LIVE UPDATES: विधानसभा चुनावी नतीजे- राजस्थान, मध्य प्रदेश और छत्तीसगढ़ में कांग्रेस आगे - BBC हिंदी     |       RBI governor Urjit Patel resigns: Read Full Statement here - Times Now     |       Rajasthan Vidhansabha Election Results: किस सीट पर कौन आगे, कौन पीछे - आज तक     |       Mizoram Elections Results 2018 Live: मिजोरम में MNF को रुझानों में मिला बहुमत - NDTV India     |       Big win for India: UK court orders Vijay Mallya extradition - Times Now     |       तीर्थयात्रा/ पाक ने कटास राज धाम यात्रा के लिए 139 भारतीयों को वीजा दिया - Dainik Bhaskar     |       उर्जित पटेल के इस्तीफे पर मनमोहन सिंह ने दिया ये बड़ा बयान - Hindustan     |       पांच राज्यों के चुनाव नतीजे देखें सबसे तेज NDTV पर वीडियो - हिन्दी न्यूज़ वीडियो एनडीटीवी ख़बर - NDTV Khabar     |       Serial killer Mikhail Popkov: Russian ex-policeman convicted over 56 murders - Times Now     |       फ़्रांसः राष्ट्रपति मैक्रों ने किया न्यूनतम वेतन बढ़ाने का वादा - BBC हिंदी     |       यहां सरकार कर रही है लोगों से अपील- 'बच्चे पैदा करो, देरी मत करो’ - NDTV India     |       किराए पर कोख देने वाली लड़कियों की डरावनी कहानी - lifestyle - आज तक     |       सेंसेक्स 35000 के नीचे फिसला, निफ्टी 2% नीचे बंद - - मनी कॉंट्रोल     |       उर्जित पटेल की विदाई और आज के चुनाव नतीजों का शेयर बाजार पर क्या होगा असर? - आज तक     |       चुनाव नतीजों के बाद सरकार बढ़ा सकती है पेट्रोल-डीजल के दाम, इतने रुपये की हो जाएगी वृद्धि- Amarujala - अमर उजाला     |       SBI ने MCLR में किया इजाफा, अब बढ़ जाएगी आपके होम लोन और ऑटो लोन की EMI - दैनिक जागरण (Dainik Jagran)     |       Not films, this is what father-daughter duo Saif Ali Khan and Sara Ali Khan bond over - details inside - Times Now     |       ईशा-आनंद की पार्टी: रणवीर-अभिषेक और सिद्धार्थ का डांस वीडियो वायरल - आज तक     |       सैफ और अमृता ने 'केदारनाथ' रिलीज के बाद किया कुछ ऐसा, सारा को भी नहीं हुआ यकीन - Hindustan     |       '2.0' की रिकॉर्ड तोड़ कमाई का सिलसिला जारी, रेस 3 को पछाड़ा - नवभारत टाइम्स     |       एडिलेड में जीत के बाद फिसली रवि शास्त्री की जुबान, टीवी पर कर दी अभद्र टिप्पणी - Webdunia Hindi     |       ऐडिलेड की जीत ने 2003 की यादों को ताजा कर दिया: तेंडुलकर - Navbharat Times     |       इस तरह खास है विराट-अनुष्का की शादी की पहली सालगिरह - आज तक     |       AUSvsIND: एडिलेड फ़तह के बाद विराट की कंगारु टीम को चेतावनी, कहा- सिर्फ एक जीत से संतुष्ट नहीं होंगे - Hindustan     |      

साहित्य/संस्कृति


पूर्ण प्रेम व्यक्ति से समष्टि की ओर जाता है

मैं उनसे प्रेम करने की हकदार नहीं हूं। पर उसने प्रेम किया और डूब कर किया। दुनिया के विरोध के बावजूद किया। मीरा का प्रेम में हंसते-हंसते जहर का प्याला पी लेना, प्रेम के साहस को ही तो दर्शाता है। दुनिया की ऐसी कौन सी दूसरी शक्ति है, जो यह करने की ताकत देती है। यही बात कबीर के बारे में भी कही जा सकती है।


nida-fazli-says-full-love-leads-from-person-to-mass

मेरे प्रेम की परिभाषा दूसरों के प्रेम की परिभाषा से अलग है। मैं पेड़ की छांव के नीचे बैठता हूं तो पेड़ से प्रेम महसूस करता हूं। बच्चा स्कूल जाता है, बेटी हंसती है तो मुझे अच्छा लगता है। मुझे इन सब में उतनी ही खुशी महसूस होती है, जितना प्रेम करने में होता है बल्कि ऐसा लगता है कि मैं प्रेम ही कर रहा हूं। इस जमाने में प्रेम के विभिन्न रूप हैं और मुझे सभी काफी भाते हैं। यह हैरानी की बात है कि प्रेम, जो इतना पाक साफ है, हमारे समाज में उसका भी विरोध है। इसे मैं अशिक्षा और विकास की गलत राह अपनाने का परिणाम मानता हूं। हमारा कॉमन मैन आज भी वैसा ही है, जैसा आर.के. लक्ष्मण के कार्टूनों में रहा है। उसका कोट फटा हुआ है, चश्मा टूटा हुआ है। वह बहुत खस्ताहाल है और अपनी रोजमर्रा की जरूरतों के लिए संघर्ष उसे अमानवीय बनाता है। यह उसके जीवन में प्रेम का अवकाश नहीं छोड़ता। मतलब प्रेम से महरूम करता है। कई स्तरों पर यह संघर्ष उसके  जीवन में खिन्नता भी पैदा करता है और इस सबके प्रभाव में वह कब और कैसे प्रेम के विरोध में चला जाता है, उसे पता ही नहीं चलता। जमाने के प्रेम के खिलाफ होने की एक बड़ी वजह यह भी है। दूसरी वजहें भी हैं।  असल में प्रेम अपने स्वभाव में ही दुनियावी चलन के खिलाफ होता है। दुनिया में एक ऊंच-नीच है। यहां आदमी छोटे-बड़े होते हैं, प्रेम में नहीं होते। मीरा ने यह नहीं सोचा कि वह भगवान कृष्ण से प्रेम कर रही हैं और वह भगवान हैं मैं इंसान। मैं उनसे प्रेम करने की हकदार नहीं हूं। पर उसने प्रेम किया और डूब कर किया। दुनिया के विरोध के बावजूद किया। मीरा का प्रेम में हंसते-हंसते जहर का प्याला पी लेना, प्रेम के साहस को ही तो दर्शाता है। दुनिया की ऐसी कौन सी दूसरी शक्ति है, जो यह करने की ताकत देती है। यही बात कबीर के बारे में भी कही जा सकती है। उन्होंने भगवान से इंसान के प्रेम को और इंसान से इंसान के प्रेम को नया आयाम दिया। कबीर कहते हैं - 'न माला फेरूं, न व्रत करूं, मुंह से कहूं न राम/ राम हमारा हमे भजे रे, हम होएं गुमनाम, कबीरा हम होएं गुमनाम। यह प्रेम की शक्ति है। प्रेम में कायांतरण की ऐसी कितनी मिसालें मिलतीं हैं। वारिश शाह की हीर कहती है- 'रांझा-रांझा कहते मैं आप ही रांझा होई।‘ प्रेम इसी तरह से कायाकल्प करता है।

ऐसा नहीं है कि कोई भी चाहे और प्रेम कर ले। प्रेम करने के लिए योग्यता हासिल करनी पड़ती है। गालिब ने कहा है कि 'बस के दुश्वार है हर काम का आसां होना /आदमी को मयस्सर नहीं इंसां होना आदमी तो सब पैदा होते हैं, पर इंसान होने में जमाना लग जाता है और प्रेम करने के लिए सिर्फ आपका आदमी होना नहीं, इंसान होना भी जरूरी है। इंसान होने के लिए लंबी यात्रा करनी पड़ती है। इंसान ही प्रेम कर सकता है। इसके लिए अपने से लडऩा पड़ता है। बेहतर करना होता है। तभी प्रेम करने की योग्यता आती है। इस जमाने में यदि सबको प्रेम करने की योग्यता आ जाए, तो जमाने की आधी समस्याएं खत्म हो जाएंगी।

वैसे तो प्रेम के अनेक रूप होते हैं, लेकिन जमाने में प्रेम का सबसे लोकप्रिय रूप माशूका से प्रेम का है। यह प्रेम भी उतना ही पाक-साफ है, जितना खुदा से प्रेम का है बल्कि खुदा के प्रेम से यह कई अर्थों में बेहतर है, क्योंकि यह लौकिक प्रेम है। सुपर पावर से प्रेम की तरह यह अमूर्त प्रेम नहीं है। इस प्रेम की खासियत यह है कि इस एक प्रेम में आदमी कई जीवन जी लेता है। यह प्रेम इतना सरस है कि रोटी में चांद दिखने लगता है। नजीर अकबरावादी ने कहा है - 'हमको तो चांद में नजर आती है रोटी यह प्रेम अलग-अलग वक्त में अलग अलग शेप लेता जाता है। कभी उसमें सिर्फ फूल-पत्तियों की बात होती है तो कभी उसे समझदारी आती है। एक उम्र के बाद वह केयर बन जाता है, लेकिन यहां यह भी सच है कि अगर आप जमाने को प्रेम नहीं कर सकते तो अपनी माशूका से भी मुहब्बत नहीं कर सकते। माशूका को प्रेम करना दुनिया को प्रेम करने का ही एक निजी तरीका है। अगर आपका प्रेम माशूका तक महदूद रह जाता है तो कहीं न कहीं, वह अधूरा है। प्रेम की पूर्णता के लिए जरूरी है कि आप उसे व्यक्ति से समष्टि तक ले जाएं। बुद्ध ने यही किया था। महावीर ने यही किया था। दूसरे कई सारे लोगों ने ऐसा किया। तभी वे जमाने पर अपनी और अपने प्रेम की अमिट छाप छोड़ सके। अगर बुद्ध के मन में प्रेम नहीं होता, जीव जगत के लिए करुणा नहीं होती तो क्यों वे दुनिया को एक नया प्रेम देते।

आज बाजार प्रेम को नष्ट करने की, उसका रूप बिगाडऩे की कोशिश में है, पर वह इसमें सफल नहीं होगा। प्रेम के सामने बड़ी-बड़ी सत्ताएं पराजित हुर्ईं हैं तो यह खाप पंचायत वाले और ये बाजार क्या चीज हैं। आज दुनिया में इतनी हिंसा है, नफरत है। विनाशकारी हथियार हैं। इंसान-इंसान आपस में शत्रु जैसा बर्ताव कर रहे हैं। खुदा की इतनी सुंदर रचना, कायनात का यह रूप दुखी करने वाला है। इस हताशा के माहौल में मुझे सिर्फ प्रेम से ही उम्मीद बंधती है। मुझे अक्सर ऐसा लगता है कि प्रेम कितना जरूरी हो गया है। प्रेम कितना कम हो गया है। हालांकि उसके दावे और प्रदर्शन कितने बढ़ गए हैं।             

(उमा शंकर से बातचीत पर आधारित)                                                                          

advertisement

  • संबंधित खबरें