खुशखबरीः होम एप्लायंस, जूते, सैनिट्री नैपकिन, पेंट होंगे सस्ते, जीएसटी काउंसिल ने घटाई टैक्स दरें     |       जम्मू-कश्मीर : कुलगाम में आतंकियों ने एक और पुलिसकर्मी का अपहरण कर की हत्या     |       बाबा अमरपुरी के कुकर्मों की शिकार महिला आई सामने, सुनाई आपबीती     |       केंद्रीय मंत्री अर्जुन राम मेघवाल बोले- PM मोदी की लोकप्रियता के साथ बढ़ रही है मॉब लिंचिंग     |       'दल दल' अधिक हो गया है, अब तो अधिक कमल खिलेगा : नरेंद्र मोदी     |       TMC की रैली पर BJP का पलटवार, ममता को पीएम बनने का सपना देखना बंद कर देना चाहिए     |       मोरनी महादरिंदगी मामला: गेस्ट हाउस परिसर में मिला आपत्तिजनक सामान, फोरेंसिक टीम कर रही जांच     |       1968 के विमान हादसे में मृत सैनिक का शव हिमाचल में मिला, 50 साल से ढूंढे जा रहे 102 शव; अब तक 6 मिले     |       उत्तराखंड में भारी बारिश की चेतावनी, अलर्ट     |       फतवा जारी करने वालों से मुझे जान का खतरा, पीएम मोदी से मांगूंगी मदद : निदा खान     |       अमित शाह की नेताओं की नसीहत, अहंकार छोड़ो और कार्यकर्ताओं की सुध लो     |       सावधान! सरकारी बैंकों का ATM यूज करते हैं तो यह खबर जरूर पढ़ लें     |       राजस्थानः 7 माह की बच्ची से दुष्कर्म के दोषी को फांसी की सजा     |       Sawan 2018: भोलेबाबा का व्रत खोलें इन चीजों के साथ, तुरंत पूरी होगी मनोकामना     |       सहायक लोको पायलट एप्लीकेशन स्टेटस आज रात तक देख सकेंगे अभ्यर्थी, परीक्षा अगस्त या सितंबर में     |       एटीएम में 100 रुपये के नए नोट डालने पर आएगा 100 करोड़ का खर्चा     |       हैदराबाद में जन्मी दक्षिण पूर्व एशिया की सबसे छोटी बच्ची     |       SBI Clerk Result 2018: sbi.co.in पर 22 जुलाई को जारी हो सकता है र‍िजल्‍ट, Update के लि‍ए यहां बनाए रखें नजर     |       रवांडा के राष्‍ट्रपति को 200 गाय तोहफे में देंगे पीएम मोदी, 23 को जाएंगे दौरे पर     |       नयनों में नीर बहा गए गीतकार नीरज, राजकीय सम्मान के साथ अंतिम संस्कार     |      

गपशप


कल की बात हुई कलम

सनद रहे कि यह संपादक अमेरिका में एक अच्छी नौकरी पर बहाल थे, अखबार प्रबंधन उन्हें गाजे-बाजे के साथ दिल्ली लेकर आया, लुटियंस जोन में एक आलीषान घर उन्हें रहने को दिया गया


pm-modi-newspaper-editor-media-house-delhi

दिल्ली के एक बड़े मीडिया हाऊस की मालकिन को बमुश्किल प्रधानमंत्री से मिलने का वक्त मिल पाया, दरअसल उन्हें अपने इस अंग्रेजी अखबार के समिट में प्रधानमंत्री को आमंत्रित करना था। सूत्र बताते हैं कि पीएम की भंगिमाओं से इस बात के साफ संकेत मिल रहे थे कि वे अखबार की संपादकीय नीति को लेकर खुश नहीं हैं। दरअसल इस अखबार ने एक मुहिम चला रखी थी कि भाजपा सरकार के गठन के बाद किन जगहों पर सांप्रदायिक तनाव बढ़े हैं और बात दंगों तक पहुंची है। अखबार इन घटनाओं को एक ग्राफ के माध्यम से दिखने की कोशिश कर रहा था। कहते हैं पीएमओ की ओर से अखबार मालकिन को यह साफ संदेश दिया गया कि अखबार के कार्यक्रम में पीएम का जाना तब तक संभव नहीं हो पाएगा जब तक अखबार के शीर्ष पर वे वाम झुकावों वाले संपादक महोदय विराजमान हैं, अखबार को उन्हें चलता करना ही होगा।

सनद रहे कि यह संपादक अमेरिका में एक अच्छी नौकरी पर बहाल थे, अखबार प्रबंधन उन्हें गाजे-बाजे के साथ दिल्ली लेकर आया, लुटियंस जोन में एक आलीषान घर उन्हें रहने को दिया गया, उन्हें सफर करने के लिए एक चमचमाती मर्सीडिज बेंज दी गई थी। अखबार प्रबंधन चाहता था कि संपादक महोदय को कम से कम दिसंबर तक नौकरी पर रहने दिया जाए, ताकि अगले संपादक के कार्यभार ग्रहण करने तक अखबार का कारोबार सुचारू रूप से चल सके। पर फरमान आते ही आनन-फानन में संपादक महोदय की विदाई कर दी गई। इतना ही नहीं देश के एक प्रमुख आर्थिक अंग्रेजी दैनिक से तीन प्रमुख वरिष्ठ पत्रकारों की छुट्टी करनी पड़ी, क्योंकि उनका लेखन दिल्ली के निजाम को रास नहीं आ रहा था। कभी मीडिया के कहने पर अशोक रोड चला करता था, आज अशोक रोड देश की मीडिया को चला रहा है।

advertisement