जम्मू-कश्मीर पर आजाद और सोज के बयानों पर आमने-सामने आईं भाजपा और कांग्रेस     |       जम्मू-कश्मीर: सुरक्षाबलों ने इस्लामिक स्टेट के सरगना समेत 4 आतंकियों को किया ढेर…     |       ममता चाहती थीं नेताओं से बैठकें, चीन ने नहीं दी मंजूरी तो रद्द किया दौरा     |       ईद पर 100 युवकाें से गले मिलने वाली लड़की काे लेकर एक आैर बड़ा खुलासा     |       वडोदरा के स्कूल में 9वीं के छात्र की हत्या, पुलिस को सीनियर पर शक     |       दाती महाराज की मुश्किलें बढ़ती जा रही हैं, रात्रि में चरण सेवा के नाम पर लड़कियों को बुलाता था     |       जेटली का राहुल गांधी पर वार- मानवाधिकार संगठनों के प्रति बढ़ रही है उनकी सहानुभूति     |       कांग्रेस ने नोटबंदी को बताया आजाद भारत का सबसे बड़ा घोटाला, पीएम से मांगा जवाब     |       अमरनाथ यात्रा की तैयारियां पूरी, यात्रा शांतिपूर्वक होगी: राज्यपाल     |       नीरव मोदी के खिलाफ रेड कॉर्नर नोटिस जारी कर सकता है इंटरपोल     |       ED की माल्या को भगोड़ा घोषित करने की पहल, जब्त होगी संपत्ति     |       शौहर ने दी धमकी-तू बैंक गई तो तीन तलाक पक्का, बीवी ने नहीं मानी बात, फिर...     |       कश्‍मीर में ऑपरेशन ऑल आउट: सबसे खूंखार 22 आतंकियों की लिस्‍ट जारी, एक को किया ढेर     |       बड़ा फैसला: नोएडा के सेक्टर-123 से हटाया जाएगा डंपिंग ग्राउंड     |       अरुण जेटली ने ब्लॉग में राहुल पर किया तीखा हमला, पूछा- कौन है मानवाधिकारों का दुश्मन?     |       शिवपाल यादव की अखिलेश को नसीहत, बड़ों की बात मानते तो दोबारा सीएम बनते     |       सोनिया गांधी से मिलने पहुंचीं सपना चौधरी, कहा- कांग्रेस के लिए कर सकती हूं प्रचार     |       2019 चुनाव से पहले कांग्रेस के अंदर बड़ा फेरबदल, खड़गे को महाराष्ट्र की जिम्मेदारी     |       झारखंड HC ने लालू यादव की अंतरिम जमानत तीन जुलाई तक बढ़ाई     |       हापुड़ लिंचिंग: घायल को अमानवीय तरीके से ले जाने पर यूपी पुलिस ने मांगी माफ़ी     |      

राजनीति


अब मणिपुर में हंगामा | कांग्रेस ने पेश किया सरकार बनाने का दावा

कर्नाटक के राजनीतिक घटनाक्रम पर बोलने से इंकार करते हुए मणिपुर के मुख्यमंत्री एन. बिरेन सिंह ने कहा, "यह एक संवैधानिक मामला है और मैं इसपर टिप्पणी नहीं करना चाहता हूं"


now-fervor-in-manipur-congress-meet-governors-seek-invite-to-prove-majority

कर्नाटक में चल रहे राजनीतिक नाटक के बीच मणिपुर में भी राजनीतिक हंगामा शुरू हो सकता है। मणिपुर में विपक्षी पार्टी के नेताओं ने शुक्रवार को राज्यपाल जगदीश मुखी से मुलाकात कर राज्य में सरकार बनाने का दावा पेश किया। मणिपुर की राज्यपाल नजमा हेपतुल्ला छुट्टी पर हैं, और इनदिनों यहां का कार्यभार असम के राज्यपाल मुखी संभाल रहे हैं।

राजभवन से बाहर आने के बाद पूर्व मुख्यमंत्री और कांग्रेस नेता ओकराम इबोबी सिंह ने कहा, "हम मणिपुर में भाजपानीत गठबंधन को तत्काल हटाने की मांग करते हैं, क्योंकि मार्च 2017 में हुए विधानसभा चुनाव में सबसे ज्यादा सीटें प्राप्त करने वाली कांग्रेस ने यहां 28 सीटों पर जीत दर्ज की थी और यहां सबसे बड़ी पार्टी होने के बावजूद कांग्रेस को सरकार बनाने का मौका नहीं दिया गया था।"

उन्होंने कहा, "अगर हमें सरकार बनाने का मौका दिया गया, तो हम चंद दिनों में ही आसानी से बहुमत साबित कर देंगे।" मुखी ने हालांकि कहा कि वह कांग्रेस द्वारा सौंपे गए ज्ञापन पर विचार करेंगे।

कर्नाटक के राजनीतिक घटनाक्रम पर बोलने से इंकार करते हुए मणिपुर के मुख्यमंत्री एन. बिरेन सिंह ने कहा, "यह एक संवैधानिक मामला है और मैं इसपर टिप्पणी नहीं करना चाहता हूं।"

इबोबी ने कहा कि उनकी पार्टी शनिवार को चार बजे तक इंतजार करेगी और उसके बाद अगला कदम उठाएगी।

advertisement

  • संबंधित खबरें