State Funeral For Goa Chief Minister Manohar Parrikar, PM Pays Respects - NDTV     |       गोवा के मुख्यमंत्री मनोहर पर्रिकर का निधन Goa CM Manohar Parrikar passes away after prolonged illness - आज तक     |       इंदिरा का अंदाज- तल्ख आवाज, देखें प्रियंका की बोट यात्रा की झलकी - Lok Sabha Election 2019 - आज तक     |       Lok Sabha Election: नीतीश, तेजस्वी समेत बिहार के कई दिग्गज नहीं लड़ेंगे चुनाव, बनेंगे रणनीतिकार - Hindustan     |       लोकसभा चुनाव 2019 : मुजफ्फरनगर में नामांकन प्रक्रिया आरंभ - Times Now Hindi     |       ना-नुकुर के बाद कांग्रेस-AAP के बीच गठबंधन लगभग तय, आज ऐलान संभव - Hindustan     |       रिलायंस कम्युनिकेशंस से 700 करोड़ रुपये वसूलने के लिए एनसीएलटी का दरवाजा खटखटाएगा बीएसएनएल - The Wire Hindi     |       एलओसी पर पाक ने फिर तोड़ा युद्धविराम; 2 घंटे चली फायरिंग, एक जवान शहीद - दैनिक भास्कर     |       नीदरलैंड/ बंदूकधारी ने ट्राम पर गोलियां बरसाईं, एक की मौत; कई घायल - Dainik Bhaskar     |       बयान/ मसूद अजहर पर चीनी राजदूत ने कहा- भारत की चिंताओं को समझते हैं, मामला जल्द निपटेगा - Dainik Bhaskar     |       इंडोनेशिया : अचानक आई बाढ़ में 42 लोगों की मौत, 20 से ज्यादा घायल- Amarujala - अमर उजाला     |       तेल के खेल में वेनेजुएला के जरिए अमेरिका को मात देगा भारत, बढ़ेंगे रुपये के भी दाम - दैनिक जागरण     |       शेयर बाजार में तेजी, सेंसेक्स 70 और निफ्टी 35 अंक चढ़ा - Navbharat Times     |       L&T इन्फोटेक को रोकने के लिए शेयर बायबैक करेंगे माइंडट्री के प्रमोटर! - Navbharat Times     |       LIC Bank: क्या आईडीबीआई बैंक का नाम बदलकर एलआईसी आईडीबीआई बैंक होगा? - Times Now Hindi     |       जियो से मुकाबले के लिए डिश टीवी से मर्जर की तैयारी में एयरटेल डिजिटल टीवी - Navbharat Times     |       Kesari: अक्षय कुमार ने पोस्ट किया विडियो, लग रहे हैं दमदार - नवभारत टाइम्स     |       कलंक: 'घर मोरे परदेसिया' गाना रिलीज, माधुरी-आलिया की जुगलबंदी ने किया कमाल - Hindustan     |       In Pics: एडल्ट फिल्म स्टार मिया खलीफा ने की बेहद खास अंदाज में सगाई, जानिए कौन है उनके मंगेतर - ABP News     |       कन्फर्म/ पर्रिकर के निधन के कारण पीएम मोदी की बायोपिक का पोस्टर लॉन्च कार्यक्रम स्थगित - Dainik Bhaskar     |       Ireland's Tim Murtagh creates new record in Test against Afghanistan - NDTV India     |       पीसीबी को लगा करारा तमाचा, बीसीसीआइ को मुआवजे के तौर पर दी इतनी बड़ी राशि - दैनिक जागरण (Dainik Jagran)     |       Zinedine Zidane restarts Real Madrid journey by dropping Thibaut Courtois - Times Now     |       विराट कोहली ने IPL- 2019 में खिलाड़ियों को दी इस बात की खुली छूट - Hindustan     |      

गपशप


अरविंद को ऐसे बचाया अरूण ने

मोदी नीति की इसी भेड़चाल की चपेट में आकर शायद आज अरूण जेटली अपने वित्त मंत्रालय में इतने अलग-थलग पड़ गए हैं। मौजूदा सरकार में साफ तौर पर दिख रहा है कि कैसे वर्तमान सरकार में तमाम बड़े आर्थिक फैसले आईएएस लॉबी ले रही है


pm-modi-arvind-panagariya-arun-jaitley-bjp

नेहरू के जमाने से लेकर अब मोदी के जमाने तक एक लोकप्रिय प्रधानमंत्री बनाम सख्त अर्थशास्त्री के बीच जंग जारी है। हालांकि वर्तमान प्रधानमंत्री मोदी अपने कड़े आर्थिक फैसलों के लिए जाने जाते हैं, पर जनता व देश के मिजाज के हिसाब से उन्हें भी अपनी रणनीति बदलने को मजबूर होना पड़ता है। नेहरू नीति की बानगी पर सदैव यह देखा गया कि कैसे उन्होंने अर्थशास्त्री व वैज्ञानिकों के मुकाबले नौकरशाहों को ज्यादा तरजीह दी, कहना न होगा कि मोदी भी कमोबेश नेहरू की राह पर चलकर अपना वह मुकाम हासिल करना चाहते हैं। मोदी नीति की इसी भेड़चाल की चपेट में आकर शायद आज अरूण जेटली अपने वित्त मंत्रालय में इतने अलग-थलग पड़ गए हैं। मौजूदा सरकार में साफ तौर पर दिख रहा है कि कैसे वर्तमान सरकार में तमाम बड़े आर्थिक फैसले आईएएस लॉबी ले रही है और अर्थशास्त्री खेमा मूकदर्शक बना हुआ है। केंद्र सरकार में भी बड़े साफ तौर दिख रहा है कि आर्थिक नीतियों का निर्धारण पीएमओ कर रहा है और राजस्व सचिव व पीएम के बेहद भरोसेमंद हंसमुख अधिया के हस्ताक्षर से ये नीतियां परवान चढ़ रही हैं।

अर्थशास्त्री बनाम आईएएस लॉबी की इसी टकराव की वजह से रघुराम राजन चले गए। मोदी नीति की परम वकालत करने वाले अरविंद पनागढि़या ने हावर्ड की ठौर पकड़ ली। ताजा मामला अर्थशास्त्री अरविंद सुब्रह्मण्यन का है जिन्हें अक्टूबर 2014 में राजन की जगह मोदी सरकार ने उन्हें अपना चीफ इकोनॉमिक एडवाइजर बनाया। पर धीरे-धीरे सुबुह्मण्यन भी नेपथ्य की भेंट चढ़ते गए। नोटबंदी को लेकर सुब्रह्मण्यन का वह चर्चित बयान आज भी याद किया जाता है जिसमें उन्होंने नोटबंदी को एक अबूझ पहेली करार दिया था। आईआईएम अहमदाबाद से दीक्षित सुब्रह्मण्यन के 3 वर्षों का कार्यकाल इस 16 अक्टूबर को खत्म हो रहा था और इन्होंने ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी में जाने की पूरी तैयारी कर ली थी कि वित्त मंत्री जेटली ने इन्हें एक साल का एक्सटेंशन दिए जाने की जानकारी ट्वीट करके दी। फिलवक्त तो जेटली का यह दांव चल गया पर आगे क्या होगा इसे कौन जान सकता है?

advertisement