सबरीमाला मंदिर: कपाट खुले पर महिलाएं रोकी गई, बवाल के बाद धारा-144 लागू     |       #MeToo की भेंट चढ़े मोदी के मंत्री एमजे अकबर, विदेश राज्यमंत्री पद से इस्तीफा     |       मारवाड़ में कांग्रेस और मानवेंद्र बिगाड़ सकते हैं भाजपा का खेल     |       गुरुद्वारा / दान देने के लिए राहुल ने 500 रुपए निकाले, ज्योतिरादित्य ने आचार संहिता याद दिलाई तो जेब में रखे     |       मेरठ / जासूसी के आरोप में आर्मी इंटेलीजेंस ने सेना के जवान को किया गिरफ्तार     |       छठ-दिवाली के दौरान Indian Railway का यात्रियों को तोहफा, चलेंगी ये 9 स्पेशल ट्रेनें     |       सूर्य देव कर रहे हैं तुला राशि में प्रवेश, इन राशियों पर होगा असर     |       लालू का ट्वीट-गुजरात में लुंगी पहनने वाले बिहारियों को पीटा, ये है न्यू इंडिया     |       माया के बंगले में घुसते ही शिवपाल बोले- अखिलेश की हैसियत पता चलेगी     |       हाेटल के बाहर गन लहराने वाले पूर्व सांसद के बेटे के खिलाफ गैर जमानती वारंट     |       रिपोर्ट / ब्रह्मोस से ज्यादा ताकतवर चीनी मिसाइल खरीदने की तैयारी में पाकिस्तान     |       FIR March: सपा नेता आजम के खिलाफ एफआइआर दर्ज कराने पहुंचे अमर सिंह     |       पीएनबी घोटाला / मेहुल चौकसी और अन्य आरोपियों की 218 करोड़ रुपए की संपत्ति अटैच     |       चुनाव / कांग्रेस ने मध्यप्रदेश विधानसभा के लिए 80 उम्मीदवार तय किए, लिस्ट जारी नहीं की     |       Paytm, MobiKwik और दूसरे मोबाइल वॉलेट यूजर्स के लिए खुशखबरी, अब कर पाएंगे ये काम     |       इन दो वजहों से पूरी दुनिया में घंटे भर ठप रहा YouTube     |       कभी अकबर ने बदला था नाम, इलाहाबाद को 450 वर्षों बाद मिला अपना पुराना नाम     |       कश्मीर / श्रीनगर में सुरक्षाबलों के साथ मुठभेड़ में 3 आतंकी ढेर, पुलिस का जवान शहीद     |       छत्तीसगढ़: बख्तरबंद गाड़ी ने कार को घसीटा, मुश्किल में पड़ी परिवार की जान     |       ओला ड्राइवर की मदद से इस तरह पकड़ा गया मॉडल मानसी दीक्षित का कातिल     |      

गपशप


कल की बात हुई कलम

सनद रहे कि यह संपादक अमेरिका में एक अच्छी नौकरी पर बहाल थे, अखबार प्रबंधन उन्हें गाजे-बाजे के साथ दिल्ली लेकर आया, लुटियंस जोन में एक आलीषान घर उन्हें रहने को दिया गया


pm-modi-newspaper-editor-media-house-delhi

दिल्ली के एक बड़े मीडिया हाऊस की मालकिन को बमुश्किल प्रधानमंत्री से मिलने का वक्त मिल पाया, दरअसल उन्हें अपने इस अंग्रेजी अखबार के समिट में प्रधानमंत्री को आमंत्रित करना था। सूत्र बताते हैं कि पीएम की भंगिमाओं से इस बात के साफ संकेत मिल रहे थे कि वे अखबार की संपादकीय नीति को लेकर खुश नहीं हैं। दरअसल इस अखबार ने एक मुहिम चला रखी थी कि भाजपा सरकार के गठन के बाद किन जगहों पर सांप्रदायिक तनाव बढ़े हैं और बात दंगों तक पहुंची है। अखबार इन घटनाओं को एक ग्राफ के माध्यम से दिखने की कोशिश कर रहा था। कहते हैं पीएमओ की ओर से अखबार मालकिन को यह साफ संदेश दिया गया कि अखबार के कार्यक्रम में पीएम का जाना तब तक संभव नहीं हो पाएगा जब तक अखबार के शीर्ष पर वे वाम झुकावों वाले संपादक महोदय विराजमान हैं, अखबार को उन्हें चलता करना ही होगा।

सनद रहे कि यह संपादक अमेरिका में एक अच्छी नौकरी पर बहाल थे, अखबार प्रबंधन उन्हें गाजे-बाजे के साथ दिल्ली लेकर आया, लुटियंस जोन में एक आलीषान घर उन्हें रहने को दिया गया, उन्हें सफर करने के लिए एक चमचमाती मर्सीडिज बेंज दी गई थी। अखबार प्रबंधन चाहता था कि संपादक महोदय को कम से कम दिसंबर तक नौकरी पर रहने दिया जाए, ताकि अगले संपादक के कार्यभार ग्रहण करने तक अखबार का कारोबार सुचारू रूप से चल सके। पर फरमान आते ही आनन-फानन में संपादक महोदय की विदाई कर दी गई। इतना ही नहीं देश के एक प्रमुख आर्थिक अंग्रेजी दैनिक से तीन प्रमुख वरिष्ठ पत्रकारों की छुट्टी करनी पड़ी, क्योंकि उनका लेखन दिल्ली के निजाम को रास नहीं आ रहा था। कभी मीडिया के कहने पर अशोक रोड चला करता था, आज अशोक रोड देश की मीडिया को चला रहा है।

advertisement

  • संबंधित खबरें