केपाटन से मंत्री बाबूलाल वर्मा का टिकट कटा, चंद्रकांता मेघवाल को मौका     |       राफेल सौदे की सुनवाई पूरी, कोर्ट ने कहा- कीमतों पर तभी चर्चा हो सकती है जब तथ्य सार्वजनिक हों     |       इसरो / जीसैट-29 का सफल प्रक्षेपण, 2020 तक गगनयान के तहत पहला मानव रहित मिशन शुरू होगा     |       डोनाल्ड ट्रंप ने कहा- मैं प्रधानमंत्री मोदी का बहुत सम्मान करता हूं     |       सेमी हाईस्पीड ट्रेन टी-18 परीक्षण के लिए दिल्ली पहुंची     |       मोदी ने वैश्विक नेताओं से की मुलाकात, अमेरिकी उपराष्ट्रपति को दिया भारत आने का न्योता     |       बयान से पलटे शाहिद आफरीदी, कहा- कश्मीर में भारत कर रहा जुल्म     |       हरियाणा: चौटाला परिवार में फूट के बीच अजय चौटाला पार्टी से निष्कासित     |       काफी शानदार है रामायण एक्सप्रेस, श्रीलंका तक कर पाएंगे यात्रा     |       पश्चिम बंगाल का नाम बदलने के प्रस्ताव को केंद्र ने किया खारिज, 'बांग्ला' नाम पर राजनीति न करे केंद्र सरकार : ममता     |       हनुमानगढ़| पूर्व प्रधानमंत्री पंडित जवाहरलाल नेहरू को बाल दिवस पर पूरे जिले में याद किया गया। विभिन्न स्कूल और...     |       श्रीलंका की संसद ने प्रधानमंत्री राजपक्षे के खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव पारित किया     |       संसद का शीतकालीन सत्र 11 दिसम्बर से आठ जनवरी तक     |       लोक आस्था के पर्व पर डीजीपी और सीनियर एसपी मनु महाराज ने भी दिया अर्घ्य     |       अयोध्या में RSS की रैली, इकबाल अंसारी बोले- छोड़ देंगे अयोध्या     |       दिल्ली के सिग्नेचर ब्रिज पर सेल्फी के लिए होड़ के बाद निर्वस्त्र होने का वीडियो वायरल     |       हल्की बारिश से दिल्ली में हवा की गुणवत्ता में सुधार, फिर भी सेहत के लिए है हानिकारक     |       आज बिहार आयेंगे राष्ट्रपति, पूसा कृषि विवि व एनआईटी के दीक्षांत समारोह में लेंगे भाग     |       सबरीमला: तृप्ति देसाई 17 नवंबर को जाएंगी मंदिर, पीएम मोदी से मांगी सुरक्षा     |       नौ दिन बाद मलबे में दबे तीनों शव बरामद     |      

विदेश


पाकिस्तान का भारत पर बड़ा आरोप

पाकिस्तान का कहना है कि इस्लामाबाद का सुझाव है कि पाकिस्तान में रह रहे अफगान शरणार्थियों को वापस घर भेजे जाने की जरूरत है। लेकिन अमेरिकी अधिकारियों ने इस पर आपत्ति जताते हुए कहा कि इस वक्त काबुल बहुत अस्थिर है।


pakistan-says-india behind-afghanistan-instability

पाकिस्तान ने एक बार फिर से भारत पर बड़ा आरोप लगाया है। उसका कहना है कि भारत के बढ़ते प्रभाव की वजह से अफगानिस्तान में अराजकता बढ़ी है। पाकिस्तान के विदेश मंत्री ख्वाजा आसिफ ने भारत पर आरोप लगाते हुए कहा है कि अफगानिस्तान में भारत के प्रभाव के कारण संकटग्रस्त देश में अराजकता का माहौल बना हुआ है।

जियो न्यूज के मुताबिक, इस्लामाबाद में पाकिस्तान और अमेरिका के ट्रेक-2 राजनयिक वार्ता के चौथे दौर के बाद आसिफ ने मीडिया को बताया, "पाकिस्तान अफगानिस्तान में भारत के बढ़ते हस्तक्षेप के खिलाफ है।" मंत्री ने अफगानिस्तान में आतंकियों के सुरक्षित ठिकानों को तुरंत नष्ट करने की आवश्यकता पर जोर दिया और कहा कि अमेरिकी अफगानिस्तान नीति देश में सामंजस्य प्रक्रिया को नुकसान पहुंचा रही है।

आसिफ ने कहा कि सालों से युद्ध के कारण अफगानिस्तान की अर्थव्यवस्था और उसका बुनियादी ढांचा बाधित और क्षतिग्रस्त हो गया है। उन्होंने कहा कि वहां पर कई सूमह ऐसे हैं, जो देश में युद्ध जारी रखने के लिए दबाव बनाए हुए हैं। 

उन्होंने कहा कि इस्लामाबाद का सुझाव है कि पाकिस्तान में रह रहे अफगान शरणार्थियों को वापस घर भेजे जाने की जरूरत है। लेकिन अमेरिकी अधिकारियों ने इस पर आपत्ति जताते हुए कहा कि इस वक्त काबुल बहुत अस्थिर है। 

शरणार्थियों का हवाला देते हुए आसिफ ने कहा, "यह हमारी समस्या नहीं है। अमेरिका को इन शरणार्थियों को उन्हें उनके देश वापस भेजने के लिए कुछ कदम उठाने चाहिए।" उन्होंने कहा कि अमेरिका और पाकिस्तान को संबंधों पर काम करने की जरूरत है। साथ ही दोनों देशों को एक दूसरे पर आरोप-प्रत्यारोप लगाने के खेल को समाप्त करने की आवश्यकता है, ताकि दोनों देश आपसी समझ पर काम कर सकें।

इससे पहले अमेरिकी राजदूत डेविड हेल ने कहा था कि अफगानिस्तान में भारत की भूमिका केवल आर्थिक सहायता तक ही सीमित है। उन्होंने कहा कि पाकिस्तान और भारत को संबंध सुधारने पर काम करने की जरूरत है। हेल ने दोनों देशों से क्षेत्र में शांति स्थापित करने के लिए प्रयास करने का आग्रह किया।

हेल ने कहा कि अमेरिका ने पाकिस्तानी अधिकारियों को अपनी जमीन पर सक्रिय आतंकवादियों के खिलाफ निर्णायक कदम उठाने को कहा है। 

उन्होंने कहा, "अमेरिकी विदेश मंत्री रेक्स टिलरसन ने पाकिस्तान में राजनीतिक और सैन्य नेतृत्व से कहा है कि पाकिस्तान-अमेरिकी संबंध महत्वपूर्ण दौर में हैं और अगर वे सहयोग नहीं करते हैं, तो हम अपनी नीति के मुताबिक कार्य करेंगे।"

इस्लामाबाद में हुई इस बैठक में विदेश सचिव तहमीना जांजुआ, हेल और विल्सन मध्य एशिया कार्यक्रम के उपनिदेशक माइकल कुगलमैन के साथ दूसरे अधिकारियों ने भी अपनी उपस्थिति दर्ज कराई।

advertisement