कश्मीर मुद्दा: भाजपा के इस नेता ने सोज और गुलाम नबी आजद की तुलना हाफिज सईद से की     |       जम्मू-कश्मीर: सुरक्षाबलों ने इस्लामिक स्टेट के सरगना समेत 4 आतंकियों को किया ढेर…     |       ममता चाहती थीं नेताओं से बैठकें, चीन ने नहीं दी मंजूरी तो रद्द किया दौरा     |       ईद पर 100 युवकाें से गले मिलने वाली लड़की काे लेकर एक आैर बड़ा खुलासा     |       वडोदरा के स्कूल में 9वीं के छात्र की हत्या, पुलिस को सीनियर पर शक     |       जेटली का राहुल गांधी पर वार- मानवाधिकार संगठनों के प्रति बढ़ रही है उनकी सहानुभूति     |       दाती महाराज की मुश्किलें बढ़ती जा रही हैं, रात्रि में चरण सेवा के नाम पर लड़कियों को बुलाता था     |       अमरनाथ यात्रा की तैयारियां पूरी, यात्रा शांतिपूर्वक होगी: राज्यपाल     |       कांग्रेस ने नोटबंदी को बताया आजाद भारत का सबसे बड़ा घोटाला, पीएम से मांगा जवाब     |       ED की माल्या को भगोड़ा घोषित करने की पहल, जब्त होगी संपत्ति     |       PNB घोटाले में CBI को मिल सकती है बड़ी कामयाबी, जल्द गिरफ्त में आएगा नीरव मोदी     |       अरुण जेटली का बड़ा हमला: कहा, राहुल गांधी के दिल में बसते हैं विध्‍वंसक तत्‍व     |       कश्‍मीर में ऑपरेशन ऑल आउट: सबसे खूंखार 22 आतंकियों की लिस्‍ट जारी, एक को किया ढेर     |       बड़ा फैसला: नोएडा के सेक्टर-123 से हटाया जाएगा डंपिंग ग्राउंड     |       शिवपाल यादव की अखिलेश को नसीहत, बड़ों की बात मानते तो दोबारा सीएम बनते     |       सोनिया गांधी से मिलने पहुंचीं सपना चौधरी, कहा- कांग्रेस के लिए कर सकती हूं प्रचार     |       2019 चुनाव से पहले कांग्रेस के अंदर बड़ा फेरबदल, खड़गे को महाराष्ट्र की जिम्मेदारी     |       झारखंड HC ने लालू यादव की अंतरिम जमानत तीन जुलाई तक बढ़ाई     |       हापुड़ लिंचिंग: घायल को अमानवीय तरीके से ले जाने पर यूपी पुलिस ने मांगी माफ़ी     |       Kundli Tv- निर्जला एकादशी: यह है शुभ मुहूर्त और कथा     |      

साहित्य/संस्कृति


पूर्ण प्रेम व्यक्ति से समष्टि की ओर जाता है

मैं उनसे प्रेम करने की हकदार नहीं हूं। पर उसने प्रेम किया और डूब कर किया। दुनिया के विरोध के बावजूद किया। मीरा का प्रेम में हंसते-हंसते जहर का प्याला पी लेना, प्रेम के साहस को ही तो दर्शाता है। दुनिया की ऐसी कौन सी दूसरी शक्ति है, जो यह करने की ताकत देती है। यही बात कबीर के बारे में भी कही जा सकती है।


nida-fazli-says-full-love-leads-from-person-to-mass

मेरे प्रेम की परिभाषा दूसरों के प्रेम की परिभाषा से अलग है। मैं पेड़ की छांव के नीचे बैठता हूं तो पेड़ से प्रेम महसूस करता हूं। बच्चा स्कूल जाता है, बेटी हंसती है तो मुझे अच्छा लगता है। मुझे इन सब में उतनी ही खुशी महसूस होती है, जितना प्रेम करने में होता है बल्कि ऐसा लगता है कि मैं प्रेम ही कर रहा हूं। इस जमाने में प्रेम के विभिन्न रूप हैं और मुझे सभी काफी भाते हैं। यह हैरानी की बात है कि प्रेम, जो इतना पाक साफ है, हमारे समाज में उसका भी विरोध है। इसे मैं अशिक्षा और विकास की गलत राह अपनाने का परिणाम मानता हूं। हमारा कॉमन मैन आज भी वैसा ही है, जैसा आर.के. लक्ष्मण के कार्टूनों में रहा है। उसका कोट फटा हुआ है, चश्मा टूटा हुआ है। वह बहुत खस्ताहाल है और अपनी रोजमर्रा की जरूरतों के लिए संघर्ष उसे अमानवीय बनाता है। यह उसके जीवन में प्रेम का अवकाश नहीं छोड़ता। मतलब प्रेम से महरूम करता है। कई स्तरों पर यह संघर्ष उसके  जीवन में खिन्नता भी पैदा करता है और इस सबके प्रभाव में वह कब और कैसे प्रेम के विरोध में चला जाता है, उसे पता ही नहीं चलता। जमाने के प्रेम के खिलाफ होने की एक बड़ी वजह यह भी है। दूसरी वजहें भी हैं।  असल में प्रेम अपने स्वभाव में ही दुनियावी चलन के खिलाफ होता है। दुनिया में एक ऊंच-नीच है। यहां आदमी छोटे-बड़े होते हैं, प्रेम में नहीं होते। मीरा ने यह नहीं सोचा कि वह भगवान कृष्ण से प्रेम कर रही हैं और वह भगवान हैं मैं इंसान। मैं उनसे प्रेम करने की हकदार नहीं हूं। पर उसने प्रेम किया और डूब कर किया। दुनिया के विरोध के बावजूद किया। मीरा का प्रेम में हंसते-हंसते जहर का प्याला पी लेना, प्रेम के साहस को ही तो दर्शाता है। दुनिया की ऐसी कौन सी दूसरी शक्ति है, जो यह करने की ताकत देती है। यही बात कबीर के बारे में भी कही जा सकती है। उन्होंने भगवान से इंसान के प्रेम को और इंसान से इंसान के प्रेम को नया आयाम दिया। कबीर कहते हैं - 'न माला फेरूं, न व्रत करूं, मुंह से कहूं न राम/ राम हमारा हमे भजे रे, हम होएं गुमनाम, कबीरा हम होएं गुमनाम। यह प्रेम की शक्ति है। प्रेम में कायांतरण की ऐसी कितनी मिसालें मिलतीं हैं। वारिश शाह की हीर कहती है- 'रांझा-रांझा कहते मैं आप ही रांझा होई।‘ प्रेम इसी तरह से कायाकल्प करता है।

ऐसा नहीं है कि कोई भी चाहे और प्रेम कर ले। प्रेम करने के लिए योग्यता हासिल करनी पड़ती है। गालिब ने कहा है कि 'बस के दुश्वार है हर काम का आसां होना /आदमी को मयस्सर नहीं इंसां होना आदमी तो सब पैदा होते हैं, पर इंसान होने में जमाना लग जाता है और प्रेम करने के लिए सिर्फ आपका आदमी होना नहीं, इंसान होना भी जरूरी है। इंसान होने के लिए लंबी यात्रा करनी पड़ती है। इंसान ही प्रेम कर सकता है। इसके लिए अपने से लडऩा पड़ता है। बेहतर करना होता है। तभी प्रेम करने की योग्यता आती है। इस जमाने में यदि सबको प्रेम करने की योग्यता आ जाए, तो जमाने की आधी समस्याएं खत्म हो जाएंगी।

वैसे तो प्रेम के अनेक रूप होते हैं, लेकिन जमाने में प्रेम का सबसे लोकप्रिय रूप माशूका से प्रेम का है। यह प्रेम भी उतना ही पाक-साफ है, जितना खुदा से प्रेम का है बल्कि खुदा के प्रेम से यह कई अर्थों में बेहतर है, क्योंकि यह लौकिक प्रेम है। सुपर पावर से प्रेम की तरह यह अमूर्त प्रेम नहीं है। इस प्रेम की खासियत यह है कि इस एक प्रेम में आदमी कई जीवन जी लेता है। यह प्रेम इतना सरस है कि रोटी में चांद दिखने लगता है। नजीर अकबरावादी ने कहा है - 'हमको तो चांद में नजर आती है रोटी यह प्रेम अलग-अलग वक्त में अलग अलग शेप लेता जाता है। कभी उसमें सिर्फ फूल-पत्तियों की बात होती है तो कभी उसे समझदारी आती है। एक उम्र के बाद वह केयर बन जाता है, लेकिन यहां यह भी सच है कि अगर आप जमाने को प्रेम नहीं कर सकते तो अपनी माशूका से भी मुहब्बत नहीं कर सकते। माशूका को प्रेम करना दुनिया को प्रेम करने का ही एक निजी तरीका है। अगर आपका प्रेम माशूका तक महदूद रह जाता है तो कहीं न कहीं, वह अधूरा है। प्रेम की पूर्णता के लिए जरूरी है कि आप उसे व्यक्ति से समष्टि तक ले जाएं। बुद्ध ने यही किया था। महावीर ने यही किया था। दूसरे कई सारे लोगों ने ऐसा किया। तभी वे जमाने पर अपनी और अपने प्रेम की अमिट छाप छोड़ सके। अगर बुद्ध के मन में प्रेम नहीं होता, जीव जगत के लिए करुणा नहीं होती तो क्यों वे दुनिया को एक नया प्रेम देते।

आज बाजार प्रेम को नष्ट करने की, उसका रूप बिगाडऩे की कोशिश में है, पर वह इसमें सफल नहीं होगा। प्रेम के सामने बड़ी-बड़ी सत्ताएं पराजित हुर्ईं हैं तो यह खाप पंचायत वाले और ये बाजार क्या चीज हैं। आज दुनिया में इतनी हिंसा है, नफरत है। विनाशकारी हथियार हैं। इंसान-इंसान आपस में शत्रु जैसा बर्ताव कर रहे हैं। खुदा की इतनी सुंदर रचना, कायनात का यह रूप दुखी करने वाला है। इस हताशा के माहौल में मुझे सिर्फ प्रेम से ही उम्मीद बंधती है। मुझे अक्सर ऐसा लगता है कि प्रेम कितना जरूरी हो गया है। प्रेम कितना कम हो गया है। हालांकि उसके दावे और प्रदर्शन कितने बढ़ गए हैं।             

(उमा शंकर से बातचीत पर आधारित)                                                                          

advertisement