राहुल गांधी पर वसुंधरा का पलटवार, कहा- ना अच्छा आचार ना विचार     |       विवादों का राफेल / फ्रांस छह देशों को बेच चुका यह लड़ाकू विमान, भारत को 25% छूट का दावा     |       2019 का महाभारत: केंद्र बिंदु बनने की रणनीति बना रही हैं मायावती     |       शहादत / शहीद नरेंद्र सिंह को दी गई अंतिम विदाई, पत्नी बोली-बेटे को लेफ्टिनेंट बनाऊंगी, बदला जो लेना है     |       आवाज़ अड्डा: बाहरी दुनिया से संघ का संवाद, मुसलमानों को संदेश     |       इमरान की चिट्ठी पर भारत का जवाब- मुलाकात को तैयार, पर ये बातचीत की शुरुआत नहीं     |       हवा में विमान, यात्रियों के नाक-कान से निकलने लगा खून, पढ़ें- आज की बड़ी खबरें     |       शहीद हेमराज की पत्नी बोलीं, एक के बदले दस पाकिस्तानी सैनिकों के सिर लाए भारतीय सेना     |       ट्रेन में मोदी / वर्ल्ड क्लास कन्वेंशन सेंटर का शिलान्यास करने मेट्रो से गए, मेट्रो से ही लौटे     |       रेप पर दिया विवादित बयान तो स्वाति मालीवाल ने अपने पति को ही घेरा, कहा- बोलते वक्त सावधानी बरतें     |       रक्षक बना भक्षक / दिल्ली पुलिस की सिक्योरिटी यूनिट में तैनात एसीपी पर दुष्कर्म का केस     |       कैबिनेट का फैसला / तीन तलाक देने पर 3 साल जेल, मोदी सरकार के अध्यादेश को राष्ट्रपति की मंजूरी     |       दैनिक राशिफल 21 सितंबर 2018 : मेष राशि वाले... जिंदगी का कोई बड़ा फैसला आज न लें     |       छोटे समय की बचत योजनाओं की ब्‍याज दरें बढ़ीं, जानिए आपको होगा कितना फायदा     |       भीमा कोरेगांव हिंसा मामले में SC में हुई तीखी बहस !     |       अब ट्रेन में मिलने वाली चाय, कॉफी होगी महंगी, IRCTC का प्रस्‍ताव रेलवे ने किया मंजूर     |       ईरान के तेल मार्केट पर अमेरिकी प्रतिबंधों का विरोध कर सकता है भारत: रिपोर्ट     |       SC/ST एक्ट सवर्ण समाज के लिए काला कानून करार     |       ओडिशा, आंध्र प्रदेश के लिए चक्रवाती तूफान का अलर्ट जारी     |       स्मारक घोटाला : 14 अरब रुपये के घोटाले की सीबीआई जांच के लिए याचिका दाखिल     |      

गपशप


अखिलेश का नया प्लॉन

सूत्र बताते हैं कि शिवपाल को अब अखिलेश दिल्ली की राजनीति में सक्रिय रखना चाहते हैं, सो मुमकिन है कि उन्हें किसी भांति दिल्ली का ठौर पकड़ाया जाए


new-plan-of-akhilesh-yadav-for-samajwadi-party

समाजवादी पार्टी को नया चेहरा-मोहरा प्रदान करने की कवायद में अखिलेश कहीं शिद्दत से जुटे हैं। पिछले दिनों अखिलेश की अपने पिता से एक लंबी मुलाकात हुई और इस मुलाकात में पार्टी के भावी इंडिकेटर्स को लेकर भी गहन मंत्रणा हुई। अखिलेश ने एक तरह से मुलायम के समक्ष साफ कर दिया है कि वे शिवपाल को और ज्यादा नहीं ढो सकते। सूत्र बताते हैं कि अखिलेश ने अपने पिता के समक्ष इस बात पर कड़ी आपत्ति दर्ज कराई कि अब से पहले तक शिवपाल भाजपा के सीधे संपर्क में थे और जब भाजपा की ओर से उन्हें टका सा जवाब मिल गया कि वे पहले अपनी क्षेत्रीय पार्टी का गठन करें और फिर उसका विलय भाजपा में कर दें, तो लौट के बुद्दू घर को आ गए।

सूत्र बताते हैं कि शिवपाल को अब अखिलेश दिल्ली की राजनीति में सक्रिय रखना चाहते हैं, सो मुमकिन है कि उन्हें किसी भांति दिल्ली का ठौर पकड़ाया जाए, जिससे कि यूपी की जमीन पर अखिलेश बेधड़क अपनी साइकिल दौड़ा सकें। सूत्रों का यह भी दावा है कि आने वाले लोकसभा चुनाव में अखिलेश अपने परिवार के कम से कम तीन लोगों का टिकट काट सकते हैं, इनमें से जिन लोगों के टिकट कट सकते हैं, उनके नाम हैं स्वयं अखिलेश की पत्नी डिंपल यादव, मुलायम के भतीजे व लालू के दामाद तेज प्रताप यादव और प्रोफेसर रामगोपाल यादव के पुत्र अक्षय यादव।

advertisement

  • संबंधित खबरें