सबरीमाला मंदिर: कपाट खुले पर महिलाएं रोकी गई, बवाल के बाद धारा-144 लागू     |       #MeToo की भेंट चढ़े मोदी के मंत्री एमजे अकबर, विदेश राज्यमंत्री पद से इस्तीफा     |       मारवाड़ में कांग्रेस और मानवेंद्र बिगाड़ सकते हैं भाजपा का खेल     |       गुरुद्वारा / दान देने के लिए राहुल ने 500 रुपए निकाले, ज्योतिरादित्य ने आचार संहिता याद दिलाई तो जेब में रखे     |       मेरठ / जासूसी के आरोप में आर्मी इंटेलीजेंस ने सेना के जवान को किया गिरफ्तार     |       छठ-दिवाली के दौरान Indian Railway का यात्रियों को तोहफा, चलेंगी ये 9 स्पेशल ट्रेनें     |       सूर्य देव कर रहे हैं तुला राशि में प्रवेश, इन राशियों पर होगा असर     |       लालू का ट्वीट-गुजरात में लुंगी पहनने वाले बिहारियों को पीटा, ये है न्यू इंडिया     |       माया के बंगले में घुसते ही शिवपाल बोले- अखिलेश की हैसियत पता चलेगी     |       हाेटल के बाहर गन लहराने वाले पूर्व सांसद के बेटे के खिलाफ गैर जमानती वारंट     |       रिपोर्ट / ब्रह्मोस से ज्यादा ताकतवर चीनी मिसाइल खरीदने की तैयारी में पाकिस्तान     |       FIR March: सपा नेता आजम के खिलाफ एफआइआर दर्ज कराने पहुंचे अमर सिंह     |       पीएनबी घोटाला / मेहुल चौकसी और अन्य आरोपियों की 218 करोड़ रुपए की संपत्ति अटैच     |       चुनाव / कांग्रेस ने मध्यप्रदेश विधानसभा के लिए 80 उम्मीदवार तय किए, लिस्ट जारी नहीं की     |       Paytm, MobiKwik और दूसरे मोबाइल वॉलेट यूजर्स के लिए खुशखबरी, अब कर पाएंगे ये काम     |       इन दो वजहों से पूरी दुनिया में घंटे भर ठप रहा YouTube     |       कभी अकबर ने बदला था नाम, इलाहाबाद को 450 वर्षों बाद मिला अपना पुराना नाम     |       कश्मीर / श्रीनगर में सुरक्षाबलों के साथ मुठभेड़ में 3 आतंकी ढेर, पुलिस का जवान शहीद     |       छत्तीसगढ़: बख्तरबंद गाड़ी ने कार को घसीटा, मुश्किल में पड़ी परिवार की जान     |       ओला ड्राइवर की मदद से इस तरह पकड़ा गया मॉडल मानसी दीक्षित का कातिल     |      

राजनीति


अब मणिपुर में हंगामा | कांग्रेस ने पेश किया सरकार बनाने का दावा

कर्नाटक के राजनीतिक घटनाक्रम पर बोलने से इंकार करते हुए मणिपुर के मुख्यमंत्री एन. बिरेन सिंह ने कहा, "यह एक संवैधानिक मामला है और मैं इसपर टिप्पणी नहीं करना चाहता हूं"


now-fervor-in-manipur-congress-meet-governors-seek-invite-to-prove-majority

कर्नाटक में चल रहे राजनीतिक नाटक के बीच मणिपुर में भी राजनीतिक हंगामा शुरू हो सकता है। मणिपुर में विपक्षी पार्टी के नेताओं ने शुक्रवार को राज्यपाल जगदीश मुखी से मुलाकात कर राज्य में सरकार बनाने का दावा पेश किया। मणिपुर की राज्यपाल नजमा हेपतुल्ला छुट्टी पर हैं, और इनदिनों यहां का कार्यभार असम के राज्यपाल मुखी संभाल रहे हैं।

राजभवन से बाहर आने के बाद पूर्व मुख्यमंत्री और कांग्रेस नेता ओकराम इबोबी सिंह ने कहा, "हम मणिपुर में भाजपानीत गठबंधन को तत्काल हटाने की मांग करते हैं, क्योंकि मार्च 2017 में हुए विधानसभा चुनाव में सबसे ज्यादा सीटें प्राप्त करने वाली कांग्रेस ने यहां 28 सीटों पर जीत दर्ज की थी और यहां सबसे बड़ी पार्टी होने के बावजूद कांग्रेस को सरकार बनाने का मौका नहीं दिया गया था।"

उन्होंने कहा, "अगर हमें सरकार बनाने का मौका दिया गया, तो हम चंद दिनों में ही आसानी से बहुमत साबित कर देंगे।" मुखी ने हालांकि कहा कि वह कांग्रेस द्वारा सौंपे गए ज्ञापन पर विचार करेंगे।

कर्नाटक के राजनीतिक घटनाक्रम पर बोलने से इंकार करते हुए मणिपुर के मुख्यमंत्री एन. बिरेन सिंह ने कहा, "यह एक संवैधानिक मामला है और मैं इसपर टिप्पणी नहीं करना चाहता हूं।"

इबोबी ने कहा कि उनकी पार्टी शनिवार को चार बजे तक इंतजार करेगी और उसके बाद अगला कदम उठाएगी।

advertisement

  • संबंधित खबरें