LIVE: अविश्वास प्रस्ताव पर अग्निपरीक्षा से पहले PM मोदी ने बुलाई कोर ग्रुप की बैठक     |       पीएम मोदी के पिछले 4 साल के विदेश दौरे में खर्च हुए 1484 करोड़ रुपये     |       डॉलर की तुलना में रुपये ने छुआ 69.12 का ऐतिहासिक निचला स्तर     |       अगस्त से पटनावासियों के हाथ में होगा बैंगनी रंग का नया सौ रुपये का नोट     |       NEWS FLASH: अमेरिकी डॉलर की तुलना में सात पैसे गिरकर रुपया 69.12 के रिकॉर्ड निचले स्तर पर     |       ट्रांसपोर्टर हड़ताल: महंगे हो सकते हैं फल-सब्जी और किराना सामान     |       ये है BJP सांसद की DSP बेटी, जो 'कैश फॉर जॉब' घोटाले में हुई अरेस्ट     |       मेरठ में फर्जी मार्कशीट बनाने वाले अंतरराज्यीय गिरोह का भंडाफोड़, पांच गिरफ्तार     |       AAP नेता संजय सिंह का मुख्य सचिव पर गंभीर आरोप, कहा- वे भ्रष्टाचारियों से मिले हुए हैं     |       गोपाल दास नीरज के निधन से एक युग का अंत, आम जन से लेकर राष्ट्रपति तक ने कहा- 'नमन'     |       Exclusive: अगस्ता के बिचौलिये की वकील का दावा- सोनिया के खिलाफ गवाही देने का दबाव     |       सदी का सबसे लंबा चंद्रग्रहण 27 जुलाई को, जानें जरूरी और काम की बातें     |       नंबर प्लेट पर लिखा 'मेरी गर्लफ्रेंड मरगी', बाइक जब्त     |       मेरठ में पूर्व सांसद के भाई की मीट फैक्ट्री में गैस से तीन की मौत     |       14 मिनट में बैंक के अंदर से 20 लाख पार     |       शिखर वार्ता के बाद व्लादीमिर पुतिन के प्रस्ताव को डोनल्ड ट्रंप ने किया ख़ारिज     |       भारत और अमेरिका की नई दिल्ली में 6 सितंबर को होगी 2+2 वार्ता     |       जन्म के समय था वजन मात्र 375 ग्राम, डॉक्टरों के प्रयास से जीवित बच गई बच्ची     |       ट्रेन का जनरल टिकट अब घर में बैठें अपने स्मार्टफोन से करें बुक, लॉन्च हुआ नया एप     |       जियो का मानसून हंगामा कल से, 49 रुपये में 1 महीने तक सब कुछ फ्री     |      

गपशप


अरविंद को ऐसे बचाया अरूण ने

मोदी नीति की इसी भेड़चाल की चपेट में आकर शायद आज अरूण जेटली अपने वित्त मंत्रालय में इतने अलग-थलग पड़ गए हैं। मौजूदा सरकार में साफ तौर पर दिख रहा है कि कैसे वर्तमान सरकार में तमाम बड़े आर्थिक फैसले आईएएस लॉबी ले रही है


pm-modi-arvind-panagariya-arun-jaitley-bjp

नेहरू के जमाने से लेकर अब मोदी के जमाने तक एक लोकप्रिय प्रधानमंत्री बनाम सख्त अर्थशास्त्री के बीच जंग जारी है। हालांकि वर्तमान प्रधानमंत्री मोदी अपने कड़े आर्थिक फैसलों के लिए जाने जाते हैं, पर जनता व देश के मिजाज के हिसाब से उन्हें भी अपनी रणनीति बदलने को मजबूर होना पड़ता है। नेहरू नीति की बानगी पर सदैव यह देखा गया कि कैसे उन्होंने अर्थशास्त्री व वैज्ञानिकों के मुकाबले नौकरशाहों को ज्यादा तरजीह दी, कहना न होगा कि मोदी भी कमोबेश नेहरू की राह पर चलकर अपना वह मुकाम हासिल करना चाहते हैं। मोदी नीति की इसी भेड़चाल की चपेट में आकर शायद आज अरूण जेटली अपने वित्त मंत्रालय में इतने अलग-थलग पड़ गए हैं। मौजूदा सरकार में साफ तौर पर दिख रहा है कि कैसे वर्तमान सरकार में तमाम बड़े आर्थिक फैसले आईएएस लॉबी ले रही है और अर्थशास्त्री खेमा मूकदर्शक बना हुआ है। केंद्र सरकार में भी बड़े साफ तौर दिख रहा है कि आर्थिक नीतियों का निर्धारण पीएमओ कर रहा है और राजस्व सचिव व पीएम के बेहद भरोसेमंद हंसमुख अधिया के हस्ताक्षर से ये नीतियां परवान चढ़ रही हैं।

अर्थशास्त्री बनाम आईएएस लॉबी की इसी टकराव की वजह से रघुराम राजन चले गए। मोदी नीति की परम वकालत करने वाले अरविंद पनागढि़या ने हावर्ड की ठौर पकड़ ली। ताजा मामला अर्थशास्त्री अरविंद सुब्रह्मण्यन का है जिन्हें अक्टूबर 2014 में राजन की जगह मोदी सरकार ने उन्हें अपना चीफ इकोनॉमिक एडवाइजर बनाया। पर धीरे-धीरे सुबुह्मण्यन भी नेपथ्य की भेंट चढ़ते गए। नोटबंदी को लेकर सुब्रह्मण्यन का वह चर्चित बयान आज भी याद किया जाता है जिसमें उन्होंने नोटबंदी को एक अबूझ पहेली करार दिया था। आईआईएम अहमदाबाद से दीक्षित सुब्रह्मण्यन के 3 वर्षों का कार्यकाल इस 16 अक्टूबर को खत्म हो रहा था और इन्होंने ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी में जाने की पूरी तैयारी कर ली थी कि वित्त मंत्री जेटली ने इन्हें एक साल का एक्सटेंशन दिए जाने की जानकारी ट्वीट करके दी। फिलवक्त तो जेटली का यह दांव चल गया पर आगे क्या होगा इसे कौन जान सकता है?

advertisement