्मी घायल     |       झीरम घाटी हत्याकांड की बरसी पर कांग्रेस ने निकाली संकल्प यात्रा     |       घर आने की योजना रद्दकर ड्यूटी पर लौट गया था शहीद     |       वायरल सच: हिंदू लड़की को मुस्लिम लड़के से अलग करने में गुंडागर्दी का सच     |       बंगले को लेकर बदला मायावती का लहजा, देश में शांति व्यवस्था प्रभावित होने की दी चेतावनी     |      

गपशप


कांग्रेस को नया मुद्दा

इस कॉरपोरेशन का दोहन हुआ, कांग्रेसी नेताओं के ये भी आरोप हैं कि इस कॉरपोरेशन के पैसों से ही कई चुनाव लड़े गए।


new-issue-of-congress-party-in-gujarat

2001 से जब से गुजरात में मोदी की एंट्री हुई है, गुजरात स्टेट पेट्रोलियम कॉरपोरेशन लगातार विवादों के घेरे में रहा और राजस्थान की प्रमुख विपक्षी पार्टी कांग्रेस के निषाने पर भी। कांग्रेस का मानना है सन् 2001 से लेकर सन् 2014 तक लगातार राजनैतिक फायदे के लिए इस कॉरपोरेशन का दोहन हुआ, कांग्रेसी नेताओं के ये भी आरोप हैं कि इस कॉरपोरेशन के पैसों से ही कई चुनाव लड़े गए। जब दोहन की इंतहा हो गई और यह कॉरपोरेशन लगभग 20 हजार करोड़ के घाटे में आ गया तो केंद्र सरकार की पहल से इसका विलय देश की सबसे बड़ी नवरत्न कंपनियों में शुमार होने वाली ओएनजीसी में कर दिया गया। सूत्र बताते हैं कि इस दफे के गुजरात विधानसभा चुनाव में कांग्रेस बड़े जोर-षोर से यह मुद्दा उठाने वाली है।

advertisement