UK Board Result 2018: नतीजे घोषित, मोबाइल पर यूं चेक करें नतीजे     |       जम्मू-कश्मीर में 5 आतंकी ढेर, आज आएगा 12वीं का रिजल्‍ट, अब तक की 5 बड़ी खबरें     |       मोदी सरकार के 4 साल पूरे होने पर कांग्रेस मना रही 'विश्‍वासघात दिवस'     |       कर्नाटक में कुमारस्वामी ने जीता फ्लोर टेस्ट, येद्दयुरप्पा ने ऐसे बढ़ाई टेंशन     |       सावधानः निपाह की आशंका से दिल्ली-एनसीआर में भी अलर्ट, केरल से आने वाले केले धोकर खाएं     |       शत्रुघ्न सिन्हा ने ट्रंप-किम के जरिए PM मोदी पर साधा निशाना     |       मेरठ सिटी स्टेशन पर बज रहा गंदगी का 'हॉर्न', सफाई हुई 'डिरेल'     |       इन सात राज्यों में हिंदुओं को अल्पसंख्यक का दर्जा देने पर होगा विचार     |       मेजर गोगोई मामले में नया ट्विस्ट, लड़की ने कहा- हमने पहले भी कई मौकों पर साथ समय गुजारा है     |       गोवा: बीच पर कपल के कपड़े उतरवाए, तस्वीरें खीचीं और बॉयफ्रेंड के सामने ही लड़की से किया गैंगरेप     |       योगी आदित्यनाथ के लिए उद्धव ठाकरे के बिगड़े बोल, भाजपा पर कहा- 'बालासाहेब की तरह नहीं सहूंगा उसके पाप'     |       देश में पानी और तेल को लेकर आग     |       IPL-11: अफगानी राष्ट्रपति ने पीएम मोदी को किया टैग, लिखा- हीरो हैं राशिद, किसी और को नहीं देंगे     |       यहां सिर्फ 10 रुपये में खूबसूरत मॉडल्स को बना सकते हैं अपनी गर्लफ्रेंड, जानें     |       पिछले 5 साल में PF पर मिलेगा सबसे कम ब्याज, 8.55% को मंजूरी     |       मुंबई में तैरता रेस्तरां समुद्र में डूबा, 15 लोग बचाए गए     |       कांसटेबल ललिता की ललित बनने के लिए पहले चरण की सर्जरी सफल     |       मोदी सरकार के चार साल LIVE: CM योगी ने दी PM मोदी को बधाई, मायावती बोलीं- हर मोर्चे पर फेल रही सरकार     |       गुजरात की लेडी डॉन का एक और वीडियो वायरल, सरेआम यूं फैलाई दहशत     |       पाकिस्तान की खुफिया एजेंसी के पूर्व चीफ का दावा, भारत के पीएम के रूप में नरेंद्र मोदी को ही चाहता है ISI     |      

गपशप


गडकरी के डिनर पर क्यों उबले मोदी और भागवत?

इस बैठक का मुख्य उद्देश्य मोदी सरकार व संघ के संबंधों में समन्वय बनाने को लेकर था। सूत्रों का दावा है कि जब संघ प्रमुख मोहन भागवत ने सरकार की आर्थिक नीतियों को लेकर किंचित सख्त भाषा का इस्तेमाल किया


pm-modi-rss-chief-mohan-bhagwat-nitin-gadkari

देश के मिजाज में हिंदुत्व के प्रस्फुटन और इसकी तासीर में केसरिया ताने-बाने के आगाज़ के बावजूद ऐसा क्या है जो सत्ता के हिंडोलों पर सवार भाजपा और सातवें आसमान की सवारी गांठते राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के बीच सब कुछ ठीक-ठाक नहीं चल रहा है। पिछले पखवाड़े इसकी बानगी केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी के घर आहूत रात्रि भोजन पर दिखी, विश्वस्त सूत्र बताते हैं कि इस डिनर में मोदी, शाह, मोहन भागवत, भैय्याजी जोशी समेत 7 प्रमुख नेता शामिल थे। सूत्र बताते हैं कि इस बैठक का मुख्य उद्देश्य मोदी सरकार व संघ के संबंधों में समन्वय बनाने को लेकर था। सूत्रों का दावा है कि जब संघ प्रमुख मोहन भागवत ने सरकार की आर्थिक नीतियों को लेकर किंचित सख्त भाषा का इस्तेमाल किया तो सत्ता के शीर्ष द्वय ने इसका बुरा माना। दरअसल, भागवत की चिंता कमोबेश उसी लाइन पर थी, जो चिंता आज अरुण शौरी या यशवंत सिन्हा जता रहे हैं, भागवत की असल चिंता देश में घटती नौकरियों को लेकर थी। सूत्रों के मुताबिक भागवत की इस चिंता का मोदी ने भी अपने तरीके से जवाब दिया, उनके कहने का लब्बो-लुआब यह था कि वे देश के प्रधानमंत्री हैं और किंचित कड़े फैसले लेने का हक उनके पास है। इस कहा-सुनी में मामला इतना असहज हो गया कि भागवत भोजन की थाली बीच में ही छोड़ कर अन्य कमरे में चले गए। नाराज भागवत को बमुश्किल मना कर वापिस खाने की टेबुल पर लाया जा सका। पर इस तनातनी की अनुगूंज संघ के आनुशांगिक संगठनों के काम-काज से भी झलकने लगी है, भारतीय किसान मजदूर संघ ने मोदी की आर्थिक नीतियों को लेकर उसी शैली में विरोध की आवाज़ उठाई है, जिस शैली के प्रवर्त्तक संघ प्रमुख रहे हैं।

advertisement