सीएम ममता बनर्जी का निशाना: कहा- बीजेपी हिस्ट्री चेंजर है और देश डेंजर में है     |       रिश्वतखोरी / सीवीसी ने सीबीआई चीफ के खिलाफ कुछ आरोपों पर प्रतिकूल रिपोर्ट सौंपी: सुप्रीम कोर्ट     |       छत्तीसगढ़ / मोदी ने कहा- कांग्रेस सोचती है कि उनकी राजगद्दी एक चायवाला कैसे चुरा ले गया?     |       चक्रवात 'गाजा' की दस्तक से तमिलनाडु में भारी तबाही, अब तक 23 लोगों की मौत     |       चुनावी मैदान में उतरे राजस्थान कांग्रेस के दिग्गज     |       पंजाब में घुसे जैश के सात अातंकी, पुलिस ने जारी किए फोटो, दिल्ली में भी घुसने की फिराक में     |       बिहार: छठ पर सपना चौधरी के शो में हुड़दंग, 1 की मौत, 12 लोग जख्मी     |       राजा भैया बनाएंगे अपनी पार्टी, आज कर सकते हैं बड़ा ऐलान     |       Sabarimala Temple Live Updates: एयरपोर्ट से बाहर नहीं निकल पाई तृप्ति देसाई     |       अभूतपूर्वः नायडू की आंध्र सरकार ने CBI को जांच से रोका, केंद्र से बढ़ सकती है और तल्खी     |       शाह से मिलने को बेताब उपेंद्र कुशवाहा एनडीए से होंगे बाहर, जेडीयू ने दिए संकेत     |       कॉपीराइट / शादी के वीडियो में अपने गानों के इस्तेमाल पर टी-सीरीज को आपत्ति, 100 फोटोग्राफर्स पर केस     |       दिल्ली सरकार ने टीएम कृष्णा को कार्यक्रम के लिए किया आमंत्रित, एएआई ने किया था रद्द     |       MP से राहुल का PM पर सीधा वार- अब भ्रष्टाचार पर बोलते नहीं मोदी     |       लोक सेवा आयोग के पूर्व चेयरमैन ने खुद को मारी गोली, घर में मिला शव     |       नोटबंदी नहीं की गई होती, तो भारत की अर्थव्यवस्था ढह जाती : RBI निदेशक एस गुरुमूर्ति     |       वैश्विक रुख से चांदी वायदा भाव में तेजी     |       12वीं में पढ़ने वाली होमगार्ड की लड़की बन गई 1.5 करोड़ की मालकिन, देखिए एेसे खुली किस्मत     |       Indian Railways: साल भर में 14 करोड़ रुपये के कंबल-तौलिए-चादर चुरा ले गए रेल यात्री!     |       RPF Constable/SI पद के रोल नंबर जारी, यहां करें डाउनलोड     |      

गपशप


अखिलेश का नया प्लॉन

सूत्र बताते हैं कि शिवपाल को अब अखिलेश दिल्ली की राजनीति में सक्रिय रखना चाहते हैं, सो मुमकिन है कि उन्हें किसी भांति दिल्ली का ठौर पकड़ाया जाए


new-plan-of-akhilesh-yadav-for-samajwadi-party

समाजवादी पार्टी को नया चेहरा-मोहरा प्रदान करने की कवायद में अखिलेश कहीं शिद्दत से जुटे हैं। पिछले दिनों अखिलेश की अपने पिता से एक लंबी मुलाकात हुई और इस मुलाकात में पार्टी के भावी इंडिकेटर्स को लेकर भी गहन मंत्रणा हुई। अखिलेश ने एक तरह से मुलायम के समक्ष साफ कर दिया है कि वे शिवपाल को और ज्यादा नहीं ढो सकते। सूत्र बताते हैं कि अखिलेश ने अपने पिता के समक्ष इस बात पर कड़ी आपत्ति दर्ज कराई कि अब से पहले तक शिवपाल भाजपा के सीधे संपर्क में थे और जब भाजपा की ओर से उन्हें टका सा जवाब मिल गया कि वे पहले अपनी क्षेत्रीय पार्टी का गठन करें और फिर उसका विलय भाजपा में कर दें, तो लौट के बुद्दू घर को आ गए।

सूत्र बताते हैं कि शिवपाल को अब अखिलेश दिल्ली की राजनीति में सक्रिय रखना चाहते हैं, सो मुमकिन है कि उन्हें किसी भांति दिल्ली का ठौर पकड़ाया जाए, जिससे कि यूपी की जमीन पर अखिलेश बेधड़क अपनी साइकिल दौड़ा सकें। सूत्रों का यह भी दावा है कि आने वाले लोकसभा चुनाव में अखिलेश अपने परिवार के कम से कम तीन लोगों का टिकट काट सकते हैं, इनमें से जिन लोगों के टिकट कट सकते हैं, उनके नाम हैं स्वयं अखिलेश की पत्नी डिंपल यादव, मुलायम के भतीजे व लालू के दामाद तेज प्रताप यादव और प्रोफेसर रामगोपाल यादव के पुत्र अक्षय यादव।

advertisement

  • संबंधित खबरें