सबरीमाला मंदिर: कपाट खुले पर महिलाएं रोकी गई, बवाल के बाद धारा-144 लागू     |       #MeToo की भेंट चढ़े मोदी के मंत्री एमजे अकबर, विदेश राज्यमंत्री पद से इस्तीफा     |       मारवाड़ में कांग्रेस और मानवेंद्र बिगाड़ सकते हैं भाजपा का खेल     |       गुरुद्वारा / दान देने के लिए राहुल ने 500 रुपए निकाले, ज्योतिरादित्य ने आचार संहिता याद दिलाई तो जेब में रखे     |       मेरठ / जासूसी के आरोप में आर्मी इंटेलीजेंस ने सेना के जवान को किया गिरफ्तार     |       छठ-दिवाली के दौरान Indian Railway का यात्रियों को तोहफा, चलेंगी ये 9 स्पेशल ट्रेनें     |       सूर्य देव कर रहे हैं तुला राशि में प्रवेश, इन राशियों पर होगा असर     |       गुजरात: नहीं रुक रहे बिहारियों पर हमले, लुंगी पहनने पर सात लोगों की पिटाई     |       माया के बंगले में घुसते ही शिवपाल बोले- अखिलेश की हैसियत पता चलेगी     |       हाेटल के बाहर गन लहराने वाले पूर्व सांसद के बेटे के खिलाफ गैर जमानती वारंट     |       रिपोर्ट / ब्रह्मोस से ज्यादा ताकतवर चीनी मिसाइल खरीदने की तैयारी में पाकिस्तान     |       पीएनबी घोटाला / मेहुल चौकसी और अन्य आरोपियों की 218 करोड़ रुपए की संपत्ति अटैच     |       FIR March: सपा नेता आजम के खिलाफ एफआइआर दर्ज कराने पहुंचे अमर सिंह     |       चुनाव / कांग्रेस ने मध्यप्रदेश विधानसभा के लिए 80 उम्मीदवार तय किए, लिस्ट जारी नहीं की     |       Paytm, MobiKwik और दूसरे मोबाइल वॉलेट यूजर्स के लिए खुशखबरी, अब कर पाएंगे ये काम     |       इन दो वजहों से पूरी दुनिया में घंटे भर ठप रहा YouTube     |       कभी अकबर ने बदला था नाम, इलाहाबाद को 450 वर्षों बाद मिला अपना पुराना नाम     |       कश्मीर / श्रीनगर में सुरक्षाबलों के साथ मुठभेड़ में 3 आतंकी ढेर, पुलिस का जवान शहीद     |       छत्तीसगढ़: बख्तरबंद गाड़ी ने कार को घसीटा, मुश्किल में पड़ी परिवार की जान     |       ओला ड्राइवर की मदद से इस तरह पकड़ा गया मॉडल मानसी दीक्षित का कातिल     |      

राज्य


नीति आयोग ने कहा कि देश के पिछड़े जिलों में यूपी सबसे आगे

कांत ने कहा कि मेरा विचार है कि जब तक आप इन इलाकों का नाम लेकर उन्हें शर्म नहीं दिलाएंगे, तब तक भारत के लिए विकास करना काफी मुश्किल होगा। सुशासन को अच्छी राजनीति बनाना चाहिए।


niti-aayog-backward-districts-uttar-pradesh-country

नई दिल्लीः नीति आयोग के एक सर्वे के मुताबिक देश के 201 जिले शिक्षा, स्वास्थ्य और पोषण के मामले में पिछड़े और बदहाल हैं। इन जिलों में 25 फीसदी जिले अकेले उत्तर प्रदेश के हैं। यूपी के बाद बिहार और मध्य प्रदेश का नंबर है। नीति आयोग के मुख्य कार्यकारी अधिकारी अमिताभ कांत ने पोषण, गरीबी से पीड़ित बचपन, शिक्षा और युवा व रोजगार पर भारत के 'यंग लाइव्स लांजीट्यूडिनल सर्वे' को जारी किया। इस दौरान उन्होंने कहा कि अगर आप देश के 201 जिलों को देखें, जहां हम असफल हैं..तो उनमें से 53 उत्तर प्रदेश में, 36 बिहार में और 18 मध्य प्रदेश में है।

कांत ने कहा कि मेरा विचार है कि जब तक आप इन इलाकों का नाम लेकर उन्हें शर्म नहीं दिलाएंगे, तब तक भारत के लिए विकास करना काफी मुश्किल होगा। सुशासन को अच्छी राजनीति बनाना चाहिए। कांत ने पहले कहा था कि पूर्वी भारत के 7 से 8 राज्य हैं जो देश को पीछे खींच रहे हैं, इसलिए इन राज्यों को 'नाम लेकर शर्म दिलाने की जरूरत' है।  नीति आयोग के सीईओ ने कहा कि दक्षिण भारत के साथ कोई समस्या नहीं है। पश्चिम भारत के साथ कोई समस्या नहीं है। यह केवल पूर्वी भारत के साथ है, वहां के सात राज्यों और 201 जिलों की समस्या है। जब तक आप इन्हें नहीं बदलते, भारत में कभी बदलाव नहीं आ सकता।

हालांकि कांत ने कहा कि वास्तविक समय के डेटा की उपलब्धता, सार्वजनिक डोमेन में बहुत नजदीकी से निगरानी और राज्यों की रैंकिंग से ही यह समस्या दूर होगी। उन्होंने कहा कि जिस क्षण यह भारत में होना शुरू हो जाएगा, उसी क्षण चीजें सुधरने लगेंगी। कांत ने कहा कि नीति आयोग वास्तविक समय का डेटा इकट्ठा करने और उन्हें सार्वजनिक क्षेत्र में डालने की दिशा में काम कर रहा है। उन्होंने कहा कि आधे समय तो प्रशासक बिना वर्तमान आंकड़ों के ही चीजें करते रहते हैं। इसलिए बिना स्पष्ट आंकड़ों के ही नीतिगत निर्णय लिए जाते हैं।

advertisement

  • संबंधित खबरें