मायावती ने छत्तीसगढ़ में कांग्रेस को दिया झटका, अजीत जोगी संग गठबंधन     |       इमरान की चिट्ठी पर भारत का जवाब- मुलाकात को तैयार, पर ये बातचीत की शुरुआत नहीं     |       मेट्रो में PM को देख मची सेल्फी की होड़, IICC सेंटर का शिलान्यास करने जा रहे थे     |       राजस्थान से राहुल गांधी का वादा, छोटे और मझोले उद्योगों के लिए खुलेंगे बैंकों के दरवाजे, देंगे जीएसटी से राहत     |       जेट की उड़ान में यात्रियों की नाक से निकाला खून, जाँच के आदेश     |       राफेल पर रक्षा मंत्री ने देश को गुमराह करने की कोशिश की, इस्तीफा दें : कांग्रेस     |       मुजफ्फरपुर शेल्टर होम मामले में SC ने मीडिया रिपोर्टिंग से बैन हटाया     |       सरकार ने पीपीएफ और अन्य बचत योजनाओं पर बढ़ाई ब्याज दरें     |       पाक BAT एक्शन का भारत लेगा बदला! राजनाथ ने BSF डीजी को दिए निर्देश     |       बसपा सुप्रीमो मायावती बोलीं- तीन तलाक पर अध्यादेश लाना राजनीति से प्रेरित     |       भागवत बोले, हिंदू राष्ट्र का यह अर्थ नहीं कि मुस्लिमों के लिए जगह नहीं, जानें संघ-बीजेपी में अंतर     |       फुलवारीशरीफ रेप केस में बोले एसएसपी- मामले का होगा स्पीडी ट्रायल     |       IMD Alert: ओडिशा-आंध्र में साइक्लोन की चेतावनी, 6 शहरों में भारी बारिश की आशंका     |       उत्तर प्रदेशः पुलिस ने एनकाउंटर में मार गिराए 25 हजार के दो ईनामी गैंगस्टर, पत्रकारों ने कैमरे में कैद की मुठभेड़     |       राजद, कांग्रेस में सीटों के बंटवारे को लेकर कोई समस्या नहीं : रघुवंश प्रसाद सिंह     |       मध्य प्रदेश: सरकारी घरों से हटाई जाएं पीएम मोदी, सीएम शिवराज की तस्‍वीरें, हाईकोर्ट का आदेश     |       21 सितंबर को इटली में होगी ईशा-आनंद की सगाई, 3 दिन तक चलेगा जश्न, जानिए पूरा कार्यक्रम     |       कैबिनेट का फैसला / तीन तलाक देने पर 3 साल जेल, मोदी सरकार के अध्यादेश को राष्ट्रपति की मंजूरी     |       बड़ा कदम: बेटियों के गुनाहगारों की अब खैर नहीं, यौन अपराधियों की कुंडली तैयार     |       पेट्रोल-डीजल पर क्यों बेबस है केंद्र सरकार, पर समझिए आखिर कैसे कम हो सकती हैं कीमतें     |      

विदेश


हैदर अबादी ने कहा- इस साल हो जाएगा इराक से आईएसआईएस का पूरा सफाया

अबादी ने मिश्रित जाति वाले किरकुक प्रांत के हवीजा में चलाए गए अंतिम अभियान की खासतौर पर सराहना की। उन्होंने कहा कि इराकी बलों ने उन इलाकों को मुक्त करा लिया,


pm-haider-al-abadi-says-complete-eradication-of-isis-from-iraq-in-this-year

बगदादः इराकी प्रधानमंत्री हैदर अल-अबादी ने  कहा है कि इस साल देश से आतंकवादी संगठन इस्लामिक स्टेट (आईएसआईएस) का पूरा सफाया होने की उम्मीद है। यह बातें अबादी ने मंगलवार को एक टेलीविजन पर प्रसारित संवाददाता सम्मेलन में कहीं। इसके साथ ही उन्होंने आईएस के खिलाफ इराकी सुरक्षा बलों की जीत की सराहना भी की। अबादी ने मिश्रित जाति वाले किरकुक प्रांत के हवीजा में चलाए गए अंतिम अभियान की खासतौर पर सराहना की। उन्होंने कहा कि इराकी बलों ने उन इलाकों को मुक्त करा लिया, जहां पूर्ववर्ती सरकार के दौरान कोई बल पहुंच तक नहीं पाया था। आज इराक में हर स्थान पर आईएस में भय का माहौल है और जैसा कि हमने वादा किया था इस साल इराक से आतंकवादी संगठन आईएसआईएस का पूरी तरह सफाया कर दिया जाएगा।

क्या है आईएसआईएस का मकसद?
बता दें कि आईएसआईएस दुनिया का सबसे धनी चरमपंथी संगठन है, जिसका क्षेत्र सीरिया के पूर्वी अलेप्पो प्रांत में अल-बाब से लेकर 670 किमी दूर इराक़ के सलाउद्दीन प्रांत में सुलेमान बेक तक  फैला है। इसकी स्थापना अप्रैल 2013 में की गई थी और इसके बाद से  इस संगठन ने काफी तेजी से अपने क्षेत्र में विस्तार किया है। आईएसआईएस साफ़ तौर पर इन क्षेत्रों में इस्लामिक राज्य स्थापित करना चाहता है। आईएसआईएस का पूरा नाम इस्लामिक स्टेट ऑफ इराक एंड सीरिया है। यह आतंकवादी संगठन कभी अलकायदा का ही एक हिस्सा हुआ करता था। 2006 में अमेरिकी और इराक की सेना ने मिलकर कार्रवाई करते हुए अलकायदा को जमींदोज कर दिया था, लेकिन संगठन पूरी तरह खत्म नहीं हो पाया था। इसके बाद संगठन के लोगों ने मिलकर एक बार फिर नई आतंकी संगठन का निर्माण कर लिए, जिसे आईएसआईएस का नाम दिया गया।

कौन है ये अबू बगदादी?
1971 में इराक के समारा शहर में जन्मा अल बगदादी पहले अपने शहर में धार्मिक कार्यकर्ता था, लेकिन 2003 में अमेरिका ने इराक पर हमला किया तो इस्लामिक स्टडीज में डॉक्टरेट लेने वाला और धार्मिक तकरीरें देने वाला अल बगदादी इस हमले से तिलमिला गया और अमेरिका विरोधी आतंकवाद की दुनिया में शामिल हो गया। अल बगदादी की बढ़ती ताकत का अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि इराक और सीरिया के अलग अलग हिस्सों में उसके लड़ाकों की तादाद 30 हजार से 40 हजार के बीच पहुंच चुकी है। वहीं अमेरिकी सेना कहती है कि अल बगदादी का कद ऐसा नहीं था कि उसे बड़ा खतरा माना जाए, लेकिन अमेरिकी सेना के एक अधिकारी के मुताबिक साल 2009 में जब उसे छोड़ा गया तो उसने धमकी दी थी कि अब मैं तुम्हें न्यूयॉर्क में देखूंगा। उस समय उसकी बात को गंभीरता से नहीं लिया गया था, लेकिन आईएसआईएस की बढ़ती करतूतें  बता रहीं हैं कि अल बगदादी के इरादे नेक नहीं है।

हालांकि इराक ने 2014 में आईएसआईएस द्वारा लोगों के मारने और उनके वीडियो वायरल करने के बाद से इस संगठन के खिलाफ कड़े कदम उठाए हैं। इराक सरकार को इसके लिए अमेरिका से मदद मिलती रही है। हाल ही में इराकी प्रधानमंत्री  हैदर अल-अबादी के आईएसआईएस के खात्में पर दिए गए बयान से यह तो साफ हो गया है कि इराक आतंकवाद को जड़ से खत्म करने के लिए प्रयासरत है। 

advertisement