कैराना उपचुनाव: विपक्ष ने चला एकता का दांव, बीजेपी की फौज पर विपक्ष की गुगली     |       खतराः केरल को क्रॉस कर कर्नाटक पहुंचा 'निपाह' वायरस, मेंगलुरु में मिले 2 संदिग्ध, कोझिकोड न जाने की सलाह     |       धुर-विरोधी केरल के मुख्यमंत्री को ममता ने दी बधाई, परेश रावल ने ली चुटकी     |       आतंकी हाफिज सईद को दूसरे देश भेजने की सलाह देने की खबर गलत: चीन     |       न्यूज टाइम इंडिया : बुधवार को कुमारास्वामी लेंगे सीएम पद की शपथ     |       राहुल का PM मोदी को 'विराट' चैलेंज- पेट्रोल-डीजल के दाम घटाकर दिखाइए वर्ना...     |       यूपी ATS के हत्थे चढ़ा ISI एजेंट, रसोईया बन भारतीय राजनयिक के घर में करता था काम     |       पानी की समस्या दूर करने के लिए 70 साल की उम्र में बुजुर्ग ने उठाया फावड़ा, अकेले खोद रहा है कुआं     |       पुलिस फायरिंग में 13 मौतों पर प्रदर्शन जारी, तूतीकोरिन जा सकते हैं राहुल गांधी     |       नेक इंजरी के कारण कोहली नहीं खेलेंगे काउंटी मैच, 15 जून को फिर मेडिकल टेस्ट     |       प्रेस रिव्यू: मानव ढाल बनाने वाले मेजर गोगोई से महिला को लेकर पूछताछ     |       8 राज्यों में भीषण गर्मी: 4 दिन के लिए रेड अलर्ट, विशेषज्ञों ने कहा- तपिश बढ़ने की वजह सोलर रेडिएशन     |       प्रियंका चोपड़ा के रोहिंग्‍या से मिलने पर भड़के बीजेपी सांसद, बोले- ऐसे लोगों को देश से निकालो     |       माता वैष्णो देवी के आसपास त्रिकुटा के जंगलों में लगी आग बुझाने के लिए वायुसेना के 2 हेलिकॉप्टर रवाना     |       EC ने 'एक राष्ट्र-एक चुनाव' का दिया विकल्‍प, कहा- एक साल में हो एक चुनाव     |       ZEE जानकारीः प्रदूषण के खिलाफ लड़ाई करने वालों को गोली मार दी गई?     |       अब BJP के इस विधायक को मिली जान से मारने की धमकी, बढ़ाई गई सुरक्षा     |       बांग्लादेशी पीएम शेख हसीना के आगम पर केएनयू में युद्ध स्तर पर तैयारी     |       दिल्ली सरकार का आदेश, ब्याज के साथ बढ़ाई हुई फीस लौटाएं स्कूल     |       गंगा दशहरा: जानिए महत्‍व, पूजा विधि, शुभ मुहूर्त, मंत्र और व्रत कथा     |      

गपशप


अरविंद को ऐसे बचाया अरूण ने

मोदी नीति की इसी भेड़चाल की चपेट में आकर शायद आज अरूण जेटली अपने वित्त मंत्रालय में इतने अलग-थलग पड़ गए हैं। मौजूदा सरकार में साफ तौर पर दिख रहा है कि कैसे वर्तमान सरकार में तमाम बड़े आर्थिक फैसले आईएएस लॉबी ले रही है


pm-modi-arvind-panagariya-arun-jaitley-bjp

नेहरू के जमाने से लेकर अब मोदी के जमाने तक एक लोकप्रिय प्रधानमंत्री बनाम सख्त अर्थशास्त्री के बीच जंग जारी है। हालांकि वर्तमान प्रधानमंत्री मोदी अपने कड़े आर्थिक फैसलों के लिए जाने जाते हैं, पर जनता व देश के मिजाज के हिसाब से उन्हें भी अपनी रणनीति बदलने को मजबूर होना पड़ता है। नेहरू नीति की बानगी पर सदैव यह देखा गया कि कैसे उन्होंने अर्थशास्त्री व वैज्ञानिकों के मुकाबले नौकरशाहों को ज्यादा तरजीह दी, कहना न होगा कि मोदी भी कमोबेश नेहरू की राह पर चलकर अपना वह मुकाम हासिल करना चाहते हैं। मोदी नीति की इसी भेड़चाल की चपेट में आकर शायद आज अरूण जेटली अपने वित्त मंत्रालय में इतने अलग-थलग पड़ गए हैं। मौजूदा सरकार में साफ तौर पर दिख रहा है कि कैसे वर्तमान सरकार में तमाम बड़े आर्थिक फैसले आईएएस लॉबी ले रही है और अर्थशास्त्री खेमा मूकदर्शक बना हुआ है। केंद्र सरकार में भी बड़े साफ तौर दिख रहा है कि आर्थिक नीतियों का निर्धारण पीएमओ कर रहा है और राजस्व सचिव व पीएम के बेहद भरोसेमंद हंसमुख अधिया के हस्ताक्षर से ये नीतियां परवान चढ़ रही हैं।

अर्थशास्त्री बनाम आईएएस लॉबी की इसी टकराव की वजह से रघुराम राजन चले गए। मोदी नीति की परम वकालत करने वाले अरविंद पनागढि़या ने हावर्ड की ठौर पकड़ ली। ताजा मामला अर्थशास्त्री अरविंद सुब्रह्मण्यन का है जिन्हें अक्टूबर 2014 में राजन की जगह मोदी सरकार ने उन्हें अपना चीफ इकोनॉमिक एडवाइजर बनाया। पर धीरे-धीरे सुबुह्मण्यन भी नेपथ्य की भेंट चढ़ते गए। नोटबंदी को लेकर सुब्रह्मण्यन का वह चर्चित बयान आज भी याद किया जाता है जिसमें उन्होंने नोटबंदी को एक अबूझ पहेली करार दिया था। आईआईएम अहमदाबाद से दीक्षित सुब्रह्मण्यन के 3 वर्षों का कार्यकाल इस 16 अक्टूबर को खत्म हो रहा था और इन्होंने ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी में जाने की पूरी तैयारी कर ली थी कि वित्त मंत्री जेटली ने इन्हें एक साल का एक्सटेंशन दिए जाने की जानकारी ट्वीट करके दी। फिलवक्त तो जेटली का यह दांव चल गया पर आगे क्या होगा इसे कौन जान सकता है?

advertisement