विधानसभा चुनावी नतीजे- मध्य प्रदेश और राजस्थान में कांटे की टक्कर, छत्तीसगढ़ में कांग्रेस आगे : LIVE UPDATES - BBC हिंदी     |       RBI governor Urjit Patel resigns: Read Full Statement here - Times Now     |       Vijay Mallya verdict: UK Westminster Court orders Mallya's extradition - Times Now     |       बड़ा सवाल: उपेंद्र कुशवाहा के इस्तीफे से कितनी बदलेगी बिहार की राजनीति, जानिए - दैनिक जागरण     |       199 सीट : 67 पर संघर्ष, 42 पर भाजपा, 77 पर कांग्रेस की स्पष्ट जीत, 13 सीटों पर अन्य - दैनिक भास्कर     |       तीर्थयात्रा/ पाक ने कटास राज धाम यात्रा के लिए 139 भारतीयों को वीजा दिया - Dainik Bhaskar     |       आरबीआइ : आजादी के बाद से इस्तीफा देने वाले पांचवें गवर्नर हैं उर्जित पटेल, जानें इस्तीफे से जुड़ा पूरा घटनाक्रम एक नजर में - प्रभात खबर     |       आज आएंगे 5 राज्यों के चुनाव परिणाम, पढ़े 10 बड़ी बातें - NDTV India     |       यहां सरकार कर रही है लोगों से अपील- 'बच्चे पैदा करो, देरी मत करो’ - NDTV India     |       फ़्रांसः राष्ट्रपति मैक्रों ने किया न्यूनतम वेतन बढ़ाने का वादा - BBC हिंदी     |       Serial killer Mikhail Popkov: Russian ex-policeman convicted over 56 murders - Times Now     |       किराए पर कोख देने वाली लड़कियों की डरावनी कहानी - lifestyle - आज तक     |       एक नहीं 3 कारण, पहले से ही सहमा शेयर बाजार आज जाएगा बिखर? - Business - आज तक     |       चुनाव नतीजों के बाद सरकार बढ़ा सकती है पेट्रोल-डीजल के दाम, इतने रुपये की हो जाएगी वृद्धि- Amarujala - अमर उजाला     |       BSNL ने अपने बंपर ऑफर्स में किया बदलाव, अब मिलेंगे ये बड़े फायदे - Patrika News     |       Petrol Price: पेट्रोल, डीजल के भाव में लगातार पांचवें दिन भी गिरावट, जानिए आज का रेट - Times Now Hindi     |       'The Cut' Writer Finally Apologizes to Priyanka Chopra - Papermag     |       Not films, this is what father-daughter duo Saif Ali Khan and Sara Ali Khan bond over - details inside - Times Now     |       Sara Ali Khan and Sushant Singh Rajput's Kedaranth lands in legal trouble again; case filed in Uttar Pradesh - Times Now     |       स्टूडेंट्स के साथ सारा अली खान ने किया जमकर डांस, अपनी फिल्म 'केदारनाथ' को प्रमोट करने पहुंची थीं कॉलेज : VIDEO - Dainik Bhaskar     |       फिटनेस हासिल करने की कवायद: पर्थ टेस्ट से पहले पृथ्वी साव ने किया दौड़ना शुरू - Navbharat Times     |       विराट एंड कंपनी की जीत से उत्साहित क्रिकेट जगत, बीसीसीआई ने दी बधाई - Webdunia Hindi     |       इस तरह खास है विराट-अनुष्का की शादी की पहली सालगिरह - आज तक     |       AUSvsIND: एडिलेड फ़तह के बाद विराट की कंगारु टीम को चेतावनी, कहा- सिर्फ एक जीत से संतुष्ट नहीं होंगे - Hindustan     |      

राजनीति


पैराडाइज पेपर्स लीक और जयंत सिन्हा की सफ़ाई

पैराडाइज पेपर्स' में लॉ कंपनी 'एप्पलबाई' के लीक हुए 1.34 करोड़ दस्तावेज हैं, जिसमें प्रमुख बहुराष्ट्रीय कंपनियों (एमएनसी) और भारत समेत विदेशों के जाने-माने अमीरों द्वारा विदेशों के कर पनाहगाहों में किए गए निवेश की जानकारी है। 


paradise-papers-leeks-and-jayant-sinha's-clarification

जब से अंतर्राष्ट्रीय खोजी पत्रकार संघ (आईसीआईजे) द्वारा पैराडाइज पेपर्स लीक गए हैं तब से राजनीतिक हलकों में हडकंप मचा हुआ है। मचे भी क्यों न, केंद्र में सत्ता पर काबिज बीजेपी के दो नेताओं, केंद्रीय मंत्री जयंत सिन्हा और राज्यसभा सांसद आर के सिन्हा, के नाम इस पेपर लीक में शामिल हैं। भारत में इस पैराडाइज पेपर्स पर काफी छानबीन के बाद इंडियन एक्सप्रेस ने रिपोर्ट प्रकाशित की है। पनामा पेपर लीक के बाद यह मामला भी सरकार के गले की फांस बन सकता है।

लेकिन अब केंद्रीय मंत्री जयंत सिन्हा ने पैराडाइज पेपर्स लीक में अपना नाम सामने आने पर कई सारे ट्वीट कर खुद का बचाव किया। सिन्हा ने कहा कि उनसे जुड़े सभी लेन-देन, जिसका खुलासा इंडियन एक्सप्रेस की जांच में किया गया है, का संबंधित प्राधिकरणों के समक्ष पूरी तरह खुलासा किया गया था, और ये उनकी 'आधिकारिक हैसियत से किए गए थे, न कि निजी हैसियत से।'

'पैराडाइज पेपर्स' में लॉ कंपनी 'एप्पलबाई' के लीक हुए 1.34 करोड़ दस्तावेज हैं, जिसमें प्रमुख बहुराष्ट्रीय कंपनियों (एमएनसी) और भारत समेत विदेशों के जाने-माने अमीरों द्वारा विदेशों के कर पनाहगाहों (कर चुकाने के लिहाज से स्वर्ग) में किए गए निवेश की जानकारी है। 

जर्मनी के अखबार 'सुडुट्चे जीटंग' ने इन दस्तावेजों को प्राप्त किया था तथा इसे अंतर्राष्ट्रीय खोजी पत्रकार संघ (आईसीआईजे) के साथ साझा किया था। द एक्सप्रेस ने इसकी छानबीन कर इस मामले से 714 भारतीयों के जुड़े होने की जानकारी दी है। 

एक्सप्रेस की रपट में बताया गया है कि कानूनी कंपनी एप्पलबाई के रिकार्ड्स से पता चलता है कि सिन्हा ने ओमिदयार नेटवर्क और डी. लाइट डिजाइन के निदेशक मंडल से अपने संबंधों की निर्वाचन आयोग को जानकारी नहीं दी थी। 

सिन्हा ने ट्वीट किया, "इंडियन एक्सप्रेस को पूरी जानकारी मुहैया करा दी गई है। यह वास्तविक और कानूनी लेन-देन अत्यधिक प्रतिष्ठित और विश्व के अग्रणी संगठनों की ओर से किए गए थे, जिसमें मेरी भूमिका ओमिदयार नेटवर्क में साझेदार और डी. लाइट के निदेशक मंडल में इसके नामित प्रतिनिधि के रूप में थी।"

उन्होंने कहा, "इन सभी लेन-देन का संबंधित प्राधिकरणों के समक्ष पूरी तरह से खुलासा किया गया था और सभी जरूरी फाइलें दाखिल की गई थीं। ओमिदयार नेटवर्क छोड़ने के बाद मुझे डी. लाइट के निदेशक मंडल में एक स्वतंत्र निदेशक के रूप में बने रहने को कहा गया। लेकिन मंत्री बनने के बाद मैंने तुरंत डी. लाइट के निदेशक मंडल से इस्तीफा दे दिया और कंपनी के साथ भागीदारी को तोड़ दिया।"

सिन्हा ने कहा, "यह ध्यान देने योग्य है कि यह लेन-देन मैंने डी. लाइट के लिए ओमिदयार के प्रतिनिधि के तौर पर किए थे, न कि किसी व्यक्तिगत उद्देश्यों के लिए।"

द एक्सप्रेस की रपट के मुताबिक, सिन्हा भारत में ओमिदयार नेटवर्क के प्रबंध निदेशक के रूप में काम करते थे। ओमिदयार नेटवर्क ने अमेरिका की एक कंपनी डी. लाइट डिजाइन में निवेश किया था, जिसकी एक सहयोगी कंपनी कैरेबियन सागर के केमैन द्वीपसमूह में थी। लेकिन उन्होंने इसकी घोषणा 2014 के लोकसभा चुनाव में निर्वाचन आयोग के समक्ष नहीं की थी, न ही उन्होंने यह जानकारी लोकसभा सचिवालय या प्रधानमंत्री कार्यालय को राज्यमंत्री के रूप में दी। 

इंडियन एक्सप्रेस की रपट में कहा गया है, "डी. लाइट डिजाइन इंक की स्थापना साल 2006 में कैलिफोर्निया के सैन फ्रांसिस्को में की गई थी, और इसकी इसी नाम से सहयोगी कंपनी केमैन द्वीपसमूह में नीदरलैंड के निवेशक के सहयोग से स्थापित की गई थी। एप्पलबाई के रिकार्ड्स में एक कर्ज समझौते का उल्लेख है, जो 31 दिसंबर, 2012 को किया गया था। सिन्हा उस वक्त डी. लाइट डिजाइन के निदेशक थे, जब यह कर्ज समझौता हुआ था।"

advertisement

  • संबंधित खबरें