GST काउंसिल बैठक : टैक्‍स फ्री हुआ सैनेटरी नैपकिन, फ्रिज-टीवी समेत इन पर राहत     |       JK: कॉन्स्टेबल की अगवा कर आतंकियों ने की हत्या, 2 माह में तीसरा मामला     |       TMC की रैली पर BJP का पलटवार, ममता को पीएम बनने का सपना देखना बंद कर देना चाहिए     |       बाबा अमरपुरी के कुकर्मों की शिकार महिला आई सामने, सुनाई आपबीती     |       केंद्रीय मंत्री अर्जुन राम मेघवाल बोले- PM मोदी की लोकप्रियता के साथ बढ़ रही है मॉब लिंचिंग     |       'दल दल' अधिक हो गया है, अब तो अधिक कमल खिलेगा : नरेंद्र मोदी     |       मोरनी महादरिंदगी मामला: गेस्ट हाउस परिसर में मिला आपत्तिजनक सामान, फोरेंसिक टीम कर रही जांच     |       1968 के विमान हादसे में मृत सैनिक का शव हिमाचल में मिला, 50 साल से ढूंढे जा रहे 102 शव; अब तक 6 मिले     |       फतवा जारी करने वालों से मुझे जान का खतरा, पीएम मोदी से मांगूंगी मदद : निदा खान     |       अमित शाह की नेताओं की नसीहत, अहंकार छोड़ो और कार्यकर्ताओं की सुध लो     |       सावधान! सरकारी बैंकों का ATM यूज करते हैं तो यह खबर जरूर पढ़ लें     |       राजस्थानः 7 माह की बच्ची से दुष्कर्म के दोषी को फांसी की सजा     |       उत्तराखंड में भारी बारिश की चेतावनी, अलर्ट     |       Sawan 2018: भोलेबाबा का व्रत खोलें इन चीजों के साथ, तुरंत पूरी होगी मनोकामना     |       सहायक लोको पायलट एप्लीकेशन स्टेटस आज रात तक देख सकेंगे अभ्यर्थी, परीक्षा अगस्त या सितंबर में     |       एटीएम में 100 रुपये के नए नोट डालने पर आएगा 100 करोड़ का खर्चा     |       हैदराबाद में जन्मी दक्षिण पूर्व एशिया की सबसे छोटी बच्ची     |       SBI Clerk Result 2018: sbi.co.in पर 22 जुलाई को जारी हो सकता है र‍िजल्‍ट, Update के लि‍ए यहां बनाए रखें नजर     |       रवांडा के राष्‍ट्रपति को 200 गाय तोहफे में देंगे पीएम मोदी, 23 को जाएंगे दौरे पर     |       राजकीय सम्मान के साथ महाकवि गोपालदास नीरज पंचतत्व में विलीन     |      

गपशप


गडकरी के डिनर पर क्यों उबले मोदी और भागवत?

इस बैठक का मुख्य उद्देश्य मोदी सरकार व संघ के संबंधों में समन्वय बनाने को लेकर था। सूत्रों का दावा है कि जब संघ प्रमुख मोहन भागवत ने सरकार की आर्थिक नीतियों को लेकर किंचित सख्त भाषा का इस्तेमाल किया


pm-modi-rss-chief-mohan-bhagwat-nitin-gadkari

देश के मिजाज में हिंदुत्व के प्रस्फुटन और इसकी तासीर में केसरिया ताने-बाने के आगाज़ के बावजूद ऐसा क्या है जो सत्ता के हिंडोलों पर सवार भाजपा और सातवें आसमान की सवारी गांठते राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के बीच सब कुछ ठीक-ठाक नहीं चल रहा है। पिछले पखवाड़े इसकी बानगी केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी के घर आहूत रात्रि भोजन पर दिखी, विश्वस्त सूत्र बताते हैं कि इस डिनर में मोदी, शाह, मोहन भागवत, भैय्याजी जोशी समेत 7 प्रमुख नेता शामिल थे। सूत्र बताते हैं कि इस बैठक का मुख्य उद्देश्य मोदी सरकार व संघ के संबंधों में समन्वय बनाने को लेकर था। सूत्रों का दावा है कि जब संघ प्रमुख मोहन भागवत ने सरकार की आर्थिक नीतियों को लेकर किंचित सख्त भाषा का इस्तेमाल किया तो सत्ता के शीर्ष द्वय ने इसका बुरा माना। दरअसल, भागवत की चिंता कमोबेश उसी लाइन पर थी, जो चिंता आज अरुण शौरी या यशवंत सिन्हा जता रहे हैं, भागवत की असल चिंता देश में घटती नौकरियों को लेकर थी। सूत्रों के मुताबिक भागवत की इस चिंता का मोदी ने भी अपने तरीके से जवाब दिया, उनके कहने का लब्बो-लुआब यह था कि वे देश के प्रधानमंत्री हैं और किंचित कड़े फैसले लेने का हक उनके पास है। इस कहा-सुनी में मामला इतना असहज हो गया कि भागवत भोजन की थाली बीच में ही छोड़ कर अन्य कमरे में चले गए। नाराज भागवत को बमुश्किल मना कर वापिस खाने की टेबुल पर लाया जा सका। पर इस तनातनी की अनुगूंज संघ के आनुशांगिक संगठनों के काम-काज से भी झलकने लगी है, भारतीय किसान मजदूर संघ ने मोदी की आर्थिक नीतियों को लेकर उसी शैली में विरोध की आवाज़ उठाई है, जिस शैली के प्रवर्त्तक संघ प्रमुख रहे हैं।

advertisement