विधानसभा चुनावी नतीजे- मध्य प्रदेश और राजस्थान में कांटे की टक्कर, छत्तीसगढ़ में कांग्रेस आगे : LIVE UPDATES - BBC हिंदी     |       RBI governor Urjit Patel resigns: Read Full Statement here - Times Now     |       Vijay Mallya verdict: UK Westminster Court orders Mallya's extradition - Times Now     |       बड़ा सवाल: उपेंद्र कुशवाहा के इस्तीफे से कितनी बदलेगी बिहार की राजनीति, जानिए - दैनिक जागरण     |       तीर्थयात्रा/ पाक ने कटास राज धाम यात्रा के लिए 139 भारतीयों को वीजा दिया - Dainik Bhaskar     |       मोदी सरकार ने RBI की गरिमा की धूमिल, आजादी का हनन करना बीजेपी का DNA बना: कांग्रेस - Firstpost Hindi     |       पांच राज्यों के चुनाव नतीजे देखें सबसे तेज NDTV पर वीडियो - हिन्दी न्यूज़ वीडियो एनडीटीवी ख़बर - NDTV Khabar     |       जिसके पीछे पड़ी है CBI, उसी की कोशिशों से माल्या के प्रत्यर्पण पर मिली सफलता - आज तक     |       यहां सरकार कर रही है लोगों से अपील- 'बच्चे पैदा करो, देरी मत करो’ - NDTV India     |       फ़्रांसः राष्ट्रपति मैक्रों ने किया न्यूनतम वेतन बढ़ाने का वादा - BBC हिंदी     |       Serial killer Mikhail Popkov: Russian ex-policeman convicted over 56 murders - Times Now     |       किराए पर कोख देने वाली लड़कियों की डरावनी कहानी - lifestyle - आज तक     |       एक नहीं 3 कारण, पहले से ही सहमा शेयर बाजार आज जाएगा बिखर? - Business - आज तक     |       चुनाव नतीजों के बाद सरकार बढ़ा सकती है पेट्रोल-डीजल के दाम, इतने रुपये की हो जाएगी वृद्धि- Amarujala - अमर उजाला     |       BSNL ने अपने बंपर ऑफर्स में किया बदलाव, अब मिलेंगे ये बड़े फायदे - Patrika News     |       Petrol Price: पेट्रोल, डीजल के भाव में लगातार पांचवें दिन भी गिरावट, जानिए आज का रेट - Times Now Hindi     |       'The Cut' Writer Finally Apologizes to Priyanka Chopra - Papermag     |       Not films, this is what father-daughter duo Saif Ali Khan and Sara Ali Khan bond over - details inside - Times Now     |       Sara Ali Khan and Sushant Singh Rajput's Kedaranth lands in legal trouble again; case filed in Uttar Pradesh - Times Now     |       स्टूडेंट्स के साथ सारा अली खान ने किया जमकर डांस, अपनी फिल्म 'केदारनाथ' को प्रमोट करने पहुंची थीं कॉलेज : VIDEO - Dainik Bhaskar     |       फिटनेस हासिल करने की कवायद: पर्थ टेस्ट से पहले पृथ्वी साव ने किया दौड़ना शुरू - Navbharat Times     |       विराट एंड कंपनी की जीत से उत्साहित क्रिकेट जगत, बीसीसीआई ने दी बधाई - Webdunia Hindi     |       इस तरह खास है विराट-अनुष्का की शादी की पहली सालगिरह - आज तक     |       AUSvsIND: एडिलेड फ़तह के बाद विराट की कंगारु टीम को चेतावनी, कहा- सिर्फ एक जीत से संतुष्ट नहीं होंगे - Hindustan     |      

राज्य


नीति आयोग ने कहा कि देश के पिछड़े जिलों में यूपी सबसे आगे

कांत ने कहा कि मेरा विचार है कि जब तक आप इन इलाकों का नाम लेकर उन्हें शर्म नहीं दिलाएंगे, तब तक भारत के लिए विकास करना काफी मुश्किल होगा। सुशासन को अच्छी राजनीति बनाना चाहिए।


niti-aayog-backward-districts-uttar-pradesh-country

नई दिल्लीः नीति आयोग के एक सर्वे के मुताबिक देश के 201 जिले शिक्षा, स्वास्थ्य और पोषण के मामले में पिछड़े और बदहाल हैं। इन जिलों में 25 फीसदी जिले अकेले उत्तर प्रदेश के हैं। यूपी के बाद बिहार और मध्य प्रदेश का नंबर है। नीति आयोग के मुख्य कार्यकारी अधिकारी अमिताभ कांत ने पोषण, गरीबी से पीड़ित बचपन, शिक्षा और युवा व रोजगार पर भारत के 'यंग लाइव्स लांजीट्यूडिनल सर्वे' को जारी किया। इस दौरान उन्होंने कहा कि अगर आप देश के 201 जिलों को देखें, जहां हम असफल हैं..तो उनमें से 53 उत्तर प्रदेश में, 36 बिहार में और 18 मध्य प्रदेश में है।

कांत ने कहा कि मेरा विचार है कि जब तक आप इन इलाकों का नाम लेकर उन्हें शर्म नहीं दिलाएंगे, तब तक भारत के लिए विकास करना काफी मुश्किल होगा। सुशासन को अच्छी राजनीति बनाना चाहिए। कांत ने पहले कहा था कि पूर्वी भारत के 7 से 8 राज्य हैं जो देश को पीछे खींच रहे हैं, इसलिए इन राज्यों को 'नाम लेकर शर्म दिलाने की जरूरत' है।  नीति आयोग के सीईओ ने कहा कि दक्षिण भारत के साथ कोई समस्या नहीं है। पश्चिम भारत के साथ कोई समस्या नहीं है। यह केवल पूर्वी भारत के साथ है, वहां के सात राज्यों और 201 जिलों की समस्या है। जब तक आप इन्हें नहीं बदलते, भारत में कभी बदलाव नहीं आ सकता।

हालांकि कांत ने कहा कि वास्तविक समय के डेटा की उपलब्धता, सार्वजनिक डोमेन में बहुत नजदीकी से निगरानी और राज्यों की रैंकिंग से ही यह समस्या दूर होगी। उन्होंने कहा कि जिस क्षण यह भारत में होना शुरू हो जाएगा, उसी क्षण चीजें सुधरने लगेंगी। कांत ने कहा कि नीति आयोग वास्तविक समय का डेटा इकट्ठा करने और उन्हें सार्वजनिक क्षेत्र में डालने की दिशा में काम कर रहा है। उन्होंने कहा कि आधे समय तो प्रशासक बिना वर्तमान आंकड़ों के ही चीजें करते रहते हैं। इसलिए बिना स्पष्ट आंकड़ों के ही नीतिगत निर्णय लिए जाते हैं।

advertisement

  • संबंधित खबरें