LIVE: अविश्वास प्रस्ताव पर अग्निपरीक्षा से पहले PM मोदी ने बुलाई कोर ग्रुप की बैठक     |       पीएम मोदी के पिछले 4 साल के विदेश दौरे में खर्च हुए 1484 करोड़ रुपये     |       डॉलर की तुलना में रुपये ने छुआ 69.12 का ऐतिहासिक निचला स्तर     |       अगस्त से पटनावासियों के हाथ में होगा बैंगनी रंग का नया सौ रुपये का नोट     |       ट्रांसपोर्टर हड़ताल: महंगे हो सकते हैं फल-सब्जी और किराना सामान     |       ये है BJP सांसद की DSP बेटी, जो 'कैश फॉर जॉब' घोटाले में हुई अरेस्ट     |       AAP नेता संजय सिंह का मुख्य सचिव पर गंभीर आरोप, कहा- वे भ्रष्टाचारियों से मिले हुए हैं     |       गोपाल दास नीरज के निधन से एक युग का अंत, आम जन से लेकर राष्ट्रपति तक ने कहा- 'नमन'     |       Exclusive: अगस्ता के बिचौलिये की वकील का दावा- सोनिया के खिलाफ गवाही देने का दबाव     |       सदी का सबसे लंबा चंद्रग्रहण 27 जुलाई को, जानें जरूरी और काम की बातें     |       मेरठ में पूर्व सांसद के भाई की मीट फैक्ट्री में गैस से तीन की मौत     |       भारत और अमेरिका की नई दिल्ली में 6 सितंबर को होगी 2+2 वार्ता     |       फर्जी डिग्री बनाने वाले गिरोह का सरगना पूर्व कांग्रेस नेता समेत पांच गिरफ्तार     |       14 मिनट में बैंक के अंदर से 20 लाख पार     |       शिखर वार्ता के बाद व्लादीमिर पुतिन के प्रस्ताव को डोनल्ड ट्रंप ने किया ख़ारिज     |       चमोली के मलारी में बादल फटा, भूस्खलन से डेरों में पांच मजदूर दबे     |       जन्म के समय था वजन मात्र 375 ग्राम, डॉक्टरों के प्रयास से जीवित बच गई बच्ची     |       ट्रेन का जनरल टिकट अब घर में बैठें अपने स्मार्टफोन से करें बुक, लॉन्च हुआ नया एप     |       Jio का मानसून हंगामा ऑफर आज से, जानें कैसे 500 रुपए में मिलेगा नया जियो फोन     |       Dhadak Movie Review: फिर से पहले प्यार की मासूमियत को करना चाहते हैं महसूस, तो देखें जाह्नवी और ईशान की धड़क     |      

विदेश


हैदर अबादी ने कहा- इस साल हो जाएगा इराक से आईएसआईएस का पूरा सफाया

अबादी ने मिश्रित जाति वाले किरकुक प्रांत के हवीजा में चलाए गए अंतिम अभियान की खासतौर पर सराहना की। उन्होंने कहा कि इराकी बलों ने उन इलाकों को मुक्त करा लिया,


pm-haider-al-abadi-says-complete-eradication-of-isis-from-iraq-in-this-year

बगदादः इराकी प्रधानमंत्री हैदर अल-अबादी ने  कहा है कि इस साल देश से आतंकवादी संगठन इस्लामिक स्टेट (आईएसआईएस) का पूरा सफाया होने की उम्मीद है। यह बातें अबादी ने मंगलवार को एक टेलीविजन पर प्रसारित संवाददाता सम्मेलन में कहीं। इसके साथ ही उन्होंने आईएस के खिलाफ इराकी सुरक्षा बलों की जीत की सराहना भी की। अबादी ने मिश्रित जाति वाले किरकुक प्रांत के हवीजा में चलाए गए अंतिम अभियान की खासतौर पर सराहना की। उन्होंने कहा कि इराकी बलों ने उन इलाकों को मुक्त करा लिया, जहां पूर्ववर्ती सरकार के दौरान कोई बल पहुंच तक नहीं पाया था। आज इराक में हर स्थान पर आईएस में भय का माहौल है और जैसा कि हमने वादा किया था इस साल इराक से आतंकवादी संगठन आईएसआईएस का पूरी तरह सफाया कर दिया जाएगा।

क्या है आईएसआईएस का मकसद?
बता दें कि आईएसआईएस दुनिया का सबसे धनी चरमपंथी संगठन है, जिसका क्षेत्र सीरिया के पूर्वी अलेप्पो प्रांत में अल-बाब से लेकर 670 किमी दूर इराक़ के सलाउद्दीन प्रांत में सुलेमान बेक तक  फैला है। इसकी स्थापना अप्रैल 2013 में की गई थी और इसके बाद से  इस संगठन ने काफी तेजी से अपने क्षेत्र में विस्तार किया है। आईएसआईएस साफ़ तौर पर इन क्षेत्रों में इस्लामिक राज्य स्थापित करना चाहता है। आईएसआईएस का पूरा नाम इस्लामिक स्टेट ऑफ इराक एंड सीरिया है। यह आतंकवादी संगठन कभी अलकायदा का ही एक हिस्सा हुआ करता था। 2006 में अमेरिकी और इराक की सेना ने मिलकर कार्रवाई करते हुए अलकायदा को जमींदोज कर दिया था, लेकिन संगठन पूरी तरह खत्म नहीं हो पाया था। इसके बाद संगठन के लोगों ने मिलकर एक बार फिर नई आतंकी संगठन का निर्माण कर लिए, जिसे आईएसआईएस का नाम दिया गया।

कौन है ये अबू बगदादी?
1971 में इराक के समारा शहर में जन्मा अल बगदादी पहले अपने शहर में धार्मिक कार्यकर्ता था, लेकिन 2003 में अमेरिका ने इराक पर हमला किया तो इस्लामिक स्टडीज में डॉक्टरेट लेने वाला और धार्मिक तकरीरें देने वाला अल बगदादी इस हमले से तिलमिला गया और अमेरिका विरोधी आतंकवाद की दुनिया में शामिल हो गया। अल बगदादी की बढ़ती ताकत का अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि इराक और सीरिया के अलग अलग हिस्सों में उसके लड़ाकों की तादाद 30 हजार से 40 हजार के बीच पहुंच चुकी है। वहीं अमेरिकी सेना कहती है कि अल बगदादी का कद ऐसा नहीं था कि उसे बड़ा खतरा माना जाए, लेकिन अमेरिकी सेना के एक अधिकारी के मुताबिक साल 2009 में जब उसे छोड़ा गया तो उसने धमकी दी थी कि अब मैं तुम्हें न्यूयॉर्क में देखूंगा। उस समय उसकी बात को गंभीरता से नहीं लिया गया था, लेकिन आईएसआईएस की बढ़ती करतूतें  बता रहीं हैं कि अल बगदादी के इरादे नेक नहीं है।

हालांकि इराक ने 2014 में आईएसआईएस द्वारा लोगों के मारने और उनके वीडियो वायरल करने के बाद से इस संगठन के खिलाफ कड़े कदम उठाए हैं। इराक सरकार को इसके लिए अमेरिका से मदद मिलती रही है। हाल ही में इराकी प्रधानमंत्री  हैदर अल-अबादी के आईएसआईएस के खात्में पर दिए गए बयान से यह तो साफ हो गया है कि इराक आतंकवाद को जड़ से खत्म करने के लिए प्रयासरत है। 

advertisement